BREAKING NEWS
latest

What did I know that when I fell in love with myself, my romance with the universe would begin!

What did I know that when I fell in love with myself, my romance with the universe would begin!
When nature became a school, the subject became silent. When I started writing every experience in space, literature began to be created. The creation of literature itself began to understand every article of itself, so understanding itself began to adopt every understanding. This romantic journey of my experiences taught me to love myself. The deepest and most beautiful experience is that when we fall in love with ourselves, then the romance starts with universe, then the universe itself identifies us with every mystery.

yourlabel

latest
blissful spring
blissful spring

Be beautiful in your own way!

Be beautiful in your own way!

In today's time

In today's time/block-4

A Cosmic pause

A Cosmic pause/block-2

What a life

What a life/block-2

blissful spring

blissful spring/block-4

Space and Time

Space and Time/block-2

Beauty of Relationship

Beauty of Relationship/block-2

The death of Ego

The death of Ego/block-2

Latest Articles

sandy trail /कच्ची राह / ਕੱਚੀਆਂ ਰਾਹਾਂ ਦੀ ਕੱਚੀ ਪੈੜ

Every process of life is the same. 

No difference. 

The raw fruit will only be confirmed, 

such a person is raw in understanding, age, thinking and behavior.


Footprint on the sandy trail


I had to find my own way in every sphere of life. The paved path never worked for me.
If you want to go to Vancouver or Los Angeles: only freeway no 5 will work. When I have to walk on the path of happiness or bliss, I always have to make my raw path.
Whenever I see passengers going on a paved road, they always walk, but never reach the destination. I did not have the patience or time like them. The destination was important to me, so I had to make my own way, which I could walk on. My little crooked steps enjoyed the prick and the joy of crossing paths and learned by creating my own experience.
Nature supports the raw path in the same way as it supports the paved path. Although no one was with me, I had both visual and nature support.
Strong intentions, deep trust, beautiful thinking, deep aspirations became my partner and walked with me.
 Today my stubborn and 'idiotic and innocent' nature made me meet - with joy, with happiness, with peace, with freedom, with love, with emptiness, with emptiness, with religion, with the world and with me.
When I looked carefully at the path today, what was the rawness there?
 So that rawness: my worries, my stress, my helplessness, my guts, my pain.
When my raw path gave me the destination, it became a firm path on its own. At every step, I asked myself questions and finally I also asked myself that-
"Was this the raw way or was this the way for your questions?"
I patiently told myself that if you did not like to stop, then this was the path you would have to walk.
When I see the celebration of the destination today, 'I am who I am', who is standing on the first step of the path - that 'I' who has crossed the path and 'who I am today', I am that I am, whom I have seen standing for some time in some era. Whence this 'I' has to take another step for own-self after ages.
Today, I have come across the path, I see that my 'I' was waiting for my step. Due to this, my journey to that 'I' was stopped. Today my 'I' who is in the captivity of the era, will be free today and will move forward. In my age, the standing 'I' has to make me cross this rough path and walk on a paved path own-self. Only this strength of mine will make her the paved path.
I see that on the one hand I have a long journey of 50 years and on the other I have only a moment's delicate experience. I, who is standing in the middle of these two, living this mysterious nature of life, I see how deep the paved path was in my raw path.
Today I realized that-
There was so much pain in my ignorance that this pain itself made its way to me and brought me to the place from where I will get the understanding and reality of right and real life.

***---***
जीवन की हर प्रकिर्या एक जैसी ही है। 
 कोई भी फर्क नहीं। 
 कच्चा फल ही पक्केगा ,
ऐसे ही व्यक्ति समझ, उम्र, सोच और व्यवहार में कच्चा होता ही है। 

कच्ची राह के राही


मुझे जीवन के हर क्षेत्र में अपना खुद का रास्ता ही खोजना था। पक्की राह ने कभी मेरे लिए काम नहीं किया।
Vancouver  या Los Angeles   को जाना हो तो: freeway  no 5  ही काम करेगा। जब मुझे खुशी या आनंद के रास्ते पर चलना होता है, तो मुझे हमेशा अपना कच्चा रास्ता बनाना पड़ता है।
जब भी मैं पक्की राह पर जाने वाले यात्रियों को देखती हूं, तो वे हमेशा चलते हैं, लेकिन गंतव्य तक कभी नहीं पहुंचते। मेरे पास उनके जैसा धैर्य या समय नहीं था। मंजिल मेरे लिए महत्वपूर्ण थी, इसलिए मुझे अपना रास्ता खुद बनाना था, जिस पर मैं चल सकूं। मेरे छोटे छोटे कुटिल कदमों ने चुभन को और पथों को पार करने की खुशी का मज़ा लिया और खुद का अनुभव बना कर सीख ली। 
प्रकृति उसी तरह से ही कच्ची राह का समर्थन करती है जैसे वह पक्की राह का समर्थन करती है। हालांकि कोई भी मेरे साथ नहीं था, मेरे पास दृश्य और प्रकृति दोनों का साथ था।
मजबूत इरादे, गहरा भरोसा, खूबसूरत सोच, गहरी आकांक्षाएं मेरे साथी बन गए और मेरे साथ चले।
 आज मेरे जिद्दी और कमला स्वभाव ने भीमेरी मुलाकात - खुशी के साथ, सुख के साथ, शांति के साथ, स्वतंत्रता के साथ, प्यार के साथ, शून्यता के साथ, ख़ालीपन के साथ, धर्म के साथ, दुनिया के साथ और मेरे  साथ करवाई। 
जब आज मैंने राह को ध्यान से देखा कि वहां पर कच्चापन क्या था? 
 तो वो कच्चापन : मेरी चिंताएँ, मेरा तनाव, मेरी लाचारी, मेरा घूटन, मेरा दर्द था। 
जब मेरी कच्ची राह ने मुझे मंजिल दी, तो यह अपने आप ही एक पक्की राह बन गई। हर कदम पर  मैंने खुद को सवाल ही सवाल किये और आखिरकार मैंने खुद से यह सवाल  भी किया था कि-
'क्या यह कच्ची राह थी या  यह राह तेरे सवालों की राह थी ?'
मैं धैर्य से खुद से कहा कि अगर आप को  रुकना पसंद नहीं था तो यही वह राह थी जिस पर आप को चलना ही पड़ेगा। 
जब मैं आज गंतव्य के उत्सव को देखती हूं, तो 'मैं वह हूं जो मैं हूं'  जो राह के पहले कदम पर ही खड़ी हूँ -  वो 'मैं' जिस ने राह को पार किया है और 'जो मैं आज हूँ',  मैं वो हूँ, जिस को  मैं बहुत वक़्त से, किसी युग में खड़ा देखती हूँ। जहां से मेरी इस 'मैं' ने आज युगों बाद खुद के लिए एक ओर कदम लेना है।
आज जिस राह को मैं पार कर के आई हूँ , मैं देख रही हूँ कि मेरे इस कदम का इंतज़ार ही मेरी युगो वाली 'मैं' कर रही थी।  इस के कारण ही मेरी उस 'मैं' की यात्रा रुकी हुई थी। आज मेरी वो 'मैं' जो युग की क़ैद में है, आज आज़ाद हो के फिर आगे बढ़ेगी। मेरी युग में खड़ी 'मैं' ने मेरे को इस कच्ची राह को पार करवा के ही खुद पक्की राह पर चलना है।  मेरी यह मज़बूती ही उस की पक्की राह की दलेरी बनेगी। 
मैं देख रही हूं कि एक तरफ मेरे पास 50 साल की लंबी यात्रा का अनुभव है और दूसरी तरफ केवल एक पल का नाज़ुक अनुभव है। मैं, जो इन दोनों के बीच में खड़ी हूं, जीवन के इस रहसयमई  स्वभाव को जी रही हूँ , मैं देख रही हूँ कि मेरी कच्ची राह में कितनी गहरी पक्की राह समाई हुई थी।
आज मैंने अनुभव किया कि-
मेरी अज्ञानता में इतना दर्द था कि  मेरे इस दर्द ने खुद ही खुद को अपनी राह बनाया और मुझे  को उस जगह  पर लाया, जहां से मुझे सही और असली जीवन की समझ और असलियत  की प्राप्ति होगी।

***---*** 
ਜੀਵਨ ਦੀ ਹਰ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਇੱਕੋ ਜਿਹੀ ਹੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ,
 ਇਸ ਵਿਚ ਕੋਈ ਫਰਕ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦਾ।  ਕੱਚਾ ਫਲ ਹੀ ਪੱਕਦਾ ਹੈ। 
 ਇੰਝ ਹੀ ਵਿਅਕਤੀ ਦੀ ਸਮਝ, ਸੋਚ, ਭਾਵ ਅਤੇ ਵਿਵਹਾਰ ਕੱਚਾ ਹੁੰਦਾ ਹੈ, 
ਜੋ ਫਿਰ ਪੱਕਦਾ ਹੈ।

