AELOLIVE
latest

Let's make life a pilgrimage together!

Let's make life a pilgrimage together!
Following the trail of colorful emotions and beautiful divine relationships. Now life Blossoms, beginning to love because it is a vibrant land of love and a beautiful feelings to wander across the heart during the journey of awakening. But here are some of the most stunning moments to witness life in full bloom with divine relationship and divine action like spring...And now thoughts are in bloom

What is the identity of death energy?

With the energy of death: a small introduction

How is death energy?
Can we already know that this person has to die now?
What is the identity of death energy?
Is the energy of death negative?
When we start feeling new every moment in life, it only means that we are currently engaged in genes.
We can also say this in such a way that now we are becoming more payable towards life.
Or we can also say that we have started looking at life even deeper.
Not only every moment of life, every part of life will be new for every human being. Every human being will feel as if till date nobody has noticed this part. Untouched, new, fresh; Like he has seen today for the first time.
 Just as life itself is a mystery-may event, similarly when we look carefully, we will know that everything in life is secret.
Today again I have death. Sometimes it comes as an idea - sometimes it comes as an emotion and sometimes as a lesson, and sometimes as a partner.
Today, death showed another form out of another window. Whatever the matter of the universe - whatever it is, it carries with it its death. How to die Like our blood type, so is death?
Like now we have to see how death will happen?
 In today's time, not only in the old times, death occurs due to disease. Because our germ has a mixture of diseases.
Have heard the saying that when the death of jackal comes, he runs towards the city.
You must have seen that when the spider makes a trap, eventually the spider falls into the trap.
You must have also seen the silkworm how the saliva drips from the tongue, and it starts to wrap that saliva around your body. In the end how he dies of suffocation.
We have also heard that when the worm's wings are out, it dies.
One of us has heard more proverb that ego kills a person.
Whenever someone falls into a bad company, we have always thought that 'now this one is gone'.
 Why?
Because we found the way by looking at his path. If you do not die from the bullet then you will definitely go to jail. How do we say all this?
Seeing the threshold, the house is known, how?
If we all understand this, then how much will there be in that person, whose rhythm is united with the universe. We are all called sages and sages.
 Our intelligence can see up to 10 yards, then our ego becomes as much as millions of yards. Then we never trust such a person, because in our eyes there is no better person than us.
Now death is showing my energy to me, by which we can know that this person's death is near. We all know that someone is going to be born now, but we do not know that it is going to die now.
 We all know the natural process that old age is near the threshold of death - whether a young person dies or a child, does it become known? I have given examples of some proverbs that are known to all. In the same way, we know that this woman will now have a baby - similarly good scholars know what is the energy of death?
We all know what is happening in our daily life, but we do not yet know how the incident happens?
   
My death was also born at the time when my life was born. We are all very blind. We all do not even know that when a child is born, a mother is also born at that time. We all ask about the child, did we ever ask the mother, saw the mother. A mother is also born. Did that mother get attention?
did not go.
Some saw the daughter, some saw the wife, but no one saw the birth of a mother. If it had also seen the birth of the mother, the color of the society would have been even darker and beautiful. When we could not see our biggest event, then when will we be able to understand the deep event like death?
I am going to someone's house, suddenly stopped. And I paused. Energy flowed from my lift side of my eye. The atmosphere changed, my dimensions changed. I reached some other energy. I saw a body falling from the ladders and it was also on fire. With the energy of death, I know how such an energy comes into the atmosphere and how is that energy experienced? Came out of the pause.
Now I had to see that person, also to see how he is surrounded by the energy of death and how I feel.
The living person, who will die after 3 weeks, shows me the sign of death, to understand what the energy of death is like today, and I keep asking questions to that person.
There are three types of energy
A positive
Two negative
Three is neither any energy nor negative nor positive. There is a circle without energy. As we have seen that when water flows into a drain and falls, it goes round and round. In the same way, the energy of death revolves. If we look a little carefully, we will easily identify the person who died 3 weeks ago.
Nobody feels positive and negative in the energy of death, we feel as if we are falling into something. At the time of falling, as we are without energy, in the energy of death, it just goes on falling. This fall ends when we get our next step.
In spiritual energy, we become infinite and vast. As all the universe came into our stomach.
My dear friends, every living being is a very precious event, and not only is our relationship, every thought is also a universe. Let us all together become the good creatures of this universe and travel the entire universe. Only then we will know what is the status of all of us?

