AELOLIVE
latest

Let's make life a pilgrimage together!

Let's make life a pilgrimage together!
Following the trail of colorful emotions and beautiful divine relationships. Now life Blossoms, beginning to love because it is a vibrant land of love and a beautiful feelings to wander across the heart during the journey of awakening. But here are some of the most stunning moments to witness life in full bloom with divine relationship and divine action like spring...And now thoughts are in bloom

Hello World

Hello World
Following the trail of colorful emotions and beautiful divine relationships. Now life Blossoms, beginning to love because it is a vibrant land of love and a beautiful feelings to wander across the heart during the journey of awakening. But here are some of the most stunning moments to witness life in full bloom with divine relationship and divine action like spring...And now thoughts are in bloom

Slider

latest

blissful spring

blissful spring

Please look at me ! thanks

Please look at me ! thanks
bless you

Namastey, Good Morning, Assalamu Alaykum or Sat Sri Akaal

Namastey, Good Morning, Assalamu Alaykum or Sat Sri Akaal
Always Love

Adorable living

Adorable living/block-1

In today's time

In today's time/block-4

A Cosmic pause

A Cosmic pause/block-4

Beauty of Beauty

Beauty of Beauty/block-1

Beautiful death

Beauty of death/block-1

Beauty of Silence

Beauty of Silence/block-4

nature is spiritual

nature is spiritual/block-1

Beauty of Silence

Beauty of Silence/block-4

Beauty of Relationship

Beauty of Relationship/block-4

In one moment, I touched my entirety

In one moment, I touched my entirety
Science is Fact, Religion is Faith, Magic is Perception... Know these boundaries to discover WHAT LIES BEYOND

Latest Articles

My color is love (painting day )

When Monika made Buddha with colors in an hour,
 I wondered how everyone plays with colors,
 so what color is mine and what color can I play with?
 My color is love
 I can play with love
If there is white then it presents the soul
If it is red then it becomes a lover
If green it makes us happy
If there is orange then it becomes a vairaag ( renunciation)
If yellow is friendship
It is blue then it becomes vast
If  purple, you become a wisdom
If pink then becomes divine
I feel that now my love has to be like this, the painting of this color?
Whatever color it is, I have to paint life, not paper with these.
Work is not raw, now we do it for sure.
Whatever be the day of life, any moment, any step; just becomes a circumambulation for me and if the revolution is completed, it becomes my pilgrimage.
Hajj comes after a year for a Muslim, every moment of mine became Hajj for me, because my mind has fallen in love with Hazrat Muhammad, giving my life a deeper color of Hajj.
For Hindus: Everyday there are many goddesses on their day, how will I keep celebrating on whose day? When my heart started beating at the beat of Krishna's flute, I felt the color of Raasleela.
 And how should I go and to which gurughar (Sikh temple), when the color of the simplicity of Baba Nanak has increased in every particle of my body today?
When I have not forgotten Jesus, how can I apply the color of the cross, when the cross color is imprinted on my every emotion.
 Every moment is mine every day - in which universe is a painting. One who dyes itself with new and fresh colors everyday and every moment then wants to make the world healthy by becoming the fragrance of blessings.
Not raw colors, I have to paint my life with that color, on which even the color of death is erased. Death should also become such a color, which merges into the eternal form of life.
All of our emotions are hidden in these colors. Or say that we like color according to our feeling - I have to decorate my feeling with soul-color, and I have to make my life a painting that makes the world beautiful.


***—***


 मोनिका ने बुद्धा को रंगों के साथ जब एक घंटे में ही बना दिया, 
तो मेरे में सोच आई कि हर कोई कैसे रंगों के साथ खेलता है, 
तो मेरा रंग कौन सा है और मैं किस रंग के साथ खेल सकती हूँ?
 मेरा रंग प्यार है।
 मैं प्यार के रंग से खेल सकती हूँ 
अगर सफ़ेदगी है तो आत्मा को पेश करता है 
अगर लाल है तो लवर बन जाता है 
अगर हरा है तो ख़ुशी बन जाता है 
अगर सन्तरी है तो वैराग बन जाता है 
अगर पीला है तो दोस्ती बन जाता है 
नीला है तो विराट बन जाता है 
जामनी है तो विजडम बन जाता है 
गुलाबी है तो divine  बन जाता है 
मैं अनुभव करती हूँ कि अब मेरे प्यार ने ऐसे, इस रंग की मूरत बनना है ?
यह जो रंग है न, मैंने इन से पेपर नहीं, ज़िंदगी को रंगना है। 
काम कच्चा नहीं, अब पक्का ही करते हैं। 
ज़िंदगी का कोई भी दिन हो , कोई भी पल हो , कोई भी कदम हो ;बस मेरे लिए परिकर्मा बन जाता है और परिकर्मा पूरी हुई तो मेरा तीर्थ बन जाता है। 
मुस्लिम के लिए हज साल बाद आता है, मेरे लिए मेरा हर पल ही हज बन गया, क्योंकि मेरे मन ने हज़रत मुहम्मद से प्यार कर लिया है, जिस से मेरी ज़िंदगी को हज का गहरा रंग लग गया। 
हिन्दू के लिए:  हर रोज़ ही बहुत देवी देवतों के दिन आतें हैं , मैं हर रोज़ कैसे किस किस के दिन मनाती रहूंगी ?  जब मेरे दिल ने ही कृष्णा की बंसरी की ताल पर धड़कना शुरू कर दिया, तो मेरे पर रासलीला का रंग लग गया।  
 और मैं कैसे जाऊँ और किस किस गुरु घर में जाऊँ, जब आज मेरे जिस्म के कण कण में बाबा नानक की सादगी का रंग चढ़ गया है। 
जब मैं जीसस को भूल ही नहीं पाई तो कैसे क्रॉस का रंग लगा सकती हूँ कि जब कि मेरी हर भावना पर ही क्रॉस रंग चढ़ा हुआ है। 
 हर पल मेरा हर दिन ही है -जिस में ब्रह्मण्ड ही एक मूरत है।  जो हर रोज़ खुद को नए और ताज़े रंग से रंगता है, फिर दुआ की खशबू बन कर संसार को तंदरुस्त बनाना चाहता है।  
कच्चे रंग नहीं , मैंने अपने जीवन को उस रंग से रंगना है, जिस पर मौत का रंग भी मिट जाए।  मौत भी ऐसा रंग बन जाए, जो जीवन के शाश्वत-रूप में मिल जाए। 
इन सब रंगों में हमारी सब की भावना  ही छुपी होती है। या ऐसे कहो कि हमारी भावना के अनुसार ही हम को रंग पसनद आतें हैं  - मैंने अपनी भावना को रबी-रंग से सजाना है, और मैंने अपनी ज़िंदगी को ऐसी पेंटिंग बनाना है, जिस से संसार सूंदर हो जाए। 

