BREAKING NEWS
latest

Have to walk like a Sanyaasi - No Matter what the Path

Secret Strategy to Stop a mistake Quickly

 My pilgrimage

A pilgrimage is that which changes the direction of life
 and the state of mind 

A pilgrimage is not only about going to a religious place, when the mind becomes a pilgrimage place, it becomes a pilgrimage everywhere. Which can be deeper than nature? When the mind took a bath in beauty and wore a veneer of purity, everywhere became the abode of truth.
 Something similar happened to me when I started visiting the Los Angeles lakes and hiking. Even the fallen leaf in the lake, introduced me to its beauty. The journey of the leaf falling from the tree started to look as if it had just come from Hajj and felt liberation of itself. Pictures of trees glistening from the water started to look as if I wanted to understand some incident of a Veda. And in the small waves of water, such a tale of ages is flowing, which gets absorbed into the depths within me.
When I lift my eyes and look at the world, the circle of the world comes into my vastness, and that takes me into the vast space and unites with all the universe.
How can I consider a place to be a pilgrimage, 
while every particle of the universe has been teaching me religion.

It is as if the birds have also come to the pilgrimage, and as if an unknown hand sends his blessings to the sun's rays.
I feel that there is only pilgrimage around me, so how can I consider any one place as a pilgrimage?
Is there such a form of life, unique such that it makes day by night and night by day. Infrequent such that there is no pain and how it changes the alchemy of living. This is the real prasad (holy food or real bless-Which makes life sweeter, not just the tongue), which removes ignorance

***—***

 मेरी तीर्थयात्रा 
 तीर्थ वोही होता है, जो दिशा ज़िंदगी की और दशा मन की बदल दे 


तीर्थ यात्रा सिर्फ धार्मिक जगह पर जा के ही नहीं होती, जब मन ही तीर्थस्थान बन गया तो सब जगह ही तीर्थ बन जाती है।  कुदरत से गहरा तीर्थ ओर  कौन सा हो सकता है? जब मन ने सुंदरता में नहा लिया और पवित्रता का लिबास पहन लिया तो सब जगह ही सच का निवास बन गई। 
 मेरे साथ ऐसा ही कुछ हुआ, जब मैंने लॉस एंजेल्स  की झीलें पर जाना शुरू किया और हिक्किंग पर जाना शुरू किया है।  झील में गिरा हुआ पत्ता भी, मेरे को अपनी सुंदरता से परिचय करवाने लगा। पेड़ से झड़ते पत्ते की यात्रा ऐसे लगने लगी कि जैसे अभी अभी यह हज से आया है और खुद की मुक्ति को महसूस करता है।  पानी में से झलकती पेड़ों की तस्वीरें ऐसी लगने लगी कि जैसे  मेरे को किसी वेद की कोई घटना को समझना चाहती है।  और पानी की छोटी छोटी लहरों में जैसे युगों  की ऐसी दास्तान  बह रही है, जो मेरे भीतर की गहराई में जा के लीन  हो जाती है। 
जब मैं आँखों को उठा कर संसार की ओर देखती हूँ तो मेरी विशालता में संसार का घेरा आ के समा जाता है, और जो मेरे को विराट स्पेस में ले जा के सब ब्रह्माण्ड के साथ एक कर देता है। 
मैं कैसे किसी एक जगह को तीर्थ मान सकती हूँ, 
जब कि ब्रह्माण्ड का कण कण मेरे को धर्म सीखा रहा है। 
ऐसे लगता है कि जैसे पक्षी भी तीर्थ पर आएं हैं, 
और जैसे कोई अज्ञात हाथ आपना  आशिर्बाद सूर्य की किरणें के दुयरा भेजता है।

मैं महसूस करती हूँ कि मेरे चारो तरफ सिर्फ तीर्थ ही है तो कैसे किसी एक जगह को तीर्थ मान सकती हूँ ?
क्या ज़िंदगी का ऐसा रूप भी है, अनूठा ऐसा कि दिन को रात और रात को दिन बना दे।  
निराला ऐसा कि जिस में दर्द है ही नहीं और कैसे जीने की कीमिया को बदल देता है। 
 यह है असली प्रशाद, जो अज्ञानता को मिटा देता है;जो जीभ को ही नहीं, जीवन को मीठा बना देता है     

What is the relationship between two?

 No part of my life could ever escape from any deep sighting of me,
 no matter what my condition is, 
one of them is going to see everything in a healthy sense.

What is the difference between silence and dedication, and do they have a relationship?
What is silent?
What is surrender?
Quiet is a very deep and very vast multiplication condition, out of which every living being is born.
Surrender is a state of deep knowledge that confines the entire universe in itself.
The status is always of the situation and the stage is always of the condition. We can also say that the status  is subject and the stage is object. Or we can say that silent is the quality of our existence and dedication is the knowledge of our life.
Silence is the deepest quality.
Dedication is the deepest knowledge of all.
We have seen and understood the virtue and the knowledge that how knowledge itself leads to our life by virtue. Now we have to see and understand what is the relationship between silence and dedication?
The relationship is the same, which is of virtue and knowledge, but there is a huge difference between them.
When is the person silent?
When he learns that he is a small particle in a very large circle. Meaning that when a person reaches that peek of knowledge, here one comes to understand that all the universe is born in oneness and dies. No one to do, no one to do it. Everything is a game tied in a very deep law, which is secret to play and the game itself is a miracle. What I was living till then, it was just the law, my light. Whom I have been that this is me; It was a law. The law was also such that the law made itself 'I' and presented itself in the court of life by making itself a game.
Now when all this game is ahead of the person, what will One do?
In life, when any such incident happens in front of us, which we feel is untoward, which cannot be trusted, then how do we get silent?
Now look at the condition and situation, which is beyond our thinking, which is even more than we believe, in such an event, we will be football, we are the ground and we will become players and come ahead of us.
How will we say?
Our tongue will not support us.

When we are reduced to seeing beauty in our own worldly life today, then there is miracle and mystery in the beauty there, then?
This incident is called Nirvana.
Quiet in us, that quiet happens:when we know the truth that our life is not as much as a particle. When the particle arrives at its own right, it destroys the world by becoming an atom bomb, we are destroying ourselves, which are the sum of millions of particles, so how did we become intelligent? Here our ego is different from us, meaning that at the beginning of our silence we have a revenge of the mind, that means the death of the mind, the mind adores a new form.
When we are enrolled in the silent dimension, then our experience changes continuously in our silence, and we go only by looking. Whatever we find in the path, everything looks lovely, everything feels fresh, which makes us feel that we are born now, we are dying now; Fails and passes at the same time. We have no difference between day and night. It is also called the spiritual dimension.
As the silence deepens, our hands are opened, and everything that was in the hands is left behind. And we become empty and one day we become completely empty.
To be silent is to surrender.
how ?
When we see our position, our ego collapses. Just as the leaves fall in the fall and the tree falls naked, just as with whom we are made till date, everything falls, whatever happens.
Believe it or love
Religion or righteousness
Be it country or service
Quality or knowledge
Relationship or master
Everything will fall and go bare.

