BREAKING NEWS
latest

Have to walk like a Sanyaasi - No Matter what the Path

Everything is a religious book


When I share the new experiences of everyday with everyone in the form of a post, a question again started buzzing on the mind's shadow today. The question was-
If I have any experience then why do I want to share with you all?
If I came to the answer that this is the rule of my life that we are all aware of each other, then if I had the money to pay for a new experience, would I have shared it or just told it or how I got it?
Money is very important. It is also natural to become greed of need. When does greed become necessary? When we forget the rest of our life. Necessity remains necessary - as long as we remain vigilant for every part of life. This mistake takes away from us the rest of our life.
If I am the channel of experience today, then I am sharing, so no one comes to ask how we will have this experience - or that we too have such experience, if I were talking about money, what would it have been like?
A very deep experience: which is very true: and very painful: from which we will all know that we ourselves are our greatest enemies, we do not need any other enemies.
I have seen and I have understood that life fulfills one another only in life and it is the rule of every sphere of life. I have known life so deeply that I am the one who produces me. I recognized that as we have wisdom, so we identify life. We are all just one channel - for each other. As human comes in our life, it comes only to increase our information - if we feel that none of our information is increasing, then our way of seeing will be more or our understanding will be somewhere else. But we are all living under one rule, then the rule applies to all.
We have always come out of a deep experience that we all look at the beauty of face first and then we can see the beauty of mind or heart  - just like this we first see money, then we can see someone's understanding and wisdom.
As much as we are focused on the above persecution, in the same way rules are applied on our lives and we become entitled to happiness and sorrow.
Today, when I thought in the morning why I could write and share it, much of this became my understanding and inspired me even more. In which I felt that the most important point was that this is the movement of my life. If this movement of mine stops, then I stop.
We all are a source of information, knowledge and beauty for each other, yes, by which we also know - we also learn and pave the way for each other.
 The experience that we take directly becomes our understanding - say that what we study becomes our understanding, it does not happen. The information is either read, or on our experience, it serves as a seal that the experience of someone else is similar to our experience. Which gives our mind a rest whether we are right or wrong.
Japji Sahib or Geeta
Be it Quran or Puran
'God is the identity of God'
Before that, according to our own thinking, we are bound to be satisfied, whom we are sitting with as our wisdom. When we have only read that 'a person is identified by his friendship'
May we not misunderstand any part of life or accept it, life does not matter. Wrong is the limiting point of why we think it is wrong. There is nothing in life nor anything wrong.
The 'wrong' that we have seen, believed, or understood wrong - it is far from our thinking, our idea understanding.
I see how huge and vast every person is. There is no limit to the status of that. This life is such a deep subject, and how everything describes this subject - Amazing. Everything is the same thing - taking different colors and making life beautiful. Because everything is a book for everyone, there is nothing more precious than this, nor is there any religious book deeper than this - be it any religion or religious book; - Whoever went to write the Sage-Saint or  Peer-Paigamber, they have all read this real natural book, then have given themselves the experience to us

