AELOLIVE
latest

Do you know that we are a big miracle secret?

Do you know that we are a big miracle secret?
Following the trail of colorful emotions and beautiful divine relationships. Now life Blossoms, beginning to love because it is a vibrant land of love and a beautiful feelings to wander across the heart during the journey of awakening. But here are some of the most stunning moments to witness life in full bloom with divine relationship and divine action like spring...And now thoughts are in bloom

Let us all see ourselves today, consider God as a window. # 1

I always wondered why I love everyone, and why I have never felt any trouble?
How everyone loves their own family, you give importance to the country, and how you consider religion the best?
Why are we different? , Why don't we all live together? Why do we all fight? No one had the answers to my questions. Or did not want to answer.
Sometimes it used to feel that I am definitely crazy. To think of me as crazy, it seemed that everyone had progressed in some part of life. And I always used to roam around after all. I never used to get any support from anyone that I was ever angry with me. The slightest resentment of anyone was like a mountain to me. I had such a habit of people around me that they would make mistakes and get angry themselves. The thief himself and the police himself would remain. Love was my weakness and whether I am always guilty or not, the only result for me was that I am guilty.
The question used to revolve very much in me that I do not have the capacity to love, not even understand how to love. Then I told myself that see if you know how to love or not, it is not a question. The only answer is that in your heart it is all mine. And this is true. The truth never fails. You would have come to the question and the answer would have come and I would have gone ahead.
We all have always heard a saying that 'dog's tail is never straight', it was my nature that no matter how much I fall, it will never come to me that anyone is alien.
I was 9, our Unite-family. Fighting - Mashaallah, God was very pleased that the temperature of the minds of all the members of the house was kept at a high degree. In the quarrel, everyone forgets the grandparents that they need something to eat and drink. My eyesight had to be sharp in such things. In such a situation my brain used to work very fast. And school education worked less than everything. This was the capacity of my mind and it is the same today. I used to get help in times of trouble and my grandparents never showed love to me. Once Grandma was loving my cousin, at that time I did not get jealousy but one understood that love for me also does not necessarily come in my grandmother's heart.
With this understanding, a question arose in me now.
If I say that I have love for God, would I have trusted Jesus or not if I had been in the time of Jesus?
If I were in the time of Hazrat Muhammad, I would have adopted the thinking of Rasul-e-Allah?
If I were in the Mahabharata, on whose side would I be?
If I were in Baba Nanak's time, what would I think?
Meaning that how the grandmother's behavior raised this question in me, I had no understanding. Just told me quickly that I would have been with them, then I asked myself 'what are you doing here today, you know how old Jesus' time is, how much of Hazrat Muhammad and how much of Buddha? '
If I were in the time of those sages, I can understand my thinking, my life situation today and say that I would never have trusted them.
Why?
Why do I think so?
Because to understand, it is necessary to have the same understanding. Even today there is an adulteration of doubt in our trust. Doubt will always be there, when no unique incident happens with us. And doubt should be there, if our trust is true then doubt should be equally true. Our doubt serves as a mile-stone for us. If there is no doubt in trust, then faith is never confirmed.
If I do not have such understanding in today's time, even today, whom God would not be giving us understanding through whom and in whatever form, then I would not trust anyone's understanding at that time. We are going to worship a person after death, because we understand only after the person is gone.
As the intellect increases, so will the master.
If I go to an illiterate person and say 'God is like the wind, like the sky', will she understand my point? never. To awaken the divine in my heart, I have to take the form of a person and make him a hero. And does today's generation want it? No. Today's generation will understand the wind, will understand the sky, but different questions are standing in front of today's generation. The mind of today's generation is very confused. They needs Instant God just like Instant Coffee.
Now the question is, where should we find the instant God?
Those of us who were less intelligent, our idiotic thinking did not trust Jesus, Muhammad, Krishna.
Today they are more intelligent, so like video games, like the advancement of the 747, it means that like today's progress, they need divine vision soon.
Even today we are the same people, our understanding is the same, everything is the same. The color of the ancient  has changed in shape, it is according to the understanding of today - but the tone of time is the trick of time - it is the same today - which was ages ago.
Two people with Jesus, two people with Muhammad, one each with Krishna and Buddha, two people with Baba Nanak. At every level of life, we have to face the same difficulty that a money earner has to do and a God earner has to do it. Whatever level we live in, its law is the same for every part Is, whether it is money or God.
We have to struggle to fulfill our desire.
If I now thought that I should not do any struggle, I have to leave the world, just today I am a monk. I just have nothing to do with the world. And I walked towards the forest.
In the crowd, the struggle is with myself, in private as well. We cannot avoid conflict. 
So what should we do?
Stand here, start from there.
Today I stand between two worlds
One is outside the world
One is the world within me
The outer world and the inner world are the same thing. The outer world is a reflection of the inner world. There is only the difference between solid and liquid. The more we hold the liquid,
 the more we make it solid, but due to that nature being liquid, it has started flowing again,
 which becomes the cause of our pain.
Every person works according to their own circumstances and takes steps. Someone has to be unstoppable on the land of loneliness. There is an infinite form of life which changes itself by taking an infinite character.
I was a radio host in Canada and had two programs. So many people knew me and I used to talk. I also had a conversation program.
Every person considers own-self positive, when the name of someone else comes, one never sees it positive. Even if one is living a better life than that. When we cannot consider those who are with us as better than ourselves, then how can we consider that person who is a gainer? We can worship Buddha, Nanak, Jesus, Muhammad today, but if we were his contemporaries, we would never have trusted Them. When our thinking has not developed yet, how could we recognize the developed form at that time?
I got many people, whose head was bowed after listening to them.
 After 2-3 months: difference between things and thinking starts to appear.
1- Somebody said how well Baba Nanak said that God is found in planetary life. Therefore, we do not believe in monks.
I asked, "Brother, then you must have found God." Mashaallah, you also have 5 children.
He said, We are sinners, how can this happen in our fate?
Then, when Baba Nanak's Bani (talk) had nothing to do with your life, why did you talk?
2- Someone said, we are following Guru Gobind.
I said look, brother, I have seen you, so I can only follower you.
It means that you do not trust Guru Gobind?
The more I trust Guru Gobind, the more I trust you.
How can you consider me equal to Guru?
I can be equal, because I have reason.
What is it ?
Just like you trust Guru Gobind, about whom you have only heard, have not seen Guru. Still so much trust. So I am looking at you guys, seeing your trust. So my trust should be deeper than you guys.
He was a guru, we are stupid
Listen and look at me:
You know Guru Gobind because Guru did good things and became your ideal today. You are sitting in front of me, seeing a very good faith, seeing a deep love, a deep reverence. Above all, it is important to me that I am watching you guys. So my trust is in you, not in Guru. I only have to take blessings from the guru, I have taken it. This is my only connection with Gurus. My trust and love is with you, only blessings's relationship with Guru.
3-
Someone asked:
- Do you trust God?
- - I said no.
- Why not ?
- - Because I did not see
- Who do you trust then?
- - on you
- On me, why?
- - Because I have seen you. It is said that the eyes should trust the things seen.
- Then you do not trust Baba Nanak also?
- - I trust 50% when I read Japji Sahib.
- Didn't Japji Sahib even believe in reading it?
- - I want to experience what they say.
- You are very atheist!
- - You are a believer, have you seen the divine? And my deepest belief is that I also want to live deep atheism.
- You are, do you not trust your existence? Who made you, who made the world? The one who has created is the Supreme God.
- - These questions were very deep in me. I had a lot of science with these questions. Jap Ji Sahib is the moment of Baba Nanak when he was enlightened. That means it is the experience of the last moment of life. My experience of them is very sweet, so when I experience this I will be confident.
- Meaning that you do not trust your existence too?
- - No
- What do you think of you?
- - A mysterious puzzle, when it is solved, then I will not have to trust, I will become confident.

