BREAKING NEWS
latest

Have to walk like a Sanyaasi - No Matter what the Path

Let's go # 1

Let us all see ourselves today, consider God as a window.      # 1

I always wondered why I love everyone, and why I have never felt any trouble?
How everyone loves their own family, you give importance to the country, and how you consider religion the best?
Why are we different? , Why don't we all live together? Why do we all fight? No one had the answers to my questions. Or did not want to answer.
Sometimes it used to feel that I am definitely crazy. To think of me as crazy, it seemed that everyone had progressed in some part of life. And I always used to roam around after all. I never used to get any support from anyone that I was ever angry with me. The slightest resentment of anyone was like a mountain to me. I had such a habit of people around me that they would make mistakes and get angry themselves. The thief himself and the police himself would remain. Love was my weakness and whether I am always guilty or not, the only result for me was that I am guilty.
The question used to revolve very much in me that I do not have the capacity to love, not even understand how to love. Then I told myself that see if you know how to love or not, it is not a question. The only answer is that in your heart it is all mine. And this is true. The truth never fails. You would have come to the question and the answer would have come and I would have gone ahead.
We all have always heard a saying that 'dog's tail is never straight', it was my nature that no matter how much I fall, it will never come to me that anyone is alien.
I was 9, our Unite-family. Fighting - Mashaallah, God was very pleased that the temperature of the minds of all the members of the house was kept at a high degree. In the quarrel, everyone forgets the grandparents that they need something to eat and drink. My eyesight had to be sharp in such things. In such a situation my brain used to work very fast. And school education worked less than everything. This was the capacity of my mind and it is the same today. I used to get help in times of trouble and my grandparents never showed love to me. Once Grandma was loving my cousin, at that time I did not get jealousy but one understood that love for me also does not necessarily come in my grandmother's heart.
With this understanding, a question arose in me now.
If I say that I have love for God, would I have trusted Jesus or not if I had been in the time of Jesus?
If I were in the time of Hazrat Muhammad, I would have adopted the thinking of Rasul-e-Allah?
If I were in the Mahabharata, on whose side would I be?
If I were in Baba Nanak's time, what would I think?
Meaning that how the grandmother's behavior raised this question in me, I had no understanding. Just told me quickly that I would have been with them, then I asked myself 'what are you doing here today, you know how old Jesus' time is, how much of Hazrat Muhammad and how much of Buddha? '
If I were in the time of those sages, I can understand my thinking, my life situation today and say that I would never have trusted them.
Why?
Why do I think so?
Because to understand, it is necessary to have the same understanding. Even today there is an adulteration of doubt in our trust. Doubt will always be there, when no unique incident happens with us. And doubt should be there, if our trust is true then doubt should be equally true. Our doubt serves as a mile-stone for us. If there is no doubt in trust, then faith is never confirmed.
If I do not have such understanding in today's time, even today, whom God would not be giving us understanding through whom and in whatever form, then I would not trust anyone's understanding at that time. We are going to worship a person after death, because we understand only after the person is gone.
As the intellect increases, so will the master.
If I go to an illiterate person and say 'God is like the wind, like the sky', will she understand my point? never. To awaken the divine in my heart, I have to take the form of a person and make him a hero. And does today's generation want it? No. Today's generation will understand the wind, will understand the sky, but different questions are standing in front of today's generation. The mind of today's generation is very confused. They needs Instant God just like Instant Coffee.
Now the question is, where should we find the instant God?
Those of us who were less intelligent, our idiotic thinking did not trust Jesus, Muhammad, Krishna.
Today they are more intelligent, so like video games, like the advancement of the 747, it means that like today's progress, they need divine vision soon.
Even today we are the same people, our understanding is the same, everything is the same. The color of the ancient  has changed in shape, it is according to the understanding of today - but the tone of time is the trick of time - it is the same today - which was ages ago.
Two people with Jesus, two people with Muhammad, one each with Krishna and Buddha, two people with Baba Nanak. At every level of life, we have to face the same difficulty that a money earner has to do and a God earner has to do it. Whatever level we live in, its law is the same for every part Is, whether it is money or God.
We have to struggle to fulfill our desire.
If I now thought that I should not do any struggle, I have to leave the world, just today I am a monk. I just have nothing to do with the world. And I walked towards the forest.
In the crowd, the struggle is with myself, in private as well. We cannot avoid conflict. 
So what should we do?
Stand here, start from there.
Today I stand between two worlds
One is outside the world
One is the world within me
The outer world and the inner world are the same thing. The outer world is a reflection of the inner world. There is only the difference between solid and liquid. The more we hold the liquid,
 the more we make it solid, but due to that nature being liquid, it has started flowing again,
 which becomes the cause of our pain.
Every person works according to their own circumstances and takes steps. Someone has to be unstoppable on the land of loneliness. There is an infinite form of life which changes itself by taking an infinite character.
I was a radio host in Canada and had two programs. So many people knew me and I used to talk. I also had a conversation program.
Every person considers own-self positive, when the name of someone else comes, one never sees it positive. Even if one is living a better life than that. When we cannot consider those who are with us as better than ourselves, then how can we consider that person who is a gainer? We can worship Buddha, Nanak, Jesus, Muhammad today, but if we were his contemporaries, we would never have trusted Them. When our thinking has not developed yet, how could we recognize the developed form at that time?
I got many people, whose head was bowed after listening to them.
 After 2-3 months: difference between things and thinking starts to appear.
1- Somebody said how well Baba Nanak said that God is found in planetary life. Therefore, we do not believe in monks.
I asked, "Brother, then you must have found God." Mashaallah, you also have 5 children.
He said, We are sinners, how can this happen in our fate?
Then, when Baba Nanak's Bani (talk) had nothing to do with your life, why did you talk?
2- Someone said, we are following Guru Gobind.
I said look, brother, I have seen you, so I can only follower you.
It means that you do not trust Guru Gobind?
The more I trust Guru Gobind, the more I trust you.
How can you consider me equal to Guru?
I can be equal, because I have reason.
What is it ?
Just like you trust Guru Gobind, about whom you have only heard, have not seen Guru. Still so much trust. So I am looking at you guys, seeing your trust. So my trust should be deeper than you guys.
He was a guru, we are stupid
Listen and look at me:
You know Guru Gobind because Guru did good things and became your ideal today. You are sitting in front of me, seeing a very good faith, seeing a deep love, a deep reverence. Above all, it is important to me that I am watching you guys. So my trust is in you, not in Guru. I only have to take blessings from the guru, I have taken it. This is my only connection with Gurus. My trust and love is with you, only blessings's relationship with Guru.

3- Someone asked:
- Do you trust God?
- - I said no.
- Why not ?
- - Because I did not see
- Who do you trust then?
- - on you
- On me, why?
- - Because I have seen you. It is said that the eyes should trust the things seen.
- Then you do not trust Baba Nanak also?
- - I trust 50% when I read Japji Sahib.
- Didn't Japji Sahib even believe in reading it?
- - I want to experience what they say.
- You are very atheist!
- - You are a believer, have you seen the divine? And my deepest belief is that I also want to live deep atheism.
- You are, do you not trust your existence? Who made you, who made the world? The one who has created is the Supreme God.
- - These questions were very deep in me. I had a lot of science with these questions. Jap Ji Sahib is the moment of Baba Nanak when he was enlightened. That means it is the experience of the last moment of life. My experience of them is very sweet, so when I experience this I will be confident.
- Meaning that you do not trust your existence too?
- - No
- What do you think of you?
- - A mysterious puzzle, when it is solved, then I will not have to trust, I will become confident.