In such a vast dimension, when we were bare, we became devoted. This event fills the eyes with water, the more it fills them with happiness and joy. At that time we do not even understand that the wetness of our eyes is due to happiness, not because of pain.
For me, the most beautiful incident till date, when I saw myself naked, this nakedness became my dress and I am still getting naked till now and happiness and laughter are becoming my companions. This nakedness is the emptiness dimension that we can call the space dimension. I feel nakedness better than emptiness, so I have used the word nakedness.
Silence is the only tree on which spiritual life begins. Whatever be our religion, Guru is any of ours; No matter, everyone will have to sit under this tree and sit here and watch their own leaves fall. It will be felt by seeing the fall of itself here that…
Here it is known that the status of the tree is higher than us.
Who is big and who is small
Who is rich and who is poor
Who is Hindu and who is Muslim
If God is thirsty then this veneer will fall here. The only fruit that a silent tree takes is that of 'surrender'. The silent tree has only one fall, that is when Ego falls.
Dedication is the deepest knowledge of our journey of life, there is great beauty and there is immense wisdom. To be silent is to become surrender to yourself.
The first step is the silent person and the last step is surrender. After that, there is only the beginning of a life of Oneness and charity.

***—***

ज़िंदगी का कोई भी हिस्सा ,मेरी ही किसी गहरी देखनी से कभी बच नहीं सका, 
चाहे मेरी दशा कैसी भी हो, 
उस में से कोई तंदरुस्त समझ हर चीज़ को देखती ही जा रही है। 

चुप और समर्पण में क्या फर्क है, और क्या  इन का आपसी नाता है ?
चुप क्या है ?
समर्पण क्या है ?
चुप बहुत ही गहरी और बहुत ही विशाल गुणात्मिक स्थिति है, जिस में से हर जीव की पैदाईश  होती है। 
समर्पण एक गहरे ज्ञान की अवस्था है, जो पूर्ण ब्रह्माण्ड को खुद में सीमेट लेता है। 
स्थिति सदा हालात की होती है और अवस्था सदा हालत की होती है।  हम इस को ऐसे भी कह सकतें हैं कि अवस्था विषय की होती है और स्थिति वस्तु की होती है। या इस को हम ऐसे कह सकतें हैं कि चुप हमारे वजूद का गुण है और समर्पण हमारी ज़िंदगी का ज्ञान है।  
चुप सब से गहरा गुण है। 
समर्पण सब से गहरा ज्ञान है। 
गुण और ज्ञान के नाते को हम ने देख और समझ ही लिया है कि कैसे ज्ञान ही गुणरूप हो के हमारी ज़िंदगी को आगे बढ़ाता है।  अब हम देखना और समझना है कि चुप और समर्पण का आपसी नाता क्या है ?
नाता वही है ,जो गुण और ज्ञान का है पर  इन दोनों के फैला और  बहुत बड़ा अन्तर  है। 
व्यक्ति चुप कब होता है ?
जब वो यह जान लेता है कि वो एक बहुत ही बड़े विशाल घेरा में एक छोटा सा कण है। मतलब कि जब व्यक्ति ज्ञान की उस सिखर पर पुहंच जाता है, यहाँ पर उस को यह समझ आ जाती है कि  यह तमाम ब्रह्माण्ड आपने आप में ही पैदा होता है और मरता है।  कोई करने वाला नहीं, कोई करवाने वाला नहीं।  सब कुछ एक बहुत ही गहरे कानून में बांधा  हुआ खेल है , जिस का खेलना ही रहसयमई है और खेल आपने आप  चमत्कार है। मैं जो मैं  तक जी रहा था, वो एक सिर्फ कानून था, मेरी मैं की रौशनी का। जिस को मैं रहा था कि यह मैं हूँ; वो एक कानून था।  कानून भी ऐसा था कि कानून ने ही खुद को 'मैं ' बना  करके  ज़िंदगी की कोर्ट में खुद को ही फिर खेल बना के पेश कर दिया 
अब जब यह सब खेल ही व्यक्ति के आगे है, तो वो क्या करेगा ?
ज़िंदगी में जब हमारे ही आगे कोई ऐसी घटना घट जाती है, जो हम को अनहोनी लगती है , जिस पर भरोसा ही नहीं हो रहा होता तो हम कैसे चुप हो जातें हैं?
अब देखो उस हालत और हालात को, जो हमारी सोच से भी पार है, जो हमारे भरोसे से भी पार है , ऐसी घटना में हम ही फूटबाल ,हम ही ग्राउंड और हम ही खिलाड़ी बन कर हमारे ही आगे आएंगे तो----?
हम बोलेंगे कैसे?
हमारी ज़ुबान ही हमारा साथ नहीं देगी। 
जब हम आज की आपनी खुद की संसारी ज़िंदगी में सुंदरता देख कर ही शून्य हो जातें हैं, तो वहां की सुंदरता में तो चमत्कार और रहस्या भी होता है, तो ? 
इस घटना को निर्वाना  कहतें हैं। 
हमारे में चुप ,वो चुप तब घटती है, जब हम यह सचाई जान जातें हैं कि ज़िंदगी में हमारी औकात इक कण जितनी भी नहीं है।  कण ही जब खुद की औकात पर आता है तो एटम-बम बन कर संसार को तबाह कर देता है, हम जो लाखों कणों का जोड़ हैं, हम खुद को ही तबाह कर रहें हैं ,तो हम अक्लमंद कैसे हो गए ? यहां  पर हमारी ईगो हम से अलग होती है मतलब कि हमारी चुप की शुरूआत में हमारे मन की बदलाहट है, मतलब कि मन की मौत होती है, मन नए रूप को इख्तयार करता है। 