Have we ever listened to anyone? Question 4

Today the next question:
Have we ever listened to anyone?
The saga of life is hidden in the simple question of life, 
not that only religious books describe life.
 Spirituality is hidden in everything in the universe.
 When we come to see that art, 
then we know how stupid we were. Our life is a religious book.
 Our daily living completes this religious book. 
The day we started studying ourselves,
 we will know that every Puran - Quran - Bible is hidden in us all. 
We will start keeping our lives clean.
 Today, as we take care of our religious place, we will clean our own life
Today,
 I see that even deep wonderful parts of the universe
 make me aware of their secrets.
 What do they need, how will I use them, why will I use them, 
or just life gives you information about yourself.
 I do not know anything, I just know
 that today my life has entered even deeper dimensions. 
I am looking at a very beautiful life.
 A scream comes out of the soul to tell everyone
 how much life is beautiful and unique.
When life is understood, time is also recognized.
Today's time, which belongs to all of us, it is taking us to which side, 
when it comes to understanding, then there is a unique feeling of happiness,
 not any fear or slavery.
If I understand this understanding,
 I think about you, have I ever heard anyone talk?
 My answer will be no.
 While I am very good at supporting.
 There are 2 meanings of listening here.
 First - to listen to someone. 
Secondly, to listen to someone, they are also asked to accept the matter.
 What is listening?
Listening is that which is 100% understood in us.
Like I told you let's go!
We 4 people sit together and I said let's go!
One woke up walking to his house
The second asked where to go?
The third said let's go
These three people told us what they understand
To whom do you listen?
What is right listening?
 All of us have always seen that there is often a quarrel in our homes
 when someone says that;
Didn't I say that?
 Didn't you listen
 That I spoke French that you did not understand?
Why didn't you listen well when I spoke?
 Do you not even understand my point now?
 Our quarrels get too much from this, because we do not know how to listen properly.
Listening is the one in which the issue is seen first of all, on which issue we were talking. Second ; Whatever the issue was, we were just listeners or we were partners.
It is only two steps and the third is ours, which we are going to hear. 
What I said is, let's go. Now check these two words, 
the questions of three people and see what is your final answer.
You will be surprised that the answer you got was right, that answer will be wrong.
 When there is so much power in addressing two words, 
we can only imagine how much of a child we are. 
If we come to think of everything deep, then?
These three answers are both wrong and right, so how shall we aim at the right?
When heard right. It is very important to listen correctly. We can distinguish between the people of the house and the neighborhood, but when there is a fight with the people of the house itself? The root cause of 70% of the fight is that we do not know how to listen. Like: We have to keep an eye on two questions to listen, in the same way, at the time of all the conversation, we have not let our mind speak.
 Nobody speaks more than the mind. 
When we hear any conversation in a quiet environment,
 a very unique incident has happened here.
As we go on listening to the conversation, a mysterious incident will start to happen even more. As soon as we started meditating and listening to the conversation, 
we would not even know when and how we got out of mental dimension.
You know that the silent dimension which is the dimension of consciousness.
 We are all spiritual beings, so just have to be conscious of each of our roles.
 We are all religions.
Think that I told someone that please keep eating food for me, otherwise how will I live?
 See I don't die, just eat the food. Now you all say that this
What kind of example is given - this example did not match anything.
If you got this reaction, then this question is of the mind.
If you came across this example, but I do not understand that I did not understand, why not - why did I not like it? This question is of wisdom. Now you start thinking.
I know how this example is - but that's right here.
Just like any person who lives at the spiritual level - this is also the case for that, when someone says how to hear right. Just as we have got teeth and tongue to eat food, similarly we all have ears, eyes, etc., but we are all lazy.
My thinking is that the person who has not yet figured out - one is the most lazy. Leave aside the matter of consciousness. This person has not even used his own mind. This person will use the mind of another.
Now let us go to our question. 
We enrolled in consciousness-form without chanting, yoga meditation. 
Now all of you must have understood the key?
Listen to the conversation carefully. When I meditated, my mind became absorbed. 
Quiet level has come. Quiet level means spiritual level.
 Now our partner is our consciousness, not the mind.
We became witnesses.
 Of which?
We are now witnesses of conversation and consciousness.
 Now even a big miracle will happen.
 When I told you, let's go! When you have to answer, you will feel that I had not said this conversation - you had said it, and now you know what should happen and what will happen next! You will also feel that you had a vision - then you will also feel that it is deja vu. 
You will feel a supernatural power flowing in you.
Listening right is when we hear that its next step in us and the result is clear. You must have heard that the last step is known in the first step itself. This is what it is.
Right thinking, right listening, right step, right speaking starts from here, when we come to hear right.


