BREAKING NEWS
latest

Have to walk like a Sanyaasi - No Matter what the Path

yourlabel

latest

meditation music

meditation music

Adorable living

Adorable living/block-2

The death of Ego

The death of Ego/block-2

In today's time

In today's time/block-4

A Cosmic pause

A Cosmic pause/block-2

What a life

What a life/block-2

blissful spring

blissful spring/block-4

Space and Time

Space and Time/block-2

Beauty of Relationship

Beauty of Relationship/block-2

Featured Post

life itself is enlightened

 Life itself is enlightened Let us find out today that what is such a thing, in this world which is not enlightened? And who is not in its o...

Featured

Latest Articles

life itself is enlightened

 Life itself is enlightened



Let us find out today that what is such a thing, in this world which is not enlightened? And who is not in its own nature and who is not full of self-realization?

Now look at that-

See the sunlight on the mountains?

Feel the touch of cool air?

See that the season of spring and the season of autumn; Doesn't it make you feel quite clear that we are all already knowledgeable?

Who hasn't already been enlightened?

Everything is already virtuous and powerful.

 Now look like this -

"When I heard the bell ringing, there was no 'me' before I heard that, so there was no bell for me again. But the bell was still ringing."

Look at that-

"Look at the flowing water, the water that used to flow, which still flows and will continue to flow; The sound of water flowing would also make the tone of the music, but there was no one to hear or see. When I saw the water and heard the sound of flowing water, I knew, but even before I could see and hear it, the water was in its own good nature. ''

Whenever we experience any thought, feeling, experience, direction, condition, situation, and any other part of anything at once, there is no duplicity in that experience, nor is there any It's double! Life has no one inside and no one outside; It is neither an object nor an object, it is only a consciousness, only an immediate awareness. This immediate awareness is self-realization.


----

जीवन खुद में ही प्रबुद्ध है 



चलो आज हम खोजें कि क्या है ऐसी चीज़, इस संसार में जो प्रबुद्ध नहीं है ? और जो खुद के स्वभाव में नहीं है और जो आत्म-बोध से भरपूर नहीं है ?

अब वो देखो -

पहाड़ों पर सूरज की रोशनी देखें?

ठंडी ठंडी हवा का स्पर्श महसूस करो?

वो देखो बहार का मौसम और पतझड़ की ऋतू ; क्या यह आप को बिल्कुल स्पष्ट  महसूस नहीं करवाती कि हम सब पहले से ही ज्ञानवान हैं ?

कौन पहले से ही प्रबुद्ध नहीं है?

सब कुछ पहले से ही गुणवान और बलशाली है। 

 अब देखो ऐसे कि - 

"जब मैंने घंटी बजने की आवाज़ सुनी, उस सुनने से पहले तो 'मैं' नहीं थी,  सो मेरे लिए घंटी भी फिर नहीं थी।  पर घंटी बज तो रही ही थी।''

वो देखो -

'' बहते हुए पानी को देखो, पानी जो बहता ही जा रहा था,  जो अब भी बहता है और बहता ही रहेगा ; पानी के बहने की आवाज़ भी संगीत की टोन बनाती ही जायेगी, पर सुनने वाला और देखने वाला कोई नहीं था। जब मैंने  पानी को देखा और बहने की आवाज़ सुनी तो मैंने जाना, पर वो तो मेरे देखने और सुनने से पहले ही पानी तो खुद के स्वभाव में गुणवान  ही था। '' 

जब भी हम किसी भी सोच को , भावना को, अनुभव को, दिशा को, दशा को, हालात को, और किसी भी चीज़ को और हिस्से को तत्काल अनुभव करतें हैं तो उस अनुभव में कोई भी  दोहरापन नहीं होता और ना ही उस में कोई द्विगुण है! उस का ना ही कोई भीतर और ना ही कोई बाहर होता है ; वो न ही कोई विषय और न ही कोई वस्तु होता है , सिर्फ एक होश होता है,केवल तत्काल जागरूकता होती है।  यह तत्काल जागरूकता ही आत्मबोधता होती है 

Saintly Walk


Saintly Walk





When there was sanity in my walk:
My moment was a sanyasi, when I had put my shoe in someone's bare feet and when I walked from there, I had the gait of a monk. Then there was only one message in the sound of my move that 'to be in service is the highest aim'.
Have I ever thought so?
 No !
 So how did this incident happen?
Then I came to know that a person is not a sage, thinking is a sage, which makes a person's movement a sage.
The remembrance of the saints filled me with the same thoughts as the saints and I do not even know when the service itself became a service.
Everything is nature, which always gives and takes to all.
-

When will you be ready to serve?
The more we detach from attachment, the more easily we can give up time and money.
What is a donation?
Which is the real charity?
charity: to give something to someone
Till today we have never given anything to anyone
To give money is to give charity, that which belongs to the world has gone into the world, it is a give and take.
Charity is giving up one's own 'ego'. When we walk without pride, then our very existence becomes a prayer for the world – this prayer is the greatest charity of all.
-

I did not even know when the walk of my asceticism accepted the world as family.

One day this question came to me that what should I do, which I can do very beautifully, then it was - 'feeling of belonging'. In which direction should I give this feeling of mine? Now I had this question. Because I could carry this feeling in every part of my life. And every part needs it, so what should I do?
The pain that I have seen the most, the deepest I have seen - that is 'loneliness'
This feeling of 'loneliness' had sown the seed of 'oneness' in me.
A person living in a relationship is also lonely, a person passing through the crowd also feels lonely, why?
 This 'why' had become my journey.
 Why do we feel lonely?
What is this loneliness?
 Is the root of this loneliness the mind or the intellect?
 How to overcome loneliness?
 What is the reason behind this loneliness?
 How and why should we accept loneliness?
Loneliness belongs to the mind, through the mind we know that we are alone. There is only one thought. There is a difference in the thinking of every person; The way of thinking, the way of looking at everything, event, direction, condition, and situation, the way to solve the problem, the degree of feeling of love, trust, reverence, everyone has different. She does not meet anyone, even if someone meets our thinking, we still express our thinking in different ways. The difference in our thinking gives us such a feeling that 'no one understands me', the depth of this complaint leads us to loneliness.
And the treatment of this is very easy.
 Whenever any person understands the understanding of his own mind, then at the same time he understands that in the difference of all of us there is a common, a lesson; And this difference is the mysterious art of seeing the same thing as different.
With this experience our complaining ends, and acceptance begins to grow.
--------