जब चुप आयाम में हमारा दाखिला हो जाता है, तब हमारी चुप में ही जैसे जैसे अनुभवों की  लगातार परिवर्तन होती है, और हम सिर्फ देखते हुए जातें हैं।  हम को जो भी राह में मिलता है, वो सब कुछ प्यारा लगता है, सब कुछ ताज़ा लगता है, जो हम को महसूस करवाता है कि हम अभी पैदा हुए हैं, हम अभी मर रहे हैं; एक ही वक़्त में फेल  और पास होतें हैं। हम को दिन और रात में कोई फर्क नहीं रहता। इस  को  अधियात्मिक आयाम भी कहतें हैं। 
जैसे जैसे चुप गहरी होती जाती है, वैसे ही हमारे हाथ खुलते जातें हैं, और जो हाथों में था, वो   सब कुछ छूटता जाता है। और हम खाली होते जातें हैं और एक दिन पूरे के पूरे खाली हो जातें हैं। 
चुप होना ही समर्पण  होना है।
कैसे ?
जब हम को हमारी औकात दिखाई देती है, तो हमारी ईगो गिर जाती है।  जैसे पतझड़ में पत्ते गिरते हैं और पेड़ नंगा हो जाता है ,ठीक वैसे ही आज तक के जिस किसी से भी हम बने होतें हैं, वो सब गिरता है ,कुछ भी हो। 
भरोसा हो या  प्यार हो   
धर्म हो या नेकी हो 
मुल्क हो या सेवा हो
गुण हो या ज्ञान हो 
रिश्ते हो या गुरु हो 
सब कुछ गिरेगा और नंगे हो जाएंगे। 
इतने बड़े विराट आयाम में ,जब हम नंगे ही हो गए तो समर्पित हो गए। यह घटना जितनी आखों को पानी से भर देती है, उतना ही ख़ुशी और हासे से भर देती है।  उस वक़्त तो हम यह भी नहीं समझ पाते कि हमारी आँखों का गीलापन ख़ुशी के कारण है,दर्द के कारण नहीं। 
मेरे लिए आज तक की सब से खूबसूरत घटना है, जब मैंने खुद को नंगा देखा, यह नंगापन ही मेरा लिबास बन गया और मैं आज तक नंगी ही हो रही हूँ  और ख़ुशी और हासा मेरे साथी बनते ही  जा रहें  हैं।  यह नंगापन ही खालीपन आयाम है मतलब कि जिस  को हम  स्पेस आयाम कह सकते हैं।  खालीपन से अच्छा मुझ को नंगापन लगता है, इस लिए मैंने नंगापन शब्द को उपयोग किया है। 

चुप एक ही ऐसा पेड़ है, जिस पर आधियात्मिक जीवन शुरू होता है।  धर्म हमारा कोई भी हो, गुरु हमारा कोई भी हो ; कोई फर्क नहीं पड़ता , सब को इस पेड़ के नीचे आ के बैठना ही पड़ेगा और यहाँ पर बैठ कर खुद के ही पत्तों को झड़ते देखना ही पड़ेगा। यहाँ पर खुद की पतझड़ देख कर ही अनुभव होगा कि पेड़ों की औकात हम से कितनी बड़ी थी। 
कौन है बड़ा और कौन है छोटा
कौन है अमीर और कौन है गरीब 
कौन है हिन्दू और कौन है मुस्लिम 
अगर खुदा की प्यास है तो यह लिबास यहीं पर झड़ेंगे। चुप के पेड़ को सिर्फ एक ही फल लगता है, वो है 'समर्पण' . चुप के पेड़ को सिर्फ एक ही पतझड़ आती है, वो है ईगो जब झड़ती है। 
समर्पण ही हमारी जीवन यात्रा का सब से गहरा ज्ञान है, विराट सुंदरता है और विशाल अक्लमंदी है। चुप हो जाना ही खुद में समर्पित हो जाना है। 
चुप व्यक्ति का पहला कदम है और आखरी कदम समर्पण है। 
 उस के बाद सिर्फ परमार्थी जीवन की शुरूआत है।      


Suicide of a disease

Autumn: 
No leaves, my ego falls 
As the color of the leaves changes,
 as the leaves fall from the trees again,
 I saw how the season of the mind changes, then the eternal dimensions of life are seen and that is what my thinking, every emotion, every experience is like Shrubs from me like these leaves are shrunk from trees and I always remain naked as naked. The lightness in my nakedness is my freedom. Now what should I say to these feelings going through every situation of my own? Now should I celebrate my freedom or should I regret those who are feeling my loss?

When I knew that this is the color of life and life has to go on like this, then. Not only the four seasons of life, there are infinite parts of these four seasons, which are passing through me today and I see them all, how I am falling into myself. This is a very unique event and monument, which is adorning me, adorning me with royal veneer. Because I understood that if I have to wear royal veneer, then I will be worn naked.
पतझड़:

पत्ते नहीं, मेरी ईगो झड़ती है 

जैसे पत्तों  का रंग बदलता है , 
जैसे पेड़ों से फिर पत्ते झड़ते हैं,
ऐसे ही मैंने देखा कि कैसे मन का मौसम बदलता है फिर ज़िंदगी के अन्नत आयाम दिखाई देतें हैं और जो मेरी हर सोच, हर भावना, हर अनुभव को ऐसे ही मेरे से झाड़ देतें हैं जैसे इन पत्तों को पेड़ों से झाडतें हैं और मैंने सदा खुद में नंगी की नंगी ही रहती हूँ। मेरे इस नंगेपन में जो हल्केपन है , वोही मेरी आज़ादी है। अब मैं खुद के हर हालात में से गुज़रते इन जज़बातों को क्या कहूं ? अब  मैं खुद की आज़ादी की ख़ुशी मनाऊं या जो मेरे झड़ते हुए जज़्बात हैं, उन का अफ़सोस मनाऊं?

जब मैंने जान ही लिया कि ज़िंदगी का रंग यही है और ज़िंदगी ने ऐसे ने चलना है, तो।  ज़िंदगी के चार मौसम ही नहीं, इन चार मौसमों के ही अनंत हिस्से हैं, जो आज मेरे में से गुज़र रहें हैं और मैं उन सब को देखती हूँ, कैसे खुद में  ही झड़ती जा रही हूँ। यह बहुत ही अनूठी घटना और विराटता है , जो मेरे को नंगा करके, मेरे को शाही  लिबास से सजा रही है। क्योंकि मैं समझ गई कि अगर मेरे को शाही लिबास पहनने हैं, तो नंगे हो के पहने जायेंगे। 

10 questions are enough to make life beautiful

Silence
 is our immovable, stable and healthy land,
 which makes us take full action
 and gives us the sense to live and die.

