AELOLIVE
latest

Do you know that we are a big miracle secret?

Do you know that we are a big miracle secret?
Following the trail of colorful emotions and beautiful divine relationships. Now life Blossoms, beginning to love because it is a vibrant land of love and a beautiful feelings to wander across the heart during the journey of awakening. But here are some of the most stunning moments to witness life in full bloom with divine relationship and divine action like spring...And now thoughts are in bloom

The ugly character of life is anger


27 years ago:
While praying for the shower, I was praying and asking God for the house. After 10 minutes, the energy of the house varied. I thought that my prayer was complete. But it did not come to mind that the difference in energy can also be negative. I asked for positive energy, but what I got was negative.
It was 17 years ago like this:
That incident is happening again. I am praying that God, make this house full of your blessings. And life started going completely negative.
If I see the deep way of life, then I am a failed person. Didn't get what you asked for? Whoever got, got awesome.
I got everything that only belongs to me, which I have to take full advantage of. That which the world demands, but not Serious. As much as Serious is for money, not for happiness and happiness. Surely everyone want happiness and comfort, but walk on money's path.
I always asked God for happiness and got pain.
If I asked for happiness, then I got grief.
If I asked for an atmosphere of freedom, then I got a tension filled atmosphere.
If I trust I lose trust
If I got courage, I lost.
My moment failed my every moment and I would lose every step.
But one thing kept happening very interestingly that my failure would become my success and my defeat would become my victory.
What is this all about?
 What kind of incident is this, what is the feeling, and what is the reason why I used to think like this, why I used to feel like this and why there was no disappointment in me.
My condition was just a question?
There is a saying that 'like seed is fruit'
Buddha said that focus on thinking, life is like thinking.
I was seeing that as life happens, human thinking becomes the same. I can think anything, this thinking will never come in me. Because as I am, the very foundation of my thinking is divine.
I noticed that whenever I pray for the positive, it was clearing me by removing my negative energy from me, due to which my behavior and my nature also came to positive level. If the result is right, the action, however harsh or wrong it seems, will be right. If I passed the test from 9 to 10, it means that I have corrected the question, only then I have passed.
When I asked God for happiness, He started giving out those who would be the seeds of pain in me. When they come out of me, I will know. If my behavior is becoming very positive for life, then I am getting the fruit of my prayer.
Meaning the garbage is being cleared.


It is a matter of 2 days initiatives that I felt that the energy of the house has changed again. When I closed my eyes, the energy had changed, when the eyes started to open, the space in front of me became the image of Buddha and it became crooked. When my attention was completely stopped on Buddha, the reverse of the clock started revolving. After about 24 hours, when I saw that there was some change in energy, I put my mind in silent gare and looked at the space. Now Buddha's image started appearing at the right place and very clear. Now saw Buddha in the meditation position in the light.
This was a change of energy, what happened in it?
First of all, this energy surrounded me like crazy, and how I was going, amazing! Then I started to suffer. Wish to wake up all the people of the house and fight with everyone and beat them up. Then pick up this pot and hit the head of this member and this. Then came or not, I just break all the dishes like that. No, even if it is not right, what should I do? I do this that I get everyone out of the house. I'll just be with the birds.
A bird began to vomit. And I prayed. And I got up from the couch and circled around the cage, threatening to threaten God. As soon as my orbit was complete, the parrot was relaxed. Whatever black items were in the house, it was thrown out. Then told the two members of the house that you start living separately. As the day progressed, I started recovering.
What is the reason behind this happening?
Life is a very beautiful thing and life itself is a wonderful thing in itself. This life looks at the human being from where this person should be caught and which injections should be cured. Our life itself is a PhD doctor who injects us by observing habit, not by looking at the pulse. No one can do this work better than God, who needs the medicine of those whose impact on the energy of the house was going wrong.
To give them a thought, who should make weapons, who needs this experience, this work was done.
How is person?
How is the atmosphere at home?
How is thinking?
Now this person has to give dose of 5 ml or 10 ml, when life takes action after watching all this, then it is fun.
To be true, if everyone comes to watch this game, then the taste of living life becomes that elixir.
The disease for which we run away, and the years pass, the rest does not come, at this point in life, all diseases are cured in days only. Time is not wasted, money is not wasted, then the happiness of living is amazing.
Then the person who plays the lead in such events, what will be his thinking and feeling for life, can not even guess nor trust.
Life plays a role like an unusual incident, when we see it with our own eyes then the precious thing of the world also takes the form of soil.
Life is such a thing in you that if we want to see it solid then it takes solid form, if we want to see liquid then it takes liquid form.
90% of us believe in its concrete form.

Whenever I used to see the angry form of people, and always think what is the strength in such anger that human being causes so much damage? In this anger does anyone kill anyone? When my heart wants me to kill everyone and even break all these utensils, then at the same moment, I laughed. I remembered everything - meditation now went in a spiritual form. In 5 hours, this anger made me suffer so much that I was laughing at the laughter after seeing my suffering.
For two days, this furious energy made my head sick, so I started thinking about those humans whose anger always stays on the seventh sky. How will people not get disease? 100% of diseases will occur. When the water continues to boil, the vessel will also be spoiled. The fire will also be extinguished. Wood will also end.
If we ever said anything natural in life, that too will be fulfilled. Like when I saw someone and said that how this person saw that other person, it is not a good thing. Now understand that I sowed this seed. I looked natural, I said natural and now it will happen to me as well.
Because now life has to make me feel it. All 90% of us sow seeds unknowingly.
Like now I watched this incident  with 7% attention. But my normal conscious volume is 4%. Now when my senses are at 7%, then it will remain my seed, my blue-print, and will remain in my consciousness. Because the incident is a natural phenomenon.
Like, the energy of anger on me had taken shape. It took years to make life as a natural thing.
Whatever happens in life, no one has any hand other than us.
So just think, whatever you say.
This is why it is said that a silent hundred happiness

ज़िंदगी का बदसूरत किरदार क्रोध है

27 साल पहले की बात है:
मैं शावर लेते वक़्त प्रार्थना कर रही थी और खुदा से घर की ख़ैर मांग रही थी।  १० मिनट्स के बाद ही घर की ऊर्जा में भिन्नता आ गई।  मैंने यह तो सोचा कि मेरी प्रार्थना पूरी हो गई।  पर यह  दिमाग में नहीं आया कि जो ऊर्जा में भिन्नता है, वो नकारात्मिक भी हो सकती है।  मैंने सकारत्मिक ऊर्जा की मांग की पर मेरे को जो मिली थी वो थी नाकारत्मिक। 
ऐसे ही 17 साल पहले की बात है :
वोही घटना फिर घट रही है।  प्रार्थना कर रही हूँ कि रब्बा इस घर को अपने आशिर्बाद  से भरपूर करो। और ज़िंदगी ने पूरा नेगेटिव चलना शुरू किया।  
मैं ज़िंदगी की गहरी चाल को अगर देखूं तो मैं एक फेल हो चूका इंसान हूँ।  जो भी माँगा , वो मिला नहीं ? जो भी मिला , वो लाजावाब मिला। 
मेरे को वो सब मिला, जो सिर्फ मेरे से ही नाता रखता है , जिस का भरपूर फाइदा मेरे को ही होना है।  जिस के लिए संसार मांग करता है, पर सीरियस नहीं। जितना इंसान सीरियस पैसे केलिए है, उतना ख़ुशी और सुख के लिए नहीं।  कहता ज़रूर है कि मुझ को सुख चाहिए और ख़ुशी चाहिए, ओर राह पैसे की पर चलता है। 
मैंने सदा खुदा से सुख माँगा तो मिला दर्द। 
अगर ख़ुशी मांगी तो मिल गई ग़मी। 
अगर मैंने आज़ादी का माहौल माँगा तो टेंशन भरा माहौल मिल गया। 
अगर मेरे में भरोसा आया तो भरोसा टूट गया 
अगर मेरे में हिम्मत आई  तो हार मिल गई। 
मेरा पल पल फेल होता गया और  मेरा कदम हर कदम पर ही हार जाता। 
पर एक बात बहुत ही दिलचस्प घटती रही कि मेरा फेल होना ही मेरा पास होना बन जाता और मