BREAKING NEWS
latest

Autumn grooms me in such a way that my every thought starts sprouting!

Autumn grooms me in such a way that my every thought starts sprouting!
पतझड़ मेरे को ऐसे संवार देती है कि मेरी हर सोच अंकुर होने लगती है !

yourlabel

latest

meditation music

meditation music

Adorable living

Adorable living/block-2

The death of Ego

The death of Ego/block-2

In today's time

In today's time/block-4

A Cosmic pause

A Cosmic pause/block-2

What a life

What a life/block-2

blissful spring

blissful spring/block-4

Space and Time

Space and Time/block-2

Beauty of Relationship

Beauty of Relationship/block-2

Featured Post

Spiritual Glow

  Spiritual Glow When the Fragrance of Experiences Blooms, the Color of Life gets a Spiritual Glow When I came to know that my thinking give...

Featured

Latest Articles

Spiritual Glow

 Spiritual Glow

When the Fragrance of Experiences Blooms, the Color of Life gets a Spiritual Glow



When I came to know that my thinking gives shape to me, whether it is my physical structure or my life structure, then I started learning how to make an image of thinking.

When I saw that thinking is my future, I made thinking my guru and thinking made my way. On which first of all it was written that -

Knowledge is the Serene Ashram of life

And

Experience is the name of living the truth, from which the flower of understanding blooms

---

जब मैंने जाना कि मेरी सोच ही मेरे को आकार देती है, चाहे वो मेरा जिस्मी ढांचा है या मेरा जीवन ढांचा, तो मैंने सोच की मुरत कैसे बनानी है, यही सीखना शुरू कर दिया। 

जब मैंने देख ही लिया कि सोच ही मेरा भविष्य है तो सोच को ही मैंने गुरु बनाया और  सोच को ही राह बना लिया।  जिस पर सब से पहले लिखा कि -

ज्ञान जीवन का निर्मल आश्रम है 

और 

अनुभव सत्य को जीने का नाम है, जिस में से समझदारी का फूल खिलता है 



Experience becomes knowledge, knowledge is the way to freedom; It is from freedom that the seed of love sprouts in our hearts.

---

अनुभव ज्ञान बन जाता है, ज्ञान आज़ादी का मार्ग है; आजादी से ही हमारे दिल में  प्यार का बीज पुंगरता है। 



When I searched for myself, I found not one but many pearls. Love, Care, Peace, Happiness, Satisfaction, Freedom, Fulfillment, Entitlement, Ability and Greatness - WOW!

---

जब मैंने खुद की खोज की तो मैंने एक नहीं अनेक मोती  की प्राप्ति की।  प्यार, केयर, शांति, ख़ुशी, संतुष्टि, आज़ादी, तृप्ति, पात्रता, योग्यता और विराटता -वाओ !



I am an ocean of deep peace, in which the body is like a calm island. My mind flows calmly, the sound of clarity of emotions connects me to the universe. My existence, which is today a country in which my thoughts are the holy books, which my every particle reads. The blood flowing in my veins is the flow of my love - in which every particle of my being takes a bath and completes its pilgrimage.

---

मैं बहुत ही गहरी शांति का महासागर हूँ, जिस में जिस्म एक शांत टापू की तरह है।  मेरा मन स्थिरता से बहता है , भावनाएं की स्पष्टता का साज मेरे को ब्रह्मण्ड से जोड़ता है।मेरा अस्तित्व जो आज एक ऐसा मुल्क है, जिस में मेरे विचार ही पवित्र किताबें हैं, जिस को मेरा कण कण पढ़ता है। मेरी रगों में बहता खून मेरे प्यार का बहा है -जिस में मेरे अस्तित्व का हर कण नहा के अपना तीर्थ पूर्ण करता है 




When any person adorns himself with love and prayers, then this act of that person adorns the wonderful purpose of life. The strong goodness of that person's karma clears the atmosphere, and that person's energetic existence is the presence of a powerful person, from whom life begins to blossom in its natural form.