-  Have you ever heard the sound of the wonderful silence before dawn?
- Have you heard the sound of calm atmosphere as soon as the storm is over?
- Are you aware of that quiet, when you are passing on such a road, no one around here, even in the moving beat of fear, silent music, ever heard?
- You asked a question to someone or someone asked you a question, did you ever pay attention to the inner silence before answering?
- Have you ever felt that quiet, when you were passing through some small bushes, and you were so aware that you used to get scared even by the sound of your feet?
- Have you ever had such an incident that you are alone in the house, and even a little hiccup outside makes you alert, do you remember the silence of that time?
- When everyone is silent during the night, there is a loud blast of any kind, have you seen the response of that blast in yourself?
- Have you ever noticed the quiet that lies inside yourself in deep sadness?
- Being silent after the scene of the fight while watching the cinema, what effect does it have on you, have you ever noticed?
- Have you ever heard the echoes in the pronunciation of words while listening to the song?
Silent :

Quiet is the living ground of all the universe, which we hear from every part of life. This is the land from which every creature is born and grows. Every emotion is born out of silence, and silent only seizes every emotion in itself. Love is born from the silence of silence, when the full flow of love flows between two lovers, then they both look at this flowing flow of complete silence, at that time love manifests itself in its full state. Love born out of quiet takes lovers in the lap of silence.
The most unique and simple silent experience:

The unique silent, which deepens our life and becomes an art of living; Meaning that such a silent that can also do the work of meditation and yoga for us, it is silent, when we see any kind of beauty.
Beauty is the most natural method of meditating the mind. Seeing the beauty, not only our mind, our skin also becomes alert. The beauty had to be spread to the soul, it also shakes the particles of the body.
Beauty affects our mind, body and soul at the same time. Why?
There is only one silence, but its lines are infinite. Any form of quiet, which is understood as silent, that person starts to move in life.
The effect of beauty on us, it is so deep that we are aware of beauty, beauty is visible anywhere, we wake up.
 How are we aware of beauty?

Because our root is soul, what can be more beautiful than soul. The soul's abode is silent and the nature of the soul is beauty. No matter what kind of person or any creature it is, it will definitely be beautiful. The aura of the beauty of every living being makes its own patterns out of waves of different qualities.
No matter how those lines are made, its land will remain silent, which gives happiness, joy and peace to every living being.
When we become silent, then there will be beauty in every action, because then we become aware that every action happens, not done.


***—***


चुप हमारी अचल, स्थिर और शांत ज़मीन है, 
 जो हम से पूर्ण एक्शन करवाती है 
और हम को जीने और मरना का सहूर देती है 

-  क्या तुमने कभी सुबह से पहले अद्भुत चुप्प की आहट को सुना है? 
-  क्या आप ने तूफान खत्म होते ही शांत वातावरण की आहट को सुना है ? 
-  क्या आप उस चुप से वाकिफ हो, जब आप किसी ऐसी सड़क पर से गुज़र रहें हो, यहाँ पर आसपास कोई भी नहीं, भय पर चलती धड़कन में भी चुप का संगीत, कभी सुना ? 
-  आप ने किसी को सवाल पुछा या आप को ही किसी ने सवाल पूछा, जवाब देने से पहले आप ने आपने ही भीतर की चुप पर कभी ध्यान दिया ? 
-  क्या आप ने  कभी उस चुप को अनुभव किया, जब आप किसी छोटे छोटे झाड़ों में से गुज़र रहे थे, और आप इतने जागरूक थे कि आप खुद के पैरों की आहट से भी घबरा जाते थे ?
- क्या आप  के साथ कभी  ऐसी घटना हुई है कि  आप घर में अकेले हो, और बाहर थोड़ी सी हिलजुल भी आप को चौकन्ना कर देता है, उस वक़्त की चुप क्या आप को याद है ? 
-  रात के वक़्त जब हर पास चुप ही है तो किसी भी किसम का कोई ज़ोर से धमाका होता है, तो क्या आप ने उस धमाके की  पर्तिकिर्या को खुद में देखा है ?
- बहुत गहरी उदासी में खुद के भीतर ही  बसी चुप को कभी आप ने गौर से देखा है ?
- सिनेमा देखते हुए  लड़ाई के सीन के बाद एक दम चुप का होना,यह आप पर क्या प्रभाव डालता है, क्या कभी ध्यान दिया ?
-  क्या आप ने गीत सुनते वक़्त लफ़्ज़ों के उच्चारण में कभी आपने ही भीतर उस उच्चारण की गूँज सुनी है ?
चुप :

चुप  तमाम ब्रह्माण्ड की जीवत ज़मीन है , जो हम को ज़िंदगी के हर हिस्से में से सुनाई देती है।  यह वो ज़मीन है, जिस से हर जीव पैदा होता है और आगे बढ़ता है।  चुप में से ही हर भावना का जन्म होता है और चुप ही हर भावना को खुद में सीमेट लेती है।  प्यार चुप की कुख में से ही जन्म लेता है , जब  दो प्रेमिओं के बीच प्यार का पूर्ण बहा बहता है तो वो दोनों भी पूर्ण चुप हो के इस बहते बहा को देखतें हैं, उस वक़्त प्यार खुद में सम्पूर्ण अवस्था को प्रपित करता है। चुप में से पैदा हुआ प्यार चुप की गोद में ही प्रेमिओं को ले जाता है। 
सब से अनूठी और सरल चुप का अनुभव:

अनूठी चुप ,जो हमारे जीवन को सहजे ही गहरा ले जाए और जीने की कला बन जाए; मतलब कि ऐसी चुप जो हमारे लिए मैडिटेशन और योगा का काम  भी कर जाए, वो अनुठी चुप है, जब हम किसी भी प्रकार की सुंदरता को देखतें हैं। 
सुंदरता मन को मेडिटेट करने की सब से गहरी कुदरती विधि है। सुंदरता को  देख  कर हमारा मन ही नहीं , हमारी चमड़ी भी चौकन्नी हो जाती है। सुंदरता ने आत्मा तक तो फैला रखना ही था, यह  जिस्म  के  कण  कण  को  भी हिला देती है। 
सुंदरता हमारे मन, जिस्म और आत्मा , तीनों पर एक साथ ही प्रभाव डालती है।  क्यों ? 
चुप एक ही है, पर इस की तर्ज़ अनंत हैं।  चुप का कोई भी रूप है, जिस को चुप की समझ लग गई, वो व्यक्ति जीवन में गति  करने लग जाता है। 
सुंदरता का जो हम पर प्रभाव पड़ता है, वो इस लिए गहरा है कि हम सब सुंदरता से वाकिफ है, कहीं भी सुंदरता दिखाई देती है, हम जाग जातें हैं। 
 सुंदरता से हम वाकिफ कैसे हैं ?

