AELOLIVE
latest

Do you know that we are a big miracle secret?

Do you know that we are a big miracle secret?
Following the trail of colorful emotions and beautiful divine relationships. Now life Blossoms, beginning to love because it is a vibrant land of love and a beautiful feelings to wander across the heart during the journey of awakening. But here are some of the most stunning moments to witness life in full bloom with divine relationship and divine action like spring...And now thoughts are in bloom

How smart is our understanding!


Sweet talk on anyone's face, dirty talk behind their back; I did not know this formula. In order to understand this formula, She also compatible humans. I was surprised, the formula that I went to learn from her, the same formula she had come to learn from me. Why does the one who learns learn?
I had no other way other than patience. 2 years passed. I saw people quarreling a lot with that person. Every day her house became a field of quarrel. The day she met me, she told me that all this is the result of your company.
Take, today again the ground slipped from under my feet with surprise. I doubted myself, and I was questioning myself. may be! I cannot see this feeling or habit of mine. May be,  I'm blind.  My partner became patient again.
Six months passed, that woman got 4 morning calls that I want to meet you. I said that everyone is asleep, come when everyone has gone to work. And I hung up.
I had in mind that my question will be solved. When I got up for 7 o'clock and went outside the house, I saw that all the flowers in my garden had been plucked by someone. How it happened, what happened, nothing is known. I thought that the animal must have come. So I picked up the flowers and threw them away.
When everyone went to their own place, and I was alone in the house, there were 9 in the morning, the doorbell rang. When I went to open the door, that person was standing outside and told me that you said that when everyone has gone, then come, so I have come.
I asked to have food, and she had food. She asked for money from me after having dinner. I gave as much as I could. After taking the money, she said that whenever I need, to fulfill my needs. I said that I will definitely do as much as I can. I said the needy should ask for help lovingly, not by order. She started saying that, you have to help me forever, if you do not, then today I have just plucked flowers, after that I will go to break the car, then I will break the house.

My head also disappeared, shivering in the body, how this untoward incident was happening. Like it started raining without clouds. Like it happened tonight despite the sun.
I called my mother and father. Brother also came. But my trembling did not ease. Everyone said tell the police everything.
I do not like to fall into the waste of time, time will be bad. Secondly, it was never going to happen to me that I should file a case against anyone. So everyone quarreled and went back to me and taunted me that whenever the call comes, just keep sending money.
All these actions of that madam, I understood one thing that this madam will end in two places. One - Jail. Second - self-indulgence.
Very beautiful woman:
Now I again had pity on her that this woman's end is not good, how can I tell her to stop misusing the brain, how should I say that? I forgot my own pain, just now I am taken care of. I served her a lot. Whatever she asked for, I kept giving it to her.
It was beautiful, more than all, it was her quality that her brain was very sharp.
How did she know me in 2-3 meetings that she can get her work done by me?
How did she understand that I wanted to see her wrong actions closely?
How did she understand that I would fall into the trap of her words?
How did she know that I would be present in his service?
This was her brain, I had to avoid her brain. Such a fast brain was driven by wrong thinking, if her mind gets the right direction, then she can live her life comfortably.
I obeyed her a lot. Helped a lot. Her brain was very strong, she could not find any way in life. Nobody had supported her or Nobody supported her because of her habit. Just like she caught me in 2–3 visits and then hunted me, she could become a very amazing player. I was nervous, but I could not ignore her sharp understanding. She was so confident in her mind that no one could catch her mind, then I started fooling myself that she felt that she is winning. I used to see her face, how she used to be happy. And I told her to explain this understanding to me.
I got such a character that she could get all the work done by me. I have to fulfill all the needs of the money I earn. I also paid the rent of her house.
She was changing. But after few month, She again followed a lawyer, I said a lot. I told her that this person should not come to my house.
After the arrival of that person, I again worried about her and I now left her on God. After 19 days she killed herself by putting a rope around her neck.