ਕੱਚੀਆਂ ਰਾਹਾਂ ਦੀ ਕੱਚੀ ਪੈੜ


ਮੈਨੂੰ ਜੀਵਨ ਦੇ ਹਰ ਖੇਤਰ ਵਿਚ ਖੁਦ ਦੀ ਹੀ ਰਾਹ ਭਾਲਣੀ ਪਈ।  ਬਣੀ ਹੋਈ ਪੱਕੀ ਰਾਹ ਕਦੇ ਵੀ ਮੇਰੇ ਕੰਮ ਨਹੀਂ ਆਈ। 
vancouver ਜਾਣਾ ਹੈ ਜਾਂ  ਫਿਰ  Los Angeles:  freeway No 5  ਹੀ ਕੰਮ ਆ ਜਾਏਗਾ।  ਜਦ ਮੈਂ ਖੁਸ਼ੀ ਜਾਂ  ਸੁੱਖ  ਦੀ ਰਾਹ ਉਪਰ ਤੁਰਨਾ ਹੈ ਤਾਂ, ਮੈਨੂੰ ਸਦਾ ਖੁਦ ਦੀ ਹੀ ਕੱਚੀ ਪਗਡੰਡੀ ਬਣਾਨੀ ਪਈ। 
ਬਣੀਆਂ ਬਣਾਈਆਂ ਰਾਹਾਂ ਦੇ ਉਪਰ ਜਾਂਦੇ ਯਾਤਰੀਆਂ ਨੂੰ ,ਜਦ ਵੀ ਮੈਂ ਤੱਕਦੀ, ਉਹ ਸਦਾ ਤੁਰਦੇ ਹੀ ਜਾਂਦੇ ਨੇ ਪਰ ਮੰਜ਼ਿਲ ਤੇ ਕਦੇ ਪਹੁੰਚਦੇ ਨਹੀਂ ਦੇਖੇ। ਮੇਰੇ ਵਿਚ ਉਹਨਾਂ ਦੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਨਾ ਹੀ ਸਬਰ ਸੀ ਅਤੇ ਨਾ ਹੀ ਵਕ਼ਤ ਸੀ।  ਮੇਰੇ ਲਈ ਮੰਜ਼ਿਲ ਜ਼ਰੂਰੀ ਸੀ, ਸੋ ਮੈਨੂੰ ਖੁਦ ਹੀ ਇੱਕ ਪਗਡੰਡੀ ਬਨਾਨੀ ਪਈ, ਜਿਸ ਤੇ ਮੈਂ ਚਲ ਸਕਾਂ।  ਮੇਰੇ ਛੋਟੇ ਛੋਟੇ, ਟੇਢੇ -ਮੇਢੇ  ਕਦਮਾਂ ਨੇ ਚੁਭਣ ਵੀ ਝੱਲੀ ਅਤੇ ਰਾਹਾਂ ਨੂੰ ਪਾਰ ਕਰਨ  ਦਾ ਆਨੰਦ ਵੀ ਲੈਂਦੀ ਗਈ। 
ਕੱਚੀਆਂ ਰਾਹਾਂ ਵਿਚ ਕੁਦਰਤ ਉਸੇ ਤਰ੍ਹਾਂ ਸਾਥ ਦਿੰਦੀ ਹੈ , ਜਿਸ ਤਰ੍ਹਾਂ ਪੱਕੀ ਰਾਹ ਦੇ ਉਪਰ ਸਾਥ ਦਿੰਦੀ ਹੈ। ਚਾਹੇ ਮੇਰੇ ਨਾਲ ਕੋਈ ਵਿਅਕਤੀ ਨਹੀਂ ਸੀ ਪਰ ਮੇਰੇ  ਨਾਲ ਕੁਦਰਤ ਦੇ ਨਜ਼ਾਰੇ ਅਤੇ ਕੁਦਰਤ ਸਾਥੀ ਸੀ।
ਪੱਕੇ ਇਰਾਦੇ, ਗਹਿਰੇ ਭਰੋਸੇ , ਸੁੰਦਰ ਸੋਚ, ਗਹਿਰੀ ਉਮੰਗ ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਸਾਥੀ ਬਣ ਕੇ ਮੇਰੇ ਨਾਲ ਚਲ ਪਏ। 
 ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਜ਼ਿੱਦੀ ਤੇ ਕਮਲੇ-ਰਮਲੇ ਸੁਭਾਵ ਨੇ ਵੀ ਮੇਰੀ ਮੁਲਾਕਾਤ - ਖੁਸ਼ੀ ਨਾਲ, ਸੁਖ ਨਾਲ, ਸ਼ਾਂਤੀ ਨਾਲ, ਆਜ਼ਾਦੀ ਨਾਲ, ਪਿਆਰ ਨਾਲ, ਖਾਲੀਪਨ ਨਾਲ, ਚੁੱਪ ਨਾਲ, ਧਰਮ ਨਾਲ, ਸੰਸਾਰ ਨਾਲ ਅਤੇ ਮੇਰੇ ਨਾਲ ਕਰਵਾਈ।
ਜਦ ਮੈਂ ਗੌਰ ਨਾਲ ਤੱਕਿਆ ਰਾਹ ਨੂੰ, ਤੇ ਮੈਂ ਦੇਖਿਆ ਇਹ ਕਚਾਪਨ ਕੀ ਸੀ ?
ਮੇਰਾ ਫਿਕਰ , ਮੇਰਾ ਤਨਾਵ, ਮੇਰੀ ਲਾਚਾਰੀ, ਮੇਰੀ ਘੁੱਟਨ, ਮੇਰਾ ਦਰਦ।    
ਮੇਰੀ ਕੱਚੀ ਰਾਹ ਨੇ ਜਦ ਮੈਨੂੰ ਮੰਜ਼ਿਲ ਦੇ ਦਿੱਤੀ ਤਾਂ ਖੁਦ ਬ ਖੁਦ ਪੱਕੀ ਰਾਹ ਬਣ ਗਈ।  ਹਰ ਕਦਮ ਉਪਰ ਮੈਂ ਖੁਦ ਨੂੰ ਸਵਾਲ ਤੇ ਸਵਾਲ ਕਰਦੀ ਗਈ ਤਾਂ ਆਖਿਰ ਨੂੰ ਮੈਂ ਖੁਦ ਨੂੰ ਇਹ ਸਵਾਲ ਵੀ ਕਰ ਲਿਆ ਸੀ ਕਿ-
'ਇਹ ਰਾਹ ਮਿੱਟੀ ਦੀ ਸੀ ਜਾਂ ਸਵਾਲਾਂ ਦੀ ਸੀ?'   
ਮੈਂ ਖੁਦ ਨੂੰ ਹੀ ਧੀਰਜ ਦਿੰਦੀ ਕਿ ਰੁਕਣਾ ਤੈਨੂੰ ਪਸੰਦ ਨਹੀਂ ਸੀ ਤਾਂ ਇਹੀ ਰਾਹ ਤੇ ਚੱਲਣਾ ਪੈਣਾ ਸੀ। 
ਅੱਜ ਜਦ ਮੰਜ਼ਿਲ ਦੇ ਜਸ਼ਨ ਨੂੰ ਤੱਕਦੀ ਹਾਂ ਤਾਂ 'ਮੈਂ ਜੋ ਮੈਂ ਸੀ', ਉਹ ਉਸ ਰਾਹ ਦੇ ਪਹਿਲੇ ਕਦਮ ਉਪਰ ਹੀ ਖੜੀ ਹੈ -ਜਿਸ ਨੂੰ ਮੈਂ ਪਾਰ ਕਰਕੇ ਆਈਂ  ਹਾਂ ਅਤੇ ਜੋ 'ਮੈਂ ਅੱਜ ਹਾਂ', ਇਸ ਨੂੰ ਮੈਂ ਬਹੁਤ ਵਕਤਾਂ ਤੋਂ ਇੱਕ ਅਜਿਹੇ ਯੁਗ ਵਿਚ ਖੜਾ ਤੱਕਦੀ ਹਾਂ ਜਿਥੋਂ ਤੇ ਅੱਜ ਇਸ 'ਮੈਂ' ਨੇ ਖੁਦ ਦਾ ਅਗਲਾ ਕਦਮ ਲੈਣਾ ਹੈ। 
ਮੈਂ ਜੋ ਰਾਹ ਨੂੰ ਪਾਰ ਕਰਕੇ ਆਈ ਹਾਂ, ਮੈਂ ਦੇਖਦੀ ਹਾਂ ਕਿ ਮੇਰੇ ਇਸ ਛੋਟੇ ਜਿਹੇ ਕਦਮ ਦੇ ਕਾਰਣ ਹੀ ਮੇਰੀ ਇਹ (ਯੁਗਾਂ ਵਾਲੀ ) ਯਾਤਰਾ ਰੁਕੀ ਹੋਈ ਸੀ, ਜਿਸ ਤੇ ਅੱਜ ਤੋਂ ਮੇਰੀ ਇਸ ' ਮੈਂ'  ਨੇ ਚਲਣਾ ਹੈ, ਜੋ ਯੁਗਾਂ ਵਿਚ ਖੜੀ ਮੇਰੇ ਤੋਂ ਕੱਚੀ ਰਾਹ ਨੂੰ ਪਾਰ ਕਰਵਾ ਕੇ, ਖੁਦ ਨੂੰ ਪੂਰਨ ਪੱਕੀ ਰਾਹ ਦਾ ਮੁਸਾਫ਼ਿਰ ਬਣਾਣਾ  ਲੋਚਦੀ ਸੀ। 
ਮੈਂ ਦੇਖਦੀ ਹਾਂ ਕਿ ਇੱਕ ਤਰਫ਼ ਮੇਰੇ 50 ਸਾਲ ਦਾ ਲੰਬਾ ਅਰਸਾ ਸੀ ਅਤੇ ਦੂਸਰੀ ਤਰਫ਼  ਸਿਰਫ ਪਲ ਦਾ ਇੱਕ ਨਿਮਾਣਾ ਝੌਂਕਾ ਸੀ।  ਮੈਂ ਜੋ ਮੇਰੀ ਹੀ ਮੈਂ ਦੇ ਅੱਧ-ਵਿਚਕਾਰ ਖੜੀ ਹਾਂ- ਜੀਵਨ ਦੇ ਇਸ ਰਹਾਸਇਆ ਨੂੰ ਹੰਢਾ  ਰਹੀ ਹਾਂ। ਮੈਂ ਦੇਖਦੀ ਹਾਂ ਕਿ ਮੇਰੀ ਕੱਚੀ ਰਾਹ ਦਾ ਸਫ਼ਰ ਕਿਨ੍ਹਾਂ ਗਹਿਰਾ ਪੱਕਾ ਰਾਹ ਦਾ ਸਫ਼ਰ ਸੀ।  
ਮੇਰੀ ਬੇਸਮਝੀ ਵਿਚ ਇਹਨਾਂ ਦਰਦ ਸੀ ਕਿ ਇਸ ਨੂੰ ਖੁਦ ਨੂੰ ਹੀ ਰਾਸਤਾ ਬਣਾ ਕੇ ਮੈਨੂੰ ਉਸ ਜਗ੍ਹਾ ਤੇ ਲੈ ਆਂਦਾ ਕਿ ਜਿਥੋਂ ਮੈਂ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਦੀ ਸਹੀ ਅਤੇ ਅਸਲੀ ਸਮਝ ਨੂੰ ਸਮਝ ਸਕੂੰ।    

The mind's flight in the sky of thought / सोच के आसमान में मन की उडारी

Whatever is the thought, feeling or experience
 in our consciousness, which we do not even know,
 life is the name of a journey to introduce us to it. 


 
The mind's flight in the sky of thought 


Today, this world is fulfilling my desire, which I saw in my heart in my childhood, when I saw the stars shining in the sky for the first time.
Today, when I woke up in the morning, my mind was wandering in the same mist of thinking. When I looked into the inner sky today, I was thinking like a bird flying in the sky, seeing which today I became melting ice again.
Today I was convinced that if I had seen my condition today, the autumn had not to wait for time, it was to become spring. Whenever, whenever I think like this, my eyes get deeper, which shows me the beauty lying before me. So then I kept my eyes open and saw the outer and inner sky, the unity of both filled me with freshness and newness - due to which I became a tone, from which the sound of 'wow' started coming.