---

जब कोई भी व्यक्ति खुद  को प्यार और दुआ से सजाता है तो उस व्यक्ति का यह कर्म जीवन के अद्भुत उद्देश्य को सुशोभित करता है। उस व्यक्ति के इस कर्म की मजबूत अच्छाई  वायुमंडल को साफ़ करती है, और उस व्यक्ति का ऊर्जावान अस्तित्व  एक ताकतवर  व्यक्ति की उपस्थिति होता है, जिस से कुदरती रूप में ही जीवन प्रफुलित होने लगता है।


जब अनुभवों की खुशबू खिलती है तो जीवन की रंगत में रूहानी निखार आ जाता है





Journey with Gentle Steps

 Journey with Gentle Steps

The journey of my gentle steps, when I was made to feel my strength, I did not know



I don't know How My breathing is going, and how can I know again whether MY Living is really real or not

मैं नहीं जानती कि मेरी सांसें कैसे चल रही है, और मैं यह फिर कैसे जान सकती हूँ कि आज का मेरा जीना सच में ही असली है या नहीं 




I know what My life is living on, but I don't know How close the destination is Now

मैं यह जानती हूँ कि मेरा जीना किस सोच पर जी रहा है, पर मैं यह नहीं जानती कि अभी मंज़िल कितनी नज़दीक है 




I do not know whether My life will touch anyone or not, but I know this perfectly that Every particle of the universe will touch Me.

मैं नहीं जानती कि मेरा जीना किसी को छुहेगा  कि नहीं, पर यह मैं पूर्ण रूप में जानती हूँ कि ब्रह्मण्ड हर कण मेरे को छूह  लेगा। 




Death is known only by dying within Time and entering eternity

वक़्त के भीतर मर जाने से ही मौत को जाना जाता है और अनंत काल में प्रवेश हुआ जाता है





Being beyond the Mind is the beginning of living with the senses

मन के पार होना ही होश से जीने की शुरूआत होती है 


 



To die in Thoughtfulness is to be born in Awareness

 विचारशीलता में मरना ही जागरूकता में पैदा होना होता है 





There is a very natural way to go into the depths of silence; When we start speaking the truth from today, we will enter into silence because the truth of life is very little.

चुप की गहराई में जाने केलिए एक बहुत ही कुदरती राह है; जब आज से हम सच बोलना शुरू कर देंगे तो हम चुप में दाखिल होते जाएंगे क्योंकि जीवन का सच बहुत थोड़ा है

  

 


Becoming absolutely true to living brings maturity in us, which soon teaches us to live pure

 जीने के लिए बिलकुल सच्चे बन जाने से हमारे में परिपक़्ता आती है, जो हमारे को जल्दी ही शुद्ध जीने की सीख दे देती है 




When WE enter our own Space, Our image becomes the medium from Which the entire Universe is reflected.

जब हम खुद की स्पेस में दाखिल हो जातें हैं तो हमारी छवि माध्यम  बन जाती है, जिस में से सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड प्रतिबिम्बित होता है




Love is the best path for beautiful Growth. But every Growth is painful because to move forward one has to leave the ground on which we stand today. There is no way towards  Growth

सुन्दर विकास लिए 'प्यार' सब से अच्छी राह है। पर हर विकास दर्दनाक होता है क्योंकि आगे बढ़ने केलिए उस ज़मीन को छोड़ना पड़ता है, जिस पर आज खड़े होतें है। विकास का ओर कोई भी तरीका नहीं है


 मेरे कोमल कदमों की यात्रा, कब मेरे को मेरी ताकत का अनुभव करा गई, मेरे को पता ही नहीं चला 




Season of Sanyasi

 Season of Sanyasi 

The falling leaves are just as if EGO had blown away from ME 

and I was starting to become Beautiful




The Beauty of Autumn is the same beauty as When I saw myself wrapped in the Color of Sadness, the rustle of my feelings in MY Sadness is like the Wind blowing with dry Leaves.