------***-----

हर रोज़ के नए अनुभवों को जब पोस्ट के रूप में सब के साथ सांझी करती हूँ तो एक सवाल ने फिर आज दिमाग के छते पर भिनभिनाना  शुरू क्र दिया। सवाल यह था कि-
अगर मेरे को कोई भी अनुभव होता है तो मैं क्यों,आप सब के साथ सांझा करना चाहती हूँ?
अगर मेरा में जवाब यह आया कि यही ज़िंदगी का  रूल है कि हम सब एक दूसरे के लिए जानकारी हैं तो यह होना ही है ,होगा ही .
  अगर मेरे पास  नए अनुभव की वजाए पैसा आता तो क्या मैं उस को सांझा करती या सिर्फ यह बताती कि या मेरे पास कैसा आया ?
पैसा बहुत बड़ी ज़रुरत है। ज़रुरत का लालच बन जाना भी कुदरती है।  ज़रुरत लालच कब बन जाती है? जब हम ज़िंदगी के बाकी के हिस्से को भूल जातें हैं।  ज़रूरत तब तक ज़रुरत ही रहती है- जब तक हम ज़िंदगी के हर हिस्से केलिए सज़ग रहतें हैं।  यह हमारी भूल हम से ज़िंदगी के बाकी के हिस्से छीन लेती है। 
अगर आज अनुभव का ही मैं चैनल हूँ तो मैं सांझा कर रही हूँ, तो कोई पूछने नहीं आता कि हम को यह अनुभव कैसे होगा- या कि हम को भी ऐसा अनुभव होता है, अगर मैं पैसे की बात करती तो क्या ऐसे ही होता ?
बहुत गहरा अनुभव: जो कि बहुत ही सच्चा है: और बहुत ही दर्द देने वाला: जिस से हम सब जान जाएंगे कि हम खुद ही अपने सब से बड़े दुश्मन हैं ,हम को किसी और दुश्मन की ज़रुरत नहीं है। 
मैंने देखा और मैंने समझा है कि ज़िंदगी ज़िंदगी के राहीं ही एक दूसरे की पूर्ति करती है और यह ज़िंदगी के हर क्षेत्रा का रूल है।  मैंने ज़िंदगी को बहुत गहरे से जाना कि मैं ही मैं को पैदा करती है।  मैंने पहचाना कि जैसे हमारी बुद्धि होती है,वैसे ही हम जीवन की पहचान करतें हैं।  हम सब सिर्फ एक चैनल हैं -एक दूसरे के लिए। जैसा भी हमारी ज़िंदगी में इंसान आता है , वो हमारी जानकारी को बढ़ाने के लिए ही आता है- अगर हम को लगे कि हमारी कोई भी जानकारी बढ़ नहीं रही तो हमारे देखने का तरीक़ा और होगा या हमारी समझ कहीं और जगह पर होगी। पर हम सब एक रूल के आधीन ही जी रहें हैं, तो रूल सब पर लागु होता है। 
हम सब सदा ही एक गहरे तुजर्बे में से निकले हैं कि हम सब पहले शक्ल देखतें हैं फिर कहीं जाके हम सीरत देख पातें हैं -बिलकुल ऐसे ही पहले हम पैसा देखतें हैं, फिर किसी की समझ और बुद्धि देख पातें हैं। 
जितना हम उपरली सता पर केंद्रित होतें हैं, वैसे ही हमारे जीवन पर रूल लागु होतें हैं और हम सुख-दुःख के हक़दार बन जातें हैं। 
आज जब मैंने सुबह सोचा कि क्यों मैं लिख कर सांझ पा  तो इस के बहुत ज़्यादा हिस्से मेरी समझ बन कर मेरे को और भी प्रेरित कर गए।  जिस में सब से ज़रूरी यही बिंदु मेरे को लगा कि मेरे जीवन की यही मूवमेंट है। अगर मेरा यह मूवमेंट रुकता है तो मैं ही रुक जाती हूँ।  
हम सब एक दूसरे केलिए एक जानकारी का, ज्ञान का और सुंदरता का जरिया हां, जिस से हम  जानते भी हैं- सीखतें भी हैं और एक दूसरे केलिए राह भी बनतें हैं।
 जो  अनुभव हम सीधा लेते हैं, वोही हमारी समझ बनता  है- कहें कि जो भी हम पढ़तें हैं , वो हमारी समझ बन जाता है, ऐसा नहीं होता।  पढ़ा हुआ या तो जानकारी बनता है, या हमारे अनुभव पर यह मोहर का काम करता है कि हमारे अनुभव जैसा ओर भी किसी का अनुभव था और है. जिस से हमारे मन को आराम मिलता है कि हम सही हैं या गलत। 
जपजी साहिब हो या गीता 
क़ुरान हो या पुराण 
' देव हो के ही देव की पहचान होती है '
उस से पहले हमारे सब खुद की सोच के अनुसार लफ्ज़ ही हैं, जिन को हम अपनी अक्ल  मान कर बैठे हुए हैं ।  जब हम ने आम ही पढ़ा है कि कि 'व्यक्ति की पहचान उस की दोस्ती से होती है ' 
हम ज़िंदगी के किसी भी हिस्से को गलत सोच लो या उस को कबूल न करो, ज़िंदगी को कोई फर्क नहीं पड़ता।  गलत जिस को हम सोच रहें हैं, वो  गलत क्यों लगता है, यह  का एक सीमित बिंदु है। ज़िंदगी में न ही कुछ फालतू है और न ही कुछ गलत। 
'ग़लत' जिस को भी हम ने ग़लत देखा, माना ,या समझा - वो सिर्फ हमारी सोच से, ख़्याल से , समझ से बहुत ही दूर है। 
मैं देखती हूँ कि हर व्यक्ति कितना ही विशाल और विराट है।  जिस की औकात का कोई भी पारावार  नहीं।  इतना गहरा सब्जेक्ट है यह ज़िंदगी, और हर चीज़ इस सब्जेक्ट को कैसे ब्यान करती है- अमेजिंग। सब एक ही चीज़ - अलग अलग से  रंग ले के ज़िंदगी को खूबसूरत बना रही है। क्योंकि हर चीज़ ही हर एक केलिए एक किताब है, इस से अनमोल और कोई भी किताब नहीं, और न  ही इस से गहरी ओर कोई धार्मिक किताब है- कोई भी धर्म हो या धार्मिक ग्रन्थ हो; - जो भी ऋषि- मुनि- पीर - पैगंबर  लिख  कर गए, वो सब इस असली कुदरती किताब को पढ़ कर, फिर खुद के अनुभव को हम को  दे कर  गए हैं 
-----=----


