BREAKING NEWS
latest

What did I know that when I fell in love with myself, my romance with the universe would begin!

What did I know that when I fell in love with myself, my romance with the universe would begin!
When nature became a school, the subject became silent. When I started writing every experience in space, literature began to be created. The creation of literature itself began to understand every article of itself, so understanding itself began to adopt every understanding. This romantic journey of my experiences taught me to love myself. The deepest and most beautiful experience is that when we fall in love with ourselves, then the romance starts with universe, then the universe itself identifies us with every mystery.

What is beauty and how does it create love?/ सुंदरता क्या है और कैसे प्यार को पैदा करती है ?--- #2

What is beauty and how does it create love?

When we see any beautiful thing, 
why do we think of it as beautiful, 
and what is the quality in it that we find beautiful. 

Beauty is the mother of love, if beauty were not there, love would not have been born in us.
One thing that is very important in our Vedas is: 'Purusha and Prakriti’.
(purusha means: jeeva ‘every creature')
Purusha mean creatures
Prakriti means nature
Purusha mean love
Nature means beauty
There is a seed of love in all of us, but it is just a seed, and wants to be seen by the beauty, but our own beauty does not allow the seed to flower. So now the question arises, how do we feed that seed?
first of all :
Whatever the word, relationship, thought, thing, whatever it is that the heart feels dear to, write to it, then make it a path and move forward.
Just like I love 3 words, why do I love 3 words?
 To understand how I analyze them.
1 -) mistake or forget
 (‘bhul’ in punjabi or hindi)
2 -) Bhub 
(Punjabi word, which means crying loudly and heartily)
3 -) Relationship
(rishtay)
Before these three words we now know what beauty is?
What is beauty?
- is a rhythm
And everything is of concern.
There is also a rhythm in something here, it looks beautiful to us.
Why does the beauty appear?
What is there in it that we think is beautiful?
Rhythmism: 
One thing is perfectly balanced. 
The waves of it's aura connected directly to our conscious form.
 Or it is said that when the waves of the aura of something hit us,
 we reach a state of thoughtlessness, 
meaning that we are out of the mental dimension. 
When we get out of the mental dimension, we call it the silent dimension 
or the spiritual dimension, or the conscious form,
 when we go into it, then the life (alertness or aliveness) that comes in us, 
the taste of the experience of that life, that love is.
Meaning that when our consciousness tastes this awareness,
we call it love.
Meaning that beauty takes us into our conscious form.
 Meaning that any part of life which has as much rhythm, 
the waves of its aura will unite us with the universe,
 or say that it will unite us with us or say that it will unite us with God.
Like these three words, which I like very much.
 Even though today everything looks lovely,
 these three words made my life beautiful.
 These words were entered into my life very quietly 
and in a good way.

1 -) mistake ( ‘bhul' in hindi aur punjabi)
Means to forget, means to forget, mistake. 
There is a mistake in life from us, here we forget some part of life.
 Our forgetting becomes our mistake.
This word here is one, which balances the two parts of life in a very sleek way. 
There was a mistake by mistake.
 Forgetting is the deepest mistake of all.
 Forgotten means that we cannot remember. 
Forgetting anything is our deepest mistake.
 Now what one forgets, according to that one will make mistake,
 meaning one will make a mistake.
Forget it, why is it called a mistake?
I got the same knowledge as religious books from this word.
 When you will carefully understand this word,

 you dearly understand that all our speech is also a religious way.
The second word is:
2-) Bhub: 
read more—part 3

***—***
सुंदरता क्या है और कैसे प्यार को पैदा करती है ?

जब हम किसी भी सूंदर चीज़ को देखतें हैं 
तो हम उस को सूंदर क्यों समझतें हैं, 
और उस में ऐसी क्या खूबी होती है, जो हम को सूंदर लगती है।