***—***
There is more
>>>

चलो आज हम सब खुद को देखिये, खुदा को एक झरोखा मान कर 

मैं सदा ही सोचती रही कि मुझे क्यों सब का प्यार आता है ,और क्यों मेरे को कभी कोई बेगाना नहीं लगा?
कैसे सब को अपनी ही फॅमिली से प्यार है, आपने ही मुल्क को महत्व देतें हैं, और कैसे आपने ही धर्म को सब से अच्छा मानते हैं ?
हम अलग अलग क्यों हाँ? , हम सब एक साथ क्यों नहीं रहते ?, हम सब झगड़ा क्यों करतें हैं? मेरे सवालों के जवाब किसी के पास है ही नहीं था। या जवाब देना ही नहीं चाहते थे। 
कभी कभी तो ऐसे भी लगता था कि ज़रूर मैं ही पागल हूँ। मेरे को मेरा पागल समझना इस लिए भी लगता था कि सब ने ज़िंदगी के किसी न किसी हिस्से में उन्नति की हुई थी। और मैं सदा सब के पीछे पीछे ही घूमती रहती। मेरे से कभी सहारा ही नहीं जाता था कि कोई मेरे से कभी नाराज़ हो। किसी की थोड़ी सी भी नाराज़गी मेरे लिए पहाड़ जैसी होती थी। मेरे चारों ओर ऐसे लोगों का बसेरा था कि वो खुद ही गलती करते और खुद ही रूठ जाते। खुद ही चोर और खुद ही पुलिस बने रहते। प्यार मेरी कमज़ोरी था और मैं सदा ही कसूरवार हूँ या नहीं हूँ , मेरे लिए नतीजा एक ही होता था कि मैं दोषी हूँ। 
मेरे में यह सवाल बहुत ही घूमता था कि मेरे को प्यार करने की तमीज़ ही नहीं, समझ ही नहीं कि कैसे प्यार किया जाता है ? फिर मैंने खुद को कहना कि देख तेरे को प्यार करना आता है या नहीं, यह सवाल नहीं है। जवाब सिर्फ यही है कि तेरे दिल में यह तो है कि यह सब मेरे हैं। और यही सच है। सच को कभी आंच नहीं। आप ही सवाल आता और आप ही जवाब आता और मैंने आगे बढ़ जाती। 
हम सब ने सदा एक कहावत सुनी है कि 'कुत्ते की पूंछ कभी सीधी नहीं होती' वोही मेरा स्वभाव था कि कितना भी गिर जाऊँ पर मेरे में यह कभी नहीं आएगा कि कोई भी हो, पराया है। 
मैं 9 साल की थी, हमारी यूनाइट-फॅमिली थी। लड़ाई-झगड़ा !माशाअल्लाह , खुदा की बहुत कृपा थी कि सब घर के members के दिमाग का तापमान हाई डिग्री पर ही रहता था। झगड़े में सब ने दादा दादी को भूल जाना कि उन को कुछ खाने पीने के लिए भी चाहिए। मेरी नज़र ऐसी बातों में तेज़ होनी ही थी। ऐसी हालत में मेरा दिमाग बहुत तेज़ काम करता था। और स्कूल की पढ़ाई सब से घट काम करता था। यह मेरे दिमाग की योगिता थी और आज भी यही है। मुसीबत के वक़्त मैंने काम आना और दादा दादी ने कभी मेरे को प्यार दिखाया भी नहीं। एक बार दादी मेरी चचेरी बहन को प्यार कर रही थी, उस वक़्त मेरे में ईर्ष्या नहीं आई बलिक एक समझ आई कि ज़रूरी नहीं कि मेरे लिए भी प्यार दादी के दिल में आये। 
इस समझ से मेरे में अब एक सवाल ओर आया। 
अगर मैं कहती हूँ कि मेरे में परमात्मा के लिए प्यार है तो क्या अगर मैं Jesus के वक़्त में होती तो क्या मैं जीसस पर भरोसा करती या न करती ?
अगर मैं हज़रत मुहम्मद के वक़्त में होती तो मैं रसूल-ए -अल्लाह की सोच को अपनाती ?
अगर मैं महाभारत में होती तो मैं किस की साइड पर होती ?
अगर मैं बाबा नानक के वक़्त में होती, तो मेरी सोच क्या होती ?
मतलब कि दादी के व्य्वहार ने कैसे मेरे में यह सवाल खड़ा किया ,मेरे को कोई समझ नहीं थी।और मैंने झट से कहा कि मैं तो ऋषिओं का साथ देती। तो मैंने खुद को पूछा कि 'फिर आज आप यहाँ पर क्या कर रही हो, तेरे को पता है कि जीसस का वक़्त कितना पुराना है, हज़रत मुहम्मद का कितना और बुद्धा का कितना ?'
अगर मैं उन ऋषिओं के वक़्त में होती ,तो मैं आज अपनी सोच को, अपनी ज़िंदगी की स्थिति को समझ कर कह सकती हूँ कि मैंने कभी उन पर भरोसा नहीं किया होता। 
क्यों ?
क्यों मैं ऐसा सोचती हूँ ?
क्योंकि समझने के लिए वैसी ही समझ का होना ज़रूरी है। आज भी हम सब के भरोसे में शक की मिलावट है। शक सदा ही रहेगी, जब तीक हमारे साथ कोई अनूठी घटना नहीं घटती। और शक होनी भी चाहिए, अगर हमारा भरोसा सच्चा है तो शक भी उतनी ही सच्ची होनी चाहिए। हमारी शक हमारे लिए mile-stone का काम करती है। भरोसे में शक न हो, तो भरोसा की बुनियद कभी पक्की नहीं होती। 
अगर आज के वक़्त में मेरे में इतनी समझ नहीं है कि आज भी परमात्मा किसे न किसे ज़रिये और किसे न किसे रूप रंग में हम को समझ दे रहा होगा ,तो मैं उस वक़्त भी किसी की समझ पर भरोसा न करती। हम इंसान को मरने के बाद पूजने वाले हैं, क्योंकि व्यक्ति के चले जाने के बाद ही हम को समझ आती है। 
जैसे जैसे बुद्धि बढ़ती जाती है वैसे ही हम को मास्टर मिलेगा। 
अगर मैं एक अनपढ़ व्यक्ति को जा कर यह कहूँ कि 'परमात्मा हवा जैसा है, आकाश जैसा है' , क्या वो मेरी बात को समझेगी? कभी नहीं। मेरे को उस के दिल में परमात्मा का दिया जगाने के लिए व्यक्ति के रूप का ही सहारा लेना पड़ेगा और उस को हीरो बना कर के पेश करना पड़ेगा। और क्या आज की जेनरेशन को यह चाहिए ? नहीं। आज की जनरेशन को हवा की समझ आ जायेगी, आकाश की समझ आ जायेगी पर आज की जनरेशन के आगे अलग किस्म के सवाल खड़े हैं। आज की जनरेशन का mind बहुत ज़्यादा कंफ्यूज है। उस को इंस्टेंट कॉफ़ी की तरह ही इंस्स्ण्ट परमात्मा चाहिए। 
अब सवाल यह है कि हम इंस्टेंट परमात्मा कहाँ से खोज कर लाएं ?
हम जो कम-अक्ल वाले थे, हमारी काम-अक़्ली ने जीसस , मुहम्मद, कृष्णा पर भरोसा नहीं किया। 
आज ज़्यादा अक्ल वाले हैं तो उन को वीडियो गेम की तरह, जहाज की उन्नति की तरह, मतलब कि आज की प्रगति की तरह ही जल्दी परमात्मा के दीदार चाहिए। 
आज भी हम वोही लोगों हैं, हमारी समझ भी वोही है , सब कुछ वोही है। घटना का रंग रूप आकार बदला है , वो आज की समझ के अनुसार है - पर जो वक़्त का लहज़ा है, वक़्त की चाल है - वो आज भी वोही है -जो युगों पहले थी। 
जीसस के साथ दो लोग, मुहम्मद के साथ दो लोग , कृष्णा और बुद्धा के साथ एक-एक , बाबा नानक के साथ दो लोग। ज़िंदगी के हर लेवल पर हम को वही कठनाई का सामना करना पड़ेगा, जो एक पैसे कमाने वाले को करना पड़ता है और एक परमात्मा को कमाने वाले को करना पड़ता है।हम जिस भी लेवल पर रहतें हैं, उस का कानून हर हिस्से केलिए एक ही है, चाहे पैसा हो या परमात्मा। 
हम को अपनी चाहना को पूरा करने केलिए संघर्ष करना ही पड़ेगा। 
अगर मैंने अब यह सोचा कि मैंने कोई भी संघर्ष नहीं करना, मैंने तो संसार ही छोड़ देना है , बस आज से मैं हूँ सन्यासी। बस मेरा संसार से कोई लेना-देना नहीं है। और मैं जंगल की तरफ चल पड़ी। 
भीड़ में भी संघर्ष खुद के साथ है , अकेले में भी खुद के साथ है। संघर्ष से हम बच नहीं सकते। तो हम को क्या करना चाहिए ?
यहाँ पर खड़े हैं, वहीँ से शुरू होतें हैं। 
आज मैं खड़ी हूँ , दो संसार के बीच 
एक बाहर है संसार 
एक है मेरे भीतर संसार 
बाहर का संसार और भीतर का संसार एक ही चीज़ है। बाहर का संसार भीतर के संसार की परछाईं है। सिर्फ ठोस और तरल जैसा ही फर्क है। जितने हम तरल को पकड़ते हैं उतना ही हम हम उस को ठोस बना देतें है पर उस स्वभाव तरल होने के कारण उस ने फिर बहना शुरू कर देना है, जो हमारे दर्द का कारण बन जाता है। 
हर इंसान आपने आपने हालातों के अनुसार ही काम करता है और कदम लेता है। किसी ने अकेलेपन की धरती पर ही अकुंर होना है। ज़िंदगी के अन्नत रूप है जो अनंत किरदार लेके ही खुद को परगट करती है। 
मैं कनाडा में रेडियो होस्ट थी और मेरे दो प्रोग्राम चलते थे। इस लिए मेरे को बहुत लोग जानते थे और मेरी बात-चीत होती ही रहती थी। मेरा बातचीत का प्रोग्राम भी था। 
हर इंसान खुद को पॉजिटिव मानता है, जब दूसरे का किसी का भी नाम आता है तो उस को कभी भी पॉजिटिव नहीं देखता। चाहे वो उस से भी बेहतर ज़िंदगी को जी रहा होता है। जब हम आपने साथ वाले लोगों को खुद से बेहतर नहीं मान सकते तो हम उस इंसान को कैसे बेहतर मानेगे, जो निर्वाना प्राप्ति है? हम आज बुद्ध नानक जिसु मुहम्मद को पूज सकतें हैं , पर , अगर हम उन के समकाली होते, कभी उन पर भरोसा न करते। जब अभी तीक हमारी सोच ने विकास नहीं किया 
तो उस वक़्त हम कैसे विकसित रूप को पहचान लेते?
मेरे को बहुत लोग मिलें , जिन की बातें सुन कर सर झुक जाता था। २-३ महीने के बाद: बातें और सोच में फर्क दिखाई देने लगता। 
१- किसी ने कहा कि बाबा नानक ने कितना अच्छा कहा कि ग्रहस्ती में ही परमात्मा मिलता है। सो हम को सन्यासी में भरोसा नहीं। 
मैंने पूछा , क्या भाई फिर तो आप ने खुदा को पा लिया होगा। माशाअल्लाह ,आप के बच्चे भी ५ हैं। 
कहने लगा , हम तो पापी हैं , हमारी तकदीर में कैसे ऐसा हो सकता है ?
फिर जब बाबा नानक की बात का आप की ज़िंदगी में कुछ लेना-देना ही नहीं तो आप ने बात क्यों की?
२- किसी ने कहा कि, हम गुरु गोबिंद के चेले हैं .
मैंने कहा कि देखो भाई , मैंने तो आप को देखा है, सो मैं तो आप लोगों को ही मान सकती हूँ। 
मतलब यह कि आप को गुरु गोबिंद के ऊपर भरोसा नहीं ?
मुझे जितना गुरु गोबिंद ऊपर भरोसा है, उतना ही भरोसा आप पर है। 
आप कैसे हम को गुरु के बराबर मान सकती हैं ?
मैं बराबर मान सकती हूँ , क्योंकि मेरे पास कारण है। 
क्या है ?
जैसे आप गुरु गोबिंद पर भरोसा करते हो , जिस के बारे में आप ने सिर्फ सुना है , देखा नहीं। फिर भी इतना गहरा भरोसा। तो मैं तो आप लोगों को देख रही हूँ, आप के भरोसे को देख रही हूँ। तो मेरा भरोसा तो आप लोगों से भी गहरा होना चाहिए। 
वो गुरु थे, हम तो बेवक़ूफ़ हैं
सुनो और देखो मेरी ओर:
गुरु गोबिंद को आप इस लिए जानते हैं कि गुरु ने अच्छे काम किये और आज तुम्हारे आइडियल बन गए। आप मेरे आगे बैठे हो, एक बहुत अच्छे भरोसे को देख रही हूँ , एक गहरे प्यार को देख रही हूँ , एक गहरी श्रद्धा को अनुभव कर रही हूँ। सब से ज़्यादा मेरे लिए यह महत्वपूर्ण है कि मैं आप लोगों को देख रही हूँ। सो मेरा भरोसा, मेरी श्रद्धा आप में है, गुरु में नहीं। गुरु से मैंने सिर्फ आशिर्बाद लेना है , वो मैंने ले लिया है। उन से मेरा सिर्फ यही नाता है। मेरा भरोसा और प्यार आप के साथ है , गुरु के साथ सिर्फ आशिर्बाद का रिश्ता है। 