Peer- fakir

LIKE:
There would be no diamond mines in the earth if there were not one spark of a diamond which causes every other atom of the earth with which it comes in contact to become a diamond. It is the same with the ruby. The diamond wants to make everything else become a diamond; the ruby wants to make every other atom into a ruby.

In each age the message was revealed more and more, now is the time to awaken to the truth within ourselves.
The prophets had renounced their self: that is why they were prophets. When the self is gone, then all the other selves come. When the self is before the eyes, then the soul is blinded.



The prophetic tendency exists in every part of the manifestation. Among the jinn and the heavenly beings there is the prophetic tendency and also in every part of nature: in the mineral and vegetable kingdoms, among the animals as well as among human

Oneness

 ONENESS:
The petals and leaves and thorns of the rose are all different, and yet there is one rose; the spirit of the rose is one, these parts are so many aspects of the rose. In the same way all spirits are different, but are the outcome of the one real Spirit. In reality there is only one Spirit and it is only because of a sense of illusion that there seem to be many spirits; every ray of the sun is accounted as separate from every other.



Mystery

Mystery of reality!
 life is a amazing and a unique mystery. Who are we truly ? The reality of life is a deep mystery. Wisdom, Conscious and true nature and their dimensions are powerful and how we feel ourselves as a universe. totally unique- amazing experience. Life's mystery is so big so deep we have difficulty explaining what resides beyond. What is time travel? We are time. Past- Present and Future all existing at the same moment in time and in universe and in us- How? Wow! we are planets and solar systems too but How?

Who has the power today? ( Corona Virus)

Today when I went for hiking in the morning, I saw the green veneer of nature spreading all around. Trembling at the sound of the moving wind, as if enjoying a kirtan (chatting). In this quiet chatting of nature, I felt as if there was a message and I sat there and began to watch it very carefully.
Suddenly a buzz came from the brain
Corona virus
Only for human
The rest of the universe is busy in its movement and is living. The person, who thought of the animal, the bird, only for himself/herself - one considered it as a gift to eat - who was able to accept everything God made, just for himself/herself. Only considered own-self the most beautiful art, today, person is locked - his house became those cage.
Once upon a time, Aeriana ( daughter) told me that one day a person should be locked in a cage and all this world, country, roads, etc. should be all for animals and birds. Because we have seen in many countries that person is a very bad animal - and person does not believe in anyone else's position in the universe - nor does he/she understand. I listened to thousands of people like Aeriana bad for bad people like those who don't understand anything. Those who do not understand life apart from power, money and sex.
New York, for which every person is crazy, today there are only tall buildings. What is the benefit of those buildings which are empty!
If you look at Paris today, what will be seen, Singhapore, Dubai, London, Hongkong, any country look or think carefully, no one will be happy.
  It is said that if you have life, then there is a world
If not humans, who will see Ego, will see tall buildings?
I never understand how a person says that I am the best thing. I don't understand how it is, how?
If a person is happy, is comfort, is free, if this person is aware of what life is, who I am, why I got this life and this world, why did I need to be, if I was not, the world . And what would be lacking if I was not in the universe ??? If the answer to all these questions is with the human being, then the person's position may be slightly higher.
How does one boast of being selfish today, Ego shows on fake positions, how?
How can a person boast of something that has to die?
Such an insult to animals in India, Toba Toba
Go to the temple, in the morning, when the dog is lying on the road, lift it and hit it with stones. Abused on abuses. How, one can go to the temple with such nature, how?
In anger, person is the most ugly animal, so how can you show your face to your family at home? how ?
When the tongue is abused, abuse is taken out in front of their own children, then the parents never feel ashamed of what the children will think?
When a person shows the lack of harmony in the street, then how can he/she again go through that street, how?
 Does one not have any respect for own-self? Leave the other, do you not feel ashamed of yourself that what a lowly person I am? Why not ?
 If our house does not become a temple for us, how will the temple become a place of worship for us? Will not be made, will never be made.
If we do not respect our own environment, then religion cannot begin, it will never happen?
If the world did not build a temple, if humans, animals, and birds were not seen to be the art of God, then we do not yet know that there is religion?
God is one, the world is one, the universe is one, happiness is one, sorrow is one, healing is one and disease is also one.
 If one is recognized, even one will be absorbed and will remain, 'Zero'
The position of this 'zero' is that of no one else.
Look for religious places today.
 Religions all remain on one side when life comes to danger.
If the truth of life is that all religions will remain on one side, then what is the reality? Now we should have this question.
 If we give up religion to keep life alive, then what is the reality of this life - this question should be there now?
If person starts to spoil the 5 elements then illness will come. Whether individual or group. Corona virus is a group disease. Earth has to save itself.
Our humanity has become ill, this mankind has been diagnosed with cancer. It is now 1st stage - treatment can be done. The mind is our patient, our brain is patient, the body is our patient, now the soul was left. The soul has to be saved.
What will worldly progress do, if humans are not there? Let me look around: Even today nature is waving like it was 6 months ago. There is no difference to nature like human had no difference. And person has stood on a question mark.
Pride kills humans.
If a person is a human being, then one will appreciate his own qualities and will get others to do the same.
If we talk about the state of position, then who has the power today: the corona virus.
Humans should have had a sense, how did the condition of a disease increase, that too from humans. How?
When a person does not learn anything from everyday life, then when nature itself becomes master, it teaches by holding an ear like this.
But how will humans learn?
Only when we make mistakes, we will learn
 This is the real natural school in our life, who makes a mistake, then one becomes a wise. Life itself is a master, student, subject, object, lesson and learning. The harder we are - the harder our ears will be caught.