***—***
There is more
>>>

चलो आज हम सब खुद को देखिये, खुदा को एक झरोखा मान कर 

मैं सदा ही सोचती रही कि मुझे क्यों सब का प्यार आता है ,और क्यों मेरे को कभी कोई बेगाना नहीं लगा?
कैसे सब को अपनी ही फॅमिली से प्यार है, आपने ही मुल्क को महत्व देतें हैं, और कैसे आपने ही धर्म को सब से अच्छा मानते हैं ?
हम अलग अलग क्यों हाँ? , हम सब एक साथ क्यों नहीं रहते ?, हम सब झगड़ा क्यों करतें हैं? मेरे सवालों के जवाब किसी के पास है ही नहीं था। या जवाब देना ही नहीं चाहते थे। 
कभी कभी तो ऐसे भी लगता था कि ज़रूर मैं ही पागल हूँ। मेरे को मेरा पागल समझना इस लिए भी लगता था कि सब ने ज़िंदगी के किसी न किसी हिस्से में उन्नति की हुई थी। और मैं सदा सब के पीछे पीछे ही घूमती रहती। मेरे से कभी सहारा ही नहीं जाता था कि कोई मेरे से कभी नाराज़ हो। किसी की थोड़ी सी भी नाराज़गी मेरे लिए पहाड़ जैसी होती थी। मेरे चारों ओर ऐसे लोगों का बसेरा था कि वो खुद ही गलती करते और खुद ही रूठ जाते। खुद ही चोर और खुद ही पुलिस बने रहते। प्यार मेरी कमज़ोरी था और मैं सदा ही कसूरवार हूँ या नहीं हूँ , मेरे लिए नतीजा एक ही होता था कि मैं दोषी हूँ। 
मेरे में यह सवाल बहुत ही घूमता था कि मेरे को प्यार करने की तमीज़ ही नहीं, समझ ही नहीं कि कैसे प्यार किया जाता है ? फिर मैंने खुद को कहना कि देख तेरे को प्यार करना आता है या नहीं, यह सवाल नहीं है। जवाब सिर्फ यही है कि तेरे दिल में यह तो है कि यह सब मेरे हैं। और यही सच है। सच को कभी आंच नहीं। आप ही सवाल आता और आप ही जवाब आता और मैंने आगे बढ़ जाती। 
हम सब ने सदा एक कहावत सुनी है कि 'कुत्ते की पूंछ कभी सीधी नहीं होती' वोही मेरा स्वभाव था कि कितना भी गिर जाऊँ पर मेरे में यह कभी नहीं आएगा कि कोई भी हो, पराया है। 
मैं 9 साल की थी, हमारी यूनाइट-फॅमिली थी। लड़ाई-झगड़ा !माशाअल्लाह , खुदा की बहुत कृपा थी कि सब घर के members के दिमाग का तापमान हाई डिग्री पर ही रहता था। झगड़े में सब ने दादा दादी को भूल जाना कि उन को कुछ खाने पीने के लिए भी चाहिए। मेरी नज़र ऐसी बातों में तेज़ होनी ही थी। ऐसी हालत में मेरा दिमाग बहुत तेज़ काम करता था। और स्कूल की पढ़ाई सब से घट काम करता था। यह मेरे दिमाग की योगिता थी और आज भी यही है। मुसीबत के वक़्त मैंने काम आना और दादा दादी ने कभी मेरे को प्यार दिखाया भी नहीं। एक बार दादी मेरी चचेरी बहन को प्यार कर रही थी, उस वक़्त मेरे में ईर्ष्या नहीं आई बलिक एक समझ आई कि ज़रूरी नहीं कि मेरे लिए भी प्यार दादी के दिल में आये। 
इस समझ से मेरे में अब एक सवाल ओर आया। 
अगर मैं कहती हूँ कि मेरे में परमात्मा के लिए प्यार है तो क्या अगर मैं Jesus के वक़्त में होती तो क्या मैं जीसस पर भरोसा करती या न करती ?
अगर मैं हज़रत मुहम्मद के वक़्त में होती तो मैं रसूल-ए -अल्लाह की सोच को अपनाती ?