३- किसी ने पूछा :
- क्या आप को परमात्मा पर भरोसा है ?
- - मैंने कहा, नहीं है। 
- क्यों नहीं ?
- - क्योंकि मैंने देखा नहीं 
- फिर आप को किस पर भरोसा है?
- - आप पर 
- मुझ पर ,क्यों?
- - क्योंकि मैंने आप को देखा है। कहतें हैं कि आँखों देखी चीज़ पर भरोसा करना चाहिए। 
- फिर तो आप बाबा नानक पर भी भरोसा नहीं करती ?
- - ५०%भरोसा करती हूँ, जब मैं जपजी साहिब को पढ़ा था। 
- क्या जपजी साहिब को पढ़ कर भी भरोसा नहीं हुआ ?
- - मैं उन के कहने को अनुभव करना चाहती हूँ। 
- आप तो बहुत नास्तिक हो !
- - आप तो आस्तिक हो, क्या आप ने परमात्मा को देख लिया ? और मेरी यही गहरी आस्तिकता है कि मैं गहरी नास्तिकता को भी जीना चाहती हूँ। 
- आप तो हो , आप को आपने वजूद पर भी भरोसा नहीं है क्या? आप को किस ने बनाया , संसार को किस ने बनाया ? जिस ने बनाया है, वोही परमात्मा है। 
- - यह सवाल मेरे में बहुत गहरे थे। इन सवालों के साथ ही मेरे में साइंस बहुत थी। जप जी साहिब बाबा नानक का वो पल है जब वो enlightened हुए। मतलब कि ज़िंदगी के आखरी पल का अनुभव है यह। उन का यह अनुभव मेरे को बहुत प्यारा है , सो जब मैं यह अनुभव कर लूंगी तो भरोसा हो जाएगा।
- मतलब कि आप को आपने वजूद पर भी भरोसा नहीं?
- - नहीं 
- आप आपने आप को क्या समझती हो ?
- - एक रहस्यमई पहेली , जब हल हो जायेगी, तब मेरे को भरोसा करना नहीं पड़ेगा ,मैं भरोसा ही बन जाऊँगी।
***—***
आगे और है 
>>>

The unique story of death

When we told you the bad time, 'I felt as if I was going to die' or to say that 'my bad time was like death'.
It means that I have experienced death. The experience of death is hidden somewhere within me.
Experience of death
Died many times - live again
Still afraid of death, why?
When we have experienced death, why have we not gone beyond death?
The law of the universe is that whatever we feel, we go beyond it. Sometimes he even says that 'my life is worse than death'
Why and how, someone knows about the experience of death. This means that we all experience death.
Today, all our experiences, whether it is of death or the time of birth, remain deposited in our consciousness.
Every door of consciousness opens according to the demand of the time.
Who is Enlightenment called?
When we experience the experience of death and the experience of birth together, and in that experience, on one hand, events happen very deeply. When we are roaming that part of your conscious form, here we experience our moment of death with the moment of birth, then the real truth in the acquittal of that, of our universe, the beginning and the end of it all is visible to us through This window. Which the sages and saints called Enlightenment.
We can never say what we do not experience. If we say something inadvertently, then it is our experience, this is why we say that it is in our consciousness, but we have not yet become its soul. All the actions that we have done today, good or bad, are all bad for us. They are seeds. Now the time will come when this seed will give us fruits. The fruit will be the same as the seed. How we see that fruit, how we experience it, how we believe it and how we know it will be our response. This is the response, it has become our Karma again and has become a seed in our consciousness.
This is how death has been experienced in our consciousness. When we go to death in the dark, then this death will come out of our consciousness and become our experience. Meaning that today I have inadvertently said that 'this time is worse than death' My experience of sleeping has become the experience of waking up today.
This means that I had the experience of death, but my experience was asleep in me. When I lived that death consciously, meaning that even when I was conscious at the time of death, the experience of death became part of my life now. Now, when my death will come again, at the time of that death or while living I live my life with the feeling of that death, then how do I see death dancing above the stage of life, then my present life is surpassed by death Life is to be lived.
Today I see what is death, what is life?
What does my death experience in my life and what does it make me see?
Here the question comes to mind that life also shows us all and gets everyone done.
When life gets everyone done, then we can become doers or not doers, but when we experience death, we become just observers.
When we do something, our karma is our future
When we are the watchers, we stand in the future
When we are not familiar with the experience of death, then our love of life, our trust, our love cannot be true. And we are nothing but a puppet. It is not a puppet of God but a puppet of one's own mind.
A veteran of death is living at the level of life itself. It can also be said that a person experienced in death is very close to life. Life belongs to anyone.
Whatever we understand our intelligence or our intelligence, it is the result of our life experiences. Our experience is our understanding and our wisdom - just like when the experience of death becomes our understanding, our shelter is beyond death. We come to the world only for that experience. The experience that sees life through the window of death.