पतझड़ की सुंदरता वोही सुंदरता है, जब मैंने खुद को उदासी के रंग में लिपटे हुए दिखा था, मेरी उदासी में बहती मेरी भावनाओं की सरसराहट सुक्के पत्तों के साथ टकराती हवा वैसी ही है। 



The Beauty of the Path covered with Falling Leaves reminds ME of the Moment When the Beauty of MY Sadness gave ME a glimpse of the SPRING-SEASON and Sprouted a Smile like a seed in ME

झड़ते पत्तों से ढके हुए रास्ते की सुंदरता मेरे को याद दिलवाती है, मेरे उस पल की जब मेरी उदासी की सुंदरता ने मेरे को बाहार-ऋतू की झलक दिखा कर मेरे में बीज की तरह मुस्कान को अंकुर किया था।
-



Falling Leaves make ME Feel like When My Wrong Thoughts fell from ME

झड़ते पत्ते ठीक वैसे ही मेरे को अनुभव देतें हैं जैसे जब मेरे गलत विचार मेरे से झड़े थे 
-

झड़ते पत्ते बिलकुल ऐसे ही हैं जैसे मेरे से घमंड झडा था और मैं सुन्दर होने लगी थी।

Moment absorbed the Ages

 I am the traveler of the moment absorbed the ages


How my experience in my stay moments would have made me bigger and deeper. from which it becomes easier to understand the secret of life




A unique and beautiful moment touching the heights from the depths of silence - in which how to live, how to learn, how to move forward and how to be happy is the source of all experiences, within me, outside me, all around. spread out on the side - in which the wonderful feeling of the journey of a wonderful life blooms within and outside
Now :
I will enjoy my journey, my experience and myself.
Today I have to move forward, not because I have to, but because I want to.
Today, the moments spread in height and depth say - 'Never give up on the beginning'
Why? I didn't understand this, just gave myself permission with full blessing that - 'Go ahead'

Now till today I am moving forward, I am a moment, but I am absorbing the era.

 चुप की गहराई में से उचाई को छूता हुआ एक अनोखा और सुन्दर पल - जिस में कैसे रहना है, कैसे सीखना है, कैसे आगे बढ़ना है और कैसे खुश होना है, यह सब अनुभवों का स्रोत ,मेरे ही भीतर, मेरे ही बाहर , चारों तरफ फैला हुआ है - जिस के भीतर और बाहर अद्भुत जीवन की यात्रा का अद्भुत एहसास खिलता है .

अब :

मैं अपनी यात्रा, अपने अनुभव और खुद आपने आप का आनंद लूंगी। 
आज मैंने कदम को आगे बढ़ना है , इस लिए नहीं कि मेरे को करने पड़ेंगे,
बलिक इस लिए कि मैं करना चाहती हूँ।
आज ऊंचाई और गहराई में फैले हुए पल कहतें हैं कि - ' शुरूआत को कभी न छोड़ो'
क्यों? मैं यह तो नहीं समझी, बस खुद को पूर्ण आशिर्बाद के साथ अनुमति दे दी कि- ' आगे बढ़ जाओ'  
अब आज तक आगे ही बढ़ती जा रही हूँ, पल हूँ, पर युग को समाती जा रही हूँ। 
---


Even today I remember those days when I felt for the first time that nature asks me about my well being. Because I gave permission to nature a few days ago that my life is always free for nature. It was at that moment that I knew how much I love me that I can do everything to be happy and at peace. Trusting nature and loving myself - both of these were one incident, which went on to give me the status of the universe.
Life said on the very first step, 'Today the life in you is deeper than mine'
Aliveness said, 'You are looking very good today'
My admission in my new life was such that my existence blossomed like a flower. My every particle became active like a bud.
My blossoming in my emptiness and the unfathomable love flowing in me, made life an ocean.

आज भी मुझे वो दिन याद हैं जब पहली बार मैंने महसूस किया था कि कुदरत मेरे से मेरा हालचाल पूछती है। क्योंकि मैंने कुछ दिन पहलों कुदरत को अनुमति दे दी कि मेरी ज़िंदगी कुदरत केलिए सदा आज़ाद है। उस पल ही मैंने यह जाना था कि मेरा मुझ को कितना प्यार आता है कि मैं खुश और शान्ति के लिए सब कुछ कर सकती हूँ। कुदरत पर भरोसा और खुद को प्यार करना -यह दोनों ही एक घटना थी, जो मेरे को ब्रह्मण्ड जैसी औकात देने केलिए चल पड़ी। 
पहले ही कदम पर ज़िंदगी ने कहा,' आज तेरे में जिन्दापन मेरे से भी गहरा है '
जिन्दापन ने कहा, ' आज तुम बहुत ही अच्छी लग रही हो'
मेरा नई ज़िंदगी में दाखिला ऐसा था कि मेरा वजूद फूल की तरह खिल गया। मेरा कण कण कली की तरह क्रियाशील हो गया।  
मेरा शून्यता में मेरा खिलना और मेरे में अथाह प्यार का बहना, जीवन को भवसागर बना गया।  
---



From the very beginning my journey was of death - not of life.
Whether it is the journey of life or the journey of death - a person always travels alone.
Today I see that I am not alone even in death. In death my existence was awakened in such a way that in this pure loneliness of mine, the universe became a companion.