अगर मैं महाभारत में होती तो मैं किस की साइड पर होती ?
अगर मैं बाबा नानक के वक़्त में होती, तो मेरी सोच क्या होती ?
मतलब कि दादी के व्य्वहार ने कैसे मेरे में यह सवाल खड़ा किया ,मेरे को कोई समझ नहीं थी।और मैंने झट से कहा कि मैं तो ऋषिओं का साथ देती। तो मैंने खुद को पूछा कि 'फिर आज आप यहाँ पर क्या कर रही हो, तेरे को पता है कि जीसस का वक़्त कितना पुराना है, हज़रत मुहम्मद का कितना और बुद्धा का कितना ?'
अगर मैं उन ऋषिओं के वक़्त में होती ,तो मैं आज अपनी सोच को, अपनी ज़िंदगी की स्थिति को समझ कर कह सकती हूँ कि मैंने कभी उन पर भरोसा नहीं किया होता। 
क्यों ?
क्यों मैं ऐसा सोचती हूँ ?
क्योंकि समझने के लिए वैसी ही समझ का होना ज़रूरी है। आज भी हम सब के भरोसे में शक की मिलावट है। शक सदा ही रहेगी, जब तीक हमारे साथ कोई अनूठी घटना नहीं घटती। और शक होनी भी चाहिए, अगर हमारा भरोसा सच्चा है तो शक भी उतनी ही सच्ची होनी चाहिए। हमारी शक हमारे लिए mile-stone का काम करती है। भरोसे में शक न हो, तो भरोसा की बुनियद कभी पक्की नहीं होती। 
अगर आज के वक़्त में मेरे में इतनी समझ नहीं है कि आज भी परमात्मा किसे न किसे ज़रिये और किसे न किसे रूप रंग में हम को समझ दे रहा होगा ,तो मैं उस वक़्त भी किसी की समझ पर भरोसा न करती। हम इंसान को मरने के बाद पूजने वाले हैं, क्योंकि व्यक्ति के चले जाने के बाद ही हम को समझ आती है। 
जैसे जैसे बुद्धि बढ़ती जाती है वैसे ही हम को मास्टर मिलेगा। 
अगर मैं एक अनपढ़ व्यक्ति को जा कर यह कहूँ कि 'परमात्मा हवा जैसा है, आकाश जैसा है' , क्या वो मेरी बात को समझेगी? कभी नहीं। मेरे को उस के दिल में परमात्मा का दिया जगाने के लिए व्यक्ति के रूप का ही सहारा लेना पड़ेगा और उस को हीरो बना कर के पेश करना पड़ेगा। और क्या आज की जेनरेशन को यह चाहिए ? नहीं। आज की जनरेशन को हवा की समझ आ जायेगी, आकाश की समझ आ जायेगी पर आज की जनरेशन के आगे अलग किस्म के सवाल खड़े हैं। आज की जनरेशन का mind बहुत ज़्यादा कंफ्यूज है। उस को इंस्टेंट कॉफ़ी की तरह ही इंस्स्ण्ट परमात्मा चाहिए। 
अब सवाल यह है कि हम इंस्टेंट परमात्मा कहाँ से खोज कर लाएं ?
हम जो कम-अक्ल वाले थे, हमारी काम-अक़्ली ने जीसस , मुहम्मद, कृष्णा पर भरोसा नहीं किया। 
आज ज़्यादा अक्ल वाले हैं तो उन को वीडियो गेम की तरह, जहाज की उन्नति की तरह, मतलब कि आज की प्रगति की तरह ही जल्दी परमात्मा के दीदार चाहिए। 
आज भी हम वोही लोगों हैं, हमारी समझ भी वोही है , सब कुछ वोही है। घटना का रंग रूप आकार बदला है , वो आज की समझ के अनुसार है - पर जो वक़्त का लहज़ा है, वक़्त की चाल है - वो आज भी वोही है -जो युगों पहले थी। 
जीसस के साथ दो लोग, मुहम्मद के साथ दो लोग , कृष्णा और बुद्धा के साथ एक-एक , बाबा नानक के साथ दो लोग। ज़िंदगी के हर लेवल पर हम को वही कठनाई का सामना करना पड़ेगा, जो एक पैसे कमाने वाले को करना पड़ता है और एक परमात्मा को कमाने वाले को करना पड़ता है।हम जिस भी लेवल पर रहतें हैं, उस का कानून हर हिस्से केलिए एक ही है, चाहे पैसा हो या परमात्मा। 
हम को अपनी चाहना को पूरा करने केलिए संघर्ष करना ही पड़ेगा। 
अगर मैंने अब यह सोचा कि मैंने कोई भी संघर्ष नहीं करना, मैंने तो संसार ही छोड़ देना है , बस आज से मैं हूँ सन्यासी। बस मेरा संसार से कोई लेना-देना नहीं है। और मैं जंगल की तरफ चल पड़ी। 
भीड़ में भी संघर्ष खुद के साथ है , अकेले में भी खुद के साथ है। संघर्ष से हम बच नहीं सकते। तो हम को क्या करना चाहिए ?
यहाँ पर खड़े हैं, वहीँ से शुरू होतें हैं। 
आज मैं खड़ी हूँ , दो संसार के बीच 
एक बाहर है संसार 
एक है मेरे भीतर संसार 
बाहर का संसार और भीतर का संसार एक ही चीज़ है। बाहर का संसार भीतर के संसार की परछाईं है। सिर्फ ठोस और तरल जैसा ही फर्क है। जितने हम तरल को पकड़ते हैं उतना ही हम हम उस को ठोस बना देतें है पर उस स्वभाव तरल होने के कारण उस ने फिर बहना शुरू कर देना है, जो हमारे दर्द का कारण बन जाता है। 
हर इंसान आपने आपने हालातों के अनुसार ही काम करता है और कदम लेता है। किसी ने अकेलेपन की धरती पर ही अकुंर होना है। ज़िंदगी के अन्नत रूप है जो अनंत किरदार लेके ही खुद को परगट करती है। 
मैं कनाडा में रेडियो होस्ट थी और मेरे दो प्रोग्राम चलते थे। इस लिए मेरे को बहुत लोग जानते थे और मेरी बात-चीत होती ही रहती थी। मेरा बातचीत का प्रोग्राम भी था। 
हर इंसान खुद को पॉजिटिव मानता है, जब दूसरे का किसी का भी नाम आता है तो उस को कभी भी पॉजिटिव नहीं देखता। चाहे वो उस से भी बेहतर ज़िंदगी को जी रहा होता है। जब हम आपने साथ वाले लोगों को खुद से बेहतर नहीं मान सकते तो हम उस इंसान को कैसे बेहतर मानेगे, जो निर्वाना प्राप्ति है? हम आज बुद्ध नानक जिसु मुहम्मद को पूज सकतें हैं , पर , अगर हम उन के समकाली होते, कभी उन पर भरोसा न करते। जब अभी तीक हमारी सोच ने विकास नहीं किया 
तो उस वक़्त हम कैसे विकसित रूप को पहचान लेते?
मेरे को बहुत लोग मिलें , जिन की बातें सुन कर सर झुक जाता था। २-३ महीने के बाद: बातें और सोच में फर्क दिखाई देने लगता। 
१- किसी ने कहा कि बाबा नानक ने कितना अच्छा कहा कि ग्रहस्ती में ही परमात्मा मिलता है। सो हम को सन्यासी में भरोसा नहीं। 
मैंने पूछा , क्या भाई फिर तो आप ने खुदा को पा लिया होगा। माशाअल्लाह ,आप के बच्चे भी ५ हैं। 
कहने लगा , हम तो पापी हैं , हमारी तकदीर में कैसे ऐसा हो सकता है ?
फिर जब बाबा नानक की बात का आप की ज़िंदगी में कुछ लेना-देना ही नहीं तो आप ने बात क्यों की?
२- किसी ने कहा कि, हम गुरु गोबिंद के चेले हैं .