जब मेरे चलने में साधुपन आया:
मेरा वो पल सन्यासी था, जब मैंने खुद का जूता किसी के नंगे पैरों में पा दिया था और जब मैं वहां से चली थी, तो मेरी चाल में एक साधु की चाल थी। तब मेरी चाल की आहट में एक ही संदेशा था कि 'सेवा में रहना ही सर्वोच्च उद्देश्य है'
क्या मैंने ऐसा कभी सोचा था?
 नहीं !
 तो यह घटना कैसे घटित हो गई?
तब मैंने जाना था कि व्यक्ति साधु नहीं होता, सोच साधु होती है, जो व्यक्ति की चाल को साधु बना देती है। 
संतों की याद ने संतों जैसी सोच से ही मेरे को भर दिया और यह सोचें खुद ही कब सेवा बन गई ,पता ही न चला।
हर चीज़ कुदरत है, जो सदा ही सब को देती है और लेती है। 
-
आप सेवा के लिए कब तैयार होंगे?
हम जितने अधिक लगाव से अलग होते हैं, उतनी ही आसानी से हम  वक़्त और पैसे को छोड़ सकते हैं। 
दान होता क्या है?
असली दान कौन सा है ?
दान : किसी को कुछ देना  
आज तक हम ने कभी किसी को कुछ दिया ही नहीं 
पैसा देना, दान देना है, जो चीज़ संसार की है, संसार में ही चली गई, यह तो एक देना और लेना है 
दान है खुद की 'ego ' को छोड़ देना।  जब हम बिन-घमंड के चलते हैं तो हमारा वजूद ही संसार के लिए दुआ बन जाता है- यह दुआ ही सब से बड़ा दान है। 
-

मेरी सन्यासीपन की चाल ने कब दुनिआ को परिवार मान लिया, मेरे को पता ही न चला। 

एक दिन मेरे में यही सवाल आया कि मेरे को ऐसा कौन सा काम करना चाहिए, जिस को मैं बहुत सुंदरता से कर सकती हूँ, तो वो था- 'अपनेपन का एहसास'. मेरे इस एहसास को मैं कौन सी दिशा दूँ? अब मेरे में यह सवाल था। क्योंकि मैं इस एहसास को जीवन के हर हिस्से में ले के जा सकती थी।और हर हिस्से को ही इस की ज़रुरत है तो क्या करना चाहिए मुझ को ? 
वो दर्द, जो मैंने सब से ज़्यादा देखा है, जिस को मैंने सब से गहरा देखा है - वो है 'अकेलापन'
इस 'अकेलेपन' के एहसास ने ही मेरे में 'अपनेपन' का बीज बोया था।  
रिश्तों में रहता हुआ इंसान भी अकेला है  भीड़ में से गुज़रता हुआ व्यक्ति भी खुद को अकेला महसूस करता है, क्यों?
 यह 'क्यों' मेरी यात्रा बनी थी। 
 क्यों हम अकेलापन महसूस करतें हैं?
यह अकेलापन क्या होता है?
 इस अकेलेपन की जड़ मन है या बुद्धि ?
 अकेलेपन को कैसे दूर करें?
 इस अकेलेपन के पीछे कारण क्या है?
 अकेलेपन को हम कैसे और क्यों स्वीकार करे? 
अकेलापन मन का होता है, मन के ज़रिये हम जानतें हैं कि हम अकेले हैं। अकेली सोच होती है।  हर व्यक्ति की सोच में एक भिन्नता होती है; सोचने का तरीक़ा, हर चीज़, घटना, दिशा, दशा, और हालात को देखने का तरीक़ा,  तकलीफ को हल करने का तरीक़ा, प्यार, भरोसा, श्रद्धा  को महसूस करने की डिग्री ,सब की अलग अलग होती है।  वो किसी से मिलती नहीं, अगर कोई हमारी सोच मिल भी जाती है, तो भी हम अपनी सोच को ब्यान अलग अलग तरीके से ही करतें हैं। हमारी सोच की भिन्न्नता ही हम को ऐसा एहसास देती है कि-' मेरे को कोई समझता नहीं', यह शिकायत की गहराई हम को अकेलेपन में ले जाती है। 
और इस का इलाज़ बहुत ही आसान है। 
 जब भी कोई भी व्यक्ति खुद के मन की  समझ को समझ लेता है तो साथ ही उस को यह समझ आ जाती है कि हम सब की भिन्नता में ही एक सांझ है, एक सबक है; और यह जो भिन्नता है, यह एक ही चीज़ को अलग अलग देखने की रहस्यमय कलाकारी है। 
इस अनुभव के साथ हमारी शिकायत खत्म  हो जाती है, और स्वीकारता बढ़ने लगती है 

Capable of Sensation

 Capable of Sensation


The depth of sensitivity is actually the degree of awareness. The more we live consciously, the more deeply we feel everything in life


 Whenever we face any problem, it is a sign that gives direction to our mind.
-
If I want to tell the real story to all of you, then I have to start with my name, because I really know me.
-
I can only agree with my own experience, because I know my own experience very well.
-
I have not made life easy, I have given myself such a position that every situation passes easily through me.
-
Living will be a great adventure, if we become a good person whom no one can ever ignore.
-
If anything seems to be important to us, we should always feel it deeply, because there must be some capecity hidden in it for us.
-
This life is a huge and deep treasure. If we continue to wander on the surface of beliefs, we will never see this treasure.
-
The monkey's brain is reactive. sage mind is active
-
You are what you are when no one is looking
-
Everything that exists in the world was first created in one's mind
-
To create something, we have to imagine it
-
Meditation Doesn't Eliminate Distractions, It Manages Them
-
If you want to capture a moment then keep your eyes open and if you want to remember a past moment or reconnect with that moment then close your eyes
-

If you have to win now in the field of life, then you have to be a giver, then only you can be successful, it is very important to become expert in what you can give.
-
Never mistake love for attachment
-
Catching the wrong person hurts more than letting us go
-
-----