***___***

मौत की ऊर्जा के साथ: एक छोटा सा परिचय 
मौत की ऊर्जा कैसे होती है?
क्या हम पहले  ही जान सकतें हैं कि इस व्यक्ति ने अब मर जाना है ?
मौत की ऊर्जा की पहचान क्या है ?
क्या मौत की ऊर्जा नेगेटिव होती है ?
जब हम ज़िंदगी में हर पल को नया महसूस करना शुरू कर देतें हैं तो इस का मतलब सिर्फ यही है कि हम वर्तमान में जीन लग गए।
इस को हम ऐसे भी कह सकतें हैं कि अब हम ज़िंदगी के प्रति ज़्यादा चुकन्ने होते जा रहें हैं।
या ऐसे भी कह सकतें हैं कि हम ने ज़िंदगी को अब ओर भी गहरे से देखना शुरू कर दिया है।
हर इंसान के लिए ज़िंदगी का हर  पल ही नहीं ,हर हिस्सा भी नया होगा।  हर इंसान को ऐसे लगेगा कि जैसे आज तक इस हिस्से पर किसी की नज़र नहीं गई।  अनछुहा, नया, ताज़ा ; जैसे आज पहली बार उस ने ही देखा है।
 जैसे ज़िंदगी अपने आप ने रहस्य-मई घटना है, वैसे ही जब हम ध्यान से देखेंगे तो जानेंगे कि ज़िंदगी की हर चीज़ ही रह्सयमई है।
आज फिर मेरे आगे मौत है।  कभी ख़्याल बन कर आती है- कभी भावना बन कर आती है और कभी सबक बन कर, और कभी साथी बन कर।
आज मौत ने एक और झरोखे में से मौत ने अपना एक रूप ओर दिखाया।  जितनी भी ब्रह्माण्ड की चीज़ है - कोई भी हो , वो अपनी मौत  साथ ही ले के चलती है।  कैसे मरना है ? जैसे हमारे ब्लड की किस्म होती है , वैसे ही मौत की होती है ?
जैसे अब हम ने देखना हो कि मौत कैसे होगी ?
 आज के वक़्त में ही नहीं पुराने वक़्त में मौत ज़्यादा बिमारी से होती है। क्योंकि हमारे कीटाणु में रोगों का मिश्रण है। 
कहावत सुनी है न, कि जब गीदड़ की मौत आती है तो वो सहर की ओर दौडता है। 
आप ने देखा भी होगा कि जब मकड़ी जाल बनाती है, तो आखिर में  मकड़ी ही जाल में फस जाती है। 
आप ने सिल्क के कीड़े को भी देखा होगा कि कैसे ज़ुबान से लार टपकाता है, और उस लार को ही अपने जिस्म के चारों तरफ़  लिपटना शुरू कर देता है। आखिर में कैसे दम घुटने से मर जाता है। 
हम ने यह भी सुना है कि जब कीड़ी के पंख निकल आतें हैं तो वो मरती ही है। 
एक हम ने और भी कहावत सुनी है कि हंकार व्यक्ति को मार देता है। 
जब भी कोई बुरी संगत में पड़ जाता है तो हमारे में सदा यह ख्याल आया ही है कि ' अब यह गया '. 
 क्यों?
क्योंकि हम ने उस के रास्ते को देख कर मंज़िल का पता लगा लिया। गोली से नहीं मरेगा तो जेल में ज़रूर जाएगा।  हम यह सब कैसे कह देतें हैं ?
दहली देख कर घर का पता चल जाता है, कैसे ?
अगर हम सब में इतनी को समझ है तो उस व्यक्ति में कितनी होगी, जिस की ताल ब्रह्माण्ड के साथ एक हो चुक्की है। हम सब ऋषि-मुनि कहतें हैं। 
 हमारी अक्ल १० गज़ तक देख सकती है तो तब हमारे हंकार की सीमा लाखों गज़ हो जाती है। फिर हम वैसे व्यक्ति पर कभी भरोसा ही नहीं करते, क्योंकि हमारी नज़र में हम से बेहतर ओर कोई है ही नहीं। 
अब मेरे को मौत अपनी वो एनर्जी दिखा रही है, जिस से हम यह जान सकतें हैं कि इस व्यक्ति की मौत अब नज़दीक है।  हम सब को यह तो पता है कि अब कोई पैदा होने वाला है ,पर यह नहीं पता कि अब यह मरने वाला है। 