***---*** 
 हमारी चेतना में जो भी कोई सोच, भाव या अनुभव पड़ा हो, 
जिस का हम को भी पता नहीं, 
ज़िंदगी हम को उस से मिलवाने की ही एक यात्रा का नाम है  



सोच के आसमान में मन की उडारी

यह संसार आज मेरी उस चाहना की ही पूर्ति कर रहा है, जिस चाहना को मैंने बचपन में आपने दिल में देखा था, जब मैंने आसमान में चमकते तारों को पहली बार देखा था।
आज जब मैं सुबह उठी तो मेरे मन के भाव वैसे ही सोच की धुंध में घूम रहे थे। जब मैंने आज खुद के भीतर के आसमान में देखा तो मेरी सोच पक्षी की तरह आसमान में उड़ रही थी, जिस को देख कर आज मैं फिर पिघलती बर्फ बन गई। 
आज मेरे को भरोसा हुआ कि अगर आज यह मेरी हालत पतझड़ देख लेती तो पतझड़ ने वक़्त का इंतज़ार नहीं करना था, बसंत बन जाना था। जब भी ,कभी भी मैं ऐसा सोचती हूँ, तो मेरी देखनी गहरी हो जाती है, जो मेरे को ,मेरे ही आगे पड़ी सुंदरता दिखाती है।  सो फिर मैंने आँखों को खुला रख कर बाहर का और भीतर का आकाश देखा तो दोनों की एकता ने मेरे में ताज़ापन और नयापन भर दिया -जिस के कारण मैं एक सुर बन गई, जिस की गूंज  में से आहट  'वाओ ' की आने लगी।  

Mysterious behavior of life / ज़िंदगी का रहस्यमई व्यवहार

Every part and thing of life, which will become a question before our thinking and understanding, we would not be able to trust it, if I had remained the question before me?

What is space?
What does space look like?
Do we see space as real?

This is some question. Those who love me. Whatever we love, the same thing, and that part of life starts to open before us. I have always loved universe and I have always seen a desire to know the blue roof 'sky'.
We see the space empty, as if we see too much speed standing. In the same way, there is space, which is filled with countless abilities. Every qualification then has countless qualifications.
I still remember when I was sitting with some people at a White Spot restaurant in Vancouver, Canada. It is my experience at that time when space surrounded my mind, and I saw that I did not have any head. I put my hand on the head, I used to feel that the hand goes out from the middle of the head, there is no head, there is only one space. (This experience is called 'bodiless body' in Vedas) I was telling this experience to the people sitting together. Space was making me recognize the real and true existence of space. This mystical behavior of space was very unique and such that no one could ever trust it. I was not able to trust myself as the incident was happening. But I was in the midst of the incident, I could not even ask questions. People with me had just seen my eyes changing and I saw myself becoming a space. When I came out of that experience, I was like, I have been born for the first time in a new dimension and opened my eyes for the first time.

They all saw my eyes, my behavior changing, but did not see me becoming a space, which I only saw. Those people asked what, then I told them that -
-What is this 'W'?
= W
Now what is the word 'We'?
= we
If I could get 'O' after W, then?
I could write any word after 'W'. Like 'white, word, world,' could have made any word - that I know. But why did I choose 'W'?
Why did I make 'W' a white word? Why no one else?
While there are many other words ahead of me, which I could write? Now I have to make this word a sentence. Then it will be able to say my sentence in a line or in a paragraph, it is my merit again. In this ability, I started seeing my infinite eligibility. I saw that I can give infinite directions to this word 'W'. But what should I give - I gave this 'W' the same direction - where I am sitting. I started writing the name of the restaurant. While I could write more words with 'W'.
Space tells me that-
Condition and situation;
Direction and position;
Height and depth;
When these three are truly known, then space will be created because we are the space in which everything happens - the capacity for things - the space in which each of them is allowed to reach their own particular kind of perfection, because everything Has its own space, so that it can produce itself as itself.


***---***
ज़िंदगी का हर वो हिस्सा और चीज़, जो हमारे सोच और समझ के आगे सवाल बनेगी, हम उस पर भरोसा नहीं कर पाते, अगर मेरे आगे मैं ही सवाल बनी हुई थी, तो ?
स्पेस क्या है?
स्पेस कैसा दिखाई देता है?
क्या हम स्पेस को असलियत में देखतें हैं?

यह कुछ सवाल है। जो मेरे को प्यारे हैं। जिस चीज़ को भी हम प्यार करते हैं, वही चीज़, और ज़िंदगी का वही हिस्सा हमारे आगे खुलना शुरू हो जाता है। मुझे सदा ही ब्रह्मण्ड से प्यार रहा और मैंने सदा ही नीली छत 'आसमान' को जानने की खुद में चाहना देखी। हम को स्पेस खाली दिखाई देता है, जैसे बहुत ही ज़्यादा स्पीड हम को खड़ी हुई दिखाई देती है। ठीक वैसे ही स्पेस है , जो अनगिनत योग्यताओं से भरा हुआ है। हर योग्यता की फिर अनगिनत पात्रता है। मेरे को आज भी याद है, जब मैं Vancouver, Canada में White Spot- restaurant में कुछ लोगों के साथ बैठी थी। उस वक़्त का यह मेरा अनुभव है कि जब स्पेस ने मेरे दिमाग को आ के घेरा था, और मैंने देखा कि मेरा सर है ही नहीं। मैं आपने सर पर अपना हाथ लगाती ,मेरे को ऐसे लगता कि हाथ सर के बीच से निकल कर जाता है, सर है नहीं, सिर्फ एक स्पेस है। मैंने साथ बैठे लोगों को यह अनुभव साथ ही साथ बता रही थी। स्पेस मेरे को स्पेस के असली और सही वजूद से मिला रही थी।
स्पेस की यह रहसयमई व्यवहार बहुत ही अनोखा था और ऐसा था कि जिस पर कभी कोई भी भरोसा कर न सके।मेरे साथ घटना घट रही थी, मैं खुद भरोसा नहीं कर पा रही थी। पर मैं घटना के बीच थी, मैं सवाल भी नहीं पूछ सकती थी। मेरे साथ के लोगों ने सिर्फ मेरी आँखों को बदलते हुए देखा था और मैंने खुद को स्पेस
( body less body) बनते हुए देखा था। मैंने जब उस अनुभव से बहार आई तो मैं ऐसी थी, जैसे मैंने किसी नए आयाम में पहली वार जन्म लिया है और पहली बार आँखों को खोला है। उन सब ने मेरी आँखों को , मेरे व्यवहार को बदलते देखा पर मेरे को स्पेस बनते नहीं देखा, जिस को सिर्फ मैंने ही देखा।
उन लोगों ने पूछा हुआ क्या, तो मैंने तब ऐसे उन को कहा था कि -
-यह 'W ' क्या है ?
= W
- अब यह क्या शब्द है 'We' ?
= we
अगर मैं W के बाद 'O' पा देती , तो ?
मैं 'W' के बाद कोई भी शब्द लिख सकती थी। जैसे 'white , word, world,' कोई भी शब्द बना सकती थी - जो मैंने जानती हूँ। पर मैंने 'W' क्यों चुना, ?
मैंने 'W' को white शब्द क्यों बनाया?, ओर कोई क्यों नहीं ?
जब कि मेरे आगे और भी बहुत सारे शब्द हैं, जो मैं लिख सकती थी?अब इस शब्द को मैंने वाक्य बनाना है। फिर यह मेरा वाक्य एक लाइन में अपनी बात को पूरा कह पायेगा
या एक paragraph में, यह मेरी फिर योग्यता है।

इस योग्यता में फिर मेरे को मेरी अनंत पात्रता दिखाई देने लगी। मैंने देखा कि मैं इस शब्द 'W ' को अनंत दिशाएं दे सकती हूँ। पर मैंने क्या दूं - मैंने इस 'W ' को वही दिशा दे दी- जहां पर मैं बैठी हूँ। मैंने restaurant का नाम लिखना शुरू कर दिया। जब कि मैं 'W' से और शब्द भी लिख सकती थी।
मेरे को स्पेस कहती है कि-
हालत और हालात;
दिशा और दशा;
उचाई और गहराई;
जब इन तीनों को सही में जान जायेगी तो स्पेस ही बन जायेगी क्योंकि हम वह स्पेस हैं जिसमें सब कुछ होता है - चीजों के लिए क्षमता - वह स्पेस जिसमें उनमें से प्रत्येक को अपनी विशेष प्रकार की पूर्णता पर पहुंचने की अनुमति है, क्योंकि हर चीज़ की अपनी खुद की वही स्पेस है, जिस से वह खुद को खुद जैसी ही पैदा कर सके।

Silent dimension / चुप का आयाम

When we start living awake, 
our behavior towards life changes, because we are awake

 Silent dimension


Quiet Dimension: What is called 'Nirvacharita' (thoughtlessness) state of mind in Gurbani. When we enter this state of silence, then how does silent entry happen in our existence! This incident is happening from both sides. The person enters silent and the person enters silent. Quiet in the ears - silent in the tongue, silent in the eyes, how silent a person enters through the particle? A very amazing event happens, it seems as if I am going to the deep valley of death, the beauty of this valley is so adorable that I die before I die. Even if there is heat in the world - but whenever I go towards this quiet, the very gentle and cold air begins to permeate - which leads me to space.

***---***
जब जागे हुए जीने लगतें हैं, 
तो ज़िंदगी के प्रति हमारा व्यवहार बदलता है, क्योंकि हम  जागे हुए होतें हैं 
चुप का आयाम 

चुप आयाम: जिस को गुरबाणी में मन की 'निर्विचारिता' स्थिति कहतें हैं।  जब हम इस चुप की स्थिति में दाखिल होते हैं तो कैसे हमारे वजूद में चुप का दाखिला होता है! यह घटना दोनों तरफ से हो रही होती है।  व्यक्ति चुप में दाखिल होता है और चुप व्यक्ति में दाखिल होती है। कानों में चुप- ज़ुबान में चुप, आँखों में चुप, कैसे चुप व्यक्ति के कण कण में से प्रवेश होती है? बहुत ही अद्भुत घटना घटती है, ऐसे लगता है कि जैसे मैं मौत की गहरी घाटी में जा रही हूँ, इस घाटी की सुंदरता ,इतनी मनमोहक होती है कि मैं मरने से पहले ही मर जाती हूँ।   चाहे संसार में गर्मी की ऋतू हो- पर जब भी मैं इस चुप की तरफ जाती हूँ तो बहुत ही कोमल और ठंडी हवा का परवेज़ शुरू हो जाता है - जो मेरे को स्पेस की ओर ले जाती है।

Who is going to see own-self dying, who is this? / खुद को मरते हुए देखना वाला भी, यह है कौन?