क्यों कि हमारी जड़ आत्मा है, आत्मा से सूंदर ओर क्या हो सकता है।  आत्मा का निवास चुप में है और आत्मा का स्वभाव सुंदरता है। कोई भी व्यक्ति या कोई भी जीव कैसा भी हो, पर वो सूंदर ज़रूर होगा। हर जीव  की सुंदरता का औरा अलग अलग गुणों की तरंगों में से अपनी तर्ज़ बनाता है। 
वो तर्ज़ कैसे भी बने , उस की ज़मीन चुप ही होगी, जो हर जीव को ख़ुशी, आनंद और शान्ति देती है  
 जब हम चुप  से जानू हो जातें हैं तो हमारे हर एक्शन  में सुंदरता होगी, क्योंकि तब हम जान चुक्के होतें हैं कि हर एक्शन होता है, किया नहीं जाता। 


Is life Fatigue a Real Thing?

When my past was like my dream, 
this thought became such a cave for me 
that I got a diamond like my eternal existence.


 - If I tell you that everything is changing every moment, would you agree?
- If I then also say that everything is happening in every moment, do you understand?
- If I again say that the next moment will come, but what will be his appearance, no one will ever know, can you believe this?
This is my three questions to all of you
Today we talk:
- Does our past live forever or not?
If it stays then why, if it does not, then why?
My life is taking me through a very surprising path. There was a time when I used to forget the date and day and forget to take a bath today. After 4-5 days, remember that I have not even taken a bath; Then remember to fix the hair only after a week.
At first, when I looked closely at the worldly and social customs, I did not see any value of these customs in front of the reality of life and today there is no value for my own body.
Let us start today with a very serious incident.
For example, I said that this person made me stupid and took money from me. There will be pain, anger will also come, remorse will also happen, meaning that I will also abuse the moment, the moment I got it. Bad, very bad. Because not only did my heart break, my trust, my hope, my humanity, my thinking, my feelings were also broken. This is a painful accident, which happened to me.
Now the question is:
- Did this accident affect the universe as well?
- Has this effected the person doing bad things?
The question is, how ready are we now to see that what is happening in this moment had any relation to the past, or will it have any relation in the future, or is this incident also related to the universe?
Just as an event arises in the universe, like we too were born and will die. In the same way, whatever happens to us happens to us. There are storms in the nature and spring also.

The flow of time has a powerful meaning. It seems that our present is influenced by our past. Meaning that luck is named and our future will be born from today. We are fully convinced with this confusion, because we have seen how we grew up from childhood to today. For us, our 20 -30 years are years - not years. In fact, the understanding of this sight convinced us. In this game, this is the best goal, which is done by time.
Now let's look at it like this:
When we get closer to your own experience, we see that it no longer exists. Just like: Now you look closely at yourself, look closely at yourself and in your life that you are 3-4 Years ago I went somewhere to roam, and today you sometimes think of it, why? Whatever dream it seems now, this will be such a unique game in the depth of meditation or quiet. You will understand that it was my own thinking, which went to roam and I understood that I have gone. The one whom you have lived and understood to be true, today and now, that is your life, that is your wandering, now you are standing in such a delusion that you are the question. What was true for you, that truth has now become a question for you. Why? how?
- No part of life is finished until we see it fully and understand it, why?
When we make every answer a question, we will enter that question as if we enter a cave. Unknowable and unseen paths fill us with virtues and knowledge.
- That which is passed, when we later go to the same place to see it, then it is not there, meaning that we will feel as if we had only dreamed that nothing had happened. . Then what was it that happened?
- Whatever we look closely at, or look deeply at, why do we see an empty place?
This means that what passes, when we look at it empty, it means that all of it is absorbed. Meaning that we were freed from him and our influence.

Like we are now, me and you:
That I am writing this and what you are reading. When both of us were born, we have already informed that we are dead. Or we have to die. Our death is proved only by our being born.
Now when we die, then what will happen after we die, now we have to see.
How we have to see life, we are also comfortable with it and we have all the support from where to look and whom to see. like :
Through meditation and quiet we can see that part and whenever we have seen that part, at that time we are freed from that part, from the impact of that event. Similar incidents are about death. Whenever we came face to face with death, we were also free from the effects of death.
Now the question remains, what will be our life after death and how will it happen?
Now we can only guess this question, but we can only experience it through silence and meditation.
Every experience of life is very unique and priceless. But there is no word nor example for this experience. Just being silent is the best example. We will have such an experience here that we get from our eternal existence and the spread of that eternal existence is seen as if we have felt at mental and intellectual level that we are the center of the universe. In the eternal existence, we see that the universe is spreading from us. This is a very amazing and miraculous game, seeing this, the person's tongue stops. Because everything is faded or nothing in front of it.

***—***
जब मेरा बीता वक़्त ही मेरे को सपने की तरह ही लगा
 तो यह ख्याल ही मेरे लिए ऐसी गुफ़ा बन गया कि 
मेरे को मेरे शास्वत वजूद जैसा हीरा मिल गया 


