AELOLIVE
latest

Let's make life a pilgrimage together!

Let's make life a pilgrimage together!
Following the trail of colorful emotions and beautiful divine relationships. Now life Blossoms, beginning to love because it is a vibrant land of love and a beautiful feelings to wander across the heart during the journey of awakening. But here are some of the most stunning moments to witness life in full bloom with divine relationship and divine action like spring...And now thoughts are in bloom

What is the speed of spiritual life?

What is the speed of spiritual life?

What is living and what is dying?
What does it mean to live?
 Whom shall we call live?
Is living what happens when we breathe?
Or is it living when we are watching that we are living?
Or is living something that we feel full from body to body?
When we feel full to live, there is an ancient that happens even more.
 One does not have to live to the fullest because
 there is no realization of both life and death there.
For many years,
 my daily days have been passing like no life at all. 
The quality of this stage of life is that you don't even realize yourself.
 Whenever I pay attention to myself,
 I am looking at me very strangely, 
such questions as who I am, what I am, what to do, what I do, come before me.
 This question makes me question myself. 
 It is such a unique and such a lovely experience to question questions
 that the stream of water starts flowing in my eyes.
Life has always played a beautiful game with me,
 due to which I was always crazy about life and love every life so much.
From childhood until today,
 I have always been a stranger in life. 
I am a stranger or my pace of life was fast, 
which was identifying me very deeply.
  I was a stranger all the time.
 Every part of my life got to me as a stranger. 
And went away from me.
 Whoever it may be, I have always been a stranger.
Asked every moment, now you tell me what to do?
I started asking every breath also, Madam, what else have you to do?
Every step I ask, what is your destination today?
I ask with my mind, tell me which thought we have to consider today?
I also ask the trail if I can walk here?
What is the land, what is the sky, I just take permission from everyone.
Why?
I feel that my time is gone, as if I have passed somewhere.
 Like I went too far. Like I don't exist. 
I am the one who got me today, it is for all these.
 Like I have to do something for everyone. 
As if I have become so free that my freedom has become a servant.
Like I started taking bath. 
To say thank you to water.
 Thank you, May be - this is my last bath.
 How water flows in the eyes thanks to everything, amazing.
Before bedtime;
 May be-  this is my last night. Tomorrow may not be for me.
 Whatever happened, I did or thanks to all that happened to me. 
Sorry to all and love to everyone.
Every time, ask every moment to get it done at this time - which will benefit the universe.
This became my job.
In my day to day life, not even death, not even death.
Just am
 This is my 'Is-ness'
In this state of mine, the world is the divine and the divine is the world.
Now my situation and states changed again
Today I again asked the mind that tell, what should we consider today?
Just requested the mind, and started giving food to the birds.
Suddenly I stopped moving, just as we brake the moving car, 
exactly the same happened to me.
One of the moves of the moving universe hit the rhythm of me.
I stopped.
I had to stop, stop like that, just amazing!
I stopped that the universe started moving
or
My consciousness was so high that it roamed the universe!
amazing
Unique Story - Infrequency
 wow!
What happened ?
When we leave the worldly realm and become passers of the spiritual realm,  
then our first step is that we leave all the negatives. 
Then we get enrolled in Dharma and our spiritual journey begins.
Today, in my halting moments -
 I experienced a moving consciousness at high speed. 
What to say? 
