BREAKING NEWS
latest

Have to walk like a Sanyaasi - No Matter what the Path

Natural Meditation

'Nature' is also a method of natural meditation






'Nature' is also a method of natural meditation-'कुदरत' कुदरती ध्यान की विधि भी है। - 'Nature' is also a method of natural meditation. Read the biography of any Pir-Fakir. He will prove to be the lover of 'nature'. Because when we start on the spiritual path, this path goes from the middle of nature. Whether we travel from anywhere. Every living being has to pass through nature itself. What does spirituality mean? Spirituality only means that one should have knowledge of the entirety of life. Thanks to 'God' Whose creation is this. Thanks to 'technology' Because of which we all become one. Thanks to Facebook, Google, Pinterest, linkedin, Twitter and Youtube With whose hard work we got this land. A lot of love and blessings from the team of Thanks Music, Jin's Lagna created such music. Thanks - 'कुदरत' कुदरती ध्यान की विधि भी है। आप किसी भी पीर-फ़क़ीर की जीवनी को पढ़ लो। वो 'कुदरत' का प्रेमी ही साबित होगा। क्योंकि जब हम आधियात्मिक मार्ग पर चल पड़ते हैं तो यह राह कुदरत के बीच में से ही जाती है। चाहे हम कहीं से भी यात्रा करें। हर जीव को कुदरत में से ही गुज़र कर जाना होता है। आध्यात्मिकता का मतलब क्या है ? आध्यात्मिकता का मतलब ही यही है कि व्यक्ति को जीवन सम्पूर्णता का ज्ञान हो। धन्यवाद 'खुदा' का जिस की यह सब रचना है। धन्यवाद 'टेक्नोलॉजी' का जिस की वजह से हम सब एक हो जातें हैं। धन्यवाद Facebook, Google , Pinterest, linkedin, Twitter एंड Youtube का जिन की मेहनत से हम को यह ज़मीन मिली। थैंक्स म्यूजिक की टीम का ढेर सा प्यार और दुआ , जिन की लग्न ने ऐसा म्यूजिक बनाया . थैंक्स #naturalliving, #meditation, #artofliving

Self-Realization


Shapeless Universe but in shape






 When my consciousness shows me the space in my own concious form, then I see how the space which is my shape is now space. Is made and how many possibilities are seen in this space which can take shape.

 On the other hand, which is my shape, the particle which holds the shape, it appears only a streak drawn in the air.

 How could my consciousness have held this entire universe within me, amazing!

Today, when I see all this, I remember that thing in the religious texts, when the sages and monks said that 'what is in the universe - it is in the egg' just like that when the sage and sage said that 'which is the ocean - that is the drop' is '

How do I tell this thing, what is visible, it is very big, and it is not getting easier to describe it. Today for the first time I learned that deep experience can only be experienced - words have no merit, so that they can describe the experience of experience with words.

Still I try to say something.

 My inflexibility is such that it is non-formless that it digests every form in such a way that if we want to see the form, we will not be able to see the form; But the experience of this, we will become the same.

If I want to see that which is without form, we will see it easily.

Meaning that we can feel the non-shape of that which is our shape, and that which is our non-shapeless shape, we will easily accept it.

 This means that whatever we are born, we only experience the size of our birth till date, we cannot see it. What we call death, we can only see it endured.

Why so ?

The one who is close - he is not visible, the one who is far away - he is seen

 Why?

Just as everyone can see with the eye and cannot see eye to eye only.


Self-realization

Self-realization


When life itself wants to look beautiful, then how does the tone of experiences make life a celebration- Wow! 


 I saw;
Very far away, even from the sky;
Very close, within me - closer than me;
I had a feeling - which was shapeless;
When I started looking at that feeling, how it started to take shape;
When I saw that I was born only for my feeling, then I let the emotion remain without any form.
---







Ever became a victim in the name of religion;
Politics sometimes hunted;
 Sometimes you become a victim of desire, sometimes you are a victim of desire;
Always remain hooked, didn't you ever want to become a hunter?
Such hunters that no one can hunt us.
---









Death is a hunter who hunts for life;
 Life has always been the food of death;
Life never took a deep breath under the open sky;
Come, let us all together fall prey to death and teach us the courage to live life and to live with courage.

Method of natural meditation

Nature' is also a method of natural meditation




Nature' is also a method of natural meditation-'कुदरत' कुदरती ध्यान की विधि भी है। - 'Nature' is also a method of natural meditation. Read the biography of any Pir-Fakir. One will prove to be the lover of 'nature'. Because when we start on the spiritual path, this path goes from the middle of nature. Whether we travel from anywhere. Every living being has to pass through nature itself. What does spirituality mean? Spirituality only means that one should have knowledge of the entirety of life. Thanks to 'God' Whose creation is this. Thanks to 'technology' Because of which we all become one. Thanks to Facebook, Google, Pinterest, linkedin, Twitter and Youtube With whose hard work we got this land. A lot of love and blessings from the team of Thanks Music, Jin's Lagna created such music. Thanks - 'कुदरत' कुदरती ध्यान की विधि भी है। आप किसी भी पीर-फ़क़ीर की जीवनी को पढ़ लो। वो 'कुदरत' का प्रेमी ही साबित होगा। क्योंकि जब हम आधियात्मिक मार्ग पर चल पड़ते हैं तो यह राह कुदरत के बीच में से ही जाती है। चाहे हम कहीं से भी यात्रा करें। हर जीव को कुदरत में से ही गुज़र कर जाना होता है। आध्यात्मिकता का मतलब क्या है ? आध्यात्मिकता का मतलब ही यही है कि व्यक्ति को जीवन सम्पूर्णता का ज्ञान हो। धन्यवाद 'खुदा' का जिस की यह सब रचना है। धन्यवाद 'टेक्नोलॉजी' का जिस की वजह से हम सब एक हो जातें हैं। धन्यवाद Facebook, Google , Pinterest, linkedin, Twitter एंड Youtube का जिन की मेहनत से हम को यह ज़मीन मिली। थैंक्स म्यूजिक की टीम का ढेर सा प्यार और दुआ , जिन की लग्न ने ऐसा म्यूजिक बनाया . थैंक्स #naturalliving, #meditation, #artofliving

Natural Meditation

Natural Meditation





Let's live for a few moments with nature!|| beautiful video for nature|| natural meditation

#naturalmeditation, #meditation, #beautifulstepformeditation,

'Nature' is also a method of natural meditation-'कुदरत' कुदरती ध्यान की विधि भी है। - 'Nature' is also a method of natural meditation. Read the biography of any Pir-Fakir. One will prove to be the lover of 'nature'. Because when we start on the spiritual path, this path goes from the middle of nature. Whether we travel from anywhere. Every living being has to pass through nature itself. What does spirituality mean? Spirituality only means that one should have knowledge of the entirety of life. Thanks to 'God' Whose creation is this. Thanks to 'technology' Because of which we all become one. Thanks to Facebook, Google, Pinterest, linkedin, Twitter and Youtube With whose hard work we got this land. A lot of love and blessings from the team of Thanks Music, Jin's Lagna created such music. Thanks

Beautiful sight of nature


Beautiful sight of nature






#mostbeautifulsunset, #mostbeautifulflyingbirds, #Mostbeautifullakes, Beautiful sight of nature Nature is such a subject, which makes every part of our life fit. Whenever we get a natural prayer or medicine, we never respect it, when that thing gives our life the deepest and the greatest benefit. Nature is also a blessing and medicine for us. सुंदर नजारा कुदरत का कुदरत एक ऐसा विषय है, जो हमारी ज़िंदगी के हर हिस्से को तंदरुस्ती ही देता है। जब भी हम को कोई कुदरती दुआ या दवा मिलती है, हम उस की कभी इज़त नहीं करते, जब कि वोही चीज़ हमारे जीवन को सब से गहरा और सब से ज़्यादा फाइदा देती है। कुदरत हमारे लिए दुआ भी है और दवा भी है।

in the sky of thought

The mind's flight in the sky of thought






#beautifulvideo, #beautifulsky, #beautifullife, Whatever is the thought, feeling or experience in our consciousness, which we do not even know, life is the name of a journey to introduce us to it. हमारी चेतना में जो भी कोई सोच, भाव या अनुभव पड़ा हो, जिस का हम को भी पता नहीं, ज़िंदगी हम को उस से मिलवाने की ही एक यात्रा का नाम है What is life and who we are? New experience- new challenge. This is my beautiful journey --- Universe is my school. Awareness is my teacher. Science is my experiment. Buddha, Krishna, Baba Nanak, Hazrat Muhammad, Jesus, Mussa, Kabeera and Peer fakir are my subject. Love is my religion and I am a traveler and student. The world is God's family. I love everything and everyone. Silence is my roommate. Trust is my weapon. Prayer is my pilgrim. Love is my Gurukul and technology is my 1st Guru.

One step Journey




Wait: Come on now Only one step: will cross 4 steps Human being is a religion in itself, if it is understood by itself, then it also knows the definition of religion and lives life gracefully. One step journey: One step only gives us our destination, if we have a deep desire for the destination. Deep desire always awakens from within and the root of deep desire is always sorrow. Without pain there is no seed of desire in us. Spring will never come when the seed does not sprout? If we fall in love for ourselves and honesty with love, then kindness is needed to ensure love is justice. Kindness must come. Mercy will do 'love' freely. When love and freedom were reconciled, then person entered into the 'Nirvana dimension'. - #spiritualjourney, #awakeningjourney, #meditation

एक कदम यात्रा: एक कदम केवल हमें हमारी मंजिल देता है, अगर हमें गंतव्य की गहरी इच्छा है। गहरी इच्छा हमेशा भीतर से जागती है और गहरी इच्छा की जड़ हमेशा दुःख है। दर्द के बिना हम में इच्छा का कोई बीज नहीं है। जब बीज अंकुरित नहीं होगा तो वसंत कभी नहीं आएगा? अगर हम खुद के लिए प्यार में पड़ते हैं और प्यार के साथ ईमानदारी करते हैं, तो प्यार को न्याय सुनिश्चित करने के लिए दया की आवश्यकता है। दया अवश्य आयेगी। दया स्वतंत्र रूप से 'प्यार' करेगी। जब प्रेम और स्वतंत्रता का मेल हो गया, तब व्यक्ति 'निर्वाण आयाम' में प्रवेश कर गया। रुको: अब चलो सिर्फ एक कदम : पार करेंगे ४ कदम इंसान खुद में एक धर्म है, अगर इस को खुद की समझ आ जाती है तो यह धर्म की परिभाषा को जान भी जाता है और ज़िंदगी को शान से जीता भी है




Aura of Silence

How to fly in the sky of life



Out of a few open doors, when I saw the silent sun rays coming in, suddenly an experience was born. The darkness is just a curtain, and if you look closely, the light is hidden there. Meaning that righteousness is hidden in the veneer of darkness. I quickly looked into the darkness within me and saw, -

'My emotions started to create a tune with my passion and the melody of experience began to blossom in the rhythm of my awareness. Aura born out of the waves of my longing, taught me how to fly in the sky of life!'

When the dimension of silence fills the person with freshness, then the person starts flying in the sky of life, due to which one knows what is death.

Fresh Aura of Silence 


When I fell in love with the silent, I saw and realized how fragile every particle of life is, untouched, refreshed and new. This deep refreshment will always be deeply refreshed, because it has always been touched by deep refreshment. Since then, that aura of freshness hovered over me. 

Immortal dimension


I don't have anything other than to say 'wow'. Life becomes a mirror when I look at my present, from which I see that I have walked to a deep pleasant place. In my quiet breath my crazy feelings, think stormy, be satisfied. Now my experience has found the ground, which will blossom and take me to the spring of light. And now I am looking at the point, which is filling the dimension in my vein, in which it is my vein, my particle will always live immortal life.



ज़िंदगी के आसमान में कैसे उड़ना है


थोड़े से खुल्ले दरवाज़े में से जब मैंने चुप-चाप सूर्य की किरण को भीतर आते देखा तो अचानक एक अनुभव ने जन्म लिया।अँधेरा सिर्फ एक पर्दा है, गौर से देखेंगे तो वहां पर भी रौशनी छुपी हुई है। मतलब कि अँधेरे के लिबास में भी धार्मिकता छुपी हुई है। मैंने झट से मेरे के भीतर के अँधेरे में देखा तो देखा,- मेरी भावनाएं, मेरे जुनून के साथ एक धुन बनाने लग पड़ी और मेरी जागरूकता की लय में अनुभव का राग खिलने लगा। मेरी अभिलाषा की तरंगों में से जन्मती आभा ने मेरे को यह सीखा दिया कि ज़िंदगी के आसमान में कैसे उड़ना है ! 