आज अगला सवाल:
क्या कभी हम ने किसी की बात सुनी है ?
ज़िंदगी के साधारण से सवाल में ज़िंदगी की गाथा छुपी होती है, ऐसे नहीं कि सिर्फ धार्मिक किताबें ही ज़िंदगी को ब्यान करती हैं। ब्रह्मण्ड की हर चीज़ में अधियात्मिक्ता ही छुपी हुई है।  जब हम को वो देखने की कला आ जाती है, तब हम को पता चलता है कि हम कितने मुर्ख थे।
 हमारा जीवन ही एक धार्मिक किताब है। हमारा हर रोज़ का जीना इस धार्मिक किताब को सम्पूर्ण करता है।  जिस दिन हम ने खुद को ही पढ़ना शुरू किया तो पता चलेगा कि हर पुराण- क़ुरान- बाइबिल  सब हमारे में ही छुपा हुआ है।  हम आपने ही जीवन को साफ़ -सुथरा रखना शुरू कर देंगे। आज जैसे हम अपनी धार्मिक जगह की संभाल करतें हैं , वैसे ही हम खुद के जीने को साफ़ करेंगे
मैं आज देखती हूँ कि ,
 मेरे को ब्रह्माण्ड के ओर भी गहरे अद्भुत हिस्से अपने राज़ से वाकिफ करवातें हैं। 
 उन की क्या ज़रुरत है, मैं उन को कैसे इस्तेमाल करूंगी, क्यों करूंगी, 
या सिर्फ जीवन आपने आप की जानकारी ही देता है।
  मैं कुछ नहीं जानती, बस यह जानती हूँ कि आज मेरा जीना ओर भी गहरे डायमेंशन में प्रवेश कर गया।
  बहुत ही खूबसूरत जीवन को देख रही हूँ।  रूह में से चीक भी निकलती है 
कि चीक चीक के सब को बता दूँ कि जीवन कितना सूंदर और अनूठा है।
जब जीवन का समझ आती है तो वक़्त की भी पहचान आ जाती है। 
आज का वक़्त, जो हम सब का है , यह हम को किस ओर ले के जा रहा है, 
इस की समझ जब आती है तो एक अनोखी ख़ुशी का अहसास ही होता है,
 किसी डर या गुलामी का नहीं।
अगर इस समझ को समझ कर मैं आपने आप के बारे में सोचूँ कि क्या मैंने कभी किसी की कोई बात सुनी है ? मेरा जवाब नहीं में ही होगा।  जब कि मैं साथ देने में बहुत ही अच्छी हूँ। 
 यहाँ पर बात सुनने के २ मतलब हैं।  पहला - किसी की बात को सुनना।
  दूसरा -किसी को बात को सुनना, इस लिए भी कहतें हैं कि बात को मान लेना।
 सुनना क्या होता है?
सुनना वो होता है जिस की १००% समझ हम में आ जाए।
जैसे कि मैंने आप से कहा कि चलो चलते हैं !
हम ४ लोग साथ बैठें हैं और मैंने कहा कि चलो चलते हैं !
एक उठा अपने घर को चल पड़ा
दूसरा ने पूछा कि कहाँ चलना है ?
तीसरे ने कहा कि चलो चलिए
इन तीन लोगो ने हम को यह बता दिया कि उन की समझ क्या है
सुनना किस को कहतें हैं ?
सही सुनना क्या होता है ?
 हम सब ने सदा देखा है कि हम सब के घरबार में अक्सर झगड़ा इस बात पर ज़ियादा होता है
 कि जब कोई यह कहता है कि ;
मैंने तो यह कहा ही नहीं था ?
 क्या आप ने सुना नहीं था ?
 कि मैंने कोई फ्रेंच  बोली थी कि आप को समझ नहीं आई ?
जब मैंने बोलै था तो आप ने  अच्छी तरह सुना क्यों नहीं था ?
 क्या अब मेरी बात की भी समझ नहीं आती ?
 हमारे झगडे इस बात से बहुत ज़्यादा होतें हैं , क्योंकि हम को सही सुनना नहीं आता।
सुनना वो होता है , जिस में सब से पहले मुद्दा देखा जाता है कि हम किस मुद्दे  पर बात कर रहे थे।
 दूसरा ; जो भी मुद्दा था, हम सिर्फ सुनने वाले थे या हम भी हिस्सेदार थे।  