 कुदरती प्रकिर्या को हम सब जानतें हैं कि बुढ़ापा मौत की देहलीज़ के पास है - कोई जवान मरता है या बच्चा, क्या उस का पता चलता है ? मैंने पहले कुछ कहावतों की उदाहरण दी है, जिन को सब जानतें हैं। वैसे ही हम जानतें हैं कि इस औरत के अब बेबी होगा - वैसे ही अच्छे विद्वान् जानतें हैं कि मौत की एनर्जी कैसी होती है ?
हम सब  रोज़ाना की ज़िंदगी में वापर रही घटना  को जानते हैं पर हम को अभी तक यह नहीं पता कि घटना पैदा कैसे होती है ?
   मेरी मौत भी उस वक़्त पैदा हुये थी, जब मेरा जीवन पैदा हुआ था। हम सब बहुत अंधें हैं। हम सब को तो यह भी पता नहीं चलता कि जब एक बच्चा पैदा होता है, उस वक़्त एक माँ भी पैदा होती है। हम सब बच्चे के बारे में पूछतें हैं, क्या कभी माँ को पूछा, माँ को देखा। एक माँ  भी पैदा हुई है। क्या  उस माँ की ओर  ध्यान गया ?  
नहीं गया। 
किसी ने बेटी को देखा, किसी ने बीवी को, पर किसी ने एक माँ का जन्म नहीं देखा। अगर यह माँ का जन्म भी देख लिया होता तो समाज का रंग ओर भी गहरा और सूंदर होता। जब हम अपनी सब से बड़ी घटना को नहीं देख सके, तो हम मौत जैसी गहरी घटना को कब समझने के काबिल बनेगें ?
मैं  किसी के घर में जा रही हूँ , अचानक रुक गई। और मैं पॉज हो गई। मेरी आँख की मेरी लिफ्ट साइड में से एनर्जी का बहा आया। माहौल बदल गया, मेरा डायमेंशन बदल गया।  मैं किसी ओर एनर्जी में पुहंच गई। सीफ़ी से गिरते एक जिस्म को देखा और उस को आग भी लगी हुई थी। मौत की एनर्जी से मेरा परिचै हुए कि कैसे माहौल में एक ऐसी एनर्जी आ जाती है और उस एनर्जी का अनुभव कैसा होता है ?  पॉज से बाहर आई। 
अब मैंने उस व्यक्ति को देखना था, यह भी देखना है कि वो मौत की एनर्जी से कैसे घिरा हुआ है और मेरे को कैसे अनुभव होता है ?
जिन्दा व्यक्ति ,जो ३ हफ़्ते के बाद मर जाएगा, उस में आज मौत की एनर्जी कैसी है , यह समझ देने केलिए मौत मेरे को निशानी दिखाती जाती है , समझती जाती है ,और मैं उस व्यक्ति से सवाल पूछती जाती हूँ। 
तीन किस्म की एनर्जी होती है 
एक पॉजिटिव 
दो नेगेटिव 
तीन कोई भी एनर्जी नहीं , ना ही नकारत्मिक और ना ही सकारत्मिक।  ऊर्जा के वग़ैर मंडल होता है। जैसे हम ने देखा है कि पानी का बहा जब किसी नाली में जा के गिरता है तो गोल गोल घूम कर नाली में जाता है। वैसे ही मौत की ऊर्जा का बहा घूमता है। हम थोड़े से भी ध्यान से देखेंगे तो ३ हफ़्ते पहले मरने वाले व्यक्ति को आसानी से पहचान लेंगे       
मौत की ऊर्जा में कोई भी पॉजिटिव और नेगेटिव एहसास नहीं होता, हम को ऐसे लगता है कि जैसे हम किसी चीज़ में गिर रहे हैं।  गिरते वक़्त जैसे हम ऊर्जा के वग़ैर हो जातें हैं वैसे ही मौत की ऊर्जा में होता है कि बस गिरते ही चले जातें हैं। यह गिरना तब ख़त्म होता है जब हम को हमारा अगला स्टेप मिल जाता है। 
आत्मिक ऊर्जे में हम असीम और विराट होते जातें हैं। जैसे तमाम ब्रह्माण्ड  हमारे पेट में आ गया।
मेरे प्यारे दोस्तों, ज़िंदगी का हर जीव बहुत ही अनमोल घटना है, और हमारा हर नाता ही नहीं , हर सोच विचार भी एक ब्रह्माण्ड है। चलो हम सब मिल कर इस तमाम ब्रह्मण्ड के अच्छे जीव बन कर पूरे ब्रह्माण्ड की यात्रा करें। तब ही हम जानेगे कि हम सब की क्या हैसियत है  ?


« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
love you always