Has the corona virus explained that whose position is bigger?


आज में जब सुबह हाईकिंग के लिए गई तो मैंने चारों तरफ फैली हुई कुदरत की लहराती हरी लिबास को देखा। चलती हवा की आहट पर पेड़ों की हिलजुल ,जैसे कि किसी कीर्तन का आनंद ले रहे थे। कुदरत की इस शांत  चैटिंग में , मेरे को ऐसे लगा कि जैसे कोई संदेसा है  और मैं वहीँ पर बैठ कर उस को बहुत गौर से देखने लगी।
अचानक  दिमाग में से एक गूँज आई
कोरोना वायरस
सिर्फ इंसान के लिए
बाकी सब ब्रह्माण्ड अपनी चाल में मस्त है और जी रहा है। इंसान ,जो जानवर को, परिंदे को, आपने लिए ही मानता था -आपने खाने केलिए ही मानता था - जो खुदा की बनाई हर चीज़ को बस खुद  के लिए ही समझता था, सिर्फ खुद को ही सब से सुंदर कला मानता था, वो  आज , वो बंद है- उन के घर उन  पिंजरा बन गए।
एक बार की बात है कि aeriana  ने मेरे को कहा कि एक दिन ऐसा आये कि इंसान पिंजरे  में बंद हो जाये और यह सब संसार, मुल्क ,सड़कें ,आदि  सब कुछ जानवर और पक्छिओं के  लिए  हो जाए। क्योंकि हम ने बहुत मुल्कों में देखा कि इंसान बहुत बूरा जानवर है - और यह ब्रह्माण्ड में ओर किसी की औकात तो मानता ही नहीं- और ना ही समझता है।  aeriana  जैसे मैंने हज़ारों ही लोगों से उन जैसे बुरे लोगों के लिए बदुआ सुनी ,जो किसी को कुछ समझते ही नहीं।  जो पावर पैसा और सेक्स के इलावा जीवन को जीवन ही नहीं समझते।
New York  जिस के लिए हर मुल्क  दीवाना है, आज सिर्फ ऊँची इमारतें हैं।  उन इमारतों का क्या फाइदा ,जो खाली ही हो !
आज Paris  को देखिये तो क्या दिखाई देगा, Singhapore, Dubai , London, Hongkong, किसी भी मुल्क  देखो या ज़रा ध्यान से सोचो, तो कोई भी ख़ुशी दिखाई नहीं देगी।
  कहतें हैं कि ' अगर जान है तो जहान है '
अगर इंसान नहीं, ईगो कौन देखेगा, क्या ऊँची इमारतें  देखेंगी। 
मेरे को कभी भी यह समझ में आता ही नहीं कि इंसान कैसे कह देता है कि मैं सब से अच्छी चीज़ हूँ. कैसे है यह अच्छी यही समझ में नहीं आता, कैसे ?
अगर इंसान सुखी है, खुश है, आज़ाद है, अगर यह इंसान समझ चुक्का है कि ज़िंदगी क्या है , मैं कौन हूँ, मेरे को यह ज़िंदगी और यह संसार क्यों मिला, क्या ज़रुरत थी मेरे होने की, अगर मैं न होता तो , संसार और ब्रह्माण्ड  में मेरे न होने से क्या कमी आ जाती ??? अगर यह सब सवाल के जवाब हैं इंसान के पास तो , फिर इंसान की औकात कुछ ऊँची हो सकती है। 
        आज कैसे खुद के होने पर भद्दा घमंड करता है फेक पोजीशन पर ईगो दिखाता है , कैसे ? 
जिस चीज़ ने मर जाना है ,उस का घमंड इंसान कैसे कर सकता है ?