जब चुप का आयाम व्यक्ति को ताज़गी से भरता जाता है तो व्यक्ति जीवन के आसमान में उड़ना शुरू होजाता है, जिस के कारण वो जान लेता है कि मौत क्या है। 

ताज़गी की आभा 


जब मैंने चुप से प्यार किया तो मैंने देखा और महसूस किया कि जीवन का हर कण कितना नाज़ुक है, अनछुहा है, ताज़ा है और नया है। यह गहरी ताज़गी सदा गहरी ताज़गी ही रहेगी, क्योंकि इस को सदा गहरी ताज़गी ने ही छुहा है।तब से वो रंगत की आभा मेरे पर भी छा गई।  

अमर आयाम 


मेरे पास 'वाओ' कहने के इलावा कुछ ओर  है ही नहीं।  जब मैं खुद के वर्तमान पर झात मारती हूँ तो ज़िंदगी एक ऐसा आइना बन जाती है, जिस में से मैं देखती हूँ कि 'मैं' गहरे सुखद स्थान के लिए चल पड़ी हूँ।मेरी शांत साँसों में मेरी पागल भावनाये, तूफानी सोचें भी संतुष्ट हो गई। अब मेरे अनुभव को वो ज़मीन मिल गई है, जो अब खिल कर मेरे को रौशनी की बहार में ले जाएंगे। और अब मैं उस बिंदु को देख रही हूँ, जो मेरी रग रग में उस आयाम को भरता जा रहा है, जिस में यह मेरी रग, मेरा कण कण सदा लिए  अमर जीवन को जियेगा।  

First step to a happy life

 First step to a happy life

Questions must be born for awareness, or say that the questions arise at the same place where awareness takes place.



The experience of silence and deep twilight of death is very frequent,
 how should death and questions be?
 Have you ever thought?
 What should life be like- Have you ever thought?
 What should the relationship be like- Have you ever thought?
 How to live - Have you ever thought?
 No answer until the question. When the answer is no, what will we get in life, have you ever thought?
Whenever we ask ourselves any other question, we will think. If thinking becomes a thought then the idea will be born. If the idea is born, then life will automatically go towards success.
 The place where we are standing was our wish. Today, if you get bored of this place, do not be impatient, only the question is to adopt which place to go from this place. Whether place or relationship; Feelings or thinking. I am always with you.
 Do you know that patience or impatience; Trust or cheat; Hope or despair; Be it reverence or stupidity; Courage or laziness: Whatever this quality is, not just feeling, not just a quality, all of these take shape. Whether the shape of man or animal. You have to look everywhere, whatever you have got, it is only for you because you needed this quality and it is.
The first step to a happy life is to be aware.
The first step to be aware is to question yourself and then think about the question. In doing this, life is not only happy, our intelligence and our power of memory comes in well-being.