***—***


जब हम आपने बुरे वक़्त को ऐसे कह दिया कि ' मेरे को ऐसे लगता था कि जैसे मैं मौत में जा रही हूँ' या यह कहूँ कि ' मेरा बूरा वक़्त मौत जैसा था '
मतलब यह हुआ कि मैंने मौत का अनुभव किया हुआ है। मौत का अनुभव मेरे ही भीतर कहीं न कहीं छुप्पा हुआ है।
मौत का अनुभव
बहुत बार मरे - फिर जीए
फिर भी मौत से घबराहट है, क्यों ?
जब हम को मौत का अनुभव हो चुक्का है तो हम मौत के पार क्यों नहीं गए ?
ब्रह्माण्ड का कानून है कि जो भी चीज़ को हम अनुभव कर लेते हैं, तो हम उस के पार हो जातें हैं। कभी कभी ऐसे भी कहता है कि 'मेरी ज़िंदगी तो मौत से भी बुरी है '
क्यों और कैसे , कोई जानता है कि मौत के अनुभव के बारे में कह देता है।
मतलब यह हुआ कि हम सब को मौत का अनुभव है।
आज तीक किये गए हमारे सब अनुभव चाहे वो मौत का है या जन्म के वक़्त का है,
वो हमारी चेतना में डिपोसिट हुआ पड़ा रहता है।
चेतना का हर दरवाज़ा वक़्त की मांग अनुसार ही खुलता है।
एनलाइटनमेंट किस को कहतें हैं ?
जब हम आपने मौत का अनुभव और जन्म का अनुभव एक साथ अनुभव करतें हैं और उस अनुभव में एक ओर घटना बहुत गहरे से घटती है। जब हम आपने चेतन-रूप के उस हिस्से को रूह-ब -रूह हो रहें होते हैं , यहाँ पर हम अपने मौत के पल को जन्म के पल के साथ अनुभव करतें हैं तो उस की बरीकी में जो असली सचाई है, हमारी ब्रह्माण्ड के आदि और अंत की वो सब हम को इस झरोखे में से दिखाई देती है। जिस को ऋषि-मुनिओं ने एनलाइटनमेंट कहा है।
जिस चीज़ का हमारा अनुभव ही नहीं , हम उस को कभी कह ही नहीं सकते। अगर हम अनजाने में भी कुछ कहतें हैं तो वो हमारा अनुभव है, इस लिए ही कहतें हैं -वो हमारी चेतना में पड़ा है पर हम अभी उस के रूह-ब -रूह नहीं हुए। आज तीक हम ने जितने भी कर्म किये हैं, अच्छे हो या बुरे , वो सब हमारे भीतीर है। वो बीज हैं। अब ऐसा वक़्त आएगा कि ,जब यह बीज हम को फल देंगे। फल वैसा ही होगा जैसा बीज था। हम उस फल को कैसे देखतें हैं , कैसे अनुभव करतें हैं , कैसे मानते हैं और कैसे जानते हैं , इन सब पर फिर हमारी प्रतिकिर्या होगी। यह जो प्रतिकिर्या है ,यह हमारा फिर कर्मा बन गई और बीज बन कर हमारी चेतना में पड़ी है।
ऐसे ही मौत का अनुभव हमारी चेतना में पड़ा है। जब हम होशमंदी में मौत में जाएंगे तो यही मौत हमारी चेतना से निकल कर हमारा अनुभव बन जायेगी . मतलब कि जो आज मैंने अनजाने में कह दिया कि ' यह वक़्त तो मौत से भी बूरा है ' मेरा वोह सोई हुई का अनुभव आज जागती हुई का अनुभव बन गए।
मतलब यह कि मेरे पास मौत का अनुभव था, पर मेरा अनुभव मेरे में ही सोया हुआ था। जब मैंने उस मौत को होश से जीया ,मतलब कि मौत के वक़्त भी जब मैं होशमंद रही तो मौत का अनुभव मेरे अब के जीने का हिस्सा बन गया। अब ,जब मेरी फिर मौत आएगी, उस मौत के वक़्त या जीते जी होशमंद रह कर उस मौत के अनुभूति के साथ ही जीवन जीती हूँ तो मौत को मैं कैसे ज़िंदगी की रंगमंच ऊपर नाचते देखती हूँ तो यह मेरा अब का जीना मौत से पार हुई ज़िंदगी का ही जीना है।
आज मैं देख रही हूँ कि मौत क्या है ज़िंदगी क्या है ?
आज के मेरे जीने में मेरा मौत का अनुभव मेरे से क्या क्या करवाता है और क्या क्या मेरे को दिखता है ?
यहाँ पर यह सवाल दिमाग में आता है कि ज़िंदगी भी तो हम को सब दिखाती है और सब करवाती है।
ज़िंदगी जब सब करवाती है तो हम करने वाले और या न करने वाले बन सकतें हैं पर जब हमारे पास मौत का अनुभव होता है ,हम सिर्फ देखने वाले बन जातें हैं।
जब हम कुछ करतें हैं तो हमारे कर्मा हमारा भविष्य होता है
जब हम देखने वाले होतें हैं तो हम भविष्य में ही खड़े होतें हैं
जब तीक हम मौत के अनुभव से परिचत नहीं होते, तब तीक ज़िंदगी के प्रीत, हमारा भरोसा, हमारा प्यार सच्चा नहीं हो सकता। और हम सिर्फ कठपुतली के इलावा कुछ नहीं। परमातम की कठपुतली नहीं, खुद के मन की ही कठपुतली होतें हैं।
मौत का अनुभवी इंसान ज़िंदगी के ओर ही लेवल पर जी रहा होता है। यह भी कह सकतें हैं कि मौत का अनुभवी इंसान ज़िंदगी के बहुत करीब होता है। ज़िंदगी किसी की भी हो।
जो भी हम अपनी अक्ल समझतें हैं या अपनी समझदारी ,यह सब हमारी ज़िंदगी के अनुभवों का फल है। हमारे अनुभव ही हमारी समझ और हमारी अक्ल बनतें हैं -वैसे ही मौत का अनुभव जब हमारी समझ बन जाता है तो हमारा बसेरा मौत के पार का होता है। हम संसार में सिर्फ आपने उस अनुभव केलिए आएं होतें हैं। वो अनुभव जो मौत के झरोखे में से ज़िंदगी को देखता है।

physical relationship

The person is a very intelligent animal (physical relationship)

On the natural side, whenever we look deeply and carefully, one thing will be clear to us that natural behavior is very clear and straightforward. We will understand this quality of nature very soon. Why?
Because this is the quality of the universe, our quality. When we grow in natural behavior, we too will start living cleanly and straightforwardly.
I have many such people whose cause of problem is 'body-relationship'.
Boy or girl, if no one has any sense of sex, then how does it mean that there is a disadvantage in it, sickness?
If someone is not interested in sex, is one sick? Or are those who think so ill?
From the beginning, I did not like to do makeup. My life was natural. When I did not do makeup even after marriage, people said that I have a problem.
Is my mental level sick if I don't like to do makeup?
Do people think very well?
If no one has the feeling of sex, then that person is also ill, it is a very good idea for people?
We have never thought that this person is better than us, is ahead of us, is wiser than us. We can throw the other one down, but we will try to degrade his height. We never paid any attention to such acts of our own. When these actions begin to sprout in our lives, we think that this is the result of someone's evil eye. Someone made something bad for us.
Does the other one have time only for us? No one else has any life, just another time, you have taken the time to bring us down?

How are our characters?
How are we thinking?
We talk to ourselves as very good and always think of others as stupid. And this is our big mistake.
Nature has infinite color forms.
There are infinite nature of life.
There is no reflection of the vastness of the universe.
Have you ever thought deep in the meaning of all this or not?
What colors and forms are being talked about?
Is the thinking the same, or is it infinite?
Is there only one form of emotion?
If there are infinite kinds of creatures in the universe, then what is infinity in humans, have you ever thought or not?
How does anyone think that if they like green color, then everyone should like this color?
If 80% like sex feeling, then if 1% does not like it, then it is a victim of disease, why has it never come to mind that this person will pass the body-level?
Have you ever had any positive thought about someone else?
Have you always praised yourself?
Is what you do just the best?
If someone needs a physical relationship every day, is it correct to think that now everyone should need it?

Then all of us should have been born in America?
Should everyone's skin color be the same color?
There had to be only one community and one culture.
God is also one, man should have been one and woman should also be one. Then your thinking would have been right, but as it is the spread of the universe, even if your thinking is like this, today you have only seen yourself and have never seen anyone and ever wanted someone else. Not even.
I have always been with children who cannot tell parents what is happening to them. Wrong incidents happen to both girl and boy. If parents do not trust, where will the child go?
We all should try to understand every color form of life that there are infinite colors of life. And every variation must be understood.
If I have never done makeup, people have stamped that I am depressed with life and I do not love anyone.
Wow!
Does Makeup Make Our Heart Filled With Love?
I did not know this.
That is why I went on to live my life happily and some of those people went on to live in illness. Because makeup filled their hearts with love? because love is a healthy life!
No one can ever be happy with such limited thinking. If we want to be happy then we have to make our thinking good and huge. Whatever we have handcuffed our thinking, we will have to cut it, yet we can all give free thinking a huge form.

* If I did not do makeup today, then I got a successful life and if I could do makeup then I would have become the queen of heaven, but the question here comes to mind that those people used to do makeup everyday, expensive makeup They buy, then why are those people not happy?
* If the feeling of sex comes to the mind of some people every day, when they go through this feeling every day, then are they attuned to the point of life and as a successful person you are living your own life?
*Ask one thing from a very true and true astrology expert, that sex, money, fame is the worldly attainment, how do people get it?
Our weak planets give us worldly things. If our planets are powerful, they are going to take us towards the spiritual.
If we want to have a happy and healthy life, then we should focus on your actions and your company



कुदरत की ओर, जब भी हम गहरे से और ग़ौर से देखेंगे तो हम को एक बात साफ़ नज़र आएगी कि कुदरती व्य्वहार बहुत ही साफ़ और सीधासाधा है। हम कुदरत के इस गुण को बहुत जल्दी समझ लेंगे।क्यों?
क्योंकि यही ब्रह्माण्ड का गुण है, हमारा गुण है। जब हम कुदरती व्य्वहार में पलेंगे तो हम भी साफ़ और सीधेपन में जीने लगेंगे। 
मेरे पास बहुत ही ऐसे लोग हैं, जिन की समस्या का कारण 'जिस्मी-रिश्ता' है।
लड़का हो या लड़की, अगर किसी में भी सेक्स की भावना नहीं है तो इस का मतलब यह कैसे हो गया कि उस में कोई नुक्स है , बिमारी है ?
अगर किसी की रुचि सेक्स में नहीं है, तो क्या वो बीमार है ? या जो ऐसा सोचतें हैं, वो बीमार हैं ?
शुरू से ही मेरे को मेकअप करना पसंद नहीं था। मेरा जीना कुदरती था। जब विवाह के बाद भी मैंने मेकअप नहीं किया तो लोगों का कहना था कि मेरे में कोई नुक्श है। 
अगर मेरे को मेकअप करना पसंद नहीं तो मेरा मानसिक लेवल बीमार है ?
बहुत अच्छी सोच है लोगों की ?
अगर किसी में सेक्स की भावना नहीं है तो वो इंसान भी बीमार है, बहुत उत्तम सोच है लोगों की ?
हम ने कभी यह तो सोचना नहीं कि शयद यह इंसान हम से ऊंचा है, हम से आगे है, हम से समझदार है। दूसरे को हम नीचे तो फेंक सकतें हैं, पर उस के ऊँचेपन को भी नीचा दिखाने की कोशिश करेंगे? हम ने कभी भी आपने खुद के ऐसे कर्मों की और ध्यान दिया ही नहीं। जब यह कर्म हमारी ज़िंदगी में अंकुर होने लगतें हैं तो हम सोचतें हैं कि यह किसी की बुरी नज़र का नतीजा है। किसी ने हमारे लिए कुछ बूरा करवा दिया। 
दूसरे के पास भी वक़्त सिर्फ हमारे लिए है? किसी और की कोई ज़िंदगी है ही नहीं, बस दूसरा भी आपने वक़्त हम को ही नीचे गिराने में लगा है ?
कैसे हमारे किरदार हैं ?
कैसी हमारी सोच है ?