शुरू से ही मेरी यात्रा मौत की रही- जीवन की नहीं। 
जीवन की यात्रा हो या मौत की यात्रा- व्यक्ति सदा ही अकेले में यात्रा करता है।  
आज मैं देखती हूँ कि मैं मौत में भी अकेली नहीं हूँ। मौत में मेरा अस्तित्व ऐसे जाग उठा कि मेरे इस शुद्ध अकेलेपन में ब्रह्मण्ड साथी हो गया। 
---

मेरे ठहरें पलों में मेरा अनुभव मेरे को कैसे बड़ा और गहरा कर देता। जिस में से जीवन का रहस्य समझना आसान हो जाता है

Love and Liberation

 Love and Liberation




What is the relation between love in freedom and freedom in love? When these questions came to me and how I saw freedom and love, I describe the experiences of freedom that dealt with me.


How does it feel when Emotions Travel in the Journey of a free Soul, Have You enjoyed such a Journey? Such a Dimension here When emotions celebrate with Spirit? A wonderful Celebration of Wellness in the Physical Body and a  Celebration of moving Thoughts in a Relaxed State of Mind - Wow - Have You ever seen a Celebration of such a Dimension?
-
आज़ाद आत्मा की यात्रा में जब भावनाएं यात्रा करती है तो कैसा लगता है, क्या आप ने ऐसी यात्रा का आनंद लिया है? ऐसा आयाम यहाँ पर जब भावनाएं रूह के साथ जश्न मनाती हैं? भौतिक शरीर में तंदरुस्ती का अद्भुत जश्न और मन में आरामदेह अवस्था में चलती सोचों का जश्न- वाओ- क्या आप ने ऐसे आयाम का कभी जश्न देखा है?
---

Today My existence celebrates the moments of my Freedom. Celebration of the free Spirit: Inside and outside the Feelings and Thoughts are also celebrating their own Freedom. There is such an inexplicable Dimension of Freedom of Thought and Freedom of Feelings - Which is simply Great-BLISS
-
आज मेरा वजूद अपनी आज़ादी के पलों का जश्न मनाता है।  आज़ाद रूह का जश्न : जिस के भीतर और बाहर भावनाएं और विचार भी खुद की आज़ादी का जश्न मना रहें हैं। विचारों की आज़ादी और भावनाओं  की आज़ादी का ऐसा अकथनीय आयाम है -जो बस महा-आनंद है।
---   





In My moments of consciousness always hides Mystery and Wonder, Which is not only one in My Mental, Physical, Emotional and Spiritual Form, but One with the movement of all Life - Which always teaches me about DEATH. 
-
मेरे होश के पलों में सदा ही रहस्य और आश्चर्य छुपा होता है, जो मेरे  मानसिक, शारीरिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक रूप में ही एक नहीं होता बलिक  तमाम जीवन की गति के साथ एक होता है- जो सदा ही मेरे को मौत की सीख देता है। 
---

The name of life is 'Newness', What is life? So the Question comes, How will innovation come? So it becomes Questionable. So I understood that only the process of Our progressing Steps can take us to Newness – If Our moving Steps have got the right Direction. Today, the Newness in me turns into Freshness and Smiles with the Smell of Wellness.
-
जीवन का नाम है 'नयापन', जीवन है क्या? तो सवाल यह आता है नयापन कैसे आएगा? तो यह सवालमारिक बन जाता है। तो मैंने समझ लिया कि हमारे बढ़ते हुए कदमों की परिकर्मा ही हम को नयेपन में ले के जा सकती है-अगर हमारे बढ़ते हुए कदमों को सही दिशा मिली हो। आज मेरे में नयापन ही ताज़ापन बन कर तंदरुस्ती की महक से मुस्कराता है। 
---