संवेदना की योग्यता


सवेंदशीलता की गहराई, असल में जागरूकता की डिग्री ही होती है।  जितने हम होश में जीते हैं, उतना ही हम जीवन की हर चीज़ को गहरे से महसूस करते हैं।
जब भी हम को कोई समस्या आती है, वो एक संकेत होती है कि जो हमारे मन को दिशा देती है।
अगर मैंने आप सब को असली ही कहानी  सुनानी है तो मुझे मेरे नाम से ही शुरू करनी पड़ेगी, क्योंकि मैं मेरे को ही असल में जानती हूँ।
-
मैं सिर्फ खुद के अनुभव के साथ ही सहमत हो सकती हूँ, क्योंकि खुद के अनुभव को ही मैं अच्छी तरह जानती हूँ। 
-
मैंने जीने को आसान नहीं करना, मैंने खुद को ऐसा मुकाम देना है कि  हर हालात मेरे में से आसानी से गुज़र जाएँ। 
-
जीना एक बहुत बड़ा रोमांच होगा, अगर हम एक अच्छे व्यक्ति बन जाए, जिस को कभी कोई वि नज़रअंदाज़ न कर पाए। 
-
अगर कुछ भी हम को महत्वपूर्ण लगता है तो हम को सदा ही उस को गहराई तक अनुभव करना चाहिए, क्योंकि उस में हमारे लिए कोई योगिता छुपी होगी। 
-
यह जीवन बहुत बड़ा और गहरा खज़ाना है।  अगर हम विश्वासों  की सतह पर ही घूमते रहेंगे तो हम कभी इस ख़ज़ाने को देख नहीं पाएंगे। 
-
बंदर का दिमाग प्रतिक्रियाशील है। साधु मन सक्रिय है
-
आप वही हैं जो आप तब हैं जब कोई नहीं देख रहा है
-
दुनिया में जो कुछ भी मौजूद है वह सबसे पहले किसी के दिमाग में बनाया गया था
कुछ बनाने के लिए, हमें उसकी कल्पना करनी होगी
-
ध्यान विकर्षणों को समाप्त नहीं करता, यह उनका प्रबंधन करता है
-
अगर आप किसी पल को कैद करना चाहते हो तो अपनी आंखें खुली रखो और अगर आप किसी बीते हुए पल को याद करना है या फिर से उस पल के साथ जोड़ना है तो आँखों को बंद कर लो।
यदि आप ने ज़िंदगी के मैदान में अब जीतना ही है तो आप को देने वाला बनना पड़ेगा, तो ही आप कामयाब हो सकते हो, आप क्या दे सकते हो, उस में पहले माहिर हो जाना बहुत ज़रूरी है।
-  
कभी भी लगाव को प्यार समझने की गलती न करो
गलत व्यक्ति को पकड़ने से हमें जाने देने से ज्यादा दर्द होता है
-


Artistic Expression

Artistic Expression



Deep experiences are artists in themselves.
 I learned how deep feeling draws itself from deep inside
  •  The more I studied religions, the more I learned from them that no one ever worshiped anything other than one-self.

-

  • Today religious places need a better conception, and a deeper concept is needed to describe God.

-

  •  Nothing to do but let what happens happen

-

  • We are a mystery in which everything is present, yet we are free from time and space.

-


The nature of movement is action:

If I say that -

"I act"

It is not my awareness that whatever action I do.

 Eyes see, nose smells, thoughts run through the mind,

 Is this all awareness?

 No, all this is happening in consciousness.

All this action is the nature of life. This is the nature of movement.

All these actions are in our existence.

It is our conscious consciousness operating in time and space, which stands before us in the state of our awareness.

-


Face the Soul

One day I saw that 'Jinder' whom I always wanted to see. Which was in my thoughts, which was in my feelings. A 'Jinder' whose true form is in front of me.

When I saw it, I still cannot describe that 'Jinder'.

Today, when I have seen it in its real form, its importance has ended. Because I saw that -

 After a very long time, I realized that to see the soul, I have probably traveled a long way of ages - the journey which I have done through the path of silence, passing through the surrender-consciousness, that life - The struggle has no value.

 The soul with whom I wanted to be with me, that SOUL also seems to me 'tasteless', it also looks like that fruit, which is completely firm, is sweet, has taste, but today I am not hungry at all. So I learned that the only value of our struggle is that the price becomes priceless.

-


Dream and the world:

The world of dreams is like our life-drama, which we call the world. And in the same way, we consider this life-drama as our personal life. When we become one with the experience of the first of these two beings, this experience of 'oneness' tells us a true 'What is it to know?', that is all.

Spiritual - Dream is the only understanding in life, which wants us to understand that the world is also a dream, when we wake up at the level of consciousness, then all the worldly illusions disappear. Our feeling is the same as our feeling at the time of waking up from the dream.

And

This 'knowing' is only a description of our mind, which has created this world of dreams.

 Similarly, the world is a description of our thinking, from which our personal life is formed. 

Personal pattern or attitude is only that which is known. Means that what we have KNOWN that is the real our thinking, which we must have KNOWN through Words, that same thinking when it becomes an experience and goes ahead. By becoming our understanding, life develops.


-------


गहरे अनुभव खुद में ही कलाकार होते हैं।  मैंने जाना कि गहरी अनुभूति कैसे खुद को गहरे में से  करती है 


कलात्मक अभिव्यक्ति

  • जितना मैंने धर्मों का अध्ययन किया, उन से मैंने यही जाना कि किसी ने कभी भी स्वयं के अलावा किसी चीज की पूजा नहीं की।

-

  • आज धार्मिक जगहों को बेहतर धारणा की ज़रुरत है, और खुदा को वर्णन करने के लिए  लिए  गहरे संकल्पना की ज़रुरत है 

-

  •  करने के लिए कुछ नहीं है लेकिन जो होता है उसे होने दें

  • हम एक ऐसा रहस्य हैं जिस में सब कुछ मजूद है, फिर भी हम वक़्त और स्पेस से मुक्त हैं। 

-


आंदोलन का स्वभाव क्रिया है :

अगर मैं यह कहती हूँ कि -

"मैं क्रिया करती हूँ," 

यह मेरी जागरूकता नहीं है कि मैं जो ये कोई क्रिया करती हूँ।

 आंखें देखती हैं, नाक से गंध आती है, विचार मन में चलते हैं,

 क्या यह सब जागरूकता है?