हम खुद को बहुत अच्छा समझ कर बात करतें हैं और दूसरे को सदा बेवक़ूफ़ समझतें हैं, और यही हमारी बहुत बड़ी भूल है। 
कुदरत के अनंत रंग रूप आकार हैं। 
ज़िंदगी के अनंत स्वभाव हैं। 
ब्रह्माण्ड की विराटता का कोई पारावार नहीं। 
इन सब का अर्थ कभी गहरे में सोचा भी है कि नहीं ?
कौन से रंग, रूप आकर की बात हो रही है ?
क्या सोच एक ही है ,या अनंत है ?
क्या भावना का एक ही रूप है ?
अगर ब्रह्माण्ड में अनंत प्रकार के जीव हैं तो इंसान में अनंतता क्या है ,कभी सोचा भी है कि नहीं ? 
कैसे कोई यह सोच लेता है कि अगर उन को हरा रंग पसनद है तो सब को यह रंग पसंद ही होना चाहिए ?
अगर ८०% को जिस्मी-सांझ अच्छी लगती है तो अगर १% को नहीं अच्छी लगी तो वो बिमारी का शिकार है , ऐसा कभी क्यों नहीं दिमाग में आया कि यह इंसान जिस्मी-लेवल को पार कर चुक्का होगा ?
क्या किसी ओर के बारे में कभी कुछ पॉजिटिव सोचा भी है 
क्या सदा आपने आप की ही प्रशंसा करनी है ?
क्या जो आप करते हो, बस वोही सब से अच्छा है ? 
अगर किसी को हर रोज़ ही जिस्मी-रिश्ते की ज़रुरत है , तो क्या उस की यह सोच सही है कि अब सब को ही यह ज़रुरत होनी चाहिए ?
फिर तो हम सब को अमेरिका में ही पैदा होने चाहिए था ?
सभी की स्किन का रंग भी एक रंग ही होना चाहिए?
एक ही कौम और एक ही कल्चरल होना चहिये था। 
परमात्मा भी एक है , आदमी भी एक होना चाहिए था और औरत भी एक ही होनी चाहिए थी। फिर आप की सोच ऐसी होती तो सही थी पर जैसा यह ब्रह्माण्ड का फ़ैला है, अगर फिर भी आप की सोच ऐसी है तो आज तीक सिर्फ आप ने सिर्फ खुद को ही देखा है और किसी को कभी देखा भी नहीं और कभी किसी ओर को चाहा भी नहीं। 
मेरा ऐसे बच्चों से सदा नाता रहा है ,जो आपने माँ-बाप को बता नहीं सकते कि उन के साथ क्या हो रहा है। लड़की और लड़का दोनों के साथ गलत घटनाएं होती हैं। माँ-बाप भी भरोसा नहीं करते तो बच्चा कहाँ जाएगा ?

हम सब को ज़िंदगी के हर रंग रूप को समझने की कोशिश करनी चाहिए कि ज़िंदगी के अनंत रंग है। और हर भिन्नता को समझना चाहिए। 
अगर मैंने कभी मेकअप नहीं किया, तो लोगों पर मोहर लगा दी कि मैं ज़िंदगी से उदास हुई हू और मुझे किसी का प्यार नहीं आता। 
वाओ !
क्या मेकअप करने से हमारा दिल प्यार से भर जाता है ?
लो मेरे को यह पता ही नहीं था। 
इस लिए ही तो मैं ज़िंदगी ख़ुशी से जीती चली गई और वो कुछ लोग बिमारी में जीए गए। क्योंकि मेकअप ने उन के दिल प्यार से भर दिए थे ?
इतनी सीमित सोच के साथ कभी भी कोई भी सुखी नहीं हो सकता। अगर सुखी होने की चाहना है तो हम को हमारी सोच को अच्छा और विराट करना पड़ेगा। जो हम ने हमारी सोच को हथकड़ी लगा दी है ,वो कट देनी पड़ेगी , फिर ही हम सब आज़ाद सोच को विराट रूप दे सकतें हैं।

*अगर आज तीक मैंने मेकअप नहीं किया तो मेरे को कितनी कामयाब ज़िंदगी मिली और अगर मैं मेकअप कर लेती तो शयद मैं स्वर्ग की रानी बन जाती ,पर सवाल यहाँ पर यह दिमाग में आता है कि वो लोग तो मेकअप हर रोज़ करते थे, महंगा मेकअप खरीदतें हैं, फिर वो लोग खुश क्यों नहीं हुए ?
*अगर हर रोज़ कुछ लोगों के दिमाग में सेक्स की भावना आती है, जब वो रोज़ इस भावना से गुज़रतें हैं तो क्या वो ज़िंदगी के मुकाम को हासिंल कर चुक्के हैं और एक कामयाब इंसान की हैसियत से आपने खुद के जीवन को जी रहें हैं ?
* किसी बहुत ही सच्चे और सुचे ज्योतिष -विद्या के माहिर से एक बात पूछ लेनी, कि सेक्स, पैसा, फेम यह जो संसारी प्राप्ति है ,यह कैसे लोगों को मिलती है ?
हमारे कमज़ोर ग्रह हम को संसारी चीज़ें देतें हैं। अगर हमारे ग्रह ताकतवर होतें हैं, वो हम को अधियात्मिक की ओर ले के जातें हैं। 
सुखी और खुश जीवन की अगर चाहना है तो हम को आपने कर्मों पर और अपनी सांगत पर ध्यान रखना चाहिए

The ugly character of life is anger


27 years ago:
While praying for the shower, I was praying and asking God for the house. After 10 minutes, the energy of the house varied. I thought that my prayer was complete. But it did not come to mind that the difference in energy can also be negative. I asked for positive energy, but what I got was negative.
It was 17 years ago like this:
That incident is happening again. I am praying that God, make this house full of your blessings. And life started going completely negative.
If I see the deep way of life, then I am a failed person. Didn't get what you asked for? Whoever got, got awesome.
I got everything that only belongs to me, which I have to take full advantage of. That which the world demands, but not Serious. As much as Serious is for money, not for happiness and happiness. Surely everyone want happiness and comfort, but walk on money's path.
I always asked God for happiness and got pain.
If I asked for happiness, then I got grief.
If I asked for an atmosphere of freedom, then I got a tension filled atmosphere.
If I trust I lose trust
If I got courage, I lost.
My moment failed my every moment and I would lose every step.
But one thing kept happening very interestingly that my failure would become my success and my defeat would become my victory.
What is this all about?
 What kind of incident is this, what is the feeling, and what is the reason why I used to think like this, why I used to feel like this and why there was no disappointment in me.
My condition was just a question?
There is a saying that 'like seed is fruit'
Buddha said that focus on thinking, life is like thinking.
I was seeing that as life happens, human thinking becomes the same. I can think anything, this thinking will never come in me. Because as I am, the very foundation of my thinking is divine.
I noticed that whenever I pray for the positive, it was clearing me by removing my negative energy from me, due to which my behavior and my nature also came to positive level. If the result is right, the action, however harsh or wrong it seems, will be right. If I passed the test from 9 to 10, it means that I have corrected the question, only then I have passed.
When I asked God for happiness, He started giving out those who would be the seeds of pain in me. When they come out of me, I will know. If my behavior is becoming very positive for life, then I am getting the fruit of my prayer.
Meaning the garbage is being cleared.


It is a matter of 2 days initiatives that I felt that the energy of the house has changed again. When I closed my eyes, the energy had changed, when the eyes started to open, the space in front of me became the image of Buddha and it became crooked. When my attention was completely stopped on Buddha, the reverse of the clock started revolving. After about 24 hours, when I saw that there was some change in energy, I put my mind in silent gare and looked at the space. Now Buddha's image started appearing at the right place and very clear. Now saw Buddha in the meditation position in the light.
This was a change of energy, what happened in it?
First of all, this energy surrounded me like crazy, and how I was going, amazing! Then I started to suffer. Wish to wake up all the people of the house and fight with everyone and beat them up. Then pick up this pot and hit the head of this member and this. Then came or not, I just break all the dishes like that. No, even if it is not right, what should I do? I do this that I get everyone out of the house. I'll just be with the birds.
A bird began to vomit. And I prayed. And I got up from the couch and circled around the cage, threatening to threaten God. As soon as my orbit was complete, the parrot was relaxed. Whatever black items were in the house, it was thrown out. Then told the two members of the house that you start living separately. As the day progressed, I started recovering.
What is the reason behind this happening?
Life is a very beautiful thing and life itself is a wonderful thing in itself. This life looks at the human being from where this person should be caught and which injections should be cured. Our life itself is a PhD doctor who injects us by observing habit, not by looking at the pulse. No one can do this work better than God, who needs the medicine of those whose impact on the energy of the house was going wrong.
To give them a thought, who should make weapons, who needs this experience, this work was done.
How is person?
How is the atmosphere at home?
How is thinking?
Now this person has to give dose of 5 ml or 10 ml, when life takes action after watching all this, then it is fun.
To be true, if everyone comes to watch this game, then the taste of living life becomes that elixir.
The disease for which we run away, and the years pass, the rest does not come, at this point in life, all diseases are cured in days only. Time is not wasted, money is not wasted, then the happiness of living is amazing.
Then the person who plays the lead in such events, what will be his thinking and feeling for life, can not even guess nor trust.
Life plays a role like an unusual incident, when we see it with our own eyes then the precious thing of the world also takes the form of soil.
Life is such a thing in you that if we want to see it solid then it takes solid form, if we want to see liquid then it takes liquid form.
90% of us believe in its concrete form.