- अगर मैं यह कहां कि हर चीज़ हर पल बदल रही है , क्या आप मान जाओगे ?
- अगर फिर मैं यह भी कह दूं कि हर पल में हर चीज़ विराट हो रही है, क्या आप समझ लो गे?
- अगर  फिर से मैं कहूं कि अगले पल आएगा, पर उस का रूपरंग कैसा होगा, यह कभी कोई नहीं जान पायेगा, क्या आप इस बात पर भरोसा कर सकते हो ?
यह मेरे तीन सवाल आप सब के लिए 
आज हम बात करतें हैं :
-  क्या हमारा भूतकाल सदा जीवत  रहता है या नहीं ?
अगर रहता है तो क्यों, अगर नहीं रहता तो उस फिर क्यों ?
मेरे को मेरी ज़िंदगी बहुत ही हैरानीजनक राह में से ले के जा रही है।  कभी ऐसा वक़्त था, जब मैं डेट और दिन को भूल जाती थी और आज नहाना भूल जाती हूँ। 4 -5  दिन के बाद याद आता है कि ओये, मैं तो बाथ लिया ही नहीं ; फिर बालों को ठीक करना तो हफ्ते के बाद ही याद आता है। 
पहले तो जब मैंने संसारी और समाजिक रीती-रिवाज़ों को गहरे से देखा तो ज़िंदगी की असलियत के आगे इन रीति-रिवाज़ों का कोई भी मोल दिखाई नहीं दिया और आज खुद के जिस्म का भी कोई मोल नहीं। 
चलो आज हम आज की बात बहुत ही गंभीर हादसे के साथ शुरू करतें हैं। 
उदाहरण के लिए, मैंने कहा कि यह व्यक्ति मेरे को  बेवक़ूफ़ बना के मेरे से पैसे ले गया।  दर्द  भी होगा, क्रोध भी आएगा , पछतावा भी होगा , मतलब कि मैं उस पल को भी गाली निकालूंगी ,जिस पल वो मेरे को मिला था। बूरा हुआ ,बहुत बूरा हुआ। क्योंकि मेरा दिल ही नहीं टूटा मेरा भरोसा, मेरी आस, मेरी इंसानियत, मेरी सोच, मेरी भावना भी टूटी। यह एक दर्द भरा हादसा है, जो मेरे साथ घटा। 
अब सवाल यह है:
- क्या इस हादसे का प्रभाव ब्रह्माण्ड में भी पड़ा ?
- क्या बुरा करने वाले व्यक्ति पर भी इस का  प्रभाव पड़ा ?
सवाल यह है कि हम अब  यह देखने के लिए कितने तैयार हैं कि इस क्षण में जो हो रहा है उसका अतीत से कोई संबंध था या इस का भविष्य में कोई सम्बन्ध होगा या
 इस घटना का ब्रह्माण्ड के साथ भी कोई सम्बन्ध है?

जैसे ब्रह्मण्ड में घटना पैदा होती है ,जैसे हम भी पैदा हुए और मर भी जाएंगे।  वैसे ही जो भी घटना हमारे साथ होती है,  हम से ही होती है। कुदरत में तूफ़ान भी आते हैं और बहार ऋतू भी आती है,.
समय के प्रवाह का एक शक्तिशाली अर्थ है। ऐसा लगता है कि हमारा वर्तमान हमारे अतीत से प्रभावित है। मतलब कि किस्मत का नाम  देतें हैं  और भविष्य हमारे आज से पैदा होगा, यह कहते हैं ।  हम इस भ्रम के साथ पूरे राज़ी होतें हैं ,क्योंकि हम ने  देखा है कि कैसे बचपन से ले के आज तक हम बड़े हुए हैं।  हमारे लिए हमारे 20 -30 साल , साल हैं -पल नहीं हैं। वास्तव में इस  देखनी की समझ ने हम को कायल कर दिया। इस खेल में यह सब से अच्छा गोल है ,जो वक़्त ने किया है।
अब इस को ऐसे देखतें हैं :
जब हम किसी भी आपने खुद के अनुभव के करीब पहुंच जाते हैं, तो हम देखते हैं कि यह अब मौजूद नहीं है।जैसे: अभी आप खुद में गौर से देखो, बारीकी से खुद में और खुद की ज़िंदगी  में देखो कि आप 3 -4 साल पहले कहीं पर  घूमने गए थे , और आज वो आप को कभी कभी सपना लगता है , क्यों? यह अब जो सपना लगता है, यही मैडिटेशन या चुप की गहराई में एक ऐसा अनूठा खेल लगेगा।  आप समझोगे कि यह मेरी ही कोई सोच थी, जो घूमने चली गई और मैंने समझा कि मैं ही गया हूँ। जिस को आप ने सच कर जीया और समझा, आज और अब ,वो ही आप का जीना, वो ही आप का घूमना, अब आप को ही एक ऐसे भरम में ले के  खड़ा है कि आप ही सवाल गए। जो आप के लिए सच था, वो सच अब आप के लिए सवाल बन गया। क्यों ? कैसे?
- ज़िंदगी का कोई भी हिस्सा तब तक ख़त्म नहीं होता, 
जब तक हम उस को पूर्ण रूप से देख कर समझ नहीं लेते, क्यों ?
हर जवाब को जब हम सवाल बना के उस सवाल में ऐसे घुस  जायेगे ,जैसे कि हम किसी गुफ़ा में घुसते हैं। अनजाने और अनदेखे राह ही हम को गुण और ज्ञान से भरतें हैं 
- जो बीत जाता है, जब हम बाद में उस को देखने के लिए उसी जगह पर जातें हैं तो  ' वो है ही नहीं ', मतलब कि हम को ऐसे लगेगा कि जैसे हम ने सपना ही देखा था,
 कुछ भी घटित हुआ ही नहीं था। तो फिर वो क्या था जो घटित हुआ था ?
- हम जिस को भी गौर से देखते हैं, या गहराई से देखते हैं, वो जगह हम को ख़ाली क्यों दिखाई देने लगती है ?
इस का मतलब यह हुआ कि जो बीत जाता है ,जब हम उस को खाली देखते हैं तो मतलब यह हुआ कि वो सब लीन हो गया। मतलब कि हम उस के और वो हमारे प्रभाव से मुक्त हो गया। 
जैसे हम हैं अब, मैं और आप :
जो मैं यह लिख रही हूँ और आप जो पढ़ रहे हो।  हम दोनों जब पैदा हुए ,हम ने यह पहले ही सूचित कर दिया है कि हम मरे हुए हैं। या हम ने मरना  है।  हमारा मरना हमारे पैदा होने से ही साबित हो जाता है। 
अब जब हम मर जाएंगे, तब हमारे मरने के बाद हम क्या होंगे, अब यह देखना है। 
ज़िंदगी को कैसे हम ने देखना है, यह भी हम को सहूलत मिली हुई है और हम ने कहां  से देखना है और किस को देखना है , यह सब सहूलत हमारे पास है।  जैसे :

मैडिटेशन और चुप के द्वारा हम उस हिस्से को देख सकते हैं और जब भी हम ने उस हिस्से को देख लिया, उस वक़्त ही हम उस हिस्से से, उस घटना के  प्रभाव से मुक्त हो गए। ऐसे ही हमारी घटना मौत के बारे में  हैं। जब भी हमारा और मौत का आमना-सामना हो गया तो हम मौत के प्रभाव से भी मुक्त हो गए।
- अब सवाल रह गया कि फिर मौत के बाद हमारा जीवन क्या होगा और कैसे होगा ?
अब हम इस सवाल का अनुमान तो सहजे ही लगा सकतें हैं 
परन्तु इस का अनुभव हम सिर्फ चुप और मैडिटेशन के द्वारा ही कर सकतें हैं। 
ज़िंदगी का हर अनुभव बहुत ही निराला और अनमोल है। पर इस अनुभव के लिए कोई भी लफ्ज़ नहीं और ना ही कोई उदाहरण है।  बस चुप रहना सब से अच्छी उदाहरण है। हमारा यहां पर  एक ऐसा अनुभव होगा जो हम को हमारे शास्वत वजूद से मिलता है और उस शास्वत वजूद का फैला ऐसे दिखाई देता है, जैसे कि हम ने मनसिक और बौद्धिक लेवल पर वो अनुभव किया था कि हम ब्रह्माण्ड के सेण्टर हैं।  शास्वत वजूद में हम देखते हैं कि ब्रह्माण्ड का फैला हमारे से ही हो रहा है।  यह बहुत ही अद्भुत और चमत्कारी खेल है, इस को देख कर व्यक्ति की जुबां बंद हो जाती है। क्योंकि इस के आगे सब फ़ीका है या कुछ है ही नहीं।  


Why is the world a house of Sorrow?