 Who was stopped, who was walking. 
 Can not say anything. 
The martyr was somewhat beyond both of them.
What is good?
What is bad?
When Krishna drove the Sudarshan-Chakra,?
Hazrat Muhammad the sword?
I talk about both of them.
No one can kill someone
 Soul never dies
 O Arjun, all of them are dead.
A saint asks to be killed.
A Saint is killing.
This is not an ordinary story, it is not common.
 Seeing Krishna's status and understanding
First to understand the status of Muhammad
Be it a thief or a saint
 Everyone has a very deep journey. 
Whenever a bullet is shot anywhere - the religion of the bullet is to kill. 
The one who thought it was dead. The bullet performed its religion. 
Whether it is a thief or a saint, it is their religion.
But when the bullet was to be fired, then who had to be there - 
why it had to happen? 
Don't we know this?
Whatever seed anyone has sown in life - one has to reap it.
as a Jinder my journey is today. This journey is called Jinder - a small chapter.
 But as a soul is my journey of ages.
When I have fallen with a saint, I will get his pain only when my position is saint. 
Life is a law, life is justice, life is a judge, life is a moment, life is an era.
The account of all has to be completed.
When the journey of our life becomes spiritual, the speed of our journey is very fast.
 In this dimension, we have to complete 2 routes together.
The one we have lived through the ages, we have to pass through that; 2nd one, which is our coming time, to go through it fast.
 Meaning that whatever we have traveled till date
 - all of that has to be face to face again. 
The journey from moment to era,
 you have to see from this spiritual path that is being lived today, 
or say that this is the spiritual journey, when we are living spiritually during our journey of Eons.
Then the speed will be faster. Due to the pace, spiritual life will be fulfilled.
The state of silence brings us to the speed of consciousness
The state of meditation causes the state of nirvana.
 There was no need for Krishna to carry the Sudarshan Chakra, 
when he was a complete Avatara. 
Krishna would have done so much like it is a telepathy. 
The real meaning of Avatara is to see with full consciousness
 that One see our-own-self changing in color and shape. That means taking the shape of the 5 elements freely.
 Couldn't they kill like that?
No
If this action has taken place - whether this action is non-action only;
 Or let's say that it was the will of the universe.
 But Krishna got it done, Krishna got it, why?
Krishna may have been Paarbrahma, but the last chapter of the seed sown was completed in the Mahabharata.
 Not only Krishna, Of all.
When any book is read, we are free from that whole book, we separate the entire book - what remains is the memory, which is the same seed in one of our rites.
This experience of today has shown that in the circumstances - under which condition we will do anything - good or bad - we have to fulfill it in the same way. We can never escape. Only our dimensions change when we happily bear our sown seeds or crying.
 The seed is concerned with the mind, the mind cries in pain.
 When our dimension becomes spiritual, we also become witnesses of the mind 
- this is what happens.
This is very important:
Get to know and recognize it a little more deep.
When a person is a spiritual traveler, then his consciousness awakens.
 As much as the consciousness is awakened, the aura of consciousness increases.
 With increasing age, the limited state of a person becomes infinite. 
 Vast and unlimited begin to experience.
For example, a bulb of 60 Watt became a 1000 Watt. 
This is the real mysterious incident. 
Amazing, surprising event, stranger beauty, such an ancient that cannot be trusted, 
such a wonderful ancient, 
 such a feeling of emptiness, 
which will all satisfy hunger.
Our life is very valuable, 
whatever we do, just see what we are doing, 
or how it is happening in our life.