Whenever I used to see the angry form of people, and always think what is the strength in such anger that human being causes so much damage? In this anger does anyone kill anyone? When my heart wants me to kill everyone and even break all these utensils, then at the same moment, I laughed. I remembered everything - meditation now went in a spiritual form. In 5 hours, this anger made me suffer so much that I was laughing at the laughter after seeing my suffering.
For two days, this furious energy made my head sick, so I started thinking about those humans whose anger always stays on the seventh sky. How will people not get disease? 100% of diseases will occur. When the water continues to boil, the vessel will also be spoiled. The fire will also be extinguished. Wood will also end.
If we ever said anything natural in life, that too will be fulfilled. Like when I saw someone and said that how this person saw that other person, it is not a good thing. Now understand that I sowed this seed. I looked natural, I said natural and now it will happen to me as well.
Because now life has to make me feel it. All 90% of us sow seeds unknowingly.
Like now I watched this incident  with 7% attention. But my normal conscious volume is 4%. Now when my senses are at 7%, then it will remain my seed, my blue-print, and will remain in my consciousness. Because the incident is a natural phenomenon.
Like, the energy of anger on me had taken shape. It took years to make life as a natural thing.
Whatever happens in life, no one has any hand other than us.
So just think, whatever you say.
This is why it is said that a silent hundred happiness

ज़िंदगी का बदसूरत किरदार क्रोध है

27 साल पहले की बात है:
मैं शावर लेते वक़्त प्रार्थना कर रही थी और खुदा से घर की ख़ैर मांग रही थी।  १० मिनट्स के बाद ही घर की ऊर्जा में भिन्नता आ गई।  मैंने यह तो सोचा कि मेरी प्रार्थना पूरी हो गई।  पर यह  दिमाग में नहीं आया कि जो ऊर्जा में भिन्नता है, वो नकारात्मिक भी हो सकती है।  मैंने सकारत्मिक ऊर्जा की मांग की पर मेरे को जो मिली थी वो थी नाकारत्मिक। 
ऐसे ही 17 साल पहले की बात है :
वोही घटना फिर घट रही है।  प्रार्थना कर रही हूँ कि रब्बा इस घर को अपने आशिर्बाद  से भरपूर करो। और ज़िंदगी ने पूरा नेगेटिव चलना शुरू किया।  
मैं ज़िंदगी की गहरी चाल को अगर देखूं तो मैं एक फेल हो चूका इंसान हूँ।  जो भी माँगा , वो मिला नहीं ? जो भी मिला , वो लाजावाब मिला। 
मेरे को वो सब मिला, जो सिर्फ मेरे से ही नाता रखता है , जिस का भरपूर फाइदा मेरे को ही होना है।  जिस के लिए संसार मांग करता है, पर सीरियस नहीं। जितना इंसान सीरियस पैसे केलिए है, उतना ख़ुशी और सुख के लिए नहीं।  कहता ज़रूर है कि मुझ को सुख चाहिए और ख़ुशी चाहिए, ओर राह पैसे की पर चलता है। 
मैंने सदा खुदा से सुख माँगा तो मिला दर्द। 
अगर ख़ुशी मांगी तो मिल गई ग़मी। 
अगर मैंने आज़ादी का माहौल माँगा तो टेंशन भरा माहौल मिल गया। 
अगर मेरे में भरोसा आया तो भरोसा टूट गया 
अगर मेरे में हिम्मत आई  तो हार मिल गई। 
मेरा पल पल फेल होता गया और  मेरा कदम हर कदम पर ही हार जाता। 
पर एक बात बहुत ही दिलचस्प घटती रही कि मेरा फेल होना ही मेरा पास होना बन जाता और मेरी हार ही मेरी जीत बन जाती थी। 
यह सब है क्या?
 यह कैसी घटना है, कैसी भावना है, और कैसी सोच है कि मैं ऐसे क्यों सोचती थी , ऐसे क्यों अनुभव करती थी और मेरे में निराशा क्यों नहीं आती थी। 
मेरी हालत एक सिर्फ सवालिया-चिन थी ?
कहावत है कि 'जैसा बीज वैसा फल' 
बुद्धा ने कहा कि सोच पर ध्यान दो, जैसे सोच वैसा ही जीवन। 
मैंने देख रही थी कि जैसा जीवन होना होता है, इंसान की सोच ही वैसी हो जाती है। मैं कुछ सोच भी सकती हूँ, यह सोच मेरे में कभी आएगी ही नहीं। क्योंकि जैसी मैं हूँ, मेरी सोच की बुनियाद ही परमात्मा है।  
मैंने देखा कि जैसे भी मैं सकारत्मिक के लिए प्रार्थना करती हूँ, वो मेरे में से मेरा नकारत्मिक एनर्जी निकालता हुआ मेरे को साफ़ करता जा रहा था, जिस से मेरा व्य्वहार भी और मेरा स्वभाव भी पॉजिटिव  लेवल में आता गया।  अगर नतीजा सही है तो एक्शन चाहे जितना मर्ज़ी कठोर या गलत लगे, वो सही ही होगा। अगर मैंने टेस्ट पास कर लिया 9 से 10 में हो  गई तो मतलब कि मैंने सवाल ठीक किया है, तो ही पास हुई हूँ।                                                                                                                                                                             
मैंने खुदा से ख़ुशी मांगी , तो उस ने जो मेरे में दर्द के बीज होंगे, उन को मेरे से निकलना शुरू कर दिया। जब मेरे में से निकलेंगे तो मेरे को पता चलेगा ही। अगर मेरा व्य्वहार ज़िंदगी के लिए गहरा पॉजिटिव  हो रहा है तो मेरे को मेरी प्र्रर्थना का फल मिल रहा है। 
मतलब कि कचरा साफ़ हो रहा है। 

२ दिन पहलों की बात है कि मेरे को लगा कि घर की एनर्जी फिर से बदल गई है।  जब मैंने  आँखों को मीट कर अनुभव  किया तो बदल गई थी, जब आँखों को खोलने लगी तो मेरे आगे स्पेस में बुद्धा की मूर्त बन गई  और वो टेढ़ी हो गई।  जब मेरा ध्यान बुद्धा पर पूरा ठहर गया तो क्लॉक के उल्ट  मूर्त ने घूमना शुरू कर दिया।  लगभग २४ हॉर्स के बाद जब मैंने देखा कि ऊर्जा में कुछ बदलाहट हुई है तो मैंने मन को चुप गेर में डाला तो स्पेस की ओर देखा।  अब बुद्धा की मूर्त सही जगह पर और बहुत ही साफ़ दिखाई देने लगी। अब बुद्धा को रौशनी में मैडिटेशन पोजीशन में देखा। 
यह जो ऊर्जा की बदलाहट थी, इस में हुआ क्या था ?
सब से पहले मेरे को इस ऊर्जा ने पागलों की तरह बे-अरामी में घेरा और मैं कैसे कैसे चल रही थी , अमेजिंग ! फिर मेरे को तड़पना लग गई।  दिल करे कि घर के सब लोगों को जगा कर सब से झगड़ा करून और सब के साथ मार-पीट करू। फिर दिल करे के यह बर्तन उठा कर इस मेंबर के सर पर मारू और यह इस के।  फिर आया कि नहीं बस वैसे ही सब बर्तन तोड़ डालती हूँ। नहीं यह भी ठीक नहीं तो क्या करूं? ऐसा करती हूँ कि सब को घर से बाहर  निकाल देती हूँ। मैं सिर्फ परिंदों के साथ रहूंगी। 
एक परिंदे ने उलटी करनी शुरू कर दी।  और मेरे में प्रार्थना आ गई।  और मैंने सोफे से उठ कर पिंजरे के चारों ओर, खुदा को धमकी देने के अंदाज़ में परिक्रमा करने लगी।  जैसे जैसे मेरी परिक्रमा पूरी हुई तो तोते को आराम आ गया। घर में जो भी काले रंग के सामान था, उस को बाहर फेंक दिया।  फिर घर के दो मेंबर्स को कह दिया कि आप अलग रहना शुरू कर दो। जैसे जैसे दिन चढ़ता गया, मैं ठीक होने लगी। 
इस के होने के पीछे कारण क्या है ? 
ज़िंदगी बहुत ही सोहनी चीज़ है और ज़िंदगी आपने आप  ही में बहुत ही कमाल की लाजवाब चीज़ है।  यह ज़िंदगी  इंसान की ओर देखती है कि इस इंसान को कहाँ से पकडू और कौन सा इंजेक्शन लगे कि इस की बिमारी ठीक हो जाए।  हमारी ज़िंदगी  ही हमारे लिए एक पीएचडी डॉक्टर है, जो आदत देख कर इंजेक्शन लगाती है, नब्ज़ देख कर नहीं। घर की ऊर्जा पर जिन लोगों का प्रभाव गलत पड़  रहा था, उन को कैसी दवा चाहिए, यह काम परमात्मा से अच्छा कोई नहीं कर सकता। 
उन को एक सोझी देने केलिए किस को हथियार बनाना चाहिए, किस को इस अनुभव की ज़रुरत है, यह काम हुआ था।
इंसान कैसा है ?
घर का माहौल कैसा है?
सोच कैसी है ?
अब इस इंसान को डोज़ 5 ml की देनी है या 10 ml की , जब ज़िंदगी यह सब देख कर कदम लेती है तो, मज़ा आता है। 
सच मानना, अगर सब को यह  खेल देखना आ जाए तो ज़िंदगी जीने का स्वाद जो है वो अमृत बन जाता है।  
जिस बिमारी की इलाज़ के लिए हम भागे हुए फिरते हैं , और साल बीत जातें हैं, आराम नहीं आता, ज़िंदगी के इस मुकाम पर सब बिमारी दिनों में ही ठीक हो जाती है। वक़्त फालतू  नहीं जाता, पैसा खराब नहीं होता, फिर जो जीने की ख़ुशी होती है वो तो गज़ब की होती है।   
फिर जो इंसान ऐसी घटनाओं में मुख अदाकारी निभाता है, उस की जीवन के लिए सोच और भावना कैसी होगी, अंदाज़ा भी लगा नहीं सकते और ना ही भरोसा कर सकते हो। 
ज़िंदगी एक अनहोनी घटना जैसा किरदार निभाती है, जब हम यह अपनी आँखों से देखेंगे तो संसार की कीमती चीज़ भी मिटटी का रूप ले लेती है। 
ज़िंदगी आपने आप में ही एक ऐसी चीज़ है की अगर हम इस को ठोस देखना चाहेंगे तो यह ठोस-रूप ले लेती है , अगर हम तरल देखना चाहेंगे तो यह तरल-रूप ले लेती है। 
90% हम इस के ठोस रूप में ही भरोसा करतें हैं। 
जब भी मैं लोगों का क्रोधी रूप देखती थी ,और सदा ही सोचती थी कि ऐसी भी क्रोध में क्या ताकत है कि इंसान इतना नुक्सान कर डालता है ? इस क्रोध में ही किसी का खून कर डालता है ? जब मेरा दिल करे कि मैं सब को मार दूँ  और यह सब बर्तन भी तोड़ दूँ, तो उसी पल  मेरे को हंसी आ गईँ।  याद आ गया सब - ध्यान अब अधियात्मिक-रूप में चला गया।  5 घंटे में इस क्रोध ने मेरे को ऐसा तड़पाया कि मेरे को मेरी  ही तड़पना देख कर हंसी पर हंसी आ रही थी। 
दो दिन तीक इस क्रोध भरी ऊर्जा ने मेरे सर का बूरा हाल किया तो मैं सोचने लगी उन इंसानों को बारे में, जिन का क्रोध सदा ही सातवें आसमान पर रहता है।  कैसे नहीं जिस्म को रोग लगेंगें? १००% रोग लगेंगे ही।  पानी जब उबलता ही रहेगा तो बर्तन भी खराब होगा। आग भी बुझ जायेगी। लकड़ भी ख़तम होगी। 
अगर हम ने कभी ज़िंदगी में सुभाविक ही कुछ भी कहा, तो वो भी पूरा होगा ही।  जैसे मैंने किसी को देख कर यह ही कह दिया कि यह इंसान ने ऐसे कैसे उस दूसरे इंसान को देखा,यह अच्छी बात नहीं।  अब यह समझ लो  कि यह मैंने बीज बो दिया। मैंने सुभाविक ही देखा, मैंने सुभाविक ही कहा और अब मेरे साथ सुभाविक ही यह घटेगा भी।
क्योंकि अब ज़िंदगी ने मेरे को यह अनुभव करवाना ही है। हम सब ९०%  बीज अनजाने में ही बीज बो देतें हैं। 
अब जैसे मैंने इस घटना को 7% ध्यान से देखा। पर मेरी नार्मल होश की मात्रा 4% है।  अब जब मेरे होश की मात्रा 7% पर होगी तब तीक यह मेरा बीज ,मेरा ब्लू-प्रिंट बन कर मेरी चेतना में पड़ा रहेगा। क्योंकि घटना ने सुभाविक ही घटना है। 
जैसे मेरे पर क्रोध की ऊर्जा ने सुभावक-रूप ले के ही घटना था।  ज़िंदगी को सुभाविक -रूप में इस को तुजर्बा बनाने केलिए  बहुत साल लग गए। 
ज़िंदगी में जो भी होता है, उस के पीछे हमारे इलावा ओर किसी का भी कोई हाथ नहीं। 
सो सोच के ही कहना ,जो भी कहना। 
इस लिए कहतें हैं कि एक चुप सौ सुख 