I asked her how she came to know that I want to understand why people are sweet on the face and false behind the back?
She told me that this is a simple thing, you do not need me, if you have come then you have come to see or understand something. If you do not expect good from me, then you definitely want to see a particular habit of mine. My special habit was that I always made everyone stupid, the day people were quarreling with me, I did not know that you had to understand my same habit, people who were quarreling with me. I had put my charge on you, wanted to escape from there. When I saw you surprised, I understood and your pulse came in my hand.
Then Why did you throw my flower
To see to what extent you will help me.
Are you alright now?
Yes, now I will never trust anyone, I have to move from here. I have lived near my brother in California.
It is a very good decision.
Will you help me move?
100%
See, even if you have faith in someone, never forget yourself, please? Never put wrong thinking in your mind?
I will not, be carefree.
After that we spent 4 years. She was 35 when she committed suicide.
God bless her soul!

Life is a very delicate and destructive thing. If you want to ask for anything from this, you should ask for it very thoughtfully. Sometimes age passes to understand one thing. Sometimes 10-12 years of stress goes through a small mistake. The cost of correcting a wrong step is sometimes 10 years. We feel that we have to die now, while we have been dead since long ago. Shall we call that person alive who is paralyzed? In the same way, we are ecstatic when we go through the same thinking, the same problem, or the same tension.
I wanted to understand how someone is sweet on someone's face and how they become bad behind their back. I had a very harsh experience. This experience was completed in 7 years. What was the result? They will be filled as they are - you will get tit as you sow seeds.
 This woman was so clever and fast that it made the person standing in front of her stupid in a moment. Even the person talking intelligently made senseless, even if only for the moment. This put her own sharp intellect into destroying the other, what happened in the end, the same, which was reflected in its tricks. And I always told God that how is this your creation! Her clever mind was her weakness, she was hungry for love, hungry for belongingness. She did not understand that my sharp mind state is my enemy because I do not use it in the right way.
I saw that if we do not use the same quality with which we can proceed, we will lose. As if I had a quality that I love very much and I want to be with everyone. People used to think that they feel like I want to take something from them, or some people would think that it is idiot, take whatever we get from her (me).
I too never came to use my quality, like that woman did not come to use her sharp intellect properly. In the same way, till today I have not come to use the property.
I do not know how to use a good thing, because of that I do not succeed in my cause, what should I do?
I looked at my situation and condition with a clear mind and knew that I am on the same path, but due to the desire of the destination,  So I do not see my path. As much as my ability is, my path is being fulfilled.
Today my path is my destination, according to merit the path will be completed.
Just as the path was completed according to the qualification of that woman. Because the path was negative, the end was to be the same. If today my path is positive, then this path is my destination today because the destination is built with every step - as the building is built with every brick.
Life has taught me to hold my ears tightly because the desire is too big.
Now life is showing me how to know that this path is  real and right  for me ?
Our real and right path is:
- Which gives happiness to the destination in every step.
- which keeps making our every day new.
- Which gives us healthy confidence every day.
-Which keeps the lamp of Hope in our breath alive.
-Which continues to make our living every day, whether our desire is worldly or religious, no matter what, our lives start to be magnified from every side, then we are on the right path.
-When we go on the path, every step of ours is the same as we go round any pilgrimage, we have got what we want.
- Sometimes even if a negative incident happens, even if there is no wrong thinking on our trust, happiness, it is a sign of right path.
The wrong path always puts anxiety, tension, pain, wrong thinking in us, so that we understand that we are on the wrong path, or we need to walk more carefully. The wrong path will make us smaller in us. And every part of life will shrink.
always be happy !