---*---


खुशहाल जीवन के लिए पहला कदम 

जागरूकता केलिए सवालों का पैदा होना ज़रूरी है, या कहो कि सवाल वही पर पैदा होतें हैं,जहाँ पर जागरूकता होती है 
 चुप और मौत की गहरी सांझ का अनुभव  बहुत बार हो चुक्का है,
 मौत और सवाल कैसे होने चाहिए- क्या कभी सोचा है ?
 ज़िंदगी कैसी होनी चाहिए- क्या कभी सोचा है ?
 रिश्ता कैसा होना चाहिए- क्या कभी सोचा है?
 जीना कैसे चाहिए- क्या कभी सोचा है ?
 जब तक सवाल नहीं, तब तक जवाब नहीं।  जब जवाब नहीं, तो जीवन में हम को किस चीज़ की प्राप्ति होगी, क्या कभी सोचा है ?
जब भी हम खुद को कभी भी और कोई भी सवाल करेंगे, तो हमारे में सोच आयेगी। अगर सोच विचारना  बन गई तो आईडिया पैदा होगा. आईडिया पैदा हो गया, तो कामयाबी की ओर  ज़िंदगी खुद-ब-खुद जाने लगेगी। 
 हम जिस जगह पर भी खड़े हैं, वो हमारी ही चाहना थी। आज अगर इस जगह से ऊब  आती है तो बेसब्री नहीं, सिर्फ सवाल को ही अपनाना है कि इस जगह से किस जगह की ओर  जाना है। जगह चाहे रिश्ते हो या हालत; भावना हो या सोच। मैं सदा आप के साथ हूँ। 
 क्या आप यह जानते हो कि सब्र या बेसब्री ; भरोसा हो या धोखा; आशा हो या निराशा ; श्रद्धा हो या बेवकूफी; हिम्मत या आलसीपन: जो भी  यह सब गुणवत्ता  होती है,   सिर्फ एहसास नहीं, सिर्फ एक  गुण  ही नहीं,  यह सब ही आकार लेते हैं। चाहे आकार इंसान का ले- या जानवर का।  आपने हर तरफ देखना, जो भी आप को मिला हुआ है, वो  इस लिए ही मिला है आप को क्योंकि आप को  इस गुणवत्ता की ज़रुरत थी और है।
खुशहाल जीवन केलिए पहला कदम है - जागरूक रहना। 
जागरूक रहने केलिए पहला कदम है, खुद को सवाल करने और फिर सवाल के बारे में विचरना।  ऐसा करने में जीवन ही खुशहाल नहीं होता, हमारी अक्ल और हमारी याद-शक्ति में ही तंदरुस्ती आती है।  

Journey of Love

Journey of Love

Awareness makes a person aware of life, that there is joy and fun in living life.
 

I had a journey till date and till this moment, to which I named 'love' the journey of love. A new journey is starting from today and from this moment, the one whom I named, my new understanding, 'life'. There is nothing in which love, trust, perseverance, service, kindness, dua, respect, respect, good-bad, right-wrong, righteousness-unrighteousness, customs and customs. This morning, when the eyes opened, a blank look in the eyelids of the world looked at the world and then a space appeared. In which everyone has an idol and appearance, but the name is nothing. When I saw myself today without a name, life took hold of my pulse and started counting the beats. It was as if I had just been born and watched my own self Dr. sees the pulse of the new born child that the child is alive. When I saw the pace of my breath today, life greeted God and then I got up and started walking towards a new journey. Today is my first step towards life.
-

प्यार का सफर

जागरूकता व्यक्ति को जीवन के प्रति ऐसे सचेत करती है, 
कि जीवन जीने में आनंद और मज़ा आने लगता है 

मेरा आज तक का और इस पल तक का सफर था, जिस को मैंने नाम दिया 'प्यार का सफर'।  आज से और इस पल से शुरू हो रहा है एक ओर  ही नया सफर, जिस को नाम दिया, मेरी ही नई  समझ ने, 'ज़िंदगी' . जिस में प्यार, भरोसा, लगन, सेवा, दया, दुआ, आदरमान, संभाल , अच्छा-बूरा, सही-गलत, धर्म- अधर्म , रीती-रिवाज़, कुछ है ही नहीं।  आज सुबह ही जब आँख खुली तो आँखों की पलकों में एक खाली नज़र ने जब संसार की और देखा तो एक स्पेस दिखाई दिया। जिस में हर पास मूरत और सूरत है पर नाम कुछ भी नहीं।   जब आज मैंने बिना किसी नाम के खुद को देखा तो ज़िंदगी ने मेरी नब्ज़ को पकड़ लिया और धड़कन को गिनने लगी।आज  ज़िंदगी का खुद-ब -खुद  ही चले आना और मेरी नब्ज़ का देखना कुछ ऐसे था जैसे कि मैंने अभी जन्म लिया और डॉ ने नए जन्मे बच्चे की नब्ज़ को देखा कि बच्चा जीवत  है।  मेरी सांसों की रफ्तार को आज जब ज़िंदगी ने देखा तो ज़िंदगी ने  खुदा को मुबारक दी और फिर मैं उठी और चल पड़ी, एक नए सफर की तरफ।
आज मेरा पहला कदम है, ज़िंदगी की ओर। 

Where does deception originate?

 Where does deception originate?