Have you ever treated the father as a human being?



Today, when the Father got deep into the depth of the word, only one of the people met.
Human: Whenever we see any person in a relationship, we make the existence of that person very small. If we see that person as a human being first, then see him from the layer of relationships, then the existence of a human being is very big. How many relationships a person goes through, why and how?
Today, the moment I looked at the relationship from that word came in me, whom we call the father.
Every person has a profound influence on me. How many humans we meet every day of our lives, some are special and some become common and go through life. What is father? We called the father who gave birth to the body, but this is why we fell in love with him because our mind was also born from him. Our thinking is also being formed by the person with whom we live everyday. Life is concerned not with the creation of body, but with the formation of thought.
My memory has been very deep. When I was 3–4 years old, I always remembered that too. How was the house - who used to come in the house, how was their appearance? When my cousin was born, how did the baby cry and how was the house crying. How was my father's grandmother, when she died, how were the people of the house crying, and how did one of my cousins ​​and I see them crying and copy them all. Which color dress was I wearing? How Dr. used to come and pick me up and take him to his clinic. Meaning that my memory power was also deep and fast.
I remember how my childhood eyes looked at all the people in the house and how I used to see Bapu ji. How was thinking in that look, that is how my mind was being made, I remember that and I have seen how my mind is made up.
 As my eyes were looking at Bapu ji, how did my eyes change to see Bapu ji. Bapu ji is the character of my life, whom I have seen with an empty eye and also with an empty heart. How does emotion arise in my empty existence? How I saw Bapu ji with that feeling, and how it changed my thinking to see how good Bapu ji is?
  I saw the old father and the young father also. Bapu ji's role has been very big in my empty eyes. I remember a lot. And I always asked God why I would never forget anything, I would have given me amnesia too.

I have seen Bapu's life since childhood. Just as Bapu ji was, such a person should never be allowed into the limits of any limited relationship. Such a person should go towards public good. The character of humans like Bapu ji should not be for the four walls of the house, it should be for the public. Meaning that a person should get a chance that he should get the right to live life as he is. Social structure does not allow a person to flowering real. Man comes in seed form and dies in seed form. Only humans like Bapu ji should be master, who keep humanity alive and can become an example.
I see how deep my little eyes had started taking lessons. Just like how these small eyes of ours not only see the big mountain but also look at the distant sky, in the same way, my small eyes have always seen the heart of people, have seen far away.
I have seen Bapu Ji's virtuous state sobbing. I had learned from this state of Bapu ji that I always have to support the hearts of all, never to be a burden on anyone. Just keeping the freedom, today I am following my own learning.
Bapu ji had also created my mind and my first thought was Bapu ji and my first feeling and first lesson was Bapu ji.
So today to all the fathers from me,
Happy Father's Day!
***—***
बाप लफ्ज़ की गहराई में आज जब में गहरे उतर ही गई तो लफ्ज़ में से सिर्फ एक इंसान से ही मुलाकात हुई।  
इंसान: जब भी हम किसी भी इंसान को रिश्ते में से देखतें हैं तो हम उस इंसान के वजूद को बहुत छोटा कर देतें हैं।  अगर उस इंसान को पहले इंसान के रूप में देखतें हैं तो फिर उस को रिश्तों की परत से देखतें हैं तो इंसान का वजूद बहुत बड़ा दिखाई देता है।  एक इंसान कितने रिश्तों की परतों में से गुज़र जाता है, क्यों और कैसे ?

जिस को हम बाप कहतें हैं ,आज उस लफ्ज़ में से उस रिश्ते की ओर  देखने का पल मेरे में आ समाया। 
हर इंसान का मेरे पर प्रभाव बहुत गहरा पड़ता है।  हम रोज़-मरा की ज़िंदगी में से कितने इंसानों से मिलते हैं, कुछ ख़ास और कुछ आम बन कर ज़िंदगी में से गुज़रते रहतें हैं। बाप क्या है ? जिस्म को जन्म देने वाले को हम ने बाप कहा पर उस के साथ प्यार इस लिए पड़ा क्योंकि उस से हमारा मन भी पैदा हुआ। जिस इंसान के साथ हम हर रोज़ जी रहें हैं, उस से हमारी सोच भी बन रही होती है।  ज़िंदगी का संबंध जिस्म के बन जाने से नहीं सोच के बन जाने से होता है |
मेरी याद-शक्ति बहुत  गहरी रही है।  जब मैं ३-४ साल की थी, मेरे को वो भी सदा याद रहा।  घर कैसा था- कौन  घर में आता था, उन की शक्ल कैसी थी ? मेरी  चचेरी-बहन का जब जन्म हुआ था , तब कैसे बच्चे के रोने की आवाज़ आई थी और कैसे घर में रौनक थी।  मेरे बापू जी की नानी कैसी थी, जब उस की मौत हुई थी, घर के लोग कैसे रो रहे थे और मेरी एक चचेरी-बहन और मैं कैसे उन की रोने को देख कर उन सब की नक़ल लगाती थी।  मेरे कौन से रंग की ड्रेस पहनी हुये थी।  कैसे डॉ, आते थे और मेरे को उठा कर अपनी क्लिनिक में ले के जाते थे।  मतलब कि  मेरी याद-शक्ति भी गहरी और तेज़ थी। 
मेरे को याद है कि मेरी बचपन की आंखें कैसे घर के सब लोगों को देखती थी और  मैं कैसे बापू जी को देखती थी।  उस देखनी में कैसे कैसे सोच आ रही थी, मतलब कि मेरा मन कैसे बन रहा था, वो मेरे को याद है और मैंने देखा है कि मेरा मन कैसे बना है ?
 जैसे मेरी आंखें बापू जी को देख रही थी, मेरी आँखों का बापू जी देखना कैसे बदलता गया।  बापू जी मेरी ज़िंदगी के मैं किरदार हैं, जिन को मैंने खाली आँख से भी देखा है और खाली मन से भी देखा है।कैसे मेरे खाली वजूद में भावना पैदा होती है ? कैसे मैंने उस भावना से बापू जी को देखा, और यह मेरा देखना कैसे सोच में बदला था कि बापू जी कितने अच्छे हैं ? 
  बुड्ढे बाप को  और जवान बाप को भी देखा। मेरी खाली आँखों में बापू जी का रोल बहुत बड़ा रहा है।मेरे को बहुत कुछ याद रहा।  और मैंने सदा खुदा से माँगा कि मैं  कभी कुछ भी भूलती क्यों नहीं, मेरे को भी भूलने की बीमारी दे देता।  
बापू जी की ज़िंदगी को मैंने बचपन से ही देखा है।  जैसे बापू जी थे, ऐसे इंसान को कभी भी किसी सीमित रिश्तों की मर्यादा में नहीं जाने देना चाहिए।  ऐसा इंसान लोक-भलाई की ओर  जाना चाहिए। बापू जी का जैसे इंसानों का किरदार घर की चार-दीवारी के लिए नहीं होना चाहिए , जनता के लिए होना चाहिए।  मतलब कि इंसान को मौक्का मिलना चाहिए कि जैसा वो है,  उस को वैसी ही ज़िंदगी जीने का हक़ मिलना चाहिए।  सामाजिक ढांचा व्यक्ति को असलियत में महकने नहीं देता।  इंसान बीज -रूप में ही आता है और बीज-रूप में ही मर जाता है।  बापू जी जैसे इंसान ही मास्टर होने चाहिए, जो इंसानियत को ज़िंदा रखतें हैं और उदाहरण बन सकतें हैं।  
मैंने देखती हूँ कि ,मेरी छोटी सी आँखों ने कितना गहरा सबक लेना शुरू कर दिया था।  जैसे आज भी हमारी यह छोटी सी आंखें कैसे बड़े बड़े पहाड़ को ही नहीं देखती बलिक दूर तीक आसमान को भी देखती है ,वैसे ही मेरी ें छोटी सी आँखों ने सदा लोगों के दिल को देखा है, बहुत दूर तीक  देखा है। 
बापू जी की गुणों भरी अवस्था को मैंने सिसकते देखा है।   बापू जी की इस अवस्था से मुझे सीख मिली थी कि मैंने सदा सब के दिल का साथ देना है, किसी के ऊपर भी कभी भारू नहीं होना।  बस आज़ादी को बरकरार रखते हुए, मैं आज तीक खुद की सीख पर ही चल रहीं हूँ। 
बापू जी ने मेरे मन को भी पैदा किया था और मेरी पहली सोच भी बापू जी थे और मेरी पहली भावना और पहली सीख भी बापू जी ही थे। 
सो आज सब बाप को मेरी ओर से,
Happy  Father's Day !