 नहीं, यह चेतना में सब हो रहा है।

जो यह सब क्रिया है, यह ज़िन्देपन का स्वभाव है।यह आंदोलन की प्रकृति है।

यह सब क्रियाएं  हमारे वजूद में हैं।

वक़्त और स्पेस  में  हमारी जागरूक चेतना किर्याशील ही है , जो हमारी जागरूकता स्थिति में हमारे आगे खड़ी होती है।

-


आत्मा के रूबरू 

मैंने एक दिन उस 'जिन्दर' को देखा, जिस को मैंने सदा ही देखना चाहा।  जो मेरी ही सोच में थी, जो मेरी ही भावना में थी।  एक ऐसी 'जिन्दर' जिस का असली रूप मेरे आगे हो।  

जब मैंने  देखा, तो मैं आज भी उस 'जिन्दर' का वर्णन नहीं कर सकती। 

आज जब मैंने उस को असली रूप में देख लिया है तो उस की महत्तता ही ख़त्म हो गई। क्योंकि मैंने देखा कि -

 बहुत ही लम्बे अरसे  के बाद मैंने यह ही अनुभव किया कि जिस आत्मा को देखने केलिए, श्याद मैंने युगों का बहुत  लम्बी यात्रा की है- वो यात्रा, जो मैंने समर्पित-भाव में से गुज़र कर चुप की राह में से की है , वो जीवन-संघर्ष  का कोई भी मोल नहीं। 

 जिस आत्मा के मैं  सहमने होना चाहती थी, वो आत्मा भी आज मेरे को 'बे-रस' लगती है,  वो भी उस फल जैसी लगती है,  जो पूर्ण रूप में पक्का है, मीठा है, स्वाद है, पर आज मेरे को भूख ही नहीं है। तो मैंने यही जाना कि हमारे संघर्ष का मोल सिर्फ यही होता है कि मोल बे-मोल हो जाता है। 

-


सपना और संसार:

सपनों की दुनिया हमारे इस जीवन-नाटक के समान है , जिस को हम संसार कहतें हैं।और ऐसी ही हम आपने इस जीवन-नाटक को अपना निज़ी जीवन मानते हैं। जब हम इन दोनों में  से पहले  किसी के भी वास्तविक रूप के अनुभव से एक हो जातें हैं, यह 'एकता' का अनुभव हमारे को एक सच्चा 'जानना क्या होता है?', वो सब बता देता है।

आध्यात्मिक- जीवन में सपना एक मात्र सिर्फ एक समझ है, जो हमारे को समझना चाहती है कि संसार भी सपना है, जब हम चेतना के लेवल पर जागते हैं, तो संसारी भ्र्म  सब मिट जाता है। यह हमारी महसूसियत वो ही होती है, जो हमारी महसूसियत सपने में से जागने के वक़्त होती है। 

और 

यह 'जानना' केवल हमारे मन का वर्णन है, जिसने सपनों की  यह दुनिया बनाई है।

 ऐसे ही संसार हमारी सोच का वर्णन है, जिस से हमारा व्यक्तिगत जीवन बनता है। 

व्यक्तिगत पैटर्न या दृष्टिकोण सिर्फ वह है जिसे 'जाना' जाता है।मतलब कि जो हम ने 'जाना' है, वो ही वास्तविक हमारी सोच होती है, जिस को हम ने लफ़्ज़ों में से ज़रूर जाना होता है, वोही सोच जब अनुभव बन कर आगे होती है तो हमारी समझ बन कर जीवन को विकासशील बनाती है। 

Expression of Experiences

Expression of Experiences


How every experience of life expresses itself, this incident is very precious - which makes my life even more beautiful

  •  Finding the right thing in the right way, we will know only when we understand the right policy of life.
-

  • Meditation is a beneficial activity that teaches us to walk in every direction.

-

  • If we have to teach ourselves to play with the understanding of living, we must always pay attention to the root of everything and every part.

-

  • Due to our negative thinking, death will never stop, life definitely stops, which we never see.

-

  • If the cause of fear is attachment, then the cure for this fear is dispassion.

-

  • Life is not always positive but the benefits are always there.

-

  • The focus should be on the process, not the result

-

  • It is also a fact of life that we cannot be what we want, but we can be everything that we are.


  • What we cannot do is someone else's gift and responsibility. Our boundaries keep making room for other people's gifts

-

  • We should always play with strength and courage in that area of ​​our life in which we are strong because only this will bring meaning, depth and satisfaction to our life.

-

  • We must write a profile of ourselves as if it is not about us.

-

  •  A person who easily translates his best skills into action in different situations or with people with different types of thinking is a person who is intelligent.

-

  • When we start feeling that our life itself has become a stream in which we have started to flow, then understand that we have started swimming in Dharma.

-

  • When the company is with the thinking of the mystics, then the color of life becomes blissful.

___*-*-*___

जीवन का हर अनुभव खुद ही खुद को कैसे अभिव्यक्ति करता है, यह घटना बहुत ही अनमोल है- जो मेरे जीवन को ओर  भी सुंदर करती है 

  • सही चीज़ को सही तरीके से ढूंढ़ना तब ही हम जान पाएंगे जब हम जीवन की सही निति को समझ जाएंगे।

-

  • ध्यान एक लाभकारी गतिविधि है, जो हम को हर दिशा में चलना सीखा देती है 

-

  • अगर हम ने जीने की समझ में खुद को खेलना सीखाना है तो हम को सदा ही  हर चीज और हर हिस्से की जड़ पर ध्यान देना पड़ेगा। 

-

  • हमारी नकार्यत्मिक सोचनी से मौत तो कभी रुकेगी नहीं, जीवन ज़रूर रुक जाता है, जो हम को कभी दिखाई ही नहीं देता।  

-

  • अगर भय का कारण 'आसक्ति' है तो इस डर का इलाज 'वैराग्य' है 
-

  • जीवन हमेशा सकारात्मक नहीं होता परन्तु लाभ सदा ही होता है। 
-

  • ध्यान प्रक्रिया पर होना चाहिए, न कि परिणाम पर

-

  • जीवन का एक सच यह भी है कि हम जो चाहें वो नहीं हो सकते, लेकिन हम वो सब कुछ हो सकते हैं जो हम हैं
  • हम जो नहीं कर सकते वह किसी ओर का उपहार और जिम्मेदारी है। हमारी सीमाएं अन्य लोगों के उपहारों के लिए जगह बनाती ही रहती है 

-

  • हम को सदा ही अपने जीवन के उस क्षत्र में ताकत और हौंसले से खेलना चाहिए, जिस में हम ताकतवर होतें हैं  क्योंकि इस से ही हमारे जीवन में  अर्थ, गहराई  और संतुष्टि आएगी। 

-

  • हम को अपनी एक प्रोफ़ाइल ऐसे ज़रूर लिखनी चाहिए जैसे कि वह हमारे बारे में नहीं है।

-

  •  जो व्यक्ति, जो विभिन्न परिस्थितियों में या अलग-अलग किस्म की सोचों वाले लोगों के साथ अपनी सर्वोत्तम कौशलता  को सरलता से क्रिया में बदल देता है, वो व्यक्ति समझदारी होता है। 