 When we see ourselves in life,
 we never separate from ourselves,
 we celebrate death even at the time of death.

Every part of life is very precious, if we leave ourselves open and free in the sky of life, then we will see the truth which is true. Without freedom, we would never see our own freedom. Only freedom can see everything in life, no one else can see it.

Who is going to see own-self dying, who is this?


How do we know that we are living and we know many people that to whom we said that that person had died, was one really dead? When we are asleep, how we are, we have not known this till date. So how did we know that we are alive, and how we also know that the one who died, has died. Whenever there is a gap in time, we can never see it. It is not possible to know about any gaps in life, so what is it?
We have thought about ourselves after seeing the events happening around us, it is a matter of life, but what will we say about death?
 People die on every side of us, so we have a fair thought that we too will die. How do we know the life after death?
 Whenever we saw ourselves sleeping, we would see ourselves dead. But when we see ourselves dead, who is going to see it at that time?

How will I know that I have grown?

 First the condition develops, then the condition gives rise to the state. Now only my situation has developed, not the condition. The stage will be found when my situation starts to sprout. When I start blossoming like trees - my life will start flowing like a river - when I start twittering like birds - when my intentions become strong like a mountain. This will be my natural state, then I will become a developmental organism. Because, this is my natural state. When my condition and state will be one. Meaning that becoming a festival is the complete development of a person. This festival has nothing to do with our worldly desires.
Come, let us all be a part of this eternal celebration and welcome life!

***---***

जब हम खुद को जीवन में देख लेते हैं तो 
कभी भी खुद से अलग नहीं होते, 
मौत के वक़्त भी हम मौत का जश्न मनाते हैं 

जीवन का हर हिस्सा बहुत ही अनमोल है, अगर हम ने खुद को ज़िंदगी के यह आसमान में खुला और आज़ाद छोड़ दिया तो हम उस सचाई को देख लेंगे जो सच है। आज़ादी के बिना तो हम कभी खुद की ही आज़ादी को नहीं देख पाएंगे। जीवन की हर चीज़ को सिर्फ आज़ादी ही देख सकती है, और कोई नहीं। 

 खुद को मरते हुए देखना वाला भी, यह है कौन?


हम कैसे जानते हैं कि हम जी रहे हैं  और हम कई ऐसे जानते हैं कि जिस को हम ने कहा कि वो व्यक्ति मर गया था, क्या  सच में ही वो मर गया था ? जब हम सोये हुए होते हैं, हम कैसे होतें हैं, हम यह तो आज तक जान नहीं पाए।  तो हम ने यह कैसे जान लिया कि हम जिन्दा हैं, और यह भी कैसे जान लिया कि जो मर गया था , वो मर ही गया है। जब भी वक़्त में अंतराल आ  जाता है, उस को हम  कभी देख नहीं सकते। जीवन में किसी भी अंतराल के बारे में पता होना संभव नहीं है, तो यह क्या है ? 
हम ने खुद के चारों तरफ घटित घटनाओ को देख कर खुद के बारे में सोचा है, यह तो जीवन की बात है, पर मौत के बारे में हम क्या कहेंगे?
 हमारे हर तरफ लोग मरते हैं, तो हमारे में ठीक सोच आइ है कि हम भी मर जाएंगे।  मरने के पश्चात् के जीवन को हम कैसे जानेगे?
 जब कभी हम ने खुद की सोये  हुए देख लिया तो हम खुद को मरे हुए भी देख लेंगे।  पर जब  हम खुद को मरे हुए देखेंगे तो उस वक़्त यह देखने वाला कौन है? 
---
मैं कैसे जान पाऊँगी कि मैं विकासत हो गई हूँ?

 

पहले स्थिति विकास करती है, फिर स्थिति अवस्था को जन्म देती है ।अब सिर्फ मेरी  स्थिति विकासत हुई है, अवस्था नहीं।  अवस्था तब  मिलेगी जब मेरी स्थिति अंकुर होने लगेगी।  जब मैं पेड़ों की तरह खिलने लगूंगी- मेरा जीवन नदी की तरह बहने लगेगा -  जब मैं पक्षिओं की तरह चहचहाना शुरू करूंगी - जब मेरे इरादे पहाड़ की तरह मजबूत हो जाएंगे।  यह मेरी कुदरती अवस्था होगी , तब मैं विकासत जीव बन जाऊँगी।  क्योकि, यही मेरा कुदरती अवस्था है।  जब मेरी स्थिति और अवस्था एक हो जायेगी।  मतलब कि उत्सव बनना ही व्यक्ति का पूर्ण विकास है।  इस उत्सव का हमारी सांसारिक इच्छाओं  से कोई सम्बन्ध नहीं है। 
आओ हम सब मिल कर इस सनातन उत्सव का हिस्सा बने और जीवन का स्वागत करे !



The structure of the universe is just the center, there is no side / ब्रह्मण्ड की रचना सिर्फ केंद्र है, कोई साइड नहीं है

The universe is such a secret structure 
that when we go through it consciously,
 it is the center of it, there is no side.

 Where am I?



As soon as I saw that a spark of life falls from the center of the sky to the center of the land. I am seeing that this life-light has separated from its own source and has come to travel on its own.
I also saw that this life is a struggle surrounded by a very deep and very large circle, which has no echo, travels without a sound, a very deep circle, all this life in itself Surrender itself.
I see, it does not contain all that I thought it was me. That happiness, that thought, that emotion, that relationship, that world and that love; That which was mine is also not there. The people I loved, whom I believed to be mine, are not even there.
I saw that when I saw myself like a particle in this huge circle, I surrendered myself.
I also saw that this moment became the moment when I saw a spark of life fall.
I also saw that the journey which I had completed in 100 years, my journey was just one moment. So my echoes, who wanted to become echoes - who wanted to eradicate this feeling of being a storm - in which every storm took part, that storm: just to control one of my sobs and in that sob Only got absorbed.
I also saw that the spark of life that I had fallen from the center of the sky to the center of the land, today my life spark was sitting in the center of the universe.
Then:
When I wanted to look at the world, all the centers were there, there was no beginning or end.
 Then I also saw that the journey of everything in this universe, irrespective of the era, will always remain the center. Because the structure of this life is made up of such a secret that everything is in the center, not in any side, because the creation of this universe is just the center - there is no side.

***---***

ब्रह्माण्ड एक ऐसी रहस्य भरपूर रचना है कि 
जब हम इस को चेतनरूप में से जानेगे 
तो इस का केंद्र ही है, कोई साइड नहीं है 

मैं कहां हूं ?


जैसे ही मैंने देखा कि कोई जीवन-चिंगारी आसमान के केंद्र में से आती हुई ज़मीन के केंद्र में गिरती है। मैं सब देख रही हूं  कि यह जीवन-ज्योति खुद के स्रोत से अलग हो के खुद की ही यात्रा करने आई है। 
मैंने यह भी देखा कि यह जीवन एक बहुत ही गहरे और बहुत ही बड़े घेरे में घिरा हुआ एक ऐसा संघर्ष है, जिस की कोई गूंज  नहीं, बिन आवाज़ से यात्रा को करता है, बहुत गहरे घेरे में घिरा हुआ यह सब जीवन खुद में ही खुद को ही समर्पण है।
मैं देख रही हूँ, इस में वो सब नहीं है, जिस को मैंने सोचा था कि यह मैं हूँ।  वो  खुशी, वो सोच, वो भाव, वो रिश्ते, वो संसार  और वो प्यार; जो मेरा था, वो भी नहीं है।  मैंने जिन को प्यार करती थी, जिन को मैं मेरा ही मानती थी, वो सब भी वहां नहीं है।
मैंने देख कि मैंने जब इस महा-विशाल  घेरे में खुद की औक़ात  कण जैसी देखि तो मैंने कइसेखुद में ही समर्पण हो गई।  
मैंने यह भी देखा कि यह पल वही पल बन गया, जब एक जीवन-चिंगारी को मैंने गिरते देखा था। 
मैंने यह भी देखा कि जिस यात्रा को मैंने १०० साल में पूरा किया था, वो यात्रा मेरी सिर्फ एक पल की थी। तो मेरी गूँज, जो गूँज बन जाना चाहती थी - जो एक तूफ़ान बन कर मेरे इस एहसास को मिटा देना चाहती थी - जिस में हर तूफ़ान ने हिस्सा लिया हुआ था, वो तूफ़ान : सिर्फ मेरी एक सिसकी के काबू में आ के उस सिसकी में ही लीन हो गया। 
मैंने फिर यह भी देखा कि मैं जो जीवन-चिंगारी बन कर आसमान के केंद्र से गिरती हुई ज़मीन के केंद्र में ही गिरी थी, आज  मेरी वो जीवन चिंगारी ब्रह्माण्ड के केंद्र में विराजमान थी।
तब:
जब मैंने संसार की ओर  देखना चाहा तो वहां पर सब केंद्र ही थे,  कोई शुरूआत या समाप्ति नहीं थी। 
 तब मैंने यह भी देखा कि इस ब्रह्मण्ड की हर चीज़ की यात्रा चाहे युग की हो जाए, वो सदा केंद्र ही रहेगा।  क्योंकि इस जीवन की ढांचा ऐसे रहस्य से बना हुआ है कि हर चीज़ केंद्र में ही है, किसी साइड (side)में है ही नहीं, क्योंकि यह ब्रह्माण्ड की रचना सिर्फ केंद्र है- कोई साइड (side) नहीं है  

Should live in the present, why? / वर्तमान में रहना चाहिए, क्यों?/ ਵਰਤਮਾਨ ਵਿਚ ਰਹਿਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ, ਕਿਉਂ?

When we live in the present, 
our energy becomes light and motion like a laser, 
then it will be targeted at the right place, because then it becomes conscious.

Should live in the present, why?

 

We have always heard from religious scholars that always live in the present, why? Live in the present, live in the moment, why?
Because in order to see our consciousness, when we are in full meditation, that meditation stops as a moment. The moment becomes such a window that through which we reach the conscious dimension.
To be in the moment means to be in focus, to be conscious, to be aware. Deep meditation only enables us to cross the moment and take us into the vast spread of the era.
The deepest beauty of life, which is hidden in this mystery, is that when we want to look at anything or any part of meditation, we have to be fully conscious of that thing, but our Only in absolute consciousness do we lose ourselves; Because we are now only fully conscious. Meaning that they are conscious in unconscious form. Like now, at this time we are living unconscious life in conscious form. As if something is full of very deep beauty, it will become a question for us. We will be happy to see that beauty but we will also see that beauty with suspicion. Just like that, when someone gets angry and does some bad deed, the person also has the same question, 'How did I do it?'
What is our understanding today, as we are living today, any scholar or any person like Hitler, all this is just a question for our understanding, and nothing else.