यह सिर्फ दो कदम  और तीसरा  हमारा होता है , जो हम सुनने वाले होतें हैं।  मैंने जो यह कहा कि चलो चलते हैं।  इस दो लफ़्ज़ों को अब आप तीन लोगों के सवालों को परखो और देखो कि आप का फाइनल जवाब क्या होता है ?
आप हैरान हो जाओगे कि आप को जो जवाब सही लगा ,वोही जवाब गलत लगेगा।  जब  दो लफ़्ज़ों के सम्बोधन में इतनी ताकत है तो हम सोच ही सकतें हैं कि हम कितनी बाल-बुद्धि के जीव हैं।
अगर हम को हर चीज़ को गहरे तक विचारना आ जाए, तो
यह तीनों जवाब गलत भी हैं और सही भी हैं , तो हम बिलकुल सही पर कैसे निशाना लगाएंगे ?
जब सही सुना होगा। सही सुनना बहुत ज़रूरी है। हम घर के और पड़ोस के लोगों में फ़र्क़ कर सकतें हैं , पर जब घर के लोगों के साथ ही झगड़ा हो तो ? झगडे की  ७०% जड़ यही है कि हम को सुनना नहीं आता। जैसे : सुनने के लिए दो सवालों पर नज़र रखनी है वैसे ही सब वार्तालाप के वक़्त हम ने अपने मन को भी बोलने नहीं देना। मन से ज़्यादा ओर कोई भी नहीं बोलता।  जब हम चुप के माहौल में से कोई भी वार्तालाप सुनेंगे 
तो यहाँ पर एक बहुत ही अनोखी घटना ने घट जाना है। 
जैसे जैसे हम वार्तालाप सुनते जाएंगे, वहीँ पर एक रह्सयमई घटना ओर भी घटने लगेगी। 
 जैसे ही हमने ध्यान लगा कर वार्तालाप को सुनना शुरू किया तो हम को पता भी नहीं चलेगा 
कि हम कब और कैसे मानसिक डायमेंशन में से निकल गए ?
आप को पता है कि जो चुप डायमेंशन है यह चेतना-रूप का डायमेंशन है।  हम सब है ही आध्यत्मिक-जीव , तो सिर्फ अपनी हर किर्या के प्रति होशमंद रहना है।  हम सब धर्म हीं हैं। 
ऐसा सोचो कि मैंने किसी को यह कहा कि प्लीज मेरे लिए खाना खाते रहना, नहीं तो मैं कैसे जीऊँगी? देखना मैं मर न जाऊँ, बस खाना खा लेना।  अब आप सब कहोगे कि यह
कैसी उदारहण दी है - यह उदाहरण कुछ जची नहीं। 
अगर आप ने यही reaction आया, तो यह सवाल मन का है। 
अगर आप में यह आया कि उदारहण दी है, पर मेरे को समझ में नहीं आता कि मेरे को समझ नहीं आई,  क्यों नहीं - मेरे को पसंद क्यों नहीं आई ? यह सवाल बुद्धिमानी का है। अब आप विचारना शुरू करोगे। 
मुझे पता है कि यह उदाहरण कैसी है - पर यहाँ पर यही ठीक है। 
ऐसे ही जब कोई भी व्यक्ति आत्मिक-लेवल पर जीता है - उस के लिए यह बात भी कुछ ऐसी ही है, जब कोई यह कहता है कि कैसे सही सुना जाता है। जैसे हम को खाना खाने केलिए दांत और ज़ुबान मिली है वैसे ही हम को कान, आँख, आदि  सब हमारे पास हैं,  पर हम सब आलसी हैं। 
मेरी सोच यह है कि जिस व्यक्ति को अभी तक विचारना ही नहीं आया - वो सब से बड़ा आलसी है। चेतना की तो बात ही छोड़ो। इस व्यक्ति ने अभी तक खुद के मन को भी नहीं उपयोग किया।
 यह व्यक्ति दूसरे के मन का ही उपयोग करता होगा।  
अब हम अपने सवाल की ओर चलते हैं।  हम ने बिना जप तप , 
योग मैडिटेशन के ही चेतना-रूप में दाख़िला ले लिया।
अब आप सब को चाबी की समझ आ गई होगी ?
वर्तालाप को ध्यान से सुनना है।
 ध्यान आया तो मन लीन हो गया। चुप लेवल आ गया।  
चुप लेवल मतलब कि आत्मिक लेवल। अब हमारा साथी हमारी चेतना है, मन नहीं। 
हम गवाह बन गए। 
 किस के ? 
वार्तालाप और चेतना के अब हम गवाह हैं। 
 अब एक ओर  भी बड़ा चमत्कार होगा। 