इंडिया में जानवर की इतनी बेइज़ती , तोबा तोबा 
मंदिर को जातें हैं, सुबह का वक़्त, सड़क पर कुत्ता लेटा हुआ है तो , उठा के पत्थर उस के मारा दिया।  साथ गाली पर गाली दी।  कैसे , कोई ऐसे स्वभाव के साथ मंदिर में जा सकता है , कैसे ?
क्रोध में इंसान सब से भद्दा जानवर है, तो कैसे यह आपने घर में ही अपने परिवार को आपने चेहरा दिखा सकता है ? कैसे ?
जब जुबां पर गाली आती है , गाली अपने ही बच्चों के आगे निकाली जाती है, तो माँ-बाप को कभी शर्म महसूस नहीं होती कि बच्चे क्या सोचेंगे?
जब गली मुहल्ले में कमीनापन कोई इंसान दिखाता है तो ,वो कैसे फिर उस गली में से गुज़र सकता है, कैसे ? क्या उस को खुद की भी कोई इज़त नहीं ? दूसरे की  छोड़ो, क्या खुद के आगे भी शर्म नहीं आती कि  कैसा नीच इंसान हूँ ? क्यों नहीं ?
 अगर हमारे घर हमारे लिए मंदिर न बना तो मंदिर कैसे हमारे लिए पूजा का स्थान  बन जाएगा ?  नहीं बनेगा, कभी नहीं बनेगा। 
अगर हम ने खुद के वातावरण को इज़तदार न बनाया तो  धर्म की शुरूआत हो ही नहीं सकती, कभी नहीं होगी ?
अगर संसार मंदिर न बना , अगर दिखते  इंसान, जानवर,  पंछी , यह सब रब्ब की कला न बने तो हम को अभी पता ही नहीं कि धर्म  है ? 
रब्ब एक है , संसार एक है , ब्रह्मण्ड एक है , ख़ुशी एक है,  दुःख एक है , आरोग एक है और रोग भी एक है। 
 एक  पहचान लिया तो एक भी लीन हो जाएगा और रह जाएगा,  'ज़ीरो '
जो औकात इस 'ज़ीरो' की है, वो और किसी की भी नहीं। 
आज धार्मिक स्थानों की और देखो। 
 धर्म सब एक तरफ रह जातें हैं जब जान पर आती है। 
अगर ज़िंदगी का सच यह है कि  सब धर्म भी एक तरफ रह जायेगें तो असलियत क्या है ? अब हमारे में यह सवाल होना चाहिए। 
 हम ज़िन्देपन  को ज़िंदा रखने के लिए धर्म को भी छोड़ देंगे तो इस ज़िन्देपन  की असलियत क्या है - यह सवाल अब होना चाहिए ? 
अगर इंसान ५ तत्त  को खराब करने लगेगा तो बीमारी आएगी ही।  चाहे  व्यक्तिगत हो या समूहगत।  कोरोना वायरस समूहगत रोग है।  धरती ने खुद को बचाना ही है। 
हमारी इंसानियत बीमार हो  चुकी है, इस इंसानियत को नामुराद कैंसर हो चूका है।  अभी १स्ट स्टेज है - इलाज़ हो सकता है।  मन हमारे रोगी, अक्ल हमारी रोगी,  जिस्म हमारे रोगी, अब रह गई थी रूह।  रूह को तो बचाना ही है।  
क्या करेगी सांसारिक उन्नत्ति, अगर इंसान ही न हुआ तो ?। देखती हूँ चारों ओर: आज भी  कुदरत वैसे ही लहरा रही है, जैसे 6 महीने पहले थी।  कोई फ़र्क़ नहीं है कुदरत को जैसे इंसान को कोई फ़र्क़ नहीं था। और इंसान एक सवाल-चिन  बन पर खड़ा हुआ है। 
घमंड इंसान को मार देता है। 