  • जब हम ऐसा महसूस करने लगतें हैं कि हमारा जीना ही एक धारा बन गया है, जिस में हम ने बहना शुरू कर दिया है तो समझ लेना कि हम ने धर्म  में तैरना शुरू कर दिया है।

  • जब संगत फकीरों की सोच से होती है तो ज़िंदगी की रंगत आनंदित होती है 

Poetry of Experiences- part 1

Poetry of Experiences

 


  • I am love for life, that's why I am a strict teacher for the individual.
  • -
  • My inner eye always guides my heart, my soul and all my thoughts.
  • -
  • Today I feel the best and dearest of all when I catch that gaze of nature, whenever she looks at me with a slanted look
  • -
  • O love, I have known the colors of life only with you - that's why I love only you
  • -
  • When for the first time I blushed with trees, and I would like to love trees dearly, then I learned that the power of the qualities of nature is the deepest sensual force, which fills one with the loving love of life .
  • -
  • When I first understood myself, I considered myself ' A Best kind of bad thinking'.
  • Today when life told me, 'I want to see you in the best of you and you will get that condition by being absorbed in me.' So I surrendered myself at that very moment.
  • -
  • Oh life, whenever I see love in your eyes, I get ready to play with it.
  • -
  • Today I found in myself the beauty of Dirty mind and the mischief of decency
  • -
  • When is a sinner not a demon? When we fall in love with him. In the same way, when we start accepting the curse as well, then the curse will also become a blessing.
  • -
  • O my wonderful life, you are a mystery, a dangerous combination of your intellect and a dirty mind that you have, the world had warned me a lot about this, but when I noticed this quality of yours, So nature made me understand how to adopt beauty from your dirty mind and how to brighten my life with your sharp intelligence.
  • -
  • O life, you have always made me feel loved because all you have is love - all you want to give!
  • -
  • It doesn't matter, whatever the direction of life or whatever the event may be; If one has self-confidence then life is romance.
  • -
  • O nature, I have never needed to make anyone a 'Guru' because you have taught me to live in formlessness and thoughtlessness.
  • -

Desire for Sex (Meditative State)

 Desire for Sex in a Meditative State


In the state of meditation, sometimes one experiences sexual intercourse very deeply. This phenomenon happens to a person in the state of meditation, where only life itself is the object and the subject itself. What is the feeling of the depth of an event like sexual intercourse, that is known in the state of meditation. When the same incident happened to me in the state of meditation, then only one realization arose in me that today if any sage-muni will come in my life, then I have to become his friend. Because a waking human being - whose 4 dimensions are active - who is an energy-field - that; mean that

 'A kind soul, a clear mind, a man of a fully awake state—whose every dimension is awake, the fully awake body I longed for for the first time—when this incident happened to me in a meditative state.'

That desire which was never born in me, that desire was found in me by meditation.


ध्यान अवस्था से सम्भोग की चाहना  


ध्यान की अवस्था में कभी कभी किसी को संभोग  का भी अनुभव बहुत गहरे से गहरा होता है।   ध्यान की अवस्था में  व्यक्ति के साथ यह घटना घटती है, वहां पर सिर्फ जीवन खुद में ही ऑब्जेक्ट और खुद ही सब्जेक्ट होता है। सम्भोग जैसी घटना की गहराई का का एहसास क्या है , उस का पता ध्यान की अवस्था में चलता है। ध्यान की हालात में यही घटना मेरे साथ घटी तो मेरे में सिर्फ एक ही एहसास जागा  कि आज अगर कोई ऋषि-मुनि मेरे जीवन में आएगा, तो मैंने उस की मित्र बन जाना है। क्योंकि एक जागता हुआ इंसान- जिस के ४ आयाम एक्टिव हैं- जो एक ऊर्जा-क्षत्र है - वो ; मतलब कि 

 'एक दयालु आत्मा, एक स्पष्ट दिमाग, एक पूर्ण जागती स्तिथि का इंसान-जिस का हर आयाम जागा  हो, पूर्ण जागे हुए जिस्म की लालसा मैंने पहली बार की थी- जब मेरे साथ ध्यान की अवस्था में यह घटना घटी थी।' 

वो चाहना जिस ने कभी मेरे में जन्म नहीं लिया था, वो चाहना ध्यान ने मेरे में पाई थी 


Secret of Fasting?

Let's know today what is the secret of fasting?

What is the meaning of fasting?

 What is the meaning of fasting?


Be it any custom, be it any ritual, or any tradition, whether worldly or religious; We do not have any understanding, only with the above understanding we move forward. That's why we never go anywhere. That's how we fast without understanding fasting?

 If there is a policy of fasting in the policy of any religion - a very deep and a good result is hidden behind it - which we have not yet understood. First of all, let's talk about Islam today.

Because the deepest and most beautiful result and main purpose of fasting is in the Qur'an. Allah says in the Quran:

 "Fasting is prescribed for you as it was prescribed for you, so that you may attain Taqwa (Allah-Consciousness)." (Quran, 2:183)

If we control and control our worldly needs, we gain the strength for the big fight: just as if we don't control our nafs, nafs controls us. (There are three types of nafs. First - existence; second - ego; third - soul. ,

Qur'an:

Just as we remember God at the time of hunger, similarly we remember God in the time of every sorrow, pain and sadness, similarly fasting is that while we are fasting, every hunger reminds us of God - this Fasting is our sacrifice that we spend a month in remembrance of God. This is a 'Hatha-yoga'. Constantly remembering God, staying in God, keeping our attention towards God, if we remain in the presence of God, then more awareness will come in us. Means that we increase our Taqwa. Taqwa means that our 'conscious-form' increases.

Just like we have to steal someone's thing, how we first look around to see if no one is watching, that means how we are full of consciousness. Just like how we are aware at the time of hunger, at the time of pain, to bring the same awareness in us, this 'fasting - this fasting' is a yoga, that means taqwa.

It is very stupid to consider fasting to be only hungry and thirsty.

The Prophet (sallallahu alayhi wa sallam) has said:

"Whoever does not make false speeches and does evil deeds, it is the decree of God that such a person need not give up food and drink." (Al-Bukhari)

The Prophet (sallallahu alayhi wa sallam) also warns us:

 "Many people who fast get nothing but hunger and thirst, and many who pray at night get nothing but stay awake." (Dariami)

 During the fast, the complete picture of 'Vrat' should be understood. Remember that fasting is not just about abstaining from food. This is a unique attempt to become a better person.