जब आप को मैं कहूँ गई कि चलो चलते हैं! आप ने जब जवाब देना है ,आप को लगेगा कि यह वार्तालाप मैंने नहीं कही थी - आप ने ही कही थी, और अब आप जानते हो कि  क्या होना चाहिए और  फिर आगे भी क्या होगा! आप को यह भी लगेगा कि आप को विज़न आई थी-
 फिर आप को यह भी लगेगा कि यह तो deja vu है। 
आप आपने आप में एक
अलौकिक शक्ति का प्रवाह बहता महसूस होगा। 
सही सुनना वो होता है, 
जब हम सुनते हैं हमारे में उस का अगला कदम और आगे का नतीजा सब साफ़ होता है। आप सब ने यह सुना ही होगा कि पहले कदम में ही आखरी कदम का पता चल जाता है।
 यह जो है यह वोही है। 
सही सोच, सही सुनना , सही कदम , सही बोलना यहाँ से शुरू होता है ,जब हम  को सही सुनना आ जाता है। 


Person is the cruelest animal



A few days ago
 there was a painful death of female elephant in Kerala (India)
 with a painful incident,
 the reason of which is a person.
 A deep dirty criminal mind can give birth to such an incident. 
The birth of many such incidents are happening around everyone in today's time.
 The era of intelligence on the one hand and
 the age of those who have dangerous intentions on the other side:
 It is a matter of much thinking that 
how can a person who is moving away from natural living, 
get his living healthy?
We are all humans but we eat animals
We are all human but we kill the innocent birds
We are humans, we have always weakened the weak 
- not the powerful
Because we are human
When we claim that we are human, 
we have ever seen our face in the mirror,
 how can we claim this face?
Till today I have not understood what a person is proud of. 
On the body of soil, which has to become soil.
When it comes to mind that I have to kill this person, this bird, or this animal,
 then why is this experiment never done on its own first. 
Why didn't you do this experiment on people at home first?
If a person did this with a sense of revenge, then our revenge started first from our home. Should be from there. Why not start from there? 
Because we are very selfish and greedy animals.
There are over 25000 slaughterhouses in India which claim religion,
 which becomes the contractor. 
How does a person control an animal since animal is small baby, because person is righteousness, which teaches it its religion.
And leave aside,
 there is a community that says that 
God has made the world for humans only. 
Ego has done wonders. 
The skin of the animal is also useful,
 and the egoist is this person, what is this his ego on 
 - I have not understood it till today. 
 First the skin of the animal is separated from the body,
 then the agonizing animal dies, hurts the creatures
 and then fights for the religious place.
 I have not yet understood why, why?
When such a person again feels any pain or feels any disease,
 then see how weeps?
Today it is understood that only such a person cries more,
 that too you do not cry for pain, you cry for karma,
 why did I commit the crime? 
When the arrow went out of command,
 it did not return.
 When I sowed the seed -
 the fruit will come
When I was happy, that meant I did a good job
When I had trouble, I must have done a bad job
Even if inadvertently done something wrong, there is a problem.
 I do not understand how a person thinks that
 if one is happy then it is his goodness - that is why one is happy; 
If a human has suffered, then there is always a reason for that.
 Why?
Human being is also very good is also very
If it wants to make a stone a god, it can sell to God.
Time today
Technology is the result of human intelligence 
and fighting is also a human act.
 The animals and birds are living their life,
 but this foolish person did not learn from them,
 but started torturing them.
Rapist should be sentenced to death
 The person who did this with female elephant - 
one should also be punished in such a way
 so that the rest of the humans understand that 
we have to live in harmony with each other.
 If today the world is a storehouse of diseases,
 then only because of our thoughts and all our dirty acts.
If a human kills any creature like this, 
then the human should never be forgiven,
 only then the world will become a place to live
 and the person will recognize his rightful character.
When any person gives birth to such an incident,
 the government takes action against them,
 but the public also has a duty to think about
 what the future will be before any person does it. 
  Such a person should be expelled from the village, 
there should not be shelter in any house, 
so that the person gets a chance to become
 a beautiful and good person.