In God-Dimension, we are all one. 
Our sages, saints and scholars all were like us, 
they knew life before us and we did not recognize it till now. 
There is only time difference and nothing else.

***——***

अधियात्मिक जीवन की गति कितनी होती है ?

जीना क्या है और मरना क्या है ?
जीने का मतलब क्या है? 
 हम किस को जीना कहेंगे ?
क्या जीना वो होता है जब हमारी सांसें चलती है ?
या जीना वो होता है, जब हम देख रहें होतें हैं कि हम जी रहें है ?
या जीना वो होता है, जिस का हम को जिस्म से ले के रू तक का पूर्ण एहसास होता है ?
जब हम को जीने का पूर्ण एहसास होता है , वहां पर एक घटना ओर भी घटती है। पूर्ण जीने में जीना होता ही नहीं क्योंकि वहां पर ज़िंदगी और मौत दोनों का एहसास ही नहीं रहता। 
बहुत सालों से मेरे रोज़ के दिन ऐसे गुज़र रहें हैं कि जैसे जीवन है ही नहीं। जीवन की इस अवस्था की खूबी एक ओर है कि आपने आप का भी एहसास नहीं। जब कभी भी अपने आप की ओर ध्यान जाता है तो मैं आपने आप को बहुत अजीब सा देख रही हूँ , ऐसे जैसे मैं कौन हूँ, क्या हूँ, क्या करना है , क्या करती हूँ, यह सवाल मेरे आगे आ जातें हैं। यह सवाल मेरे को अपने अंदाज़ से सवाल करतें हैं ? सवालों का सवाल करना कितना अनूठा और कितना प्यारा अनुभव है कि मेरी आँखों में पानी की धारा का बहना शुरू हो जाता है। 
मेरे साथ ज़िंदगी ने सदा खेल बहुत सूंदर खेला है , जिस के कारण मैं सदा ही ज़िंदगी की दीवानी रही। 
बचपन से ले के आज तक, मैं सदा ही ज़िंदगी में अजनबी रही।  मैं अजनबी हूँ या मेरी ज़िंदगी की रफ़्तार ही फ़ास्ट थी, जो कि मेरे को बहुत गहरे से पहचान करवा रही थी। 
  हर वक़्त मेरे में अजनबीपन रहा। ज़िंदगी का हर हिस्सा मेरे को अजनबीपन हो के मिलता गया।
 और मेरे से विदा होता चला गया। कोई भी हो, कुछ भी हो।मैं सदा अजनबी ही रही। 
हर पल से पूछने लगी कि, अब आप ही बताओ कि क्या करें ?
मैंने हर सांस को भी पूछना शुरू किया कि, मैडम अब ओर आप ने क्या करना है ?
हर कदम से पूछ लेती हूँ कि, आज तेरी मंज़िल क्या है ?
मन से पूछती हूँ कि बता आज हम ने कौन सी सोच पर विचार करना है ?
पगडंडी से भी पूछती हूँ कि क्या मैं यहाँ पर चल सकती हूँ ?
ज़मीन क्या ,आसमान क्या , बस मैं सब से इजाज़त लेती हूँ। 
क्यों ?
मेरे को कुछ ऐसा लगता है कि मेरा वक़्त चला गया, जैसे मैं कहीं बीत गई।
 जैसे मैं बहुत दूर चली गई।  जैसे मैं है ही नहीं।
 जो आज मुझ को मैं ही मिली हुई हूँ,  यह इन सब के लिए है।
 जैसे कि मैंने कुछ  सब के लिए करना है ।
जैसे कि मैं ऐसे आज़ाद हो गई हूँ कि मेरी आज़ादी एक नौकर बन गई। 
जैसे कि मैं नहाने लगी। पानी को थैंक्स कहना। शयद यह मेरा आखरी बार का नहाना है।
 आँखों में बहता पानी कैसे हर चीज़ का थैंक्स करता है , अमेजिंग।
सोने से पहले ; शयद यह मेरी आखरी रात है।  कल शयद मेरे लिए न हो।
 जो कुछ भी हुआ , मैंने किया या मेरे साथ हुआ सब का थैंक्स।  सब को sorry कहना, और सब को प्यार। 
हर वक़्त ,हर पल से पूछना कि इस वक़्त  वो करवा ले - जिस से ब्रह्मण्ड का भला हो। 