 The nature of the quality of the world is negative, why?

 Why is the world a house of sorrow
 and how can we be happy in the world?
 A soft answer to our original question,
 which I got and my life became happy.


Because we have always paid attention to the object, not the subject. Meaning that the focus is on the other, not on ourselves.
When life started from me, when I have gained the world from my being, then I will get happiness, peace, love etc. from me, never from anyone else. No matter how much relationship I have with someone and how deep, I will walk with my feet only.
- Until today, I did not have to be friends with myself, how will I ever be able to be friends of anyone else?
Even if I become, then I will never be able to achieve the success that my soul desires.

- Did I know myself, understand myself, because I always complain that no one understands me, why?
- I have not yet understood myself, how can I call someone guilty, how?
- Did I get my sense?
- When today I am not mine, how can I be angry with someone else, how?
- When I say 'I am', 'I am this', 'I am that', 'I have done this', 'I have done that', When I am making me, I am still not mine If made, then how will others become mine?
- Are all the other servants of my father?
- Are all others for me, how can I think?
- Have I ever done anything meaningfully to anyone else?

All of this is our negative thinking, we will not consider ourselves as objects, till then we will not be able to achieve the subject.
Our negative attitude is to eliminate the other, while we must erase only one thing. By erasing that, not only in life, but the whole universe begins to spin directly; That is our 'I am’, our ego.
We always do everything for others, good and bad too; If we do this for ourselves, then life will be full of art.

***—***

संसार के गुणरूप की गुणवत्ता नकारात्मिक है , क्यों?

संसार दुःख का घर क्यों है 
और कैसे हम संसार में खुश रह सकतें हैं?
 हमारे इस मूल सवाल का कोमल सा जवाब,
 जो मुझे मिला और मेरा जीना ख़ुशी बन गया। 


 क्योंकि हम ने सदा ही वस्तु पर ध्यान दिया है, विषय पर नहीं।  मतलब कि दूसरे पर ध्यान दिया है, खुद पर नहीं। 
जब ज़िंदगी की शुरूआत मेरे से हुई, जब संसार की प्राप्ति मेरे को मेरे होने से ही हुई है तो ख़ुशी, सुख, रब्ब आदि  की प्राप्ति मेरे को मेरे से ही होगी, किसी दूसरे से कभी भी नहीं होगी।  मेरा किसी के साथ  कैसे भी रिश्ता हो और कितना भी गहरा हो, चलना मुझ को मेरे ही पाऊं  से होगा। 
- जब आज तक मेरे को मेरे से ही दोस्ती करनी नहीं आई, तो मैं कभी भी किसी और की दोस्त कैसे बन पाऊँगी ?
अगर मैं बन भी गई तो मैं वो सफलता कभी नहीं पा सकूंगी, जिस की चाहना मेरी रूह को है।   
-  क्या मैंने खुद को जान लिया, खुद को समझ लिया, क्योंकि मेरे को सदा शिकायत रहती है कि कोई भी मेरे को समझता नहीं , क्यों?

- मैंने अभी तक खुद को तो समझा नहीं, मैं कैसे किसी दूसरे को दोषी कह सकती हूँ, कैसे ?
- क्या मेरे को मेरी समझ आ गई ?
- जब आज मैं ही मेरी नहीं बनी तो मैं  कैसे किसी दूसरे पर नाराज़ हो सकती हूँ , कैसे ?
- जब मैं यह कहती हूँ कि 'मैं हूँ ' , 'मैं यह हूँ ', 'मैं वो हूँ ', 'मैंने यह किया', 'मैंने वो किया',  जब मैं ही मैं को बना रही हूँ तो फिर भी मैं मेरी नहीं बनी, तो दूसरे मेरे कैसे  बन जाएंगे ?
-  क्या  दूसरे सब मेरे बाप के नौकर हैं? 
- क्या दूसरे सब मेरे लिए ही हैं, यह मैं कैसे सोच सकती हूं ?
- क्या  मैंने कभी किसी दूसरे के लिए  बिना मतलब से कुछ किया भी है ? 

यह सब हमारे नकारात्मिक सोचें हैं,  खुद को वस्तु नहीं मानेंगे, तब तक हम विषय की प्राप्ति नहीं कर पाएंगे। 
हमारी नकारत्मिक विरति  दूसरे को मिटा देने को  त्यार हो जाती है, जब कि हम को सिर्फ  एक ही चीज़ को मिटाना चाहिए। जिस  को मिटा देने से ज़िंदगी का ही नहीं , पूरे ब्रह्माण्ड का चकरा सीधा घूमना शुरू हो जाता है ;  वो है, हमारा ' मैं हूं ‘,हमारा घमंड .
हम सदा सब कुछ दूसरों के लिए करतें हैं, अच्छा भी और बूरा भी ; अगर यह  हम  खुद के लिए कर लें, तो जीवन कला से भरपूर हो जाएगा. 