***—***



थोड़े दिन पहलों हुई केरला (इंडिया) में हुई फीमेल elephant  की एक दर्दभरी घटना के साथ मौत, जिस का reason एक व्यक्ति है।  ऐसी वारदात को जन्म एक गहरा criminal mind  ही दे सकता है। ऐसी ही बहुत घटनाओं का जन्म आज के वक़्त में आपने सब के आस-पास हो रहा है।  एक तरफ बुद्धिमानी का युग और दूसरी साइड पर खतरनाक इरादे रखने वालों का युग: बहुत ही विचारण की सिथति है कि इंसान जो natural living से भी दूर हो रहा है, उस को अपना तंदरुस्त जीना कैसे मिल सकता है ?हम सब इंसान हैं पर हम खातें हैं जानवर 
हम सब इंसान है पर मारतें हैं बेज़ुबान परिंदो को  
हम इंसान हैं हम ने सदा कमज़ोर को कमज़ोर किया है -किसी बलशाली को नहीं 
क्योंकि हम इंसान है 
जब हम दावा करतें हैं कि हम इंसान हैं, कभी अपनी शक्ल को आईने में देखा है कि यह शक्ल कैसे दावा  कर सकती है ?
मेरे को आज तक यह समझ ही नहीं आई कि इंसान को गरूर हंकार है किस बात पर।  मिटटी की जिस्म पर ,जिस ने मिटटी ही हो जाना है। 
जब मन में यह सोच आती है कि मैंने इस इंसान का, इस परिंदे का, या इस जानवर को ऐसे मारना है तो पहले अपने आप पर यह experiment कभी क्यों नहीं होता।  आपने घर को लोगों पर पहले यह एक्सपेरिमेंट क्यों नहीं होता ?
अगर किसी व्यक्ति ने बदले की भावना से यह किया तो हमारा बदला तो पहले हमारे घर से ही शुरू होना चाहिए न ? वहां से शुरू क्यों नहीं होता ? क्योंकि हम बहुत ही खुदगर्ज़ और लालची जानवर हैं। 
इंडिया जो दावा करता है धर्म का, जो ठेकेदार बनता है धर्म का , वहां पर २५००० से ऊपर बूचड़खाने हैं। जानवर को छोटे होते से ही कैसे कण्ट्रोल करता है इंसान , क्योंकि यह धार्मिकता है , जो इस को इस का धर्म सिखाता है। 
और तो बात छोड़ो एक कौम तो ऐसी है कि जो कहती है कि रब्ब ने संसार को इंसान  के लिए ही बनाया है। हद्द ही हो गई  ईगो की।  जानवर का  चम् भी काम आता है और यह जो ईगोइस्ट  व्यक्ति है. इस को मान किस बात पर है ? - मेरे को आज तक समझ नहीं आई। ज़िंदे जानवर का चम् खींचता है. जब इस को कोई मारता है या किसी रोग का शिकार होता है तो देखा कैसे रोता है ?
जब फिर ऐसे इंसान को कोई दर्द होता है या कोई रोग लगता है , फिर देखो कैसे रोता है ?
आज समझ आई है कि ऐसा इंसान ही ज़्यादा रोता है, वो भी आपने दर्द के लिए नहीं, आपने कर्म के लिए रोता है कि मैंने गुनाह किया ही क्यों था ? तीर जब कमान से निकल गया तो वापस आता नहीं। बीज को जब बो दिया -फल तो आएगा ही 
जब मेरे में ख़ुशी आई , मतलब कि मैंने कोई अच्छा काम किया 
जब मेरे में तकलीफ़ आई , ज़रूर मैंने बूरा काम किया होगा 
चाहे अनजाने में ही कुछ गलत किया हो, इस लिए तकलीफ है।  
 मेरे को यह समझ आती ही नहीं कि इंसान ऐसे कैसे सोच लेता है कि अगर वो खुश है तो यह उस का कोई अच्छापन है- इस लिए ही वो खुश है ; अगर इंसान को कोई तकलीफ आ गई तो उस का कारण सदा कोई ओर होता है। क्यों?
इंसान बूरा भी बहुत है अच्छा भी बहुत है 
यह चाहे तो पत्थर को खुदा बना लेता है ,यह चाहे तो खुदा को भी बेच देता है 
आज का वक़्त 
technology  इंसान की बुद्धिमानी का नतीजा है  और लड़ाई झड़गा भी इंसान  की करतूत है। 
 जानवर, परिंदा अपनी ज़िंदगी को जी रहे ने, पर इस बेअक्ल इंसान ने उन से सीख तो ली नहीं, बलिक उन पर ही जुलिम करना शुरू कर दिया। 
बलात्कारी को  मौत की सज़ा मिलनी चाहिए 
 जिस ने female elephant  के साथ ऐसा किया - उस को भी ऐसे ही कुछ सज़ा मिलनी चाहिए ता  कि बाकी के इंसानों को समझ मिले कि हम ने एक दूसरे के साथ मिलजुल कर रहना है।  अगर आज संसार रोगों का  भण्डार है तो सिर्फ हमारी सब की सोच और हमारी सब की ऐसी गन्दी करतूतों के कारण। 
कोई भी इंसान ,किसी भी जीव को मिटाता है तो इंसान को कभी माफ़ी नहीं मिलनी चाहिए, तो ही संसार रहने की जगह बनेगी और इंसान को अपने सही किरदार की पहचान आएगी।
जब कोई भी व्यक्ति ऐसी घटना को जन्म देता है तो उस के प्रति सरकार तो कारावाई करती ही है, वहीँ पर जनता का भी एक फ़र्ज़ होता है, ता कि आगे से कोई भी व्यक्ति ऐसा करने से पहले सोचे कि फिर उस का भविष्य क्या होगा ?
 ऐसे व्यक्ति को गांव से निकाल देना चाहिए , किसी भी घर में पनाह नहीं मिलनी चाहिए।ता कि उस व्यक्ति को सूंदर और अच्छा इंसान बन जाने का मौका मिले। 

How does it happen when spirit is separated from body?

How does it happen when spirit is separated from body?

For me, life was a thought, a thought in which there was a discovery that death is what I have to live and that I have to live death too. Death has always been important for me.
 Death never let me be fascinated by the world. Death kept him in love with sages and sages. Death remained a very important subject for me.
To live death is to live in life and to live in the world even after seeing death. I only need to experience how I remain in censor after the experience of death and how I think and see life?
 life continued to flow only in death.
I have had many experiences of being out of body, of being out of body, of living without body.
Today, again, my desire to live death on my head encamped, then I went to bed in a room.
The feeling of love with death brought water to my eyes. Death was treated with a feeling of love. Was lying in the thought of death, then today a deep silence was seen coming out of the eyes.
Not through the ears, but through the eyes. It is important to remember this. 
(Talk about it again )
Due to the silence coming from the eyes, the eyes started closing, then someone started waking up within me. The feeling of quiet coming from the eyes was so unique and surprising that it also sealed my ears. As soon as the ears were sealed, all the noise coming from the deepest depths of silence disappeared. The only part I have is eyes. Now I have to see my body through my consciousness, because the work of his eyes is now only to see that there is no sound of any kind in me. Today, the eyes have to see that there should not be any thought in me - there should not be any feeling of emotion.
I have only eyes with deep consciousness.
The experience I had 18 years ago with closed eyes and in depth of meditation was the same experience that I had to do today with open eyes.
I went into the depths of silence through my eyes.
First of all my attention went to the heartbeat and stayed in the heartbeat itself. That is where my journey of a precious experience started today. Experiencing the deep movements of the nerve systems reached the consciousness (meditation) energy cycle.
Say energy level  or life-energy.
How the flow of energy moves in our body is observable. Going to see yourself before dying will be the biggest thing to do. What a Dr. sees as a profession - whether one (doctor) has all the information, but when one sees the body as a God-gift, then the alchemy of seeing changes.
My conscious is in the energy-level, which itself is an energy. One Life Energy and Life itself. The reconciliation of both and now the separation of both.
Life, which I have called consciousness, which we can also call soul - it has to leave the circle of small energy. How does one leave a small thing and take a big form?
   Amazing Chemistry!
Whatever is our understanding, which is our thinking, which is our idea, which is our feeling, which is the depth of all these experiences, that is the huge outline of our soul. We look at life and the world according to our understanding and thoughts.
How vast is our form at the spiritual level!
I saw the circle of my body energy revolve around my heart and consciousness out of the room.
I walked out of the room, across the wall. What is my body energy, that light purple color, how the heart's fodder is spinning. My nerve system is twinkling like the lights in the north-pole. And the energy that is moving near the heart, it is as if the light of the earth rotates from north to south.
When we look at the body with the soul, it seems as if a universe has taken a small size. And particles of body look like stars.
I started learning the Internet after looking at my deep experience and learning the Maya program is so that I can make myself what I see.