अगर इंसान इंसान है तो वो आपने खुद के गुणों की खुद भी कदर करेगा और दूसरों से करवाएगा भी। 
अगर औकात की ही बात करें तो आज किस की औक़ात है :  कोरोना वायरस की। 
औक़ात  तो इंसान की होनी चाहिए थी , यह एक बीमारी की औक़ात  कैसे बढ़ गई , वो भी इंसान से।, कैसे ?
जब इंसान हर रोज़ की ज़िंदगी से कुछ सीखता नहीं तो जब कुदरत खुद मास्टर बनती है  तो ऐसे ही कान पकड़ कर सीखाती है। 
पर इंसान सीखेगा कैसे ?
जब गलती करेगा, तो ही सीखेगा 
 यही हमारी ज़िंदगी असली कुदरती स्कूल है , जो गलती करता है ,फिर वोही स्याना  बनता है। ज़िंदगी खुद में मास्टर है , विद्यार्थी है ,सब्जेक्ट है , ऑब्जेक्ट है , सबक है और सीख भी है।  जितने हम कठोर मन के होंगे -  उतने ही हमारे कान सख्ताई से पकड़े जाएंगे।
क्या कोरोना वायरस ने यह बात समझा दी है कि औक़ात किस की बड़ी है ?

Did you ever wish that you too blossomed like a flower

No one can do anything, which we have got natural method, to heal any part of life, there can be no better method than nature. Just like today I look at nature, know and understand, which will understand me, when I want to explain that understanding, then I will not be able to say what I feel is 100%. Whatever may be a great person, one will never be able to say a part. Why? Because this part remains, this part is unique to everyone- and mysterious. It is from this part that a person reveals a different character, unique elegance. The deepest beauty of this part is that this part is the same but we all have different feeling to see, understand and believe and this part is very mysterious.
The glimpse of this part gives us 100% confidence in God. Before this, no matter how much we say that we have full faith in God, this cannot happen. What is this glimpse - what is this?
The center of the universe.
Whenever we go, it seems that the moon is just with us. In exactly the same way, our state becomes childish and the condition becomes cosmic.
Have you ever seen yourself blossom from within like a flower?
In moments of deep love, when a boy and a girl mean that the love of both of them is adorned, bachelor and fresh like new fruit , like new morning - the feeling of unknown moments - the unknown intoxication situation - the time in which romance happens in their particles. Moments that are not handled, creating an unconscious environment - in this unconscious which is moving in the particle, In which life is in full aliveness.
We live like that
We bloom like flowers
A freshness - a newness makes us grow into the center of the universe.
The beauty: that blossoms into loneliness that blossomed like the universe; As soon as our eyes are opened, we remember everything, similarly such a uniqueness: which seems beautiful, which seems to be true, in which we have risen like we have died. Such a mysterious atmosphere: from which we are unaware that the game like Madari ( juggler ) shows such that one does not even know what is going to happen next.
Silent in deep beauty
 Unknowable in deep mystery, who knows everything
Such a uniqueness, which only gives the senses that you unconscious
All these will get it from nature itself - and from nowhere.
Books: Religious or Literature
Person: Any guru or any scholar
Everything visible, whatever it may be, will take us to the shore of the sea. How we have to cross the sea from there, we all have our own identity. In order to cross this sea, we must have an understanding of three things. Which we will get by nature - this is the way.
 Here, you must ask yourself the question that you can go by any path, become the identity of any religion, one thing is the same of all, 'silent'
Silent nor muslim nor hindu
 Silent nor italian nor japanese
Silent nor white nor black
Quiet is our nature
 Quiet is our natural foundation
Three things are needed to silence the mind
1- Beauty
2- Sanctity
3- Truth
These three things are fresh and new only through nature.
When we read any book, which we like very much, and we become one with the writer. In the same way, the beauty of nature unites us with the universe.