सुंदरता प्यार की माँ है ,अगर सुंदरता न होती तो हमारे में प्यार का जन्म न होता।
हमारे वेदों में एक बात का बहुत ही ज़िकर है, वो है: 'पुरष और प्रकीर्ति '
पुरष मतलब जीव 
प्रकीर्ति मतलब कुदरत 
पुरष मतलब प्यार 
प्रकीर्ति मतलब सुंदरता 
हम सब में प्यार का बीज है पर वो सिर्फ अभी बीज है, सुंदरता को देख कर पुँगरना चाहता है,पर हमारी ही बदसूरती बीज को पुंगरने  नहीं देती। सो अब सवाल यह पैदा होता है 
कि हम कैसे उस बीज को पुंगेरें ?
सब से पहले :
जो भी लफ्ज़, रिश्ता, ख्याल , चीज़, कुछ भी हो बस दिल को प्यारी लगती है ,
 उस को लिखतें हैं, फिर उस को ही मार्ग बना कर के आगे बढ़ते हैं। 
जैसे मेरे को ३ लफ्ज़ बहुत प्यारे लगतें हैं , यह ३ लफ्ज़ मेरे को क्यों प्यारे लगतें हैं ?,
 कैसे मैं इन का विश्लेषण करती हूँ, वो समझ लेना।
1 -) भूल 
2 -) भुब 
( पंजाबी का लफ्ज़ है , जिस का अर्थ  है, ज़ोर से और दिल खोल के रोना )
3 -) रिश्ता  
इन तीन लफ़्ज़ों से पहले अब हम यह पहले जानते हैं कि सुंदरता है क्या ?
सुंदरता क्या है ?
एक लयबध्ता है 
और लयबध्ता हर चीज़ की होती है। 
यहाँ पर किसी चीज़ में भी लयबद्धता होती है, वो हम को सुंदर दिखाई देती है। 
सूंदर क्यों दिखाई देती है ?
उस में ऐसी क्या चीज़ होती है कि जो हम को सूंदर लगती है ?
लयबद्धता: एक चीज़ पूर्ण संतुलित हो गई।  उस की आभा की तरंगें हमारे चेतन-रूप से सीधी जुड़ गई। या इस को ऐसा कहतें हैं कि किसी की चीज़ की आभा की तरंगें जब हम से टकराती है तो हम निर्विचार अवस्था में पहुंच जाते हैं , मतलब कि हम मानसिक आयाम से बाहर  हो जातें हैं। जब हम मनसिक आयाम से बाहर निकलते हैं तो हम चुप आयाम कहो या आत्मिक आयाम कहो या फिर चेतन-रूप कहो , उस में जब चले जातें हैं, तो हमारे में जो जिन्दापन आता है, उस ज़िन्देपन के अनुभव का जो स्वाद है, वो प्यार है।
मतलब कि हमारी चेतना को जब इस जागरूकता का स्वाद आता है, 
हम उस को प्यार कहतें हैं।  
मतलब कि सुंदरता हम को हमारे चेतन-रूप में ले जाती है। मतलब कि  ज़िंदगी का कोई भी हिस्सा ,जिस में जितनी लयबद्धता होगी, उतनी ही उस की आभा की तरंगें हम को ब्रह्मण्ड के साथ एक करेगी, या कहो कि हम को हमारे साथ एक करेगी या कहो कि हम को खुदा के साथ एक करेगी। 
जैसे यह तीन लफ्ज़ हैं, जो मेरे को बहुत प्यारे लगतें हैं। 
 चाहे आज सब कुछ प्यारा लगता है, पर यह तीन लफ़्ज़ों ने मेरे जीवन को सूंदर बना दिया। 
इन लफ़्ज़ों का ,मेरी ज़िंदगी में दाख़िला बहुत ही चुपचाप और अच्छे तरीके से हुआ।
1 -) भूल 

मतलब भूल जाना , मतलब कि भूल हो गई , गलती हो गई।  ज़िंदगी में गलती हम से वहीँ पर होती है, यहाँ पर हम ज़िंदगी के किसी न किसी हिस्से को भूल जातें हैं। हमारा भूलना ही हमारी भूल बन जाती है। 
यहाँ पर यह लफ्ज़ एक है, जो ज़िंदगी के दो हिस्सों को बहुत ही सोहने तरीके से संतुलन करता है। भूल से भूल हो गई।  भूल जाना ही सब से गहरी भूल है। भूल गए मतलब कि हम को याद नहीं रहा। हमारा कुछ भी भूल जाना ही सब से गहरी भूल है।  अब कोई क्या भूलता है, उस के अनुसार ही वो भूल करेगा,मतलब कि गलती करेगा।  
भूल जाने को ही भूल कहा गया ,क्यों ?
भूल जाने को, गलती क्यों कहा गया है ?
मेरे को इस लफ्ज़ से धार्मिक किताबो जैसा ही ज्ञान मिला।  जब आप गौर से इस लफ्ज़  को समझेंगे तो श्याद आप वो समझ जाओ कि हमारी सब बोली भी एक धार्मिक राह ही है।
दूसरा लफ्ज़ है:
२-) भुब :
आगे पढ़िए : #3
« PREV
NEXT »

No comments

The way of speech

The way of speech
This is what I learned and understood from life and also learned that every human being needs one thing very much, that is education. Education is not that one should have a degree, education should be one with which a person can understand life. What does it mean to know? What is understanding? What is recognized? And what to believe? When we understand these four questions, then the art of living comes in us. This art is such that life gets embodied in the veneer of health. Because we start seeing life so deeply that diseases are far away and we live life at the highest level. I will share these four questions with all of you from different direction and from different condition.

Thanks you came here

Thanks you came here
The best cure of the body is a quite mind:. Powered by Blogger.