किसी के भी चेहरे पर मीठे बोल बोलने, पीठ पीछे गंदे बोल बोलने; मेरी समझ में यह फार्मूला आता नहीं था। इस फॉर्मूले को समझने के लिए वैसे इंसान की संगत भी की। मैं हैरान ही रह गई, जिस फॉमूले को मैं उस से सीखने गई, वोही फार्मूला वो मेरे से सीखने आया था। जिस को आता है वो क्यों सीखेगा ? मेरे पास सब्र के इलावा अब ओर कोई राह नहीं थी। साल बीत गए। उस इंसान के साथ मैंने लोगों को बहुत झगड़ते देखा। हर रोज़ उस का घर झगड़े का मैदान बन चुक्का था। जिस दिन उस का मेरे से सहमना हुआ तो उस ने मेरे को कहा कि यह सब तेरी संगत का नतीजा है। 
लो ,आज फिर हैरानी के साथ साथ मेरे पाऊ के नीचे से ज़मीन ही खिसक गई। मेरे को मेरे पर ही शक , और मैं खुद को ही सवाल पर सवाल कर रही थी। शयद मैं अपने इस सुभाव को देख नहीं पा रही। शयद मैं अंधी हूँ। मेरा साथी फिर सब्र बना। 
महीने बीत गए, उस इंसान का सुबह के 4 वज़े कॉल आई कि मैंने आप से मिलना है। मैंने कहा कि सब सोये हुए हैं , जब सब काम पर चले गए तब जाना। और मैंने फ़ोन रख दिया। 
मेरे दिमाग में था कि मेरा सवाल हल हो जाएगा। जब मैं 7 वज़े उठी और घर के बाहर गई , तो देखा कि मेरी बगीची के सब फूल किसी ने तोड़ कर फेंकें हुए हैं। कैसे हुआ , क्या हुआ , कुछ पता नहीं। मेरे में सोच आई कि ज़रूर जानवर आया होगा। सो मैंने फूलों को उठा कर फेंक दिया। 
जब सब अपनी अपनी जगह पर चले गए, और मैं घर में अकेली थी तो सुबह के 9 वज़े हुए थे, दरवाज़े की बेल्ल बजी। मैं दरवाज़ा खोलने के लिए गई तो वो व्यक्ति बाहर खड़ा था और मेरे को कहा कि तुम ने कहा था कि जब सब चले गए, तब जाना , सो मैं गई। 
मैंने खाना पीना पूछा , और उस ने खाना खाया। उस ने खाना खाने के बाद मेरे से पैसे मांगे। जितने मैं दे सकती थी दे दिए। पैसे लेने के बाद उस ने कहा कि जब भी मेरे को ज़रूरत होगी, मेरी ज़रुरत पूरी कर दिया करना। मैंने कहा कि ज़रूर करूंगी, जितनी कर सकती हूँगी। 
मैंने कहा ज़रूरतमंद को प्यार से मदद मांगनी चाहिए आर्डर से नहीं। कहने लगी कि क्यों , बस आप ने सदा मेरी मदद करनी ही है , अगर नहीं करोगी तो आज तो मैंने सिर्फ फूल ही तोड़ कर फेंकें हैं , इस के बाद कार तोड़ कर जाऊँगी , फिर घर को तोड़ दूँगी। 
मेरा तो सर भी गायब , जिस्म में कंपकपी, यह कैसे अनहोनी घटना घट रही थी। जैसे बादलों के बिना ही बरसात होने लगे। जैसे सूर्य के होते हुए ही आज रात भी हो गई। 
मैंने अपनी माँ और बाप को बुलाया। भाई भी आया। पर मेरी कंपकपी कम नहीं हुई। सब ने कहा कि पुलिस को सब कुछ बता दे।
फालतू के झमेले में पड़ना , मेरे को पसंद नहीं, वक़्त ही खराब होगा। दूसरा मेरे से यह कभी होना ही नहीं था कि मैं किसी पर केस करूँ। सो सब मेरे को बोल झगड़ कर वापस चले गए और मेरे को ताना देते गए कि जब भी कॉल आये, बस पैसे भेजती रहना। 
उस मैडम की यह सब हरकतें, मेरे को एक बात समझा गई कि इस मैडम का अंत दो जगह पर होगा। एक - जेल। दूसरा -खुदकशी। 
बहुत सूंदर औरत:
अब मेरे को फिर उस पर तरस आया कि इस औरत का अंत अच्छा नहीं, इस को कैसे कहूँ कि दिमाग को गलत इस्तेमाल करना छोड़ दे , कैसे कहूँ ? मैं आपने खुद के दर्द को भूल गई, बस अब उस की फ़िक्र में क़ैद हो गई मैंने उस की बहुत सेवा की। जो जो उस ने माँगा , उस को देती रही। 
सूंदर थी , सब से ज़्यादा उस की यह खूबी थी कि दिमाग बहुत तेज़ था। 
उस ने कैसे - मुलाकात में मेरे को जान लिया कि वो मेरे से अपना काम करवा सकती है?