My life is progressing very Rapidly, Transcending Nature and Entering into an Unknown but a Dimension of belongingness to ME. I do not know Where the destination will be, Whether there is a destination or not, I just knew that Today there is an Era in every moment, like Today there is a Destination in MY every Step.
-
मेरा जीवन बहुत तेज़ी से बढ़ता हुआ, कुदरत को पार करता हुआ एक अनजाने पर  मेरेपन के अपनेपन के आयाम में प्रवेश कर रहा है।  मैं नहीं जानती कि मंज़िल कहाँ पर होगी, मंज़िल है कि नहीं है, बस यह जान गई कि आज हर पल में ही युग है जैसे आज मेरे हर कदम में मंज़िल है। 
---



The presence of Love was always my Guide and this Love ordered itself to quench My thirst and My hunger. With this order, the Power of understanding and the courage to fulfill the purpose was born in ME, Which itself then started moving forward in the unknown dimension. This permission of Love began to teach ME How to move forward without Body, Mind, Eyes, Ears and Intelligence. Then in This new world, the Mystery of everything started coming in me as Knowledge - due to Which I could easily meet in Happiness and Peace. Then I learned why all Religions call Love the GOD because Love is a truly wonderful Connection - That is Simple and Straightforward.
-
प्यार की मजूदगी सदा ही मेरा मार्ग-दर्शिक बनी और इस प्यार ने  मेरी प्यास और मेरी भूख को मिटा देना का खुद को ही आदेश दे दिया। इस आदेश के साथ ही मेरे में समझ की शक्ति और उद्देश्य को पूर्ण करने की हिम्मत ने जन्म  ले लिया, जो खुद ही फिर अज्ञात आयाम में आगे बढ़ने लगी। प्यार की इस अनुमति ने मेरे को यह सीख देनी शुरू की कि कैसे  शरीर, मन, आँख, कान और अक्ल के बिना आगे बढ़ना है।  फिर इस नई दुनिया में सभी चीज़ का रहसय, ज्ञान बन कर मेरे में आने लगा - जिस से मैं सहजे ही  ख़ुशी और शांति में समाने लगी।  फिर मैंने जाना कि क्यों सब धर्मों ने प्यार को रब्ब कहा है क्यों कि प्यार  वास्तव में अद्भुत कनेक्शन है - जो सीधा और सरल है। 
---

Our everyday Life is a discovery - Which instilled in ME the Love of the pursuit of Death. The Curiosity of Death began to teach ME the Art of Living. My deep wonder began the moment the moment made ME stand in the 'NOW'. My Curiosity was Satisfied the moment Curiosity recognized itself And When My search accepted to be always a Seeker, then at that very Moment I became a Traveler of the Dimension of the AGES.
-
हमारी हर रोज़ की ज़िंदगी एक खोज है - जिस ने मेरे भीतर मौत की खोज का प्यार डाल  दिया। मौत की जिज्ञासा ने मेरे को जीने में कलाकारी सिखानी शुरू कर दी  मेरा गहरा आश्चर्य  उस पल से शुरू हुआ जब पल ने मेरे को 'अभी' में खड़ा कर दिया।मेरी जिज्ञासा को उस पल ख़ुशी मिली जब जिज्ञासा ने खुद की जिज्ञासा को पहचान लिया और  मेरी खोज  ने सदा खोजी रहना ही जब कबूल किया तो मैं उस पल ही युगों के आयाम की यात्री बन  गई। 
----

 आज़ादी में प्यार और प्यार में आज़ादी का क्या सम्बन्ध है ? जब यह सवाल मेरे में आये और मैंने कैसे आज़ादी और प्यार को देखा, उन सब अनुभवों में जो आज़ादी का मेरे साथ व्यवहार था, उस का वर्णन करती हूँ




