AELOLIVE
latest

Let's make life a pilgrimage together!

Let's make life a pilgrimage together!
Following the trail of colorful emotions and beautiful divine relationships. Now life Blossoms, beginning to love because it is a vibrant land of love and a beautiful feelings to wander across the heart during the journey of awakening. But here are some of the most stunning moments to witness life in full bloom with divine relationship and divine action like spring...And now thoughts are in bloom

Why is the speed of negative faster than positive?

Why is the speed of negative faster than positive?


If we have two seeds, which is bitter - they are quickly unbroken and give fruits quickly. Which is sweet seed - it takes time. Why? ever thought ? There is a very deep mystery in this - would you have understood that mystery by my writing this? The one who understands - just note that
One seed is such that it has to take the bitterness of the land, one seed has sweetness. Both have a journey. Both achieve nirvana in the end. Why? and how? What is it. In this, those secrets - which we know - but do not believe. Got some sense! That is the law of life, which gives the journey of both of them to the same destination.

Will you see life with me only once?
 Let's join me for a moment.
I sowed bitter gourd seeds. Bitter gourd is bitter - it made it bitter from what it ate from the ground. Then I cooked it for myself. Bitter gourd: It went into my blood. What was bitter about it, it changes my blood and chemical chemistry in my blood. Suppose I have a problem with sugar - bitterness has not given up its beauty, it will be the attack on my blood sugar, why? Got something! Because even when the bitter gourd dies, it does not leave its beauty. this bitter gourd has kept the bitterness alive. How will bitter gourd keep it? By killing sweetness. Treatment for my sugar and life for bitter gourd. Everything in life is very important in its place - we have to know how to use it - we understood it, then our boat crossed. Means won in life.

Flower or tree
animal or bird
human or weather
whatever happens
The speed of bitterness is fast for this, because the awareness of all of us is very fast towards its vices, but not all of us believe it. Because we want to ignore defects. But vices make us aware of ourselves. In the same way as if there is pain in the head, we remain fully conscious that we also have the head. We do not even remember the pain nor the head.
Quality or sweetness
These are only One thing
They always move in slow motion.
Because this is the real speed of life

Defecation or bitterness
The only thing
The speed will be fast
Because it's the speed of the mind
 seed like fruit
taste like ground 
life like nature
Our journey is full awakening to our own individual nature
Whether the nature is bitter or sweet
Complete awakening is the completely fulfilled journey

*****——*****
नकारत्मिक की स्पीड सकारत्मिक से तेज़ और ज़्यादा क्यों होती है ?
अगर हम दो बी बीजतें हैं, जो कड़वा है -वो जल्दी अकुंर होता है और फल भी जल्दी देता है। जो मीठा बीज होता है -वो वक़्त लेता है। क्यों? कभी सोचा ? इस में एक बहुत गहरा रहस्या है -क्या आप मेरे यह लिखने से ही उस रहस्या को कुछ समझ गए होंगे। वो जो समझ है -उस को बस नोट कर लो 

एक बीज ऐसा है कि उस ने ज़मीन का कड़वापन ही लेना है, एक बीज ने मीठापन। दोनों की यात्रा है। दोनों ही आखिर में निर्वाणा प्राप्ति करतें हैं। क्यों? और कैसे? क्या है. इस में  वो राज़ - जिस को हम जानतें हैं -पर मानतें नहीं।  कुछ समझ में आया ! वो ही है ज़िंदगी का कानून, जो इन दोनों की यात्रा को एक ही मंज़िल देता है। 

क्या ज़िंदगी को मेरे साथ सिर्फ एक बार देखेंगे ? 
चलो एक पल के लिए मेरे साथ। 
मैंने करेला के बीज को बो दिया। करेले का सुभाव ही कड़वा है -उस ने ज़मीन से जो भी खाया, उस को कड़वा बना लिया।  फिर मैंने उस को अपने लिए पका लिया।करेला: मेरे खून में चला गया। जो उस का कड़वापन था, वो मेरे खून में जा के मेरे खून के रसायनिक-तत्त  को बदलता है।  मान लो कि मेरे को सुगर  की तकलीफ है - कड़वेपन ने अपने सुभाव को नहीं छोड़ना, मेरी खून की सुगर पर ही उस का वार होगा, क्यों ? समझे कुछ ! क्योंकि करेले ने मरते मरते भी अपना सुभाव नहीं छोड़ना।  उस ने कड़वापन ज़िंदा रखना है।  वो कैसे रखेगा ? मीठेपन को मार कर। मेरी सुगर  केलिए इलाज़ और करेले के सुभाव केलिए ज़िंदापन।  ज़िंदगी में हर चीज़ अपनी जगह पर बहुत महत्वपूर्ण है -हम ने उस को कैसे इस्तेमाल करना है -हम को यह समझ आ गई तो हमारी नाव पार  हो गई। मतलब ज़िंदगी में जीत गए। 
फूल हो या पेड़ 
जानवर हो या परिंदा 
इंसान हो या मौसम 
कुछ भी हो 
करड़ापन की रफ़्तार इस लिए तेज़ होती है, क्योंकि हमारी सब की अवेयरनेस अपने अवगुणों के प्रति बहुत तेज़ है पर हम सब मानतें  नहीं।  क्योंकि अवगुणों को हम नज़रअंदाज़ करना चाहतें हैं।  पर अवगुण हम को अपने प्रति जगातें हैं।  बिलकुल वैसे ही जैसे सर में दर्द हो तो हम को पूर्ण होश रहता है कि हमारा सर भी है।  दर्द न ही तो हम को कभी सर की याद भी नहीं आती। 
गुण हो या मीठपन 
एक ही चीज़ है 
यह सदा स्लोमोशन में ही गति करतें हैं। 
क्योंकि ज़िंदगी की असली गति यही है 

अवगुण हो या कड़वापन 
एक ही चीज़ है 
गति तेज़ ही होगी 
क्योंकि यह मन की गति है 
जैसा बीज तैसा फल 
जैसी ज़मीन तैसा ही सवाद 
जैसी नीत तैसी मुराद 
खुद के सुभाव के प्रति पूर्ण जागृति ही हमारी यात्रा है 
सुभाव चाहे कड़वा हो या मीठा 
पूर्ण जागृति ही सम्पूर्ण यात्रा है 
« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
love you always