It is such an effort that for 11 months we live in the worldly dimension, and for one month we live in the spiritual dimension. We also have to know the soul. You also have to identify what is taqwa. Just as the rising sun, the air, and the setting sun leaves an impression of some or the other experience in us, in the same way Ramadan will also come and go, which will leave its mark on the sky of our heart and we will be successful sometime, when we are Taqwa' God- Consciousness will be attained. Just like 'Karva-chauth' - like every day's fast, like Monday, Maa Santoshi's. We give you one day to our beloved, you give to your trust.

If the soul of any person is filled with love - the one who loves everyone, then love itself becomes a vow - and the result is that the person reaches the spiritual dimension.

Then I see and understand that 'Vrat' is such a kriya yoga, which we give to our own faith, love, courage and happiness to God - whether the fast is for one day or one month.

Similarly, when I look at this changed time of today, there is no difference in the spirit of this ritual and in the spirit of God. The feeling is the same, be it worldly or spiritual - only the person will get the result - who will fulfill the ritual with a sincere heart. Like today's ritual - Mother's Day, Father's Day, Friendship Day, Love Day, Sister's Day, Teacher's Day - I do not see any difference between these two - Feeling for a seeing worldly There is a feeling for the second unseen world. For me both are same.

Now again it is my turn to think about my life today, so I ask myself, let's start madam and tell us what is your fasting?

My Fast:

My vow: I was at the age of 16, when I, lying on the bed, started looking up at the sky out of deep sadness. Out of the deep sobbing of my deep sadness, the restlessness of the tormenting agony, cried out as though there had been no sound.

It was my defeat from me, it was my dedicated condition, which had surrendered itself to God. This devotion of mine became my fast, which till date is engaged in fulfilling its role with honesty and justice and we are swimming in this ocean of life after seeing every feat of that devotion.

----

 चलो आज जाने कि उपवास का राज  क्या है ?

उपवास का अर्थ क्या है?
 रोजा का अर्थ क्या है?


कोई भी रीत हो , रिवाज़ हो, कोई भी काण्ड हो या कोई भी परम्परा, चाहे संसारी हो या धार्मिक ; हम को कोई भी समझ नहीं, बस उपर की समझ के साथ ही हम आगे कदम बढ़तें हैं।  इस लिए ही हम कभी कहीं भी पुहंचते नहीं।  ऐसे ही हम उपवास को समझे बिना ही व्रत करतें हैं ?

 अगर किसी भी धर्म की निति में व्रत की निति है- उस के पीछे बहुत ही गहरा और एक अच्छा परिणाम छुपा हुआ है - जिस की अभी हम को समझ नहीं आई।  सब से पहले बात करती हूँ, आज इस्लाम धर्म की। 

क्योंकि उपवास के प्रति सब से गहरा और  उपवास का सुंदर परिणाम और  मुख्य उद्देश्य  क़ुरान में है। कुरान में अल्लाह कहतें है:

 "उपवास आपके लिए निर्धारित है जैसा कि आपके लिए निर्धारित किया गया था, ताकि आप तक्वा (अल्लाह-चेतना) प्राप्त कर सकें।" (कुरान, 2:183)

अगर हम अपनी संसारी आवश्यकताओं को नियंत्रित और संयमित करके, हम बड़ी लड़ाई के लिए ताकत हासिल करते हैं: ठीक वैसे ही अगर हम अपनी नफ़्स को कण्ट्रोल नहीं करते तो नफ़्स हम को कण्ट्रोल कर लेती है। ( नफ़्स तीन प्रकार की होती है।  पहला- वजूद; दूसरा- ईगो; तीसरा- आत्मा।  ,

क़ुरान:

जैसे हम भूख के वक़्त खुदा को याद करतें हैं, ऐसे ही हम हर दुःख, दर्द और उदासी के वक़्त खुदा को याद करतें हैं, ठीक वैसे ही उपवास है कि हम ने उपवास करते समय, हर भूख हमें खुदा की याद दिलाती है - यह उपवास हमारा बलिदान होता है कि खुदा की याद में हम एक महीना बातीत करें। यह एक ' हठ -योग' है।  लगातार खुदा को याद करना, खुदा में ही रहना, हमारा ध्यान खुदा की ओर  ही लगा रहे , हम खुदा की उपस्थिति में ही रहेंगे  तो हमारे में अधिक जागरूकता आएगी।  मतलब कि हम अपनी Taqwa को बढ़ाते हैं  तक़्वा का मतलब कि हमारा 'चेतन-स्वरूप बढ़ता है। 

जैसे हम ने कोई किसी की चीज़ चुरानी होती है, कैसे हम पहले चारों तरफ देखतें हैं कि कोई देख तो नहीं रहा , मतलब कि हम कैसे होश से भरे हुए होतें हैं।  जैसे भूख के वक़्त, दर्द के वक़्त कैसे हम जागरूक होतें हैं, वोही जागरूकता हमारे में लाने ले केलिए यह 'रोज़े - यह उपवास' एक योग हैं, मतलब कि तक्वा।

उपवास को सिर्फ भूखे- प्यासे ही रहना मान लेता बहुत बड़ी बेवकूफी है 

नबी (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने फरमाया है: 

"जो कोई नकली भाषण और बुरे काम नहीं करता है, खुदा का फरमान है कि ऐसे व्यक्ति को  खाने-पीने की चीजों को छोड़ने की जरूरत नहीं है।"(अल-बुखारी) 

पैगंबर(सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) भी हमें चेतावनी देते हैं:

 "बहुत से लोग जो उपवास करते हैं उन्हें भूख और प्यास के अलावा कुछ भी नहीं मिलता है, और कई लोग जो रात में प्रार्थना करते हैं, उन्हें जागने के अलावा कुछ भी नहीं मिलता है।" (दारीमी)

 व्रत के दौरान 'व्रत' की पूरी तस्वीर समझ लेनी चाहिए। याद रखें कि उपवास केवल भोजन से दूर रहने के बारे में नहीं है। यह एक बेहतर इंसान बनने का एक अनोखा प्रयास है। 