 From the spiritual circle, every living being is a universe in itself. Today, the Internet is my modren-guru, through which I have made my experiences to live in a computer without making the world meet the spiritual dimension. This is not to make my experiences like a movie, to create an Alive Dimension, that everyone should have a small experience of how precious we all are. Just keep praying.
amazing life!
wow!
The greatest wonder of life
The deepest secret of life
 The greatest miracle of life
Death and life have to live together
This is such a good experience and beautiful feeling of our existence, that I cannot tell.
Today a lot of people have written books to see before they die, do this, do this, do that.
God bless, let every person die and live death even before one dies! Identification of both such life and death makes a person's life complete.

***—***


जब रूह जिस्म से अलग होती है तो कैसे होती है ?
 उस वक़्त व्यक्ति को कैसे अनुभव होता है ?
रूह को पहली बार देख कर कैसा अनुभव होता है ?
क्या जिस्म और रूह, हम दोनों को अलग अलग  देख सकतें हैं?
जिस्म से अलग होने बाद क्या रूह फिर जिस्म में आ सकती है ?
मेरे लिए ज़िंदगी  एक सोच रही, वो सोच जिस में एक खोज थी कि मौत क्या है  और मैंने जीते जी मौत को भी जीना है।  मौत मेरे लिए सदा महत्वपूर्ण रही।
 मौत ने ही कभी मेरे को संसार का मोह नहीं होने दिया।  मौत ने ही  ऋषि-मुनिओं के साथ प्रेम-बहा में रखा।  मौत मेरे लिए बहुत ज़रूरी विषय ही बना रहा।
मौत को जीना है- मौत  को देखने के बाद भी जीवन में रहना है और संसार में रहना है।  मेरे को यह अनुभव चाहिए ही कि मौत के अनुभव के बाद मैं कैसे संसार में रहती हूँ और कैसे कैसे जीवन को सोचती और देखती हूँ?
 जीना सिर्फ मौत के बहा  में ही बहता रहा।
मेरे बहुत अनुभव हुए कि जिस्म के पार होने के, जिस्म से बाहर होने के , जिस्म के बिना जिस्म में रहने के।
आज फिर मेरे सर पर मौत को जीने की चाहना ने डेरा डाला तो मैं जा के एक कमरे में bed  पर लेट गई।
मौत के साथ प्यार का एहसास मेरी आँखों में पानी ले आया।  मौत को प्यार की भावना से निहारा।  मौत की सोच में लेटी हुई  थी तो आज आँखों  के झरोखों में से गहरी चुप आती दिखाई दी।
कानों में से नहीं, आँखों में से। यह याद रखना ज़रूरी है। इस के बारे में बात फिर करेंगे 
 आँखों में से आती चुप के कारण आँखों का बंद होना शुरू हो गया तो मेरे ही भीतर कोई जागना भी शुरू हो गया।  आँखों में से आती चुप का एहसास इतना अनूठा और हैरानगी भरा था कि उस ने मेरे कानों  को भी सील कर दिया।  कानों के सील होते ही चुप की गहरी गहराई में से भी आने वाली सब आहट मिट गई। मेरे पास जैसे एक ही अंग है, वो है आंखें।  अब मैंने  अपनी चेतना के ज़रिये अपने जिस्म को देखना है क्योंहके आँखों का काम अब सिर्फ यह देखना है कि  मेरे में किसी भी तरहं की कोई भी आहट तो नहीं। आज आँखों ने देखना है कि मेरे में किसी सोच की भी आहट न हो- भावना की भी आहट न हो।
मेरा गहरी चेतना का साथ सिर्फ आखें हैं।
जो अनुभव मैंने १७ साल पहले बंद आँखों से किया था और मैडिटेशन की गहराई में किया था, वोही अनुभव आज मैंने  फिर खुली आँखों में से करना था।
मैं आँखों के ज़रिये चुप की गहराई में चली गई।
सब से पहले मेरा ध्यान दिल की धड़कन पर गया और मं धड़कन में ही रुक गई। वहीँ से आज मेरे एक अनमोल अनुभव की यात्रा का आगाज़ हुआ। nerve systems की गहरी हिलजुल को अनुभव करती हुई चेतना  ( ध्यान  ) ऊर्जा-चक्र में पुहंची।
ऊर्जा चक्र कहो या लाइफ-एनर्जी कहो। 
ऊर्जा का प्रवाह कैसे हमारे जिस्म में चलता है, यह देखने योग्य है। मरने से पहले खुद को देखना सब से बड़ा काम करके जायेंगे। जिस चीज़ को एक डॉ. पेशे के रूप में देखता है- उस को चाहे वो सब जानकारी हो, पर जब कोई बॉडी को गॉड-गिफ्ट के तौर पर देखता है तो देखने का कीमिया बदल जाता है। 