Where does deception originate?
On trust.
 Why?
Deception requires a certain place to be born, and with confidence the deception will not find a place anywhere else.
Why is this ?
 Trust is a delicate feeling, whose land is very sacred. The depth of trust will always be available to us only through 'Deception'.
Why?
 Because:
Like if we have to build a wall and if we cannot always put the brick in the same way, then the wall will never be built. In the same way, how sure is the root of trust, it is always made out of negative feelings.
The common man's trust is broken every day, but he sees, does nothing. Our eyes go only when our deep trust strikes. Trust will always be looted. There are two aspects to everything, the weak aspect of trust is that it can be easily looted and the powerful aspect of it is that it gives the person success.
So how can we save?
Trust is our quality, to save trust, we have to make trust deeper and stronger. Trust is always powerful by deception. No matter how much we love someone, always hide that thing, that thought, that experience and that wealth in your heart, which you never want to lose. If you cannot hide your own experience, then no one will ever do the work for you, which you could not do for yourself.
Another way to avoid deception is to surrender yourself to life or become very conscious. Both ways make a person powerful.

Cheating can always cheat trust. Only if you have to target trust, then a person can be cheated, we can cash fear only on the ground of trust.

---*---


धोखे का जन्म कहाँ पर होता है ?


धोखे का जन्म कहाँ पर होता है ?
भरोसे पे। 
 क्यों?
धोखे को पैदा होने केलिए पक्की जगह चाहिए, और भरोसे से पक्की जगह धोखे को ओर  कहीं पर भी नहीं मिलेगी। 
ऐसा क्यों है ?
 भरोसा एक नाज़ुक अहसास है , जिस की ज़मीन बहुत ही पवित्र है।  भरोसे की गहराई की जानकारी सदा ही हम को 'धोखे ' के राहीं  ही मिलेगी।
क्यों ?
 क्योंकि:
जैसे हम ने एक दिवार बनानी है  और ईंट  को सदा ही एक जैसा नहीं लगा सकते तो दिवार कभी नहीं बनेगी। वैसे ही भरोसे की जड़ कितनी पक्की है सदा नाकारत्मिक -भाव में से ही बनती है। 
आम इंसान का हर रोज़ विश्वास टूटता ही है , पर वो देखता है, करता कुछ नहीं। नज़र हमारी वहीँ पर जाती है, जब हमारे गहरे भरोसे पर वार होता है।  भरोसे को ही सदा लूटा जाएगा।  हर चीज़ के दो पहलु हैं, भरोसे का कमज़ोर पहलु यही है कि इस को आसानी से लूटा जा सकता है और इस का ताकतवर पहलु यही है कि यह व्यक्ति को कामयाबी की मंज़िल देता है। 
तो हम बचा कैसे कर सकतें हैं ?
भरोसा हमारा गुण है, भरोसे को बचाने के लिए हम ने भरोसे को गहरा और ताकतवर  बनाना है। भरोसा सदा धोखे से ही ताकतवर होता है। हम को किसी से कितना भी प्यार क्यों न हो, सदा उस चीज़ को , उस सोच को, उस अनुभव को और उस  दौलत को दिल में छुपा लेना, जिस को आप कभी भी खोना नहीं चाहते। अगर आप ही खुद के अनुभव को छुपा न सके तो कोई भी आप केलिए वो काम कभी नहीं करेगा, जो आप खुद के लिए नहीं कर पाए। 
धोखे से बचने का एक और राह है , खुद के जीवन को समर्पित कर देना या बहुत  ही होशमंद हो जाना। दोनों ही राह व्यक्ति को शक्तिशाली बना देती है। 

 धोखा सदा ही भरोसे को ठग सकता है। भरोसे पर ही निशाना लगाना पड़ेगा, तो ही व्यक्ति को धोखा दिया जा सकता है , डर को cash  भी हम भरोसे की ज़मीन पर ही कर सकतें हैं। 



Where Death Lives?

Death always played the role of mother

When my eyes were searching for the land of death where death lives,
 then I know that death is living in me


 It is also a pleasure to die when we know what 'death' is. People say that we are living, and my experience has always been death. 'Death' continued to show me 'What is life?'

I started learning to live as a child learns to walk. The parents teach the child to walk with the hand and 'Death' took my hand. The child learns to walk in two years, and I have not learned to live even in 50 years. The experience of 'death' went on to stifle 'life' in me. Whenever I thought 'spring season' is going to come, at the same time there was a thunderstorm. Seeing any storm did not cause panic, because I knew that all this game is of 'death', which is taking me into a strong and cheerful life.