यह एक ऐसा प्रयास है कि हम  ११ महीने संसारी-आयाम रहतें हैं, और एक महीना हम आत्मिक-आयाम में रहतें है। हम ने आत्मा को भी जानना है।  तक़्वा  क्या होता है- इस की भी पहचान करनी है। जैसे उदय होता सूर्य एयर अस्त होता सूर्य हमारे में किसी न किसी अनुभव की छाप छोड़ता है, वैसे ही रमजान भी आएगा और जाएगा, जो हमारे दिल के आसमान पर अपनी छाप छोड़ेगा और हम कभी तो कामयाब होगें ही, जब हम तक़्वा 'गॉड-चेतना' को पा लेंगे। ऐसे ही जैसे करवा-चौथ ' है - जैसे हर दिनका व्रत है , जैसे सोमवार का, माँ संतोषी का। हम आपना  एक दिन अपने प्यारे को देतें हैं,  आपने भरोसे को देतें हैं।

अगर किसी भी व्यक्ति की रूह प्यार से भरी हुई है- जो सब को प्यार करती है तो प्यार खुद में ही व्रत बन जाता है - और वोही नतीजा निकलता है कि वो व्यक्ति  आत्मिक-आयाम में पुहंच जाता है। 

फिर मैं देखती हूँ और समझती हूँ कि  'व्रत' एक ऐसी किर्ययोग है, जो हम अपने खुद के  भरोसा को , प्यार को , हिम्मत को  और ख़ुशी को  खुदा को देतें हैं  - व्रत चाहे एक दिन का है या एक महीने का 

ऐसे ही आज के इस बदले हुए वक़्त को देखती हूँ तो आज की यह जो रीत है, जो सब संसार की सांझी है, इस  रीत की भावना में और खुदा की भावना में कोई फ़र्क़ नहीं।  भावना एक ही है, संसारी हो या आध्यत्मिक हो  -  बस फल उस व्यक्ति को ही मिलेगा- जो सच्चे दिल से  रीत को पूरा करेगा। जैसे आज की रीत है- मदर'स डे, फादर'स डे, फ्रेंडशिप डे, प्यार का दिन, सिस्टर'स डे , टीचर'स डे -  इन दोनों में मेरे को कोई फ़र्क़ नहीं दिखाई देता - एक देखते संसारी के लिए भावना है- दूसरी अनदेखे संसार केलिए भावना है।  मेरे लिए दोनों ही एक है।   

अब फिर बारी आती है मेरे आज के जीवन की और सोच की, तो मैं खुद को ही सवाल करती हूँ, चलो मैडम हो जाओ शुरू और हम को बताओ कि आप का उपवास क्या है ?

मेरा उपवास:

मेरा व्रत:  १६ साल की आयु थी, जब मैं बिस्तरे पर पड़ी ने बहुत गहरी उदासी में से आसमान की ओर  देखना शुरू किया  था।  मेरी गहरी उदासी की गहरी सिसकी में से, तड़पती हुई तड़प की बेचैनी ने, ऐसी चीक मारी थी कि जिस की कोई आवाज़ हुई ही नहीं थी।

वो मेरी मेरे से ही हार थी, वो मेरी एक समर्पित दशा थी,  जिस ने खुद को खुदा के हवाले कर दिया था।  यह मेरा समर्पित भाव ही मेरा व्रत बन गया,जो आज तक खुद का  रोल  ईमानदारी और इन्साफ से पूर्ण करने में लगा हुआ है और हम उस समर्पित-भाव के हर कारनामे को देख कर जीवन के इस भवसागर में तैर रहें हैं।  

  

How is life after Nirvana?

 How is life after Nirvana?



Sometimes it feels like now my head will just explode, as if the bubble is bursting, and I look at the space, which after bursting will just merge into the space, then this one which is 'exploding' event, so what is it?

  Today my life experience is telling me that this life, this worldly life is just a journey of death till the journey to Nirvana. The last step of the journey of death is 'Nirvana'.

Today, when I carefully look at the germ element of the body, I began to feel that every single germ is a squeeze out of the depths of our every single experience, which is traveling with us through eternity.

Germs are not just soil – we have a long journey experience. Disease is our negative energy, which gives us knowledge about the positive energy – which awakens the wellness in our energy.

 I can see how every particle is eager to tell its own story to me, which raises my energy level to a high degree, and how I myself am engulfed in madness, such madness, in which there is a deep sense , and there is a light of deep understanding, which blesses me for peace and patience.

 My understanding, surrounded by such a deep mystery of life, sometimes turns my hands in my head, sometimes gives love to the eyes, sometimes sends a kiss to understanding, sometimes with a deep smile, raises my eyes to the sky, and Mischievous gestures are made through the eyes, as if lovers look at each other in the eyes.


A wonderful, matchless, unique, mysterious game:

- If Nirvana is the last death, then where is life?

If till now we have traveled only to death, then what is the name of life?

- If our journey till today was to wake ourselves up, then what will be the journey after waking up and where will it be?

- What is the journey after Nirvana and how is it?

These are my questions, the answer of which is leading me to an unknown path, which I have neither read nor heard about till date. If I go back to my own childhood and I'm filled with a deeper understanding of myself. Today's time connects me with my childhood, those incidents which I have always seen without understanding, it was such a solved story, which I could not understand. I will also not delay in saying that the journey of all of us is a flowing stream of understanding, which introduces us to us. How our ignorance keeps sleeping under the veil of ignorance, that we do not recognize our ignorance

 This journey of my questions always went on the track of death. Whoever heard, read or saw the experiences of anyone - the correct result of all of them has come in my hands today; When this question arose in me that how Nirvana is the last death and after this 'Nirvana' life will be of life, not of death. And this is the real life.

 This question has opened the door for me again today after 20 years in a new dimension to which I am unaware today; But still, in this question of mine, I have got a glimpse of my answer, which has twisted my existence. This situation is filled with my very deep astonishment and is very strange, unknown. And there is no one to trust at all. But today my nature has supported me, because till today I have very similar supernatural experiences, which are my support, which do not allow me to panic.

 


Now we have to talk in the second part that :-

 What is Black Hole?

What is Big Bang Theory?

 What is after Nirvana, if this is the last question of religion today or this question is the last destination, then why I do not believe in it? This question is for me.

And today's science has also stopped here that what is a big bag, and what is a black hole?

Isn't this the same thing? Only our way of looking is different, as till today religion and science are looking at life from different windows, but when we look carefully, they are saying the same thing, just like Nirvana is one dimension and that The scientific ideology of the dimension itself is the black hole.

 read the second part

---***---

निर्वाना  के बाद का जीवन कैसा है ?


कभी कभी ऐसा लगता है कि जैसे अब बस मेरा सर फट जाएगा, जैसे कि बुलबुला फट जाता है, और मैं उस स्पेस को देखती हूँ, जो फट जाने के बाद बस स्पेस में ही लीन  हो जायेगी, फिर यह जो 'फट' जाने की घटना है, तो यह क्या है ?