Observe yourself with amazing 3 questions


 


This video and some photos are of the rising sun. Follow along with me and watch this video carefully and listen to my questions. The questions have to be answered by ourselves and no one else. Because whatever the answers will be, they will inform you that means you will be aware of you, which is very important for a happy and comfort life --- first question:
1.- Whatever feeling comes out of your heart after seeing this beautiful lake, do not forget that, remember and move forward. Because whatever emotion will come in you, we have to question that feeling later.
2-) Looking at the colors of the sun rise, remember whatever you have said to yourself.
3-) You are looking at the beauty of the rising sun, with which experience would you compare this beauty?
These are three questions. From these three questions you will surely get an understanding that nature is our natural Dhrmshaala or to say that nature is our natural Gurukul. And now this Guru, meaning that this nature has united us with the unity of the universe, so what will be the first step of this?
So what is the quality of that unity of the universe?
- Silence.
 What is knowledge form that unity?
-Dedication.
 Both Silence and Surrender are the same. The quality of knowledge makes us silent and the quality of Silence gives us knowledge.
 Who is guarded by virtue and knowledge?
- of unity.
 Whatever unity you have seen till date, what is that?
The trick to see unity should come, but this is the first of three steps, whose only way we feel unity, but do not understand.
1-) Beauty
2-) love
3-) Music

There will be a rhythm of life anywhere, there will be Beauty.
The rhythm of the voice is called humming.
 The rhythm of the strings is called music.
 The rhythm of the words is called lyrics. 
The rhythm of colors is called day and night. 
The particle's rhythm is called the universe.
There is beauty in the rhythm of everything. Beauty reveals unity. 
Wherever there will be unity, it will please our heart. Unity: What we call love is the taste of unity. When any person feels in love with another, that means they are united, something has happened in equality. What has happened? - Unity. There is unity in the beauty of everything, unity be it anyone, whether it is of tone, of colors, of happiness, of service or of love. We have come to know in this video that beauty is the simplest and easiest way to concentrate our mind.

Such views of nature are spread everywhere. We have also seen that by seeing beauty, we get freshness and lightness. This freshness and lightness makes our mind calm and happy, which starts the religion in us. When religion is born in us, then for us all the place becomes a religious place. If you do not understand the answer to your three questions,
 then email me. 
shaheersehyogi@hotmail.com



***—***


 यह वीडियो और  कुछ फोटोज़ हैं, जो चढ़ते सूर्य की है। मेरे साथ साथ चलो और गौर से इस वीडियो को देखना है और मेरे सवालों को सुनना है।  सवालों के जवाब खुद को ही देने हैं ओर  किसी को नहीं।  क्योंकि जो भी जवाब होंगे, वो आप को आप की जानकारी देंगे मतलब कि आप को आपके प्रति जागरूक करेंगे, जो कि एक खुश और सुखी ज़िंदगी केलिए बहुत ज़रूरी है --- पहला सवाल: 

१-) इस सूंदर झील को देख कर आप के दिल में से जो भी भावना आती है, उस को भूलना नहीं, याद रख कर आगे बढ़ना है। क्योंकि जो भी भावना आप में आएगी, उस  भावना को बाद में हम ने सवाल बनाना है। 
२-) सूर्य उदय के रंगों को देख कर जो भी आप ने खुद को कुछ भी कहा है, उस को भी याद रख लीजिये। 
३-) यह जो आप चढ़ते सूर्य की सुंदरता को देख रहे हो, इस सुंदरता की तुलना आप आपने किस अनुभव के साथ करोगे ?
यह तीन सवाल हैं।  इन तीन सवालों से ही आप को एक समझ ज़रूर मिल जायेगी कि कुदरत एक हमारी कुदरती धर्मशाला है या कहो कि कुदरत ही हमारी कुदरती गुरु-कुल है।  और अब इस गुरु ने, मतलब कि इस कुदरत ने  हम को ब्रह्मण्ड की एकता के साथ एक करना है तो इस का पहला कदम क्या होगा ?
तो ब्रह्मण्ड की उस एकता का गुणरूप क्या है ?
- चुप। 
 ज्ञान रूप क्या है ? 
-समर्पण। 
 चुप और समर्पण दोनों एक ही हैं।  ज्ञान का गुण  हम को चुप करता है  और चुप का गुण  हम को ज्ञान देता है। 
 गुण और ज्ञान किस का पहरावा है ?
- एकता का। 
 कोई भी एकता हो, आज तक देखा है, वो कौन सी है ?
एकता को देखने  का गुर आना चाहिए पर यह तीन सब से पहले कदम है, 
जिन के राहीं  हम एकता को महसूस करतें हैं, पर समझ नहीं पाते।  
१-) सुंदरता 
२-) प्यार 
३- ) संगीत 

 कहीं पर भी ज़िंदगी की लय होगी, वहीँ पर सुंदरता होगी। 
आवाज़ की लय को गुनगुनाहट कहतें हैं।
 तारों की लय को संगीत कहतें हैं।
 लफ़्ज़ों की लय को गीत कहतें हैं।
 रंगों की लय को दिन-रात कहतें हैं।
 कण कण की लय को ब्रह्माण्ड कहतें हैं। 
हर चीज़ की लयबद्धता में सुंदरता होती है। सुंदरता एकता को प्रगट करती है।
यहीं कहीं भी एकता होगी, व्ही हमारे दिल को भाएगी। एकता: जिस को हम प्यार कहतें हैं, यह एकता का स्वाद है। जब कोई भी व्यक्ति, किसी दूसरे के साथ प्यार महसूस करता है, मतलब कि वो दोनों में एकता है, समानता  में कुछ घटित हुआ है। घटित क्या हुआ है ? - एकता।हर चीज़ की सुनरता में एकता होती है, एकता किसी हो, चाहे सुरों की हो, रंगों की हो, लफज़ की हो, सेवा की हो, चाहे प्यार की हो। इस वीडियो के रहीं हम यह जान चुके हैं कि हमारे मन को एकाग्र करने की सब से सरल और सहज विधि सुंदरता है।

कुदरत के ऐसे नज़ारे हर तरफ फैले हुए हैं। हम ने यह भी देख लिया कि सुंदरता को देख कर हमारे में ताज़ापन आता है और हल्कापन आता है। यह ताज़पान और हल्कापन हमारे मन को शांत और ख़ुशी देता है, जिस से हमारे में धर्म की शुरुयात होती है।  जब हमारे में धर्म पैदा होता है, तब हमारे लिए तमाम जगह  धार्मिक-स्थान बन जाती है। अगर आप को आप के तीन सवालों का जवाब समझ में नहीं आया, 
तो मेरे को ईमेल करो।
 shaheersehyogi@hotmail.com  

रेतली राह का मुसाफ़िर

रेतली राह का मुसाफ़िर
माननीय प्यार , आज मैं खुद को आप के आगे सन्मानित करना चाहती हूँ कि मैं आप की रचना हूँ ; और खुदा के आगे मैं खुद को धन्यवाद का उपहार देना चाहती हूँ कि 'धन्यवाद शहीर ' कि आप ने खुदा से प्यार किया। हर किर्या के लिए धन्यवाद
The best cure of the body is a quite mind:. Powered by Blogger.