My Gait Becomes Mystic




My Sanyasi Companion

First Part:
 This tree is my Gurukul and today I too have to take the education of Sannyas from this Gurukul. I closely observe, understand and recognize every leaf of this tree. How this leaf, surrounded by sadness like me, is engaged in penance!
  I asked the leaf what do you chant?
 The leaf said, - 'We do not chant, we enjoy our falling color.'
I asked from the second leaf, who is your guru?
The leaf said, 'My birth had made me a guru.'
I asked from the third leaf, what religion do you belong to?
The leaf said, 'To be a leaf is my religion.'
Now I asked that why are you all wearing this Sanyasi color today?
So the tree replied, -
'Today and now I have given initiation to these leaves, it is my initiation that now the life of these leaves is successful, wherever these leaves go, they will always remain nectar; From today these leaves will walk on the path of freedom.
Second Part :
Today I again got free from those leaves, which were stuck in some nook of the ground, or were stuck in someone even after independence.
Freedom and then Slavery
 My question took me closer to the leaves and my tongue was closed, but the leaves read my silence and said -
'Today we have to see our freedom, how deep it is. Our freedom will be deep only when we feel our freedom even in slavery, then only we will be able to make our next Sage journey.
My closed tongue silently bowed its head to the leaves.
Third Part:
Today I again saw some such leaves which were crushed to pieces due to winter and the water flowing through the street was carrying those leaves melting. I too started running with some flowing leaves and whatever I wanted to ask from the leaves, they started saying themselves.
Who is crushed?
- one who is arrogant
 Let there be no element of pride in our energy, so we have to bring ourselves to a state of being crushed; Now this flowing water explains the movement of energy to us, we are now learning how to be anergic? It was our total dedication. After this, now we have to grow ourselves by becoming manure. Meaning that now when energy will be born again in us, we will see ourselves being born, this is what our samadhi means that now our journey of salvation will start.
---***---

Whenever the beauty of autumn enters my being as love, my gait becomes mystic

 




Love is the deepest and greatest force for self-confidence; The secret of the beauty of a falling leaf is that the tree has watered the leaf with great love.










Leaves and me






I see the leaves which are still on the top of the tree and their yellow-orange robes showing the glory of their renunciation or renunciation. These leaves, in their ocher colour, are beginning to make friends with my Sanyasi spirit. I felt that both myself and this leaf are in a state of renunciation.









When I saw myself in renunciation today, I only knew that 'I am complete, but my consciousness has not yet awakened'. This unconscious form of mine has taken the form of autumn so that it can wear a new color outside. Autumn came upon me and I continued to wear sanyaasi clothes. Because I knew that the spring flower is to bloom in my autumn.










Today the autumn threw my eyes towards me, then I saw that today autumn has grown into youth on my existence and the question arose; Then I gestured and asked the 'I' within me, -
 "What is the secret of this new and new youth?"
I looked at the sky with such depth that the deep state of that depth was understood by me and only a smile blossomed in me.
 A blooming smile gave me the same youth that autumn had given to my inner self.



---------------***-------***---------------



जब भी पतझड़ की खूबसूरती मेरे अस्तित्व में मोहब्बत बनकर समाती है तो मेरी चाल फकीरी हो जाती है 



प्यार आत्मविश्वास  के लिए सब से गहरी और बड़ी ताकत है; झड़ते हुए पत्ते की ख़ूबसूरती का राज यही है कि पेड़ ने पत्ते को बहुत प्यार से सींचा होता है। 








पत्ते और मैं




मैं देख रही हूँ उन पत्तों को, जो अभी भी पेड़ के ऊपर हैं और उनके पीले, नारंगी रंग  के लिबास उनके त्याग या वैराग्य की महिमा का प्रदर्शित कर रहें हैं। यह पत्ते अपने गेरू-रंग में, मेरे सन्यासी भावना के साथ दोस्ती करने लगे हैं। मेरे को ऐसे लगा कि मैं और यह पत्ते दोनों ही वैराग्य की स्थिति में हैं।










जब मैंने खुद को आज वैराग्य में देखा तो मैंने यही जाना कि ' मैं तो पूरी हूँ, पर मेरी चेतना अभी जागी नहीं।  मेरा यह अचेतन-रूप ही पतझड़ का रूप ले के आया है कि यह बाहार का नया रंग पहन सके।  मेरे ऊपर पतझड़ आता ही गया और मैं सन्यासी कपडे पहनती ही रही।  क्योंकि मैंने जान लिया था कि मेरी पतझड़ में ही बसंत का फूल खिलना है। 