***---*** 
जब हम वर्तमान में रहते हैं तो 
हमारी ऊर्जा की रौशनी और गति लेजर की तरह हो जाती है, 
तब उस का निशाना सही जगह पर ही लगेगा , क्योंकि तब वो चेतनरूप हो जाती है 
वर्तमान में रहना चाहिए, क्यों?


हम ने सदा धार्मिक विद्वानों से सुना है कि सदा वर्तमान में जीओ, क्यों? वर्तमान में जीना, पल में जीना , क्यों?  
क्योंकि हमारी चेतना को देखने केलिए ,जब हम पूरे ध्यान में होते हैं तो वो ध्यान पल के रूप में ठहरा होता है।  पल एक ऐसा झरोखा बन जाता है कि जिस के बीच में से हम चेतन-आयाम में पहुंच जाते हैं। 
पल में रहने का मतलब ध्यान में रहना, मतलब होश में रहना, जागरूक रहना।  गहन ध्यान ही पल को पार करके हम को  युग के विशाल फैलाव में ले जाने की समर्था रखता है। 
ज़िंदगी की सब से गहरी सुंदरता, जो इस रहस्या में छुपी हुई है कि ,जब हम ध्यान से किसी भी चीज़ को या किसी भी हिस्से को देखने के चाहवान होते हैं, तो हम को उस चीज़ के प्रति पूर्ण होश रखना पड़ता है,पर हमारे ही पूर्ण होश में हम खुद को ही गवा देतें हैं; क्योंकि हम अब सिर्फ पूर्ण होश ही होतें हैं। मतलब कि अचेतन रूप में चेतन होते हैं। जैसे कि अब , इस वक़्त हम चेतन रूप में अचेतन जीवन जी रहे हैं। जैसे कि कोई चीज़ बहुत गहरी सुंदरता  से भरपूर हो, वो हमारे लिए सवाल बन जायेगी।  हम उस सुंदरता को देख कर खुश भी होंगे पर उसी सुंदरता को शक की नज़र से भी देखेंगे।  ठीक ऐसे ही ,जब कोई क्रोध में आ कर कुछ बूरा कर्म कर डालता है तो उस व्यक्ति का भी पहले यही सवाल होता है कि , 'मैं यह कैसे कर दिया?'  
जो आज की हमारी समझ है, जैसी समझ में आज हम जी रहे हैं, कोई भी विद्वान हो या हिटलर जैसा कोई भी व्यक्ति, यह सब हमारी समझ के लिए सिर्फ एक सवाल है, ओर कुछ भी नहीं।
***---***

ਜਦ ਅਸੀਂ ਵਰਤਮਾਨ ਵਿਚ ਰਹਿੰਦੇ ਹਾਂ ਤਾਂ 
ਸਾਡੀ ਊਰਜਾ ਦੀ ਰੋਸ਼ਨੀ ਅਤੇ ਗਤੀ ਲੇਜ਼ਰ ਦੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਤੇਜ਼ ਹੋ ਜਾਂਦੀ ਹੈ , 
ਤਦ ਸਾਡਾ ਨਿਸ਼ਾਨਾ ਸਹੀ ਜਗਹ ਪਰ ਹੀ ਲਗੇਗਾ ਕਿਓਂਕਿ ਤਦ ਅਸੀਂ ਚੇਤਨ-ਸਵਰੂਪ ਹੋ ਜਾਂਦੇ ਹਾਂ 
ਵਰਤਮਾਨ ਵਿਚ ਰਹਿਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ, ਕਿਉਂ?


ਅਸੀਂ ਸਦਾ ਹੀ ਧਾਰਮਿਕ ਵਿਦਵਾਨਾਂ ਤੋਂ ਸੁਣਿਆ ਅਤੇ ਕਿਤਾਬਾਂ ਵਿਚ ਪੜ੍ਹਿਆ ਹੈ ਕਿ ਸਦਾ ਵਰਤਮਾਨ ਵਿਚ ਜੀਉ , ਕਿਓਂ ? ਪਲ ਵਿਚ ਜੀਣ  ਦਾ ਮਤਲਬ ਕੀ ਹੈ ? ਵਰਤਮਾਨ ਵਿਚ ਜੀਣ ਦਾ ਭੇਦ ਕੀ ਹੈ ?
ਪਲ ਏਕ ਐਸਾ ਝਰੋਖਾ ਹੈ ,ਜਿਸ ਵਿਚ ਦੀ ਅਸੀਂ ਆਪਣੀ ਚੇਤਨਾ ਨਾਲ ਇੱਕ ਹੋ ਜਾਵਾਂਗੇ। ਜਦ ਅਸੀਂ ਪਲ ਦੇ ਉਪਰ ਧਿਆਨ ਰੱਖਾਂਗੇ ਤਾ ਸਾਡਾ ਹੋਸ਼ ਕੇਂਦਰਤ ਹੋ ਜਾਵੇਗਾ।  ਇਹ ਕੇਂਦਰ ਹੀ ਸਾਡੇ ਲਈ ਸਰੁੰਗ ਦਾ ਕੰਮ ਕਰੇਗਾ। ਮਤਲਬ ਕਿ ਪਲ ਇੱਕ ਅਜੇਹੀ ਖਿੜਕੀ ਬਣ ਜਾਏਗਾ, ਜੋ ਸਾਨੂੰ  ਸਾਡੇ ਚੇਤਨ-ਰੂਪ ਨਾਲ ਮਿਲਾ ਦੇਵੇਗਾ। 
ਪਲ ਵਿਚ ਜੀਣ ਦਾ ਮਤਲਬ ਸਿਰਫ ਇਹ ਹੈ ਕਿ ਅਸੀਂ ਪੂਰਨ ਧਿਆਨ ਵਿਚ ਠਹਿਰ ਗਏ, ਮਤਲਬ ਕਿ ਅਸੀਂ ਪੂਰੇ ਹੋਸ਼ ਵਿਚ ਠਹਿਰ ਗਏ, ਮਤਲਬ ਕਿ ਪੂਰੇ ਜਾਗਰੂਕ ਹੋ ਗਏ।  ਗਹਿਨ ਧਿਆਨ ਹੀ ਪਲ ਵਿਚ ਠਹਿਰ ਸਕਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਪਲ ਨੂੰ ਪਾਰ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ। ਪਲ ਦਾ ਮਤਲਬ ਪੂਰਨ ਧਿਆਨੀ ਹੋ ਜਾਣਾ।  ਪੂਰਨ ਧਿਆਨ ਦੀ ਅਵੱਸਥਾ ਹੀ ਪਲ ਨੂੰ ਪਾਰ ਕਰ ਕੇ ਸਾਨੂੰ ਯੁਗ ਦੇ ਵਿਸ਼ਾਲ ਫੈਲਾਅ ਵਿਚ ਲੈ ਜਾ ਸਕਦੀ ਹੈ।  
ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਦੀ ਸਭ ਤੋਂ ਸੋਹਣੀ ਸੁੰਦਰਤਾ ਇਸ ਭੇਦ ਵਿਚ ਵੀ ਛੁਪੀ ਹੋਈ ਹੈ ਕਿ ਜਿਸ ਹਿੱਸੇ ਵਿਚ ਜਾਂ ਜਿਸ ਚੀਜ਼ ਵਿਚ ਸਾਡਾ ਧਿਆਨ ਹੁੰਦਾ ਹੈ, ਸਾਨੂੰ ਉਹ ਹੀ ਚੀਜ਼ ਦਿਖਾਈ ਦਿੰਦੀ ਹੈ। ਉਸ ਵਕ਼ਤ ਅਸੀਂ ਖੁਦ ਨੂੰ ਵੀ ਭੁੱਲ ਜਾਂਦੇ ਹਾਂ। ਮਤਲਬ ਕਿ ਜਦ ਅਸੀਂ ਹੋਸ਼ ਬਣ ਜਾਂਦੇ ਹਾਂ ਤਾਂ ਸਿਰਫ ਹੋਸ਼ ਹੀ ਹੁੰਦੇ ਹਾਂ, ਹੋਰ ਕੁਛ ਨਹੀਂ।  ਮਤਲਬ ਕਿ ਅਸੀਂ ਆਪਣੇ ਅਚੇਤਨ-ਰੂਪ ਵਿਚ  ਚੇਤਨ ਹੋ ਜਾਂਦੇ ਹਾਂ।  ਜੈਸੇ ਕਿ ਹੁਣ ਅਸੀਂ ਸੰਸਾਰ ਵਿਚ ਜੀ ਰਹੇ ਹਾਂ, ਇਹ ਅਸੀਂ ਚੇਤਨ-ਰੂਪ ਵਿਚ ਅਚੇਤਨ ਰੂਪ ਨੂੰ ਜੀ ਰਹੇ ਹਾਂ। ਜਿਵੇਂ ਕਿ :-
ਕੋਈ ਚੀਜ਼ ਸਾਨੂੰ ਬਹੁਤ ਹੀ ਸੋਹਣੀ ਦਿਖਾਈ ਦਿੰਦੀ ਹੈ ਤਾਂ  ਉਹ ਸਾਡੇ ਲਈ ਸਵਾਲ ਬਣੇਗੀ ਹੀ , ਅਸੀਂ ਉਸ ਨੂੰ ਦੇਖ ਕੇ ਖੁਸ਼ ਵੀ ਹੋਵਾਂਗੇ ਅਤੇ ਸ਼ਕ਼ ਵੀ ਕਰਾਂਗੇ। ਕਿਓਂ ?
ਠੀਕ ਇਸ ਤਰਾਂ ਹੀ: ਜਦ ਵੀ ਕੋਈ ਵਿਅਕਤੀ ਕ੍ਰੋਧ ਵਿਚ ਆ ਕੇ ਕੁਛ ਬੁਰਾ ਕਰ ਦਿੰਦਾ  ਹੈ ਤਾਂ ਜਦ ਹੋਸ਼ ਵਿਚ ਆਂਦਾ ਹੈ ਤੋਂ ਸਭ ਤੋਂ ਪਹਿਲਾ ਆਪਣੇ ਕੀਤੇ ਹੋਏ ਕਾਰਨਾਮੇ ਨੂੰ ਸਵਾਲ ਨਾਲ ਦੇਖਦਾ ਹੈ  ਕਿ, 'ਇਹ ਮੈਂ ਕਿੰਝ ਕਰ ਦਿੱਤਾ'
ਜੋ ਸਾਡੀ ਅੱਜ ਦੀ ਸਮਝ ਹੈ, ਜਿਸ ਸਮਝ ਦੇ ਨਾਲ ਅਸੀਂ ਜੀ ਰਹੇ ਹਾਂ; ਸਾਡੇ ਅੱਗੇ ਕੋਈ ਵੀ ਵਿਦਵਾਨ ਆਏ ਜਾਂ  ਕੋਈ ਵੀ ਹਿਟਲਰ ਵਰਗਾ ਵਿਅਕਤੀ ਆਏ, ਉਹ ਸਭ ਸਾਡੀ ਸਮਝ ਦੇ ਲਈ ਸਿਰਫ ਸਵਾਲ ਹੋਣਗੇ, ਸਵਾਲ ਤੋਂ ਇਲਾਵਾ ਹੋਰ ਕੁਛ ਵੀ ਨਹੀਂ। 

Understanding keeps a person young, not body or time / समझ ही व्यक्ति को जवान बना के रखती है, शरीर या वक़्त नहीं

When we look at life with understanding, 

it is only then that we know what life is? 