उस ने यह कैसे समझ लिया कि मैं उस की गलत हरकत को, नज़दीक से देखना चाहती हूँ ?
उस को कैसे समझ गई कि मैं उस की बातों के जाल में फस जाऊँगी ?
उस ने कैसे जान लिया कि मैं उस की सेवा में हाज़र हो जाऊँगी ?
यह जो उस का दिमाग था , मेरे को उस के इस दिमाग को बचना था। इतना तेज़ दिमाग गलत सोच से चलता था, उस के दिमाग को अगर सही दिशा मिल जाये तो वो अपनी ज़िंदगी आराम से जी सकती है। 
मैंने उस की बहुत बात मानी। बहुत मदद की। दिमाग बहुत तेज़ था, उस को ज़िंदगी में कोई राह मिल ही नहीं थी रही। किसी ने उस का साथ दिया ही नहीं था, उस की आदत के कारण कोई भी उस का साथ नहीं देता था  जैसे उस ने - मुलाकात में ही मेरे को पकड़ा और फिर मेरा शिकार किया , बहुत गज़ब की खिलाड़ी बन सकती थी। मेरे में चाहे घबराहट आई पर मैं उस की तेज़ समझदारी को नज़रअंदाज़ कर सकी।उस को आपने दिमाग पर इतना भरोसा था कि कोई उस के दिमाग की चाल को पकड़ नहीं सकता , तो मैंने खुद को बेवक़ूफ़ बनाना शुरू कर दिया कि उस को लगे कि वो जीत रही है। मैं देखती थी ,उस के चेहरे को , वो कैसे खुश होती थी। और मैंने उस को कहना कि यह समझ मेरे को समझा दे। 

उस को मैं एक ऐसा किरदार मिल गई कि वो मेरे से सब काम करवा सकती थी। मैंने जो पैसे कमाने, उस की सब ज़रुरत पूरी करनी। उस के घर का किराया भी मैंने देना। 
वो बदल रही थी। बस फिर एक वकील के पीछे फिर लग गई , मैंने बहुत कहा। मैंने उस को कहा कि यह आदमी मेरे घर नहीं आना चाहिए। 
उस आदमी के आने के बाद , मेरे को फिर उस की फ़िक्र हुई और मैंने अब उस को खुदा पर छोड़ दिया। 19 दिन के बाद उस के गले में रस्सी ढाल कर खुद को मार लिया। 
मैंने उस से यह पुछा था कि उस ने कैसे जाना लिया कि मैं यह समझना चाहती हूँ कि लोग चेहरे पर मीठे और पीठ पीछे झूठे क्यों होतें हैं ?