आज पतझड़ ने मेरी नज़र को मेरी ओर ही फेंका तो मैंने देखा कि मेरे अस्तित्व पर आज  पतझड़ भी यौवन बन कर निखरा हुआ है और प्रश्न उठा; फिर मैंने इशारे से ही मेरे भीतर की 'मैं' से पूछा,-
 ''इस नए और नए यौवन का राज क्या है?''
मैंने आसमान की तरफ ऐसी गहराई से देखा कि उस गहराई की गहरी दशा मेरे को भी समझा गई और मेरे में सिर्फ मुस्कराहट खिल गई। 
 खिलती मुस्कान ने मेरे को वही यौवन दिया, जो पतझड़ ने मेरे भीतर की 'मैं' को दिया था। 





मेरा सन्यासी साथी 



पहला हिस्सा: 
  यह पेड़ ही मेरा गुरुकुल है और  मैंने भी आज संन्यास की शिक्षा इस गुरुकुल से लेनी है। इस पेड़ के हर पत्ते पत्ते को मैं करीब से देखती हूँ, समझती हूँ, और पहचानती हूँ।  मेरे जैसी उदासी में घिरे यह पत्ते, कैसे तपस्या में सलग्न है!
  मैंने पत्ते से पूछा कि आप किस का जाप करते हो?
 पत्ता ने कहा,- 'जाप नहीं हम तो अपने झड़ते रंग का आनंद लेते हैं।' 
मैंने दूसरे पत्ते से पुछा कि आप का गुरु कौन है?
पत्ते ने कहा,- 'मेरा पैदा होना ही मेरे को गुरु बना गया था।' 
मैंने तीसरे पत्ते से पुछा कि आप किस धर्म  के हो?
पत्ते ने कहा,- 'पत्ता होना ही मेरा धर्म है।'  
अब मैंने सवाल किया कि फिर आज आप सब ने यह यह सन्यासी रंग क्यों पहना है ?
तो पेड़ ने जवाब दिया,-
'आज और अब मैंने इन पत्तों को दीक्षा दे दी है, यह मेरी दीक्षा है कि अब इन पत्तों  का जीवन सफल है, यह पत्ते कहीं पर भी जाएंगे तो सदा अमृत ही रहेंगे; आज  से यह पत्ते आज़ादी के मार्ग पर चलेंगे।' 
दूसरा हिस्सा :
आज मैं फिर मिली आज़ाद हुए उन पत्तों से, जो आज़दी के बाद भी ज़मीन की किसी नुकर में फसे हुए थे, या किसी में अटके हुए थे। 
आज़ादी और फिर गुलामी :
 मेरा सवाल मेरे को पत्तों के करीब ले गया और मेरी जुबां बंद थी, पर पत्तों ने मेरी चुप को पढ़  लिया और कहा कि -
'आज हम ने अपनी आज़ादी को देखना है कि यह कितनी गहरी है।  हमारी आज़ादी तब ही गहरी होगी जब हम गुलामी में भी खुद की आज़ादी को महसूस करेंगे, तो ही हम हमारी आगे की ऋषि यात्रा के काबिल बनेगे।'
मेरी बंद ज़ुबान ने चुप में ही पत्तों को सिर झुकाया। 
तीसरा हिस्सा:
आज मैंने फिर से कुछ ऐसे पत्तों को देखा, जो सर्दी के कारण  चूर चूर हो गए थे और  गली में से बहता पानी उन पत्तों को गलाता हुआ ले जा रहा था।  मैं भी कुछ बहते हुए पत्तों के साथ भागने लगी और पत्तों से जो पूछना चाहती थी, वो खुद ही कहने लगे।
चूर कौन होता है ?
-  जो घमंडी होता है 
 हमारी ऊर्जा में कोई भी घमंड का तत्त  रह न जाए, इस लिए खुद को चूर  होने की स्थिति में लाना पड़ता है ; अब यह बहता हुआ पानी हम को ऊर्जा की गति को समझाता है, हम अब सीख रहें हैं कि हम ने एनेर्जिक कैसे होना है? यह हमारा पूर्ण रूप में समर्पण था।   इस के बाद अब  हम ने ही खाद बन कर खुद को उगाना है।  मतलब कि अब जब हमारे में फिर से ऊर्जा पैदा होगी तो हम खुद को जन्मते देखेंगे, यही है फिर हमारी समाधि मतलब कि अब शुरू होगी हमारी मोक्ष की यात्रा।  

life itself is enlightened

 Life itself is enlightened



Let us find out today that what is such a thing, in this world which is not enlightened? And who is not in its own nature and who is not full of self-realization?