  आज मेरा जीवन का अनुभव मेरे को यह कह रहा है कि यह जीवन, यह संसारी जीवन निर्वाना की यात्रा तक सिर्फ मौत की यात्रा है। मौत की यात्रा का आखरी कदम 'निर्वाना' है। 

आज मैं गौर से जब शरीर के कीटाणु तत्त को देखती हूँ तो मुझे यह ऐसा महसूस होने लगा कि एक एक कीटाणु  हमारे एक एक अनुभव की गहराई में से निकला हुआ वो निचोड़ है, जो हमारे साथ अनंत-काल से यात्रा कर रहा है। 

कीटाणु सिर्फ मिटटी ही नहीं- हमारी एक लम्बी यात्रा का अनुभव है। रोग हमारी वो  नकारत्मिक ऊर्जा है, जो हम को सकारत्मिक ऊर्जा के बारे में ज्ञान देती है- जिस से हमारे ऊर्जा में तंदरुस्ती का जागरण होता है। 

 मैं देख रही हूँ कि कैसे हर कण मेरे को अपनी अपनी दास्तान सुनाने को उतावला है, जिस से मेरी ऊर्जा का लेवल हाई डिग्री पर जाता है, और मैं कैसे  खुद में ही पागलपन में घिरी हुई हूँ, ऐसा पागलपन, जिस में गहरा होश है, और गहरी एक समझ की रौशनी है, जो मेरे को शांति और सब्र की दुआ देती है। 

 जीवन के इतने गहरे रहस्य के चक्र में घिरी मेरी समझ, कभी सर में हाथों को फेरती है , कभी आँखों के पानी को प्यार देती है, कभी समझ को kiss भेजती है, कभी गहरी मुस्कान के साथ आँखों को आसमान की ओर उठाती है, और आँखों से ही शरारती इशारा करती है, जैसे कोई प्रेमी एक दूसरे को आँख मारते हैं।


एक अद्भुत, लाजवाब, बेमिसाल, रहस्यमय खेल:  

- अगर निर्वाना आखरी मौत है तो जीवन कहाँ है ?

-  अगर अब तक हम ने सिर्फ मौत की ही यात्रा की है तो ज़िंदगी किस का नाम है?

-  अगर आज तक की हमारी यात्रा खुद को जगाने की ही थी तो अब जागने के बाद की यात्रा कैसी होगी और कहाँ पर होगी ?

- निर्वाना के बाद की यात्रा कौन सी है और कैसी है ?

यह मेरे ऐसे सवाल हैं, जिन का जवाब आज मेरे को एक अज्ञात रास्ते की ओर  ले के जा रहा है, जिस के बारे में आज तक ना ही पढ़ा  है और ना ही सुना है। अगर मैं खुद के बचपन की ओर जाती हूँ और खुद के लिए मैं गहरी समझ से भर जाती हूँ। आज का वक़्त मेरे को मेरे बचपन से मिलाता है, वो घटनाएं जिन को मैंने सदा न-समझी में देखा, वो तो एक ऐसी सुलझी हुई गाथा थी, जो मेरी ही समझ में नहीं आ रही थी। यह कहने में मैं भी अब देरी नहीं करूंगी कि  हम सब की यात्रा एक समझदारी की बहती धारा है, जो हम को हम से ही मिलवाती है। हमारा अनजानापन कैसे अज्ञानता का दुपट्टा ओड कर सोया रहता है, कि हम को आपने ही अनजानपन की पहचान  नहीं होती 

 मेरे सवालों की यह यात्रा सदा ही मौत की पटड़ी पर चलती गई। जितने भी किसी के भी अनुभव सुने,  पढ़े  या देखे- उन सब का सही नतीजा आज मेरे हाथ में आया है; जब मेरे में इस सवाल ने जन्म लिया कि कैसे निर्वाना आखरी मौत है और इस  ' निर्वाना' बाद का जीना ज़िंदगी का होगा, मौत का नहीं।और यही है असली ज़िंदगी। 

 इस सवाल ने मेरे आगे आज २० साल के बाद फिर एक नए आयाम का दरवाज़ा खोला है, जिस के लिए आज मैं अनजान हूँ; पर फिर भी मेरे इस सवाल में ही, मेरे को मेरे जवाब की झलक मिल चुक्की है, जिस ने मेरे वजूद को घुमा दिया है।  यह हालात मेरी बहुत गहरी हैरानी भाव से भरी हुई है और बहुत ही अद्भुत है, अनजानी है। और भरोसे करने वाली तो बिलकुल है ही नहीं। पर आज मेरे स्वभाव ने मेरा साथ दिया है, क्योंकि आज तक मेरे पास बहुत ही ऐसे ही अलौकिक अनुभव है , जो मेरा सहारा हैं, जो मेरे को घबराने नहीं देते। 


  अब हम ने दूसरे हिस्से में बात करनी है कि:-

 ब्लैक होल क्या है?

बिगबैंग थिओरी क्या है ?

 निर्वाना के बाद क्या है, अगर आज धर्म  का भी यही आखरी सवाल है या यही सवाल आखरी मंज़िल है ,तो --- मैं इस को क्यों नहीं मानती? यह सवाल मेरा मेरे लिए है। 

और आज की साइंस भी यहीं पर रुकी हुई है कि बिंगबैग क्या है, और ब्लैक होल क्या है ?

क्या यह एक ही चीज़ तो नहीं? सिर्फ हमारे देखने का तरीका अलग सा है, जैसे आज तक धर्म और विज्ञान जीवन को अलग अलग खिड़की में से देख रहें हैं, पर जब गौर से देखेंगे तो  यह दोनों बात एक ही कह रहें हैं,  ठीक वैसे ही निर्वाना एक आयाम है और उस आयाम की ही विज्ञानक विचारधारा, ब्लैक होल है। 

 पढ़िए दूसरे हिस्से में  


रेतली राह का मुसाफ़िर

रेतली राह का मुसाफ़िर
माननीय प्यार , आज मैं खुद को आप के आगे सन्मानित करना चाहती हूँ कि मैं आप की रचना हूँ ; और खुदा के आगे मैं खुद को धन्यवाद का उपहार देना चाहती हूँ कि 'धन्यवाद शहीर ' कि आप ने खुदा से प्यार किया। हर किर्या के लिए धन्यवाद
The best cure of the body is a quite mind:. Powered by Blogger.