कोई भी ,कुछ भी करे , जो हम को कुदरती विधि मिली हुई है , ज़िंदगी के किसे भी हिस्से को हील करने केलिए, उस से बेहतर विधि और कोई भी हो नहीं सकती।  जैसे आज मैं कुदरत की ओर  देखो, जानू और समझूँ, जो मेरी को समझ आएगी , जब मैं उस समझ को समझाना   चाहूंगी तो जो मेरी अनुभूति है, उस को मैं १००% नहीं कह सकूंगी।  कोई  भी महापुरष हो ,वो भी एक हिस्सा कभी भी ब्यान नहीं कर सकेगा।  क्यों ? क्योंकि यह जो हिस्सा रह जाता है, यह हिस्सा सब केलिए अनूठा है- और रहस्यमई है।  इस हिस्से से ही व्यक्ति को व्यक्ति की अलग किरदार, अनूठी शान का पता चलता है।  इस हिस्से की सब से गहरी सुंदरता यही है कि यह हिस्सा एक ही है पर हम सब के देखने ,समझने और मानने की अनुभूति अलग है  और इस हिस्से की झलक हम को खुदा पर १००% भरोसा दिलवाती है।  इस से पहले हम कितना भी कहें कि हम को खुदा पर पूर्ण भरोसा है , यह नहीं हो सकता। यह जो झलक है -यह क्या है ?
ब्रह्माण्ड का सेण्टर।
जैसे कहीं भी जाएँ ,ऐसे लगता है कि चाँद बस हमारे साथ ही है।  बिलकुल ऐसे ही हमारी अवस्था बचपन की हो जाती है और स्थिति ब्रह्माण्ड की हो जाती है।
क्या कभी आप ने खुद को फूल की तरह भीतर से खिलते देखा है ?
गहरे प्यार के पलों में जब एक लड़का और एक लड़की मतलब  कि दोनों का ही प्यार सजरा हो, कवारा हो -अनजाने पलों का एहसास -अनजानी मदहोशी -उस  वक़्त  जो रोमांस उन के  कण कण में होता है। सहारा नहीं जाता पर बेहोश करता है -इस बेहोशी में जो कण कण में हो रही हिलजुल है-
 जो यह जिन्दापन है |
वैसा ही हमारे में जिन्दापन होता है
हम फूल की तरह खिल रहें होतें हैं
एक सजरापन -एक नयापन हम को ब्रह्माण्ड के सेंटर में जैसे उगा देता है।
वो सुंदरता : जो अकेलेपन में ऐसे खिले कि ब्रह्माण्ड ही जैसे खिल गया ; जैसे हमारी आंखें खुलती हैं तो हम को सब याद आ गया, वैसे ही ऐसा अनूठापन:  जो सूंदर लगे, जो अपना लगे, जो सच लगे, जिस में हम ऐसे जी उठे जैसे मर ही गए।  ऐसा रहस्या भरा माहौल : जिस से हम ऐसे अनजान हैं  कि जैसे मदारी खेल ऐसे दिखाता है कि जैसे उस को भी पता नहीं कि आगे क्या होने वाला है।
गहरी सुंदरता में चुप
 गहरे रहस्या में ऐसे अनजाने ,जो सब जानते हैं
ऐसा अनूठापन , जो सिर्फ ऐसा  होश देता है कि बेहोश हो  जातें  हैं
यह तीनों हम को कुदरत से ही मिलेगी - और कहीं से भी नहीं।
किताबें: धार्मिक हो या लिटरेचर
व्यक्ति:  कोई गुरु हो या कोई भी विद्वान
दिखाई देने वाली हर चीज़, कोई भी हो , हम को समुन्दर के किनारे पर ले जायेगी। वहां पर  से हम ने कैसे समुन्दर पार करना है यह हमारी सब की अपनी अपनी पहचान है।  इस समुन्दर को पार करने के लिए हमारे पास तीन चीज़ की समझ का  होना ज़रूरी है। जो हम को कुदरत से मिलेगी -यही राह है। यहाँ पर यह सवाल खुद से ज़रूर पूछ लेना कि किसी भी राह से जाएँ, कोई भी धर्म की पहचान बन कर जाएँ, एक चीज़ सब की एक ही है 'चुप'
चुप न ही मुस्लिम है और ना ही हिन्दू
 चुप ना ही इतालियन है और ना ही जापानी
चुप ना ही गोरी है और ना ही काली
चुप हमारा स्वभाव है
 चुप हमारी कुदरती बुनियाद है
मन को चुप करवाने केलिए तीन चीज़ की ज़रुरत है
१- सुंदरता
२- पवित्रता 
३- सत्य
यह तीन चीज़ें ताज़ी और नई सिर्फ कुदरत से ही मिलेगी।
जब हम कोई भी किताब पढ़तें हैं, जो हम को बहुत पसंद आती है, और हम लेखिक के साथ एक हो जातें हैं।  वैसे ही कुदरत की सुंदरता हम को ब्रह्माण्ड के साथ एक कर देती है।


Relationship


Relationship with nature is a best step like Beautiful companion 
Friends, just as pale leaves of the trees indicate the advent of autumn, daybreak brings the message of sunrise, 
in the same way today, 
my ‘I’ or ‘ego’ gives a glimpse of its freedom from me. 
Today, it seems to me that the 
Time is coming for me to get rid of my ‘I’ or ‘ego’.
 In doing this, what will happen? 
I do not know. 
During this period of forty-three years of my life, 
the present moments are the most critical as they give the message of taking me away from myself. 
When this message will find its fulfillment, I do not know.