मेरी चेतना  ऊर्जा चक्र में है, जो खुद आप एक ऊर्जा है।  एक लाइफ ऊर्जा और खुद लाइफ। दोनों का मिलाप और अब दोनों का विछोड़ा। 
ज़िंदगी, जिस को मैंने चेतना कहा है, जिस को हम आत्मा भी कह सकतें हैं - इस ने छोटे से  ऊर्जा के घेरे को छोड़ना है। कैसे कोई छोटी सी चीज़ को छोड़ कर बड़ा रूप ले लेता है?
 अद्भुत केमिस्ट्री !
जो हमारी समझ, जो हमारी सोच, जो हमारे आईडिया, जो हमारी भावना, जो हमारे इन सब के अनुभवों की गहराई होती है, वो ही हमारी आत्मा की  विराट रूप-रेखा होती है। हम अपनी समझ और विचार के हिसाब से ही ज़िंदगी को और संसार को देखतें हैं। 
आत्मिक-लेवल पर हमारा रूप कितना विराट है !
 मैंने  देखा कि मेरी जिस्मी-ऊर्जा का चक्र मेरे दिल के पास घेरे में घूमता है और चेतना कमरे से बाहर।  
मैं कमरे से बाहर निकल गई, दीवार के आरपार हो सकती हूँ। जो मेरी जिस्मी-ऊर्जा है , वो लाइट पर्पल रंग की ,कैसे दिल के  चारे-पासे घूम रही है।  मेरा नर्व सिस्टम ऐसे जगमगाहट कर रहा है, जैसे north -pole  की lights। और दिल के पास जो ऊर्जा घूम रही है ,वो ऐसे है जैसे कि धरती के चारे पास north  से south  लाइट घूमती है। 
जब हम आत्मा से जिस्म को देखतें हैं तो ऐसे लगता है कि जैसे कोई ब्रह्माण्ड ने छोटा सा आकार ग्रहण किया हो। और जिस्म का कण कण तारों की तरह नज़र आतें हैं। 
मैंने अपने गहरे अनुभव को देख कर ही इंटरनेट को सीखना शुरू किया और माया प्रोग्राम को सीखना ही इस लिए है कि जो मेरे को दिखाई दे रहा है, मैं उस को आप ही बना सकूं। 
 आत्मिक-मंडल से हर जीव आपने आप में एक ब्रह्मण्ड ही है। आज इंटरनेट मेरा modren- गुरु है, जिस के ज़रिये मैंने अपने अनुभवों को कंप्यूटर के राहीं ज़िंदा बना के संसार की मुलाकात अधियत्मिक डायमेंशन से करवानी है।  यह मेरे अनुभवों का एक मूवी की तरह नहीं, एक अलाइव डायमेंशन बनाना है , तां  जो  सब को एक छोटा सा अनुभव हो जाए कि हम सब कितने अनमोल हैं।  बस दुआ देते रहना।  
amazing life !
wow !
ज़िंदगी का सब से बड़ा अजूबा 
ज़िंदगी का सब से गहरा रहस्या 
 ज़िंदगी का सब से बड़ा चमत्कार 
मौत और ज़िंदगी को साथ साथ जीना है 
इतना अच्छा अनुभव और सुंदर अहसास है यह हमारे वजूद का, कि मैं बता ही नहीं सकती।  
आज तीक  बहुत लोगों ने किताबें लिखी है कि मरने से पहले यह देखो , यह करो , ऐसा करो , वैसा करो। 
खुदा करे, हर व्यक्ति मरने से पहले मर कर मौत को भी जीये! ऐसे ज़िंदगी और मौत दोनों की पहचान, व्यक्ति के जीवन को सम्पूर्ण कर देती है। 

Eternity

I find Eternity is as present in a Flower or a Person, 
in the Trees,
 in the River or Mountain,
 in the Birds or in the Sunshine, 
in the Rain, in Pain and All things...
 I've always found LOVE in Love;
 in Selfless Giving;
 in Art; in Words; in People, in my Thoughts;
 in my Feelings - Emotions;
 in Birds, in Plants; in Nature 
and
 in the Sky and Space

Ahaa



Last 6-7 days:
I was walking or doing something I feel what I experience was a hot flake like a rain-drop falling a my arm, sometimes on my legs and my face.
 I never heard and never read. 
before that I always feel drops of water falling out nowhere- 
now very hot-just hot flake falling out of nowhere. 
This is a amazing experience 
and very relaxable and blissful. 
then I feel I am also nowhere but I am-less I am. 
 When I looked at space and earth- 
I feel everything looked at me- and I feel-----,
 When I looked on my arm I feel a healthy spot where the hot-flake would have landed. There was no burned anywhere, just the very relaxable feeling.

Now, I live in the healthy 

and 

peaceful moment with this new 
and 
fresh experience... 


Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
love you always