The relationship means that the two sides enjoy each other ( Happy Father's Day)


I was surprised that I had never been shy with anyone, only you had been shy with the Bapu ji (father). The rest of the house is not from any man - just from my Bapu ji, why? No one could solve this question for me, just waiting for time. Call it time or understanding; For me both are the same.
I once saw that father and me were left in the room. We were both having dinner. Maa went out to get something. I saw that my eyesight and Bapu ji's eyes were united, then both of us started looking down immediately. Right now I was thinking that I eat the rest of the food outside, but before me Bapu ji got up and went out.
Through this incident, I came to know that Bapu ji is very shy of me. The flow of shame was very deep in both of us. When I went to India from Canada, for the first time Bapu ji told me one thing.
"Thank you dear that your clothes has not changed." It should be the same even today as it was before. ''
I was surprised that Bapu ji told me this.
I have never done makeup and never wore any jewel. The clothes were also very simple, and today for the first time I came to know that Bapu ji did not like the same things. This was the first time Bapu ji spoke to me for me.
When Bapuji came to Canada, I said this to me there another time.
"Daughter, as you have handled your home, seeing this understanding of you, today I tell you one thing that you are my ideal woman".
I looked at Bapu ji's face and hugged Bapu ji.
 When Bapu was taking his last breaths, his last words.
"Daughter, I care a lot about you, you don't have the world as you are, what will happen to you?"


Bapu ji
Bapu ji's skin color was very fair and peach colored aura came out of the skin. Kamali-Ramli (very simple style) was a turban. Bapu ji's shyness used to add beauty to Bapu ji's nature. Bapu was very shy.
Our relationship was with the father and daughter, more than that we were also pearls for each other. Bapu ji's nature was so decent that he also became my ideal-man.
Even today, a lot of time has passed for Bapu ji, but even today, he is alive in me, as if he was not dead, it seems as if I have the illusion that Bapu ji was dead. It is a miracle to be so close even after death. I never missed him.
Even today we cannot sit and drink tea together - but still it seems that he is with me forever.
Because love is such a vibe, the more love has depth and purity, the more love never lets the feeling of love go away.
Whatever the relationship is, 
the foundation is only love and trust, 
just like perfection 
when the relationship
 becomes the Ideal


Today, blessing all the fathers on Father's Day so that they always give children understanding of healthy thinking!



मैंने हैरान थी कि मैं कभी किसी से भी नहीं शर्माती थी, सिर्फ आपने बाप से शर्माती थी। घर के बाकी किसी भी मर्द से नहीं -सिर्फ बापू जी से , क्यों? यह सवाल मेरे लिए कोई नहीं हल कर सकता था, सिर्फ वक़्त का इंतज़ार था। 
इस को वक़्त कहूं या समझ कहूं; मेरे लिए दोनों एक ही हैं। 
मैंने एक बार देखा कि कमरे में मैं और बापू जी रह गए।  हम दोनों खाना खा रहे थे।  बीबी कुछ लेने के लिए बाहर गई।  मैंने देखा कि मेरी नज़र और बापू जी की नज़र एक हुई तो हम दोनों ने ही झट से नीचे देखना शुरू कर दिया। अभी मैं सोच रही थी कि मैं बाकी का खाना बाहर जा कर खाती हूं , पर मेरे से पहले बापू जी उठ कर बाहर चले गए। 
इस वारदात से मैं जान गई कि बापू जी भी मेरे से बहुत शर्माते हैं।  हम दोनों में लज्जा का प्रवाह  बहुत गहरा था। जब मैं कनाड़ा से इंडिया गई, तो पहली बार बापू जी ने मेरे को एक बात कही। 
'' शुक्र ऐ dear कि आप का पहरावा बदला नहीं।  जैसे पहले थी आज भी वैसी ही हो।''
मैं हैरान थी कि बापू जी ने मेरे को यह कहा था। 
मैंने कभी मेकअप नहीं किया और ना ही कभी कोई गहना पहना था।  कपडे भी बस बहुत सादे होते थे।और आज पहली बार मेरे को पता लगा कि बापू जी को भी वैसी चीज़ें पसंद नहीं थी। यह पहली बार बापू जी ने मेरे लिए मेरे से बात की थी। 
जब बापू जी Canada  मेरे पास आये, तो वहां पर मेरे को दूसरी वार यह कहा था। 
'' बेटी, जैसे तुम ने आपने घर को संभालती हो, यह आप की समझ देख कर आज मैं आप को एक बात कहता हूं  कि आप मेरी आइडियल औरत हो ''
मैंने बापू जी के चेहरे की ओर देखा और बापू जी को झप्पी दी। 
 जब बापू जी की आखरी साँसें ले रही थे , उन के आखरी बोल। 
'' बेटी , मेरे को तेरी बहुत फ़िक्र है , जैसी तू हैं ,वैसा संसार नहीं है , तेरा क्या होगा ?''
बापू जी। 
बापू जी का स्किन कलर बहुत गोरा और स्किन में से पीच रंग की आभा निकलती थी।  कमली-रमली पगड़ी होती थी।  बापू जी का शर्माना , बापू जी के स्वभाव की शोभा बढ़ा देता था। बहुत ही शर्मीलेपन से भरे हुए बापूजी थे।  
हमारा रिश्ता बाप बेटी का तो था ही , उस से ज़्यादा हम दोनों एक दूसरे के लिए सुचे मोती भी थे। बापू जी का स्वभाव इतना decent था कि वो मेरे ideal -man भी बन गए।
आज चाहे बापू जी को गए बहुत वक़्त बीत गया पर आज भी वो मेरे में ऐसे ज़िंदा हैं, जैसे कि वो मरे ही नहीं थे, बस ऐसे लगता है कि जैसे मेरे को भ्रम है कि बापू जी मर गए थे।  मरने के बाद भी इतनी  नज़दीकी होनी  एक चमत्कार है।  मैंने कभी भी उन को मिस नहीं किया। 
चाहे आज हम साथ बैठ कर चाय नहीं पी सकते-पर फिर भी ऐसे लगता है कि वो सदा मेरे साथ है। 
क्योंकि प्यार एक ऐसा तत्त है, जितनी प्यार में गहराई और purity होगी, उतना ही प्यार  कभी प्यार भरे एहसास को दूर नहीं होने देता। 
आज सभी बाप को Father's  day  की ऐसी दुआ कि वो सदा आपने बच्चों को तंदरुस्त सोच की समझ दे !

रिश्ता कोई भी हो उस की बुनियाद सिर्फ प्यार और भरोसा है,
 वैसे ही पूर्णता जब रिश्ता आदर्श बन जाता है 

रेतली राह का मुसाफ़िर

रेतली राह का मुसाफ़िर
माननीय प्यार , आज मैं खुद को आप के आगे सन्मानित करना चाहती हूँ कि मैं आप की रचना हूँ ; और खुदा के आगे मैं खुद को धन्यवाद का उपहार देना चाहती हूँ कि 'धन्यवाद शहीर ' कि आप ने खुदा से प्यार किया। हर किर्या के लिए धन्यवाद
The best cure of the body is a quite mind:. Powered by Blogger.