उस ने मेरे को कहा था कि यह साधारण सी बात है, तेरे को मेरी ज़रुरत नहीं, अगर आप आई हो तो कुछ देखने या समझने आई हो। मेरे से अच्छे की तो उम्मीद नहीं, तो ज़रूर मेरी किसी ख़ास आदत को देखना चाहती हो। ख़ास आदत मेरी यही थी कि मैंने सदा सब को बेवक़ूफ़ बनाया, जिस दिन लोग मेरे से झगड़ा कर रहे थे, मैं नहीं जानती थी कि तुम ने मेरी उसी आदत को समझना था, जिस आदत के कारण लोग मेरे से झगड़ा कर रहे थे  मैंने तो अपना इलज़ाम तेरे पर लगा दिया था, वहां से बचना चाहती थी। जब तेरे को हैरान होते देखा तो मैं समझ गई और तेरी नब्ज़ मेरे हाथ में गई। 
तुम ने मेरे फूल को क्यों फेंका था ?
यह देखने केलिए कि तुम मेरी मदद किस हद तक करोगी। 
अब तो आप ठीक हो ?
हाँ, अब कभी मैं किसी पर भरोसा नहीं करूंगी, मैंने यहाँ से मूव हो जाना है। कैलिफ़ोर्निया में मैंने आपने भाई के पास रहना है। 
बहुत अच्छा फैंसला है , ज़रूर चली जाना। 
क्या आप मेरे को मूव होने में मदद करोगी ?
100%
देखो, अगर किसी पर तेरे को भरोसा हो भी गया , तो भी खुद को कभी नहीं भूलना , प्लीज? कभी अपने दिमाग में गलत सोच नहीं रखनी ?
नहीं करूंगी , बेफिक्र हो जा। 
उस के बाद हम ने 4 साल बातीत किये। 35 साल की थी, जब उस ने खुदकशी की। 
खुदा उस की आत्मा को शांति दे !
ज़िंदगी बहुत ही नाज़ुक और  हरामी चीज़ है। इस से कुछ भी माँगना हो, बहुत सोच कर ही माँगना चाहिए। एक चीज़ को समझने केलिए कभी कभी उम्र बीत जाती है। कभी कभी एक छोटी सी गलती से १०-१२ साल तनाव में गुज़र जातें हैं। गलत कदम को सही करने की कीमत कभी कभी १० साल हो जाती है। हम को लगता है कि हम ने अभी मरना है, जब कि हम बहुत पहले से मर चुक्के होतें हैं। क्या हम उस इंसान को ज़िंदा कहेंगे, जो परालीसिएड होता है। वैसे ही हम परलयज़ेड हैं, जब हम एक ही सोच , एक ही समस्या ,या एक  ही तनाव की बली चढ़ जातें हैं। 
मैंने यह समझना चाहा कि कैसे कोई किसी के चेहरे पर मीठा होता है और  कैसे पीठ पीछे बूरा बन जाता है।  मेरा अनुभव बहुत कठोर तरीके से हुआ।  7  साल में यह अनुभव पूरा हुआ।  नतीजा क्या निकला ? जैसा करेंगे वैसा ही भरेगें - जैसा बीज बोयेंगे तैसा ही पाएंगे। 
 यह औरत इतनी चालाक और तेज़ थी कि यह आगे खड़े व्यक्ति को पल में ही बेवक़ूफ़ बना देती थी। समझदारी से बात कर रहे इंसान को भी बेसमझ बना देती थी, चाहे पल के लिए ही बनाये। इस ने अपनी खुद की तेज़ बुद्धि को दूसरे को नष्ट करने में लगा दिया, अंत में क्या हुआ, वोही, जो इस की चाल में से झलकता था।  और मैं सदा खुदा को कहती कि वाह कैसी है यह तेरी रचना ! उस का यह चालाक दिमाग ही उस की  कमज़ोरी था, वो थी प्यार की भूखी, अपनेपन की भूखी।  उस को यह ही समझ लगी कि मेरी यह तेज़ दिमागी हालत ही मेरी दुश्मन है क्योंकि कि मैं सही तरीके से इस  का उपयोग नहीं करती। 
मैंने देखाकि हम जिस गुण  के साथ आगे बढ़ सकतें हैं , वही गुण  को अगर सही उपयोग नहीं करेंगे तो हम हारेंगे।  जैसे मेरा गुण था कि मेरे को बहुत प्यार आता है और  मैं सब के साथ अपनेपन से रहना चाहती हूँ।  लोगों को मेरा अपनापन ही ऐसा लगता था कि जैसे मैं उन से कुछ लेना चाहती हूँ ,या कोई लोग ऐसा सोच लेता कि यह कमली है , इस से जो भी मिलता है , बस ले लो। 
मेरे को भी कभी मेरा गुण उपयोग करना नहीं आया, जैसे उस औरत को अपनी तेज़ बुद्धि को सही उपयोग करना नहीं आया था। वैसे ही मेरे को आज तक आपने गुण  को उपयोग करना नहीं आया। 
मेरे को एक अच्छी चीज़ को उपयोग करना आता ही नहीं, उस के कारण  ही मैं अपने मकसद में कामयाब नहीं होती, तो मैं क्या करूँ ?