यह मेरी नौकरी बन गई। 
मेरे आज के जीने में जीना भी नहीं मौत भी नहीं।
सिर्फ हूँ 
 यह मेरा हूँ-पन बहुत ही अमेजिंग अवस्था वाला है 
मेरी इस अवस्था में संसार परमात्मा ही है और परमात्मा संसार ही है। 
अब मेरी अवस्था और स्थिति दोनों फिर बदल गई 
आज मैंने फिर मन से पूछा कि बता, आज हम किस सोच पर विचार करें ?
बस मन को रिक्वेस्ट की, और परिंदों को खाना देने लग गई। 
अचानक मैं चलती चलती रुक गई,
जैसे हम चलती कार को ब्रेक लगाते हैं, बिलकुल ऐसे ही मेरे टुरने के साथ हुआ। 
चलती ब्रह्मण्ड की चाल में से एक ताल की आहट मेरे से आ टकराई।
मैं रुकी। 
मेरा रुकना, ऐसा रुकना था कि बस अमेजिंग !
मैं रुक गई कि ब्रह्मण्ड चलने लगा 
या 
मेरी चेतना की रफ़्तार इतनी थी कि ब्रह्माण्ड में घूम आई !
अमेजिंग 
अनूठी दास्तान - निरालापन 
 wow !
हुआ क्या ?
जब हम संसारी-क्षेत्रा को छोड़ कर अधियत्मिक -क्षेत्रा के राही बनतें हैं,
 तो हमारा पहला स्टेप यह होता है कि हम सब नेगेटिव को छोड़तें हैं।
  फिर हम को धर्मा में दाखिला मिलता है और हमारी अधियात्मिक यात्रा शुरू होती है।
आज मेरे रुकते पलों में - तेज़ रफ़्तार में चलती चेतना का अनुभव हुआ।
 क्या कहूं ? कौन रुका हुआ था, कौन चल रहा था।
  कुछ नहीं कह सकती।  शयद इन दोनों से ही कुछ पार का था। 
अच्छा क्या है ?
बूरा क्या है ?
जब कृष्णा ने सुदर्शन -चक्रा चलाया,?
हज़रत मुहम्मद ने तलवार ?
इन दोनों की ही बात करती हूँ। 
कोई किसी को मार नहीं सकता 
 आत्मा कभी मरती नहीं 
 ऐ अर्जुन , यह सब मरे ही हुये हैं। 
एक संत मारने को कहता है। 
एक संत मार रहा है। 
यह कोई मामूली सी कहानी नहीं है, यह आम बात नहीं है। 
 कृष्णा का रुतबा देख कर समझना है 
मुहम्मद के रुतबे को पहले समझना है 
कोई चोर हो या कोई संत 
 सब की बहुत गहरी यात्रा है।
जब कहीं पर भी गोली चलती है - गोली का धर्म है मार देना।जिस को लगी वो मर गया।
 गोली ने अपना धर्म निभा दिया।
 कोई चोर है या कोई संत यह उन का धर्म है। 
पर जब गोली चलनी थी, तब वहां पर किस किस ने होना था- क्यों होना था? यह हम नहीं जानतें ?
ज़िंदगी में किसी ने भी कैसा भी बीज बोया हो- उस को वो काटना ही है।
 जिन्दर के तोर पर मेरी यात्रा आज की है।  यह यात्रा जिन्दर नाम की है -एक छोटा सा चैप्टर।
  पर आत्मिक खेत्र में  मेरी यात्रा युगों की है। 
जब मैंने किसी संत के साथ बूरा किया होगा, 
उस का दर्द मेरे को मिलेगा ही, जब मेरी पोजीशन संत होगी।
  ज़िंदगी एक कानून  है, ज़िंदगी एक इन्साफ है, ज़िंदगी एक जज है, 
ज़िंदगी एक पल भी है ,ज़िंदगी एक युग भी है। 
सब का हिसाब-क़िताब पूरा होना ही है।
जब हमारी ज़िंदगी की यात्रा अधियत्मिक हो जाती है, उस वक़्त हमारी यात्रा की गति बहुत तेज़ होती है। इस क्षत्रा में हम ने २ मार्ग को साथ साथ पूरा करना होता है।
एक जो हम ने युगों से जीया है , उस के भीतर में से हम ने गुज़रना होता है ;
 २ दूजा, जो हमारा आने वाला वक़्त है , उस में से तेज़ी से गुज़रना है।