Today, when the eyes opened in the morning, today the heart did not say 'death', thank you, today, a kind smile sent a gesture to life, why?


मौत ने सदा ही माँ का रोल अदा किया 

 जब मेरी आँखें मौत की ज़मीन की तलाश कर रही थी कि मौत कहाँ पर रहती है तो तब जाना कि मौत मेरे में ही जी रही है 


मरने में भी आनंद आता है ,जब हम यह जान जाते हैं कि 'मौत' है क्या।  लोग कहतें हैं कि हम जी रहे हैं , और मेरा अनुभव सदा मौत का ही रहा। 'मौत' मेरे को दिखाती चली गई कि 'ज़िंदगी क्या है ?' 

जैसे बच्चा  चलना सीखता है, वैसे ही मैंने जीना सीखना शुरू किया।  माँ-बाप बच्चे का हाथ पकड़ कर चलना सिखाते हैं और मेरा हाथ 'मौत' ने पकड़ा।  बच्चा दो साल में चलना सीख जाता है, और मैंने ५० साल में भी जीना नहीं सीखा। 'मौत' का अनुभव मेरे में 'ज़िंदगी' को पुंगेरता चला गया।  जब भी मुझे लगा कि ' बहार ऋतू ' आने वाली है, उसी वक़्त कोई न कोई आंधी ही आई।  किसी भी आंधी को देख कर घबराहट पैदा नहीं हुई, क्योंकि मैं जान चुक्की थी कि यह सब खेल 'मौत' का है, जो मेरे को मज़बूत और हौंसले भरी ज़िंदगी में ले जा रहा है। 

आज जब सुबह आँख खुली तो आज दिल ने 'मौत' को तो धन्यबाद  नहीं कहा, आज एक मन मोहनी सी मुस्कान ने इशारे से ज़िंदगी को कहा, क्यों?




When do we succeed in meditation?

 Do you know that thinking becomes a picture?


When I first saw my own thinking becoming a picture, how I was thinking and as I was going to sleep, the same way of thinking was becoming a picture. Then I saw that life taught me to get out of sleep. I started to feel that moment of waking and sleeping, from which I can see that I have thinking on one side, and I saw the mind going into sleep, then how the thinking becomes a picture on the floor of sleep. That means I was watching the body go to death


When we know how our thinking takes the shape of a picture, we know that our attendance is not absent

Karma region starts when thoughts wake up



I learned that Karma is related to the idea. Just as thoughts happen, so are deeds. The form of Karma is visible above the form of thought. Thoughts take the form of Karma. Karma stops only when thoughts stop. Just like in deep sleep, we see that no sinner can sin and no servant can even serve. Because Karma starts only when the thoughts are aware





When do we succeed in meditation?



We will always be successful in meditation only when we bind ourselves with a strong intention. Meditation will go only there when dhyam finds the best and deepest path to become active. Meditation is the nature of the mind. And everything is complete in its own nature. And the completion is the complete attainment of the journey. Meditation is the process with which the mind is able to complete itself, meaning that our mind fulfills its own merit and this complete success of the mind becomes the mind's elimination. After this, the mind becomes the companion of the person and takes the person into the spiritual dimension.


How do we concentrate the mind?


The mind is the flow of our thoughts, if it stops then it will calm down and the mind will regain its full state. The mind gets concentration when the mind finds a motive. A challenge comes in front of the mind, after which the mind completes itself, meaning that it understands its own merit. The attention of the mind is now engaged in the purpose, due to which the mind gets out of wasteful thinking. It is worth remembering that the mind also serves a purpose. The nature of the mind is meditation. When it goes through the flow of thoughts, it cannot make a decision, every thought is its own child, here, the mind supports the intellect, when the intellect adopts any one idea and Makes it a motive. When any such purpose comes in front of the mind, then the quality of concentration is created in the mind for that purpose.



क्या आपको पता है कि सोच ही तस्वीर बन जाती है ?