मैंने अपनी हर हालत और हालात को बरीकी  से देखा और जाना कि मैं उसी राह पर हूँ, पर मंज़िल की चाहना होने के कारण मेरे को मेरी राह दिखाई  नहीं देती। जितनी मेरी योग्यता है, उतनी ही मेरी राह पूरी हो रही है। 
आज मेरी राह ही मेरी मंज़िल है, योग्यता के हिसाब से राह पूरी होती जायेगी। 
वैसे ही जैसे उस औरत की योग्यता के हिसाब से राह पूरी हो गई।  क्योंकि राह  नकारत्मिक थी, सो अंत भी वैसा ही होना था।  अगर आज मेरी राह सकारमत्मिक है तो यह राह आज मेरी मंज़िल है क्योंकि मंज़िल हर कदम के साथ बनती है -जैसे इमारत हर ईंट के साथ बनती है। 

ज़िंदगी ने मेरे कानों को सदा ज़ोर से ही पकड़ कर सिखाया है क्योंकि चाहना बहुत बड़ी है। 
अब मेरे को ज़िंदगी दिखा रही है कि कैसे पता चलेगा कि यह राह ही मेरी असली और सही  राह है ?
हमारी असली और सही राह वो होती है:
- जो हर कदम में ही मंज़िल की ख़ुशी देती जाती है। 
- जो हमारे हर दिन को नया बनाती चली जाती है। 
- जो हमारे को हर रोज़ तंदरुस्त भरोसा देती है।  
-जो हमारी हर सांस में आस के दीये को जगाई रखती है। 
-जो हमारे जीने को हर रोज़ विराट करती जाती है, चाहे हमारी चाहना सांसारिक हो या धार्मिक , कोई फ़र्क़ नहीं, बस हमारे जीवन  हर पास से विराट होने लगे तो हम सही राह पर हैं। 
-जब हम राह पर चलते जातें हैं , तो हमारा हर कदम हमारी वैसी ही परिक्रमा होता है, जैसा हम किसी भी तीर्थस्थान पर जा के परिक्रमा करतें हैं कि हम को हमारी मन चाही दात मिल जाय। 
- कभी अगर कोई नकारत्मिक घटना भी घटे तो भी हमारे भरोसे पर, ख़ुशी पर, आस पर कोई गलत सोच  आये , यह है सही राह की निशानी। 
गलत राह सदा हमारे में चिंता , टेंशन, दर्द, गलत सोचें डालती है , ता कि हम को समझ जाए कि हम गलत राह पर हैं, या हम को ओर ध्यान से चलने की ज़रुरत है।  गलत राह हम को हमारे में ही हम को छोटा करती जायेगी।  और ज़िंदगी के हर हिस्से को सिकोड़ती जायेगी। 
सदा खुश रहो
  
« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
see you again