BREAKING NEWS
latest

The Artist will always produce Art

The Artist will always produce Art
यह कॉस्मिक कला एक ऐसी कलाकारी है, जो कि खालीपन पर खाली रंग से ही की गई है। जब हम इस कलाकारी को समझने के काबिल हो जातें हैं तो हम खुद के रहस्य से जानू हो जातें हैं

Journey of Love

Journey of Love

Awareness makes a person aware of life, that there is joy and fun in living life.
 

I had a journey till date and till this moment, to which I named 'love' the journey of love. A new journey is starting from today and from this moment, the one whom I named, my new understanding, 'life'. There is nothing in which love, trust, perseverance, service, kindness, dua, respect, respect, good-bad, right-wrong, righteousness-unrighteousness, customs and customs. This morning, when the eyes opened, a blank look in the eyelids of the world looked at the world and then a space appeared. In which everyone has an idol and appearance, but the name is nothing. When I saw myself today without a name, life took hold of my pulse and started counting the beats. It was as if I had just been born and watched my own self Dr. sees the pulse of the new born child that the child is alive. When I saw the pace of my breath today, life greeted God and then I got up and started walking towards a new journey. Today is my first step towards life.
-

प्यार का सफर

जागरूकता व्यक्ति को जीवन के प्रति ऐसे सचेत करती है, 
कि जीवन जीने में आनंद और मज़ा आने लगता है 

मेरा आज तक का और इस पल तक का सफर था, जिस को मैंने नाम दिया 'प्यार का सफर'।  आज से और इस पल से शुरू हो रहा है एक ओर  ही नया सफर, जिस को नाम दिया, मेरी ही नई  समझ ने, 'ज़िंदगी' . जिस में प्यार, भरोसा, लगन, सेवा, दया, दुआ, आदरमान, संभाल , अच्छा-बूरा, सही-गलत, धर्म- अधर्म , रीती-रिवाज़, कुछ है ही नहीं।  आज सुबह ही जब आँख खुली तो आँखों की पलकों में एक खाली नज़र ने जब संसार की और देखा तो एक स्पेस दिखाई दिया। जिस में हर पास मूरत और सूरत है पर नाम कुछ भी नहीं।   जब आज मैंने बिना किसी नाम के खुद को देखा तो ज़िंदगी ने मेरी नब्ज़ को पकड़ लिया और धड़कन को गिनने लगी।आज  ज़िंदगी का खुद-ब -खुद  ही चले आना और मेरी नब्ज़ का देखना कुछ ऐसे था जैसे कि मैंने अभी जन्म लिया और डॉ ने नए जन्मे बच्चे की नब्ज़ को देखा कि बच्चा जीवत  है।  मेरी सांसों की रफ्तार को आज जब ज़िंदगी ने देखा तो ज़िंदगी ने  खुदा को मुबारक दी और फिर मैं उठी और चल पड़ी, एक नए सफर की तरफ।
आज मेरा पहला कदम है, ज़िंदगी की ओर। 
« PREV
NEXT »

No comments

The best cure of the body is a quite mind:. Powered by Blogger.

Thanks you came here

Thanks you came here

Subscribe

Contact Form

Name

Email *

Message *