मैंने कहा कि देखो भाई , मैंने तो आप को देखा है, सो मैं तो आप लोगों को ही मान सकती हूँ। 
मतलब यह कि आप को गुरु गोबिंद के ऊपर भरोसा नहीं ?
मुझे जितना गुरु गोबिंद ऊपर भरोसा है, उतना ही भरोसा आप पर है। 
आप कैसे हम को गुरु के बराबर मान सकती हैं ?
मैं बराबर मान सकती हूँ , क्योंकि मेरे पास कारण है। 
क्या है ?
जैसे आप गुरु गोबिंद पर भरोसा करते हो , जिस के बारे में आप ने सिर्फ सुना है , देखा नहीं। फिर भी इतना गहरा भरोसा। तो मैं तो आप लोगों को देख रही हूँ, आप के भरोसे को देख रही हूँ। तो मेरा भरोसा तो आप लोगों से भी गहरा होना चाहिए। 
वो गुरु थे, हम तो बेवक़ूफ़ हैं
सुनो और देखो मेरी ओर:
गुरु गोबिंद को आप इस लिए जानते हैं कि गुरु ने अच्छे काम किये और आज तुम्हारे आइडियल बन गए। आप मेरे आगे बैठे हो, एक बहुत अच्छे भरोसे को देख रही हूँ , एक गहरे प्यार को देख रही हूँ , एक गहरी श्रद्धा को अनुभव कर रही हूँ। सब से ज़्यादा मेरे लिए यह महत्वपूर्ण है कि मैं आप लोगों को देख रही हूँ। सो मेरा भरोसा, मेरी श्रद्धा आप में है, गुरु में नहीं। गुरु से मैंने सिर्फ आशिर्बाद लेना है , वो मैंने ले लिया है। उन से मेरा सिर्फ यही नाता है। मेरा भरोसा और प्यार आप के साथ है , गुरु के साथ सिर्फ आशिर्बाद का रिश्ता है। 
३-
किसी ने पूछा :
- क्या आप को परमात्मा पर भरोसा है ?
- - मैंने कहा, नहीं है। 
- क्यों नहीं ?
- - क्योंकि मैंने देखा नहीं 
- फिर आप को किस पर भरोसा है?
- - आप पर 
- मुझ पर ,क्यों?
- - क्योंकि मैंने आप को देखा है। कहतें हैं कि आँखों देखी चीज़ पर भरोसा करना चाहिए। 
- फिर तो आप बाबा नानक पर भी भरोसा नहीं करती ?
- - ५०%भरोसा करती हूँ, जब मैं जपजी साहिब को पढ़ा था। 
- क्या जपजी साहिब को पढ़ कर भी भरोसा नहीं हुआ ?
- - मैं उन के कहने को अनुभव करना चाहती हूँ। 
- आप तो बहुत नास्तिक हो !
- - आप तो आस्तिक हो, क्या आप ने परमात्मा को देख लिया ? और मेरी यही गहरी आस्तिकता है कि मैं गहरी नास्तिकता को भी जीना चाहती हूँ। 
- आप तो हो , आप को आपने वजूद पर भी भरोसा नहीं है क्या? आप को किस ने बनाया , संसार को किस ने बनाया ? जिस ने बनाया है, वोही परमात्मा है। 
- - यह सवाल मेरे में बहुत गहरे थे। इन सवालों के साथ ही मेरे में साइंस बहुत थी। जप जी साहिब बाबा नानक का वो पल है जब वो enlightened हुए। मतलब कि ज़िंदगी के आखरी पल का अनुभव है यह। उन का यह अनुभव मेरे को बहुत प्यारा है , सो जब मैं यह अनुभव कर लूंगी तो भरोसा हो जाएगा।
- मतलब कि आप को आपने वजूद पर भी भरोसा नहीं?
- - नहीं 
- आप आपने आप को क्या समझती हो ?
- - एक रहस्यमई पहेली , जब हल हो जायेगी, तब मेरे को भरोसा करना नहीं पड़ेगा ,मैं भरोसा ही बन जाऊँगी।
***—***
आगे और है 
>>>
« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
see you again