जब मैंने पहली बार खुद की सोच को तस्वीर बनते देखा था कि कैसे मेरे में सोच चल रही है और जैसे मैं नींद में जा रही हूँ, वैसे ही सोच का हर लफ्ज़ तस्वीर बनता जा रहा है। फिर होले  होले मैंने देखा कि ज़िंदगी ने मुझ को नींद में से बाहर निकलना सीखा दिया।  जागने और सोने के उस बारीक़ पल को अनुभव करने लगी, जिस में से मैं देख सकती हूँ कि मेरी एक तरफ सोच है, और मैं मन को नींद में जाते देखा , तब  सोच  नींद के तल पर कैसे तस्वीर बनती जाती है।  मतलब कि मौत में जाते शरीर को मैं देख रही थी 



जब विचार जागते हैं तो कर्मा क्षेत्र शुरू होता है 



मैंने जाना कि कर्मा का सम्बन्ध विचार के साथ है। जैसे विचार होतें हैं , ठीक वैसे ही कर्म होतें हैं। विचार के रूप ऊपर ही कर्मा का रूप दिखाई देता है।  विचार ही कर्मा का रूप धारण करतें हैं।  विचार बंद हो जाने पर ही कर्म बंद हो जातें हैं। जैसे गहरी नींद में ही हम देखतें हैं कि कोई पापी पाप नहीं कर सकता और कोई भी सेवक सेवा भी नहीं कर सकता  . क्योंकि जब विचार जागतें हैं, तब ही कर्मा शुरू होतें हैं 

जब हम यह जान लेते हैं कि हमारी सोच तस्वीर का रूप कैसे लेती है तो हम जान लेते हैं कि हमारी हाज़री  गैरहाजरी नहीं होती 

हम ध्यान में सफल कब होतें हैं?



हम सदा ध्यान में उस वक़्त ही सफल होंगे, जब हम खुद को पक्के इरादे से किसी मक़सद में बाँध लेते हैं।  ध्यान वहीँ पर जाएगा, जब ध्याम को सकिर्या होने के लिए उत्तम और गहरा मार्ग मिल जाता है।  ध्यान मन का स्वभाव है।  और हर चीज़ खुद के स्वभाव में पूर्ण है। और सम्पूर्ण होना ही यात्रा की पूर्ण प्राप्ति है। ध्यान वो प्रकिर्या है,जिस के साथ मन खुद को पूर्ण कर पाता है , मतलब कि  हमारा मन खुद की योग्यता को पूरा कर देता है और मन की यह पूर्ण सफलता ही मन का  निर्वाना  बन जाती है।  इस के बाद मन व्यक्ति का साथी बन कर व्यक्ति को आत्मिक- आयाम में ले जाता है। 



हम मन को एकाग्र कैसे करें?


मन हमारे विचारों का प्रवाह  है अगर यह रुक गया तो यह मन शांत हो जाएगा और मन पूर्ण अवस्था को प्राप्त कर लेगा।  मन को एकाग्रता तब मिलती है , जब मन को एक मकसद मिल जाता है।  मन के आगे एक चनौती आ जाती है,  जिस को प् कर मन खुद को पूर्ण कर लेता है, मतलब कि खुद की योग्यता को समझ लेता है।   मन का ध्यान अब मकसद में लगा हुआ होता है, जिस के कारण मन फालतू की सोच से बाहर हो जाता है। यह याद रखने के काबिल बात है कि मन भी कोई मकसद की भाल करता है।  मन का स्वभाव है ध्यान।जब वो विचारों के बहा  में से गुज़रता है तो वो फइसला नहीं कर सकता खोंखी हर विचार उस का ही बच्चा होता है, यहां पर मन का साथ बुद्धि देती है, जब   बुद्धि किसी एक विचार को अपना  लेती है और उस को मकसद बना लेती है।  जब ऐसा कोई मकसद मन के आगे आता है तो मन में उस मकसद केलिए एकाग्रता का गुण  पैदा हो जाता है। 



रेतली राह का मुसाफ़िर

रेतली राह का मुसाफ़िर
माननीय प्यार , आज मैं खुद को आप के आगे सन्मानित करना चाहती हूँ कि मैं आप की रचना हूँ ; और खुदा के आगे मैं खुद को धन्यवाद का उपहार देना चाहती हूँ कि 'धन्यवाद शहीर ' कि आप ने खुदा से प्यार किया। हर किर्या के लिए धन्यवाद
The best cure of the body is a quite mind:. Powered by Blogger.