 मतलब कि जो आज तक हम ने यात्रा की है - उस सब के फिर से रूह-ब-रूह होना है।
पल से ले के युग तक की यात्रा को, आज के आपने इस जीए जा रहे अधियात्मिक मार्ग से देखना है,
या कहो कि यही आधियात्मिक यात्रा है,
 जब हम अपनी तमाम युगो की यात्रा के जीते जी रूह-ब -रूह होतें हैं।
 फिर रफ़्तार तेज़ होगी ही। रफ्तार तेज़ होने के कारण ही अधियात्मिक जीवन की पूर्णा होगी।
चुप की अवस्था हम को  चेतना की रफ़्तार से मिलाती है
मैडिटेशन की स्थिति, निर्वाणा की अवस्था दिलवा देती है
 कृष्णा को सुदर्शन चक्रा  उठाने की कोई ज़रुरत नहीं थी, जब वो सम्पूर्ण परमार्थी थे, 
तो वो तो वैसे ही बहुत कुछ कर देते। जैसे कि टेलिपाथी है। 
अवतारा का जो असली मतलब है कि पूरे होश से खुद को रूप रंग आकार में बदलते देखना
 और रूप रंग आकार में से निकलतीं देखना।
 मतलब कि ५ तत्त के आकर को मर्ज़ी से अपना लेना और छोड़ देना 
 क्या वो वैसे ही नहीं मार सकते थे ?
नहीं
अगर यह एक्शन हुआ है - चाहे यह एक्शन नॉन-एक्शन ही है ;  
या कह देतें हैं कि यह ब्रह्माण्ड की मर्ज़ी थी।
 पर हुई कृष्णा से, करवाई कृष्णा से, क्यों ?
कृष्णा चाहे पारब्रह्म हो चुक्के थे, पर बोये बीज का आखरी चैप्टर महाभारत में पूरा हुआ।
 कृष्णा का ही नहीं। सब का।
जब कोई भी क़िताब पढ़ी जाती है, तो हम उस पूरी किताब से फ्री होतें हैं, पूरी किताब को अलग कर देतें हैं
- याद क्या रहता है, जो हमारे किसी न किसी संस्कार में वैसा ही बीज है।
आज के इस अनुभव ने यही सम्झेया कि जिस हालात में - जिस अवस्था में हम कुछ भी करेंगे -
अच्छा या बूरा - हम को वो वैसे ही पूरा करना होगा।
 हम कभी भी बच नहीं सकते।
 सिर्फ हमारे डायमेंशन बदलते हैं, जब हम अपने बोये बीज को ख़ुशी से झेलते हैं या रो के झेलते हैं।
 बीज का सम्बन्ध मन के साथ है मन दर्द में रोता है।
 जब हमारा डायमेंशन आत्मिक हो जाता है,
हम भी मन के गवाह बन जातें हैं - सिर्फ यही होता है।
यह बात बहुत ज़्यादा महत्वपूर्ण है:
इस को ज़रा गौर से जानना और पहचाना। 
जब व्यक्ति अधियात्मिक राही होता है , तब उस की चेतना जागती जाती है।
 जितनी चेतना जागती जाती है, वैसे ही चेतना का औरा बढ़ता जाता है। 
 बढ़ते औरे के साथ ही व्यक्ति की  सीमत अवस्था, असीम होती जाती है।
  विशाल और विराट का अनुभव होने लगता है। 
जैसे ४० watt का बल्ब १००० watt का बन गया। 
असली यह है रहस्य-मई घटना।  
अमेजिंग , हैरानी से भरी घटना , अजनबीपन से भरी सुंदरता, 
ऐसी घटना जिस पर भरोसा ही न हो सके, ऐसी निराली शान से भरी घटना, 
खालीपन का एहसास देने की ऐसी घटना, 
जिस से सब भूख ख़तम हो जाए। 
हमारी ज़िंदगी बहुत ही मूल्यवान है,
 जो भी करें, बस देखतें करें कि क्या कर रहें हैं , या हमारे राहीं यह कैसे हो रहा है?

गॉड -डायमेंशन में हम सब एक हैं।
 हमारे ऋषि, मुनि और सब विद्वान्, हमारे ही जैसे थे, 
वो हम से पहले ज़िंदगी को जान गए और हम अब तक नहीं पहचाने।
 सिर्फ वक़्त का फ़र्क़ है और कुछ भी नहीं।   
---
  
« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
love you always