Now look at that-

See the sunlight on the mountains?

Feel the touch of cool air?

See that the season of spring and the season of autumn; Doesn't it make you feel quite clear that we are all already knowledgeable?

Who hasn't already been enlightened?

Everything is already virtuous and powerful.

 Now look like this -

"When I heard the bell ringing, there was no 'me' before I heard that, so there was no bell for me again. But the bell was still ringing."

Look at that-

"Look at the flowing water, the water that used to flow, which still flows and will continue to flow; The sound of water flowing would also make the tone of the music, but there was no one to hear or see. When I saw the water and heard the sound of flowing water, I knew, but even before I could see and hear it, the water was in its own good nature. ''

Whenever we experience any thought, feeling, experience, direction, condition, situation, and any other part of anything at once, there is no duplicity in that experience, nor is there any It's double! Life has no one inside and no one outside; It is neither an object nor an object, it is only a consciousness, only an immediate awareness. This immediate awareness is self-realization.


----

जीवन खुद में ही प्रबुद्ध है 



चलो आज हम खोजें कि क्या है ऐसी चीज़, इस संसार में जो प्रबुद्ध नहीं है ? और जो खुद के स्वभाव में नहीं है और जो आत्म-बोध से भरपूर नहीं है ?

अब वो देखो -

पहाड़ों पर सूरज की रोशनी देखें?

ठंडी ठंडी हवा का स्पर्श महसूस करो?

वो देखो बहार का मौसम और पतझड़ की ऋतू ; क्या यह आप को बिल्कुल स्पष्ट  महसूस नहीं करवाती कि हम सब पहले से ही ज्ञानवान हैं ?

कौन पहले से ही प्रबुद्ध नहीं है?

सब कुछ पहले से ही गुणवान और बलशाली है। 

 अब देखो ऐसे कि - 

"जब मैंने घंटी बजने की आवाज़ सुनी, उस सुनने से पहले तो 'मैं' नहीं थी,  सो मेरे लिए घंटी भी फिर नहीं थी।  पर घंटी बज तो रही ही थी।''

वो देखो -

'' बहते हुए पानी को देखो, पानी जो बहता ही जा रहा था,  जो अब भी बहता है और बहता ही रहेगा ; पानी के बहने की आवाज़ भी संगीत की टोन बनाती ही जायेगी, पर सुनने वाला और देखने वाला कोई नहीं था। जब मैंने  पानी को देखा और बहने की आवाज़ सुनी तो मैंने जाना, पर वो तो मेरे देखने और सुनने से पहले ही पानी तो खुद के स्वभाव में गुणवान  ही था। '' 

जब भी हम किसी भी सोच को , भावना को, अनुभव को, दिशा को, दशा को, हालात को, और किसी भी चीज़ को और हिस्से को तत्काल अनुभव करतें हैं तो उस अनुभव में कोई भी  दोहरापन नहीं होता और ना ही उस में कोई द्विगुण है! उस का ना ही कोई भीतर और ना ही कोई बाहर होता है ; वो न ही कोई विषय और न ही कोई वस्तु होता है , सिर्फ एक होश होता है,केवल तत्काल जागरूकता होती है।  यह तत्काल जागरूकता ही आत्मबोधता होती है 


रेतली राह का मुसाफ़िर

रेतली राह का मुसाफ़िर
माननीय प्यार , आज मैं खुद को आप के आगे सन्मानित करना चाहती हूँ कि मैं आप की रचना हूँ ; और खुदा के आगे मैं खुद को धन्यवाद का उपहार देना चाहती हूँ कि 'धन्यवाद शहीर ' कि आप ने खुदा से प्यार किया। हर किर्या के लिए धन्यवाद
The best cure of the body is a quite mind:. Powered by Blogger.