The Law of Creation

The understanding of nature which reveals the Law of Creation
My life remained ever involved in the consciousness of death. 
There was a sleep that carried me far beyond death; 
otherwise, I was never kept unaware of the idea of death.
 The consciousness of death is only one and not more than one. 
The death may be the death of the body or of the mind and the intellect,
 all the shadows of pains and troubles in our life are the shadows of death; 
for what is life is always without any shadow. 
Life casts no shadow, 
because life is a mere feeling or a consciousness which revels in itself.
 Life is that element which can be come by only by eliminating one self.






Beauty of reality

The whole of life, everything, is the answer to our question. 
Sometime Shaheer is thinking why should she speak to anyone 
and writing these words, 
and writing books, 
WHY? 
What should she ask and talk or Why? 
because 
There is nothing to ask 
and talk


Nature of reality

When nature, when life itself covers its laws, then it means that they are best be covered.
WOW! 
Today!
The Very Nature is the answer to the question. 
With every question that arises to look at Nature
 - there is answer. 
Even a question about future 
or about some inquiry is revealed 
just by looking at a space,
 tree 
and 
even inner Silence


Beautiful Moment




Learn to get in touch with the silence 
within our own self 
and 
know that 
everything in this life has a purpose.








Use your brains and become a genius;

 listen to your heart and love the world, 

but 
live with your soul to master life itself






The heart is the plantation for the Last World. 

Sow the seeds of Dharma in our heart.

 Irrigate, fertilize and mature them with regular good deeds.

 If there is kindness and energy in the heart 
it will be fertile 
and 
an abundant harvest will result.

Art of dying ( Ego)




There is no relationship we can succeed at if we do not go beyond our ego, because the ego will inevitably foment conflict




Silence is the art of dying. Then our ego will be shocked. And it is also truer to cal I it the art of dying, because our ego is not going to grow, our ego is going to die in silence.




Silence illuminates our souls, whispers to our hearts, and brings them together. Silence separates us from ourselves, makes us sail the firmament of spirit, and brings us closer to Pure Life...[heaven]

Beauty of 'I'

Shaheer realized that in this creation there are no questions.
This creation has only one answer, 
but whose..?
Our, I:
Only I is a question, 
the rest of creation is the answer to this I.
The every question that arises in the heart of the Shaheer, 
she finds the Answer in the Life before Her...

She knows that:
Every wave of the sea as it rises, 
seems to be stretching its hands towards, 
as if to say, 
'' Take me up higher and higher''...

Life is a art


---#1
* JOURNEY OF DESIRE
* Desire to live, Desire to know, Desire for power, Desire for happiness, Desire for peace. These five things work consciously or unconsciously in the profound depth of every soul.

---#2
* DESIRE TO LIVE

= When the desire to live brings one in touch with one’s real life, a life which is not subject to death, then the purpose of that desire is fulfilled

---#3
* DESIRE TO KNOW

=When one has been able to perceive fully the knowledge of one’s own being, in which is to be found divine knowledge and mystery of the whole manifestation, then the purpose of knowledge is fulfilled

---#4
* DESIRE FOR POWER
= When one is able to get in touch with the almighty power, then the desire for power is accomplished

---#5
* DESIRE FOR HAPPINESS
=When one has been able to find one’s happiness in one’s own heart, independent of all things outside, the purpose of the desire for happiness is fulfilled

---#6
*DESIRE FOR PEACE
=When one has been able to rise above all conditions and influences which disturb the peace of the soul, and found one’s peace in the midst of the crowd and away from the world, in him the desire for peace is fulfilled

रेतली राह का मुसाफ़िर

रेतली राह का मुसाफ़िर
माननीय प्यार , आज मैं खुद को आप के आगे सन्मानित करना चाहती हूँ कि मैं आप की रचना हूँ ; और खुदा के आगे मैं खुद को धन्यवाद का उपहार देना चाहती हूँ कि 'धन्यवाद शहीर ' कि आप ने खुदा से प्यार किया। हर किर्या के लिए धन्यवाद
The best cure of the body is a quite mind:. Powered by Blogger.