Understanding keeps a person young, not body or time

What is a young age?


Today, when the eyes opened in the morning, the first speech in me was that my childhood has been very big, so have I started getting young now. So I remembered that incident of my life, when I had an encounter with menstruation for the first time. How I told my mother that-

'Bibi, I feel that I have to die now'. Bibi was working in the kitchen. Bibi asked what happened. So now the word 'blood' had come out of my tongue that Bibi understood. Bibi understood, now I had this question working for 3-4 years, how did Bibi understand? I was a very naive and loving doll. Who only knew to flow in the shed of love. I did not know exactly what the intelligence  is. I did not know what is understanding, what is intelligence said. I loved everyone, that was me.

I had something in my experience at that time. As if I am changing now. My feeling was a different feeling, my mood was completely different. There was some quiet feeling in me, who wanted to tell me something, but I was not going to listen. In my childish thinking, in childish condition, at childish time, there was a deep question, which was trying to explain something to me.

But I had no understanding with any sense. So I used to run away from that ground, here I had to have an encounter wisely. Whether the ground was within me or in the world outside me. It was my toy to be in love and that was my nature.

When I had the words on my tongue this morning that

 'my childhood was very big',

 that silent moment, silent emotion, silent thinking, and quiet condition shook me. And I asked to get up from the bed and then lay down with my eyes closed.

I was just silent in my absence, even today, my connection was with that time of childhood. There was a silent journey in my silence, which started taking me from every part of the world, something was happening quietly there, due to which the spread of the universe was changing. . Like today there was a parade of silent within me, which became a common question and was going to introduce me to the special form of life.

 Common questions:

 My childhood has been very big.

 Am I getting young now?

Why is this incident of mine related to my that time?

 The question is in my brain, but I look at the question quietly.

In that silent time, in that silent thought, in that silent sense, in that silent condition, what was something special that was trying to explain something to me, but I had run away, now this question Was being taken quietly in that silence, which tells me that your childishness was very big, why?

Now is the time to enroll me in the youth dimension?

What is this young dimension?

This question will now deeply identify me on my own behalf. Because the question will arise there, life here has to be the answer.

I started studying for myself and I looked at the direction of my thinking today, looked at the condition and direction of the situation, saw and measured the speed of the sentiment, understood the flow of the current flowing and Recognized the speed


Today the heart did not run away from the field of understanding, today it stopped to understand understanding.

 My understanding is that -

Till then every person is still in childhood, when a person does not become happy, calm and free in life.

When a person starts walking with complete freedom only by becoming a life, then understand that now that person has started becoming young, who has learned to stand on his own feet.

Today my silent thought whispered in the pace of quiet time:

The last degree of deep awareness takes a person in silence, and when questions arise from the silence, those questions make life young. This last degree is called meditation, it is called consciousness. It is through this senses that the event in the world can be known only by the shedding of the endless energy of the universe.

 Like today I do not see that Mr. What Trump is doing, just looks at why he is doing it?

***---***

जब हम ज़िंदगी को समझ की नज़र से देखतें हैं 

तो ही पता चलता है कि ज़िंदगी है क्या ? 

समझ ही व्यक्ति को जवान बना के रखती है, शरीर या वक़्त नहीं 

जवान अवस्था क्या होती है ?

आज जब सुबह आँख खुली तो मेरे में सब से पहला वाक् यही था कि मेरा बचपन बहुत बड़ा  रहा है, तो क्या अब मैं जवान होने लगी हूँ।  तो मेरे को मेरे जीवन की वोह घटना याद आ गई, जब मैं पहली बार माहवारी के साथ एनकाउंटर किया था।  मैंने कैसे खुद की माँ को कहा कि-

'बीबी, मेरे को लगता है कि अब मेरी मौत हो जानी है '. बीबी रसोई घर में काम कर रही थी।  बीबी ने पुछा कि क्या हुआ  . तो अभी मेरी जुबां से 'खून' शब्द निकला ही था कि बीबी समझ गई।  बीबी समझ गई, अब मेरे में यह सवाल ३-४ साल काम कर रहा था कि बीबी कैसे समझ गई?  मैं बहुत ही भोली और प्यार करने वाली एक गुड़िआ थी। जो सिर्फ प्यार के बहा में ही बहना जानती थी।   अक्ल क्या होती है, मेरे को बिलकुल ही नहीं पता था। समझ क्या होती है, समझदारी किस को कहते हैं , मेरे को नहीं पता था।  मेरे को हर किसी का प्यार आता था, यही मैं थी। 

उस वक़्त के अनुभव में मेरे में कुछ था।  जैसे कि मैं अब बदल रही हूं।मेरी महसूसियत में कुछ अलग सी कोई भावना  थी, मेरा मूड बिलकुल अलग ही किस्म का था।  मेरे में कुछ चुप सी भावना थी, जो मेरे को कुछ कहना चाहती थी, पर मैं सुनने वाली है ही नहीं थी।   मेरी उस बचकानी सोच में, बचकानी हालत में, बचकाने वक़्त में, एक कोई गहरा सवाल था, जो मुझ को कुछ समझाने की कोशिश कर रहा था। 

पर मेरा समझदारी से कोई भी नाता नहीं था। सो मैं उस मैदान से भाग जाती थी, यहाँ पर मेरा एनकाउंटर समझदारी के साथ होना होता था।  वो मैदान चाहे मेरे भीतर था या मेरे बाहर के संसार में था। प्यार में रहना ही मेरी ख़िलौना था और यही मेरा स्वभाव था। 

जब आज सुबह मेरी ज़ुबान पर यह शब्द थे कि 'मेरा बचपन बहुत बड़ा था', तो वोही चुप सा  वक़्त, चुप सा  भाव, चुप सी सोच, और चुप सी हालत ने आ के मेरे को हिलाया।  और मैंने bed  से उठने की वजाये फिर आँखों को बंद कर के लेट गई। 

मेरे चुप वाजूद में सिर्फ चुप थी, चाहे आज मेरा कनेक्शन  बचपन के उस वक़्त के साथ जुड़ा हुआ था।  मेरी चुप में  चुपचाप ही एक यात्रा थी, जो मेरे को संसार की हर उस हिस्से  में से  ले जाने लगी, वहां पर कुछ न कुछ चुपचाप  घटित हो रहा था, जिस के कारण ब्रह्मण्ड के फैला में तब्दीली हो रही थी। । जैसे आज मेरे ही भीतर चुप की परेड हो रही थी, जो एक आम सा सवाल बन कर मेरे को  ज़िंदगी के ख़ास रूप से मिलवाने जा रही थी। 

 आम सा सवाल :

 मेरा बचपन बहुत बड़ा रहा है। 

 क्या अब मैंने जवान हो रही हूँ ?

मेरी आज की इस घटना का सम्बन्ध मेरे उस वक़्त के साथ क्यों है ?

 सवाल मेरे जेहन में है, पर मैं चुपचाप सवाल की ओर  ही देखती हूँ। 

उस चुप वक़्त में, उस चुप सोच में , उस चुप भाव में , उस चुप हालत में , वो चुप  सा क्या कुछ ख़ास था , जो मेरी को कुछ समझाने की कोशिश कर रहा था, पर मैं ही भाग गई थी, अब यह सवाल मेरे को चुपचाप ही उस चुप में ले के जा रहा था, जो मेरे को कहता है कि तेरा बचपना बहुत बड़ा था, क्यों ?

क्या अब वक़्त ने मेरे को जवान-आयाम में दाखिला देना है ? 

यह जवान आयाम है क्या ?

यह सवाल मेरे को अब मेरी ही ओर  गहराई से पहचान कर आएगी। क्योंकि सवाल वहां  पर पैदा होगा, यहाँ पर ज़िंदगी ने जवाब बन कर आगे बढ़ना होता है। 


मेरा खुद में खुद के लिए ही अध्ययन होना शुरू हो गया और मैंने आज की मेरी सोच की दिशा को देखा, हालत की दशा और दिशा को देखा, भाव की गति को देखा और मापा, आज के वक़्त की बहती धारा के बहा को समझा और रफ़्तार को पहचाना। 

आज समझ के मैदान से भागने को दिल ही नहीं किया, आज समझ को समझने के लिए रुक गई। 

 मेरी समझ ने यह समझा दिया कि -

तब  तक हर व्यक्ति बचपन में ही है, जब तीक व्यक्ति जीवन में खुश, शांत और सुखी नहीं हो जाता।

जब कोई भी व्यक्ति पूर्ण आज़ादी से सिर्फ जीवन बन कर ही चलने लगता है तो समझो कि अब वो व्यक्ति जवान होने लगा है, जो खुद के पैर पर खड़ा होना सीख गया। 

आज मेरी चुप सी सोच ने चुप वक़्त की रफ़्तार में यही फुसफुस्या कि- 

गहरी जागरूकता की जो अंतिम डिग्री होती है, वो व्यक्ति को चुप में ले जाती है, और चुप में से जब सवाल उठते हैं तो वो सवाल ही जीवन को जवान बना देतें हैं। इसी अंतिम डिग्री को  ध्यान कहते हैं, होश कहतें हैं। इसी होश के माध्यम से ही तमाम ब्रह्माण्ड  की अंतहीन ऊर्जा के बहा से ही संसार में होने वाली घटना को जाना जा सकता है।

 जैसे आज मेरी नज़र यह नहीं देखती कि 

Mr. Trump  कर क्या रहे हैं, सिर्फ यह देखती है कि क्यों कर रहें हैं ?   



Do you know what is the meditation of open eye? / खुली आँख की मैडिटेशन क्या है ?/ ਖੁੱਲ੍ਹੀ ਅੱਖ ਦਾ ਧਿਆਨ ਕੀ ਹੈ?

Concentration is required for every study of life.

 This concentration is called the process of meditation. 

This process also occurs with the open eye

Meditate with open eyes:



The art of understanding yourself through questions is called open eye meditation and open eye yoga, which makes life happy. Whenever I had to take any step forward, I would have to go into captivity. Question: There were no questions, which used to give me my information. Questions also become the cause of a person's identity; This life is so mysterious that we can see life with one question, and can understand life with one question. As soon as the question arises there is something to be done or something has happened here. The question arises that our life is active, trying to show us something or understand something. So the question is a sign of liveness. When we study ourselves from questions, this is called meditation of the open eye
---

जीवन के प्रत्येक अध्ययन के लिए एकाग्रता आवश्यक है।
इस एकाग्रता को ध्यान की प्रक्रिया कहा जाता है।
यह प्रक्रिया खुली आंख के साथ भी होती है

खुली आँखों से ध्यान करना :


सवालों के ज़रिये खुद को समझने की कला को खुली आँख का ध्यान और खुली आँख का योगा कहतें हैं, जो ज़िंदगी को खुशहाली देता है।
जब भी मैंने कभी भी कोई कदम आगे को उठाना तो, मेरे में सवालों की क़ैद में जाना पड़ता। सवाल: जो सवाल नहीं होते थे, जो मेरे को मेरी जानकारी ही देते थे। सवाल भी व्यक्ति की पहचान का कारण बन जातें हैं; यह जीवन इतना रहस्यमई है कि हम एक सवाल से जीवन को देख भी सकतें हैं, और एक सवाल से जीवन को समझ भी सकतें हैं। सवाल उठता ही वहां पर है, यहाँ पर कुछ होना हो या कुछ हुआ हो। सवाल का उठना इस बात का सबूत है कि हमारा जीवन क्रियाशील है, जो हम को कुछ दिखाने की या कुछ समझने की चेष्टा कर रहा है। सो सवाल ज़िन्देपन की निशानी है।
---

ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਦੀ ਹਰ ਪੜ੍ਹਾਈ ਲਈ ਇਕਾਗਰਤਾ ਦੀ ਹੀ ਜ਼ਰੂਰਤ ਹੈ। 
ਇਸ ਇਕਾਗਰਤਾ ਨੂੰ ਹੀ ਧਿਆਨ ਦੀ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਕਹਿੰਦੇ ਨੇ। 
ਇਸ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ  ਖੁੱਲ੍ਹੀ ਅੱਖ ਨਾਲ ਵੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ।
ਖੁੱਲ੍ਹੀ ਅੱਖ ਦਾ ਧਿਆਨ :

ਵਿਚਾਰਸ਼ੀਲ ਹੋਣਾ ਅਤੇ ਸਵਾਲਾਂ ਦੇ ਰਾਹੀਂ ਖੁਦ ਨੂੰ ਸਮਝਣ ਦੀ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਨੂੰ ਖੁਲੀ ਅੱਖ ਦਾ ਧਿਆਨ ਕਹਿੰਦੇ ਨੇ ਅਤੇ ਇਹ ਹੀ ਖੁਲੀ ਅੱਖ ਦਾ ਯੋਗਾ ਹੈ , ਜੋ ਜੀਵਨ ਨੂੰ ਸੋਹਣੀ ਕਲਾ ਨਾਲ ਸ਼ਿੰਗਾਰ ਦਿੰਦਾ ਹੈ। ਮੈਂ ਜਦ ਵੀ ਜੀਵਨ ਵਿਚ ਕੋਈ ਵੀ ਅੱਗੇ ਵੱਧਣ ਲਈ ਕਦਮ ਪੁੱਟਦੀ ਤਾਂ ਸਭ ਤੋਂ ਪਹਿਲਾ ਮੈਨੂੰ ਸਵਾਲਾਂ ਦੀ ਹੱਥਕੜੀ ਲਗਦੀ ਸੀ। ਸਵਾਲ: ਸਵਾਲ ਸਦਾ ਸਵਾਲ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦੇ, ਇਹ ਸਾਨੂੰ ਸਾਡੀ ਜਾਣਕਾਰੀ ਦਿੰਦੇ ਨੇ। ਗੌਰ ਨਾਲ ਦੇਖਾਂਗੇ ਤਾਂ ਸਵਾਲ ਤੋਂ ਹੀ ਵਿਅਕਤੀ ਦੀ ਪਹਿਚਾਣ ਆ ਜਾਏਗੀ। ਜੀਵਨ ਦੀ ਹਰ ਚੀਜ਼ ਭੇਦਭਰੀ ਹੈ। ਸਾਡਾ ਇੱਕ ਸਵਾਲ ਸਾਨੂੰ ਜੀਵਨ ਵੀ ਦਿਖਾ ਦੇਵੇਗਾ ਅਤੇ ਜੀਵਨ ਦੀ ਸਮਝ ਵੀ ਦੇ ਦੇਵੇਗਾ। ਕਿਓਂਕਿ ਸਵਾਲ ਪੈਦਾ ਹੀ ਉਥੇ ਹੁੰਦਾ ਹੈ , ਜਿਥੇ ਕੁਝ ਹੋਣਾ ਹੋਵੇ ਜਾਂ ਕੁਛ ਹੋਇਆ ਹੋਵੇ। ਸਵਾਲ ਦਾ ਪੈਦਾ ਹੋਣਾ ਇਸ ਗੱਲ ਦਾ ਸਬੂਤ ਵੀ ਹੈ ਕਿ ਜਿਥੇ ਸਵਾਲ ਦਾ ਜਨਮ ਹੋਇਆ ਹੈ, ਉਹ ਜੀਵਨ ਕ੍ਰਿਆਸ਼ੀਲ ਹੈ, ਜਿਸ ਨੂੰ ਅੱਗੇ ਜਾਣ ਲਈ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਕੁਛ ਸਮਝਾ ਰਹੀ ਹੈ। ਸੋ ਸਵਾਲ ਜਿੰਦੇਪਨ ਦੀ ਨਿਸ਼ਾਨੀ ਹੈ ਅਤੇ ਸਾਨੂੰ ਸਾਡੀ ਹੀ ਪਹਿਚਾਣ ਕਰਵਾਣ ਦੀ ਸੋਹਣਾ ਅਤੇ ਕੁਦਰਤੀ ਵਸੀਲਾ ਹੈ। ਇਸ ਨੂੰ ਹੀ ਖੁਲੀ ਅੱਖ ਦਾ ਧਿਆਨ ਕਿਹਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ

The nature of life is very unique / ज़िंदगी का स्वभाव बहुत ही अनूठा है / ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਦਾ ਸੁਭਾਅ ਬਹੁਤ ਹੀ ਨਿਰਾਲਾ ਹੈ

The sense of life is very unique,

 which changes itself according to the understanding of the person.



Ever since I have come to understand a little bit of me, I have seen that I love my inner quiet. When I connect with this quiet, then a movement arises from this quiet, that movement is 'love'. Friends, this is my address, which I want to give to all of you, that whenever you feel very tired, you should seek me in this silence, because I am 'peace'. And this silence is my home and Love is my only Karma.

---

My feeling is that I should take away all's grief, pain, worry and tension from every living being. Because of this I started a business. But I can do this business only with those people who are really looking for a happy and comfort life. Those who can sacrifice themselves for this happiness, this bravery is the only price, and my job is to give love and silence.

---

The first time my deep sadness was bought by an unknown person, and the price took a smile from me, I learned from that incident how a little but deep belongingness filled my sadness with a smile. In the same way, when nature became a friend and supported my deep silence, the infinite qualities of nature had eradicated my anxiety and suffering. Then I realized that the beauty of life is very deep and vast, which takes all our stress in its beauty.

---

Whenever I see anything, I have always seen it. And seeing me like this takes me to another dimension. Because, I always felt that whenever someone used to comment to me, my feeling or my thinking remains the same, never did anyone's comment touch that part. I noticed that whenever a person gives a comment to anyone, there is always adulteration in that comment, because the person sees the beauty outside. Since then I understood that if I had to identify someone correctly and see right, then only my one eye would work more than everyone, that was my eye, 'Khuda. From then on, when I started looking at life as a god, I saw that the huge form of life started coming towards me on its own and gave its rightful identity.


***---***

जीवन की प्रकृति बहुत अनूठी है, 

जो व्यक्ति की समझ के अनुसार खुद को प्रकट करती है



जब से मेरे को मेरी थोड़ी सी समझ आने लगी है तो मैने यही देखा कि मेरा खुद के भीतर की चुप से बहुत प्यार  है।  जब मैं इस चुप के साथ जुड़ जाती हूँ तो इस चुप में से एक गति पैदा होती है, वो गति है 'प्यार' . दोस्तों ,यही मेरा पता है, जो मैं आप सब को देना चाहती हूँ, की जब आप कभी खुद को बहुत थक्का महसूस करो तो आप मेरी तलाश इस चुप में करना, क्योंकि मैं हूँ,' शान्ति ' . और यह चुप ही मेरा घर है और कर्मा सिर्फ मेरी यह गति ही है।  

---

मेरी भावना यह है कि मैं हर जीव से उस के दुःख, दर्द, फ़िक्र और तनाव छीन लूं। इस के कारण मैंने एक काम शुरू किया। पर मैं यह काम उन लोगों के साथ ही कर सकती हूँ, जो असलियत में ही सुखी और ख़ुशी जीवन की तलाश में हैं। जो इस ख़ुशी के लिए खुद को भी क़ुर्बान कर सकतें हैं।यह बहादरी ही सिर्फ कीमत है, और मेरा काम है प्यार और चुप देना। 

---

पहली बार जब मेरी गहरी उदासी को एक अनजान व्यक्ति ने खरीदा था, और मेरे से कीमत एक मुस्कान ली थी, उस घटना से मैंने यह जान लिया कि एक  छोटे से पर गहरे अपनेपन ने कैसे मेरी उदासी को मुस्कान की रंगत से भर दिया था।  ऐसे ही जब मेरी गहरी चुप का साथी कुदरत बनी तो कुदरत के अनंत गुणों ने, मेरे फ़िक्र और  तकलीफों को मिटा दिया था। तब मैंने यह जाना कि ज़िंदगी की सुंदरता बहुत गहरी और विशाल है , जो हमारे सब तनाव को अपनी सुंदरता में समो लेती है। 

---

जब भी कुछ भी देखती हूँ तो मैंने सदा उस को ही देखा है। और मेरा ऐसे देखना, मुझ को एक ओर आयाम में ले जाता है। क्योंकि, मैंने सदा अनुभव किया था कि जब भी कोई व्यक्ति मेरे को कभी टिप्पणी देता था तो मेरी भावना या मेरी सोच, वैसी ही कुमारी रह जाती है, कभी किसी की टिप्पणी ने उस हिस्से को छुहा  भी नहीं था। मैंने देखा कि व्यक्ति जब भी किसी को भी टिप्पणी ही देता है तो उस टिप्पणी में सदा मिलावट ही होती है, क्योंकि व्यक्ति बाहर की सुंदरता को सब से पहले देखता है। तब से मैंने समझ लिए कि अगर मैंने किसी की सही पहचान करनी है और सही देखना है तो सिर्फ मेरी एक ही आँख सब से ज़्यादा काम करेगी, वो मेरी आँख थी, 'खुदा। तब से ,  जब मैंने ज़िंदगी को खुदा मान कर देखना शुरू किया तो मैंने देखा कि ज़िंदगी का विशाल रूप मेरी ओर  खुद-ब -खुद ही आने लगा और अपनी सही पहचान देने लगा 

***---***

ਜੀਵਨ ਦਾ ਸੁਭਾਅ ਵਿਲੱਖਣਤਾ ਭਰਪੂਰ ਹੈ, 

ਜੋ ਵਿਅਕਤੀ ਦੀ ਸਮਝ ਦੇ ਅਨੁਸਾਰ ਹੀ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨੂੰ ਪ੍ਰਗਟ ਕਰਦਾ ਹੈ



ਜਦ ਤੋਂ ਮੈਨੂੰ  ਜੀਵਨ ਦੀ ਥੋੜੀ ਜਿਹੀ ਸਮਝ ਆਉਣ  ਲਗੀ ਤਾਂ ਮੈਂ ਸਮਝ ਗਈ ਕਿ ਮੈਨੂੰ ਮੇਰੀ ਅੰਦਰਲੀ ਚੁੱਪ ਨਾਲ ਬਹੁਤ ਪਿਆਰ ਹੈ।  ਜਦ ਮੈਂ ਇਸ ਚੁੱਪ ਦੇ ਨਾਲ ਜੁੜ ਜਾਂਦੀ ਹਾਂ ਤਾਂ ਇਸ ਚੁੱਪ ਵਿਚ ਗਤੀ ਹੋਣੀ ਸ਼ੁਰੂ ਹੋ ਜਾਂਦੀ ਹੈ। ਇਸ ਗਤੀ ਨੂੰ ਅਸੀਂ ਪਿਆਰ ਕਹਿੰਦੇ ਹਾਂ। ਮਿਤਰੋ, ਇਹੀ ਮੇਰਾ ਪਤਾ ਹੈ।  ਜਦ ਭੀ ਆਪ ਥਕੇਵਾਂ ਮਹਿਸੂਸ ਕਰੋ ਤਾਂ ਆਪ ਮੇਰੀ ਤਲਾਸ਼ ਇਸ ਚੁੱਪ ਮੈ ਜ਼ਰੂਰ ਕਰ ਲੈਣਾ, ਕਿਓਂਕਿ ਮੈਂ 'ਸ਼ਾਂਤੀ' ਹੂੰ।  ਇਹ ਚੁੱਪ ਹੀ ਮੇਰਾ ਘਰ ਹੈ ਅਤੇ ਇਹ ਪਿਆਰ ਹੀ ਮੇਰਾ ਕਰਮ ਹੈ।

---

ਮੇਰੀ ਹਰ ਜੀਵ ਲਈ ਹੀ ਭਾਵਨਾ ਸੀ ਕਿ ਸਭ ਦੇ ਦੁੱਖ, ਦਰਦ, ਫਿਕਰ ਅਤੇ ਤਣਾਅ  ਛੀਣ ਲੂੰ।  ਸੋ ਮੈਂ ਆਪਣਾ ਇਹ ਕੰਮ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਹੈ। ਮੇਰਾ ਇਹ ਧੰਦਾ ਉਹਨਾਂ ਲੋਕਾਂ  ਨਾਲ ਹੀ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਜੋ  ਸੱਚ ਵਿਚ ਹੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਨੂੰ ਸੁਖ ਨਾਲ ਜੀਣਾ ਚਹੁੰਦੇ ਨੇ।  ਅਤੇ ਜੀਵਨ ਨੂੰ ਸੁਖੀ ਕਾਰਨ ਲਈ ਖੁਦ ਨੂੰ ਭੀ ਕੁਰਬਾਨ ਕਰ ਸਕਦੇ ਨੇ। ਇਹ ਬਹਾਦਰੀ ਹੀ ਸਿਰਫ ਕੀਮਤ ਹੈ ਅਤੇ ਮੇਰਾ ਬਿਜ਼ਨਿਸ਼ ਚੁੱਪ ਦਾ ਅਤੇ ਪਿਆਰ ਦਾ ਹੈ  

---

ਜਦ ਪਹਿਲੀ ਵਾਰ ਇੱਕ ਅਣਜਾਣ ਵਿਅਕਤੀ ਨੇ ਮੇਰੀ ਗਹਿਰੀ ਉਦਾਸੀ ਨੂੰ ਖਰੀਦਿਆ ਸੀ ਅਤੇ ਮੇਰੇ ਤੋਂ ਕੀਮਤ ਇੱਕ ਮੁਸਕਾਨ ਹੀ ਲਈ ਸੀ।  ਉਸ ਘਟਨਾ ਤੋਂ ਮੈਂ ਸਮਝ ਗਈ ਸੀ ਕਿ ਕਿੰਝ ਮੇਰੀ ਗਹਿਰੀ ਉਦਾਸੀ ਨੂੰ ਇੱਕ ਆਪਣੇਪਣ ਦੀ ਰੰਗਤ ਨੇ ਮੁਸਕਾਨੀ-ਰੰਗਤ ਵਿਚ ਰੰਗ ਦਿੱਤਾ। ਇਸ ਤਰ੍ਹਾਂ ਹੀ ਜਦ ਮੇਰੀ ਗਹਿਰੀ ਚੁੱਪ ਦਾ  ਸਾਥੀ ਕੁਦਰਤ ਬਣ ਗਈ ਤਾਂ ਕੁਦਰਤ ਨੇ ਆਪਣੇ ਅੰਨਤ ਗੁਣਾਂ  ਨਾਲ , ਮੇਰੀਆਂ ਮੁਸ਼ਕਲਾਂ  ਨੂੰ ਹਲ ਕਰ ਦਿੱਤਾ।  ਇਹਨਾਂ ਘਟਨਾਵਾਂ ਨੇ ਮੈਨੂੰ ਹੀ ਸਮਝ ਦਿੱਤੀ ਕਿ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਦੀ ਸੁੰਦਰਤਾ ਇਹਨੀ  ਗਹਿਰੀ ਅਤੇ ਵਿਸ਼ਾਲ ਹੈ ਕਿ ਇਹ ਵਿਅਕਤੀ ਦੇ ਸਭ ਦਰਦਾਂ ਨੂੰ ਖੁਦ ਵਿਚ ਸਮੋ ਲੈਂਦੀ ਹੈ। 

---

ਜਦ ਮੈਂ ਕੁਛ ਭੀ ਦੇਖਦੀ ਹਾਂ  ਤਾਂ ਮੈਂ ਸਦਾ ਉਸ ਨੂੰ ਹੀ ਦੇਖਦੀ ਹਾਂ।  ਮੇਰਾ ਇਸ ਤਰ੍ਹਾਂ ਦੇਖਣਾ, ਮੈਨੂੰ ਹੋਰ ਆਯਾਮ ਵਿਚ ਲੈ ਜਾਂਦਾ ਹੈ।  ਕਿਓਂਕਿ ਮੈਂ ਸਦਾ ਅਨੁਭਵ ਕੀਤਾ ਸੀ ਕਿ ਜਦ ਭੀ ਕੋਈ ਵਿਅਕਤੀ ਮੈਨੂੰ ਟਿੱਪਣੀ ਦਿੰਦਾ ਸੀ  ਤਾਂ ਸਦਾ ਹੀ ਮੇਰੀ ਸੋਚ ਅਤੇ ਮੇਰੀ ਭਾਵਨਾ ਕਵਾਰੀ ਰਹਿ ਜਾਂਦੀ ਸੀ।  ਕਿਸੀ ਦੀ ਭੀ ਟਿੱਪਣੀ ਕਦੇ ਮੇਰੇ ਮਨ ਨੂੰ ਅਤੇ ਮੇਰੇ ਦਿਲ ਨੂੰ ਛੋਹ ਨਹੀਂ ਸੀ ਪਾਉਂਦੀ। ਮੈਨੂੰ ਪਤਾ ਲਗ ਗਿਆ ਕਿ ਵਿਅਕਤੀ ਜਦ ਭੀ ਟਿੱਪਣੀ ਦਿੰਦਾ ਹੈ ਤਾਂ, ਉਸ ਵਿਚ ਸਦਾ ਹੀ ਮਿਲਾਵਟ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਕਿਓਂਕਿ ਵਿਅਕਤੀ ਸਦਾ ਹੀ ਬਾਹਰਲੀ ਸੁੰਦਰਤਾ ਨੂੰ ਭੀ ਦੇਖਣ ਦਾ ਆਦੀ ਹੈ। ਤਦ ਮੈਂ ਸਮਝ ਗਈ ਕਈ ਅਗਰ ਕਿਸੇ ਦੀ ਸਹੀ ਪਹਿਚਾਣ ਕਰਨੀ ਹੈ ਜਾਂ  ਸਹੀ ਦੇਖਣਾ ਹੈ  ਤਾਂ  ਇੱਕ ਹੀ ਅੱਖ ਕੰਮ ਕਰੇਗੀ।  ਉਹ ਅੱਖ ਹੈ ਰੱਬ। ਤਦ ਤੋਂ , ਜਦ ਮੈਂ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਨੂੰ ਰੱਬ  ਮੰਨ  ਕੇ ਦੇਖਣਾ ਸ਼ੁਰੂ ਕੀਤਾ ਤਾਂ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਨੇ ਖੁਦ ਹੀ ਆਪਣੇ ਆਪ ਕਾ ਵਿਸ਼ਾਲ ਰੂਪ ਅਤੇ ਸਹੀ ਰੂਪ ਦਿਖਾਨਾ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰ ਦਿੱਤਾ।  


The way of speech

The way of speech
This is what I learned and understood from life and also learned that every human being needs one thing very much, that is education. Education is not that one should have a degree, education should be one with which a person can understand life. What does it mean to know? What is understanding? What is recognized? And what to believe? When we understand these four questions, then the art of living comes in us. This art is such that life gets embodied in the veneer of health. Because we start seeing life so deeply that diseases are far away and we live life at the highest level. I will share these four questions with all of you from different direction and from different condition.

Thanks you came here

Thanks you came here
The best cure of the body is a quite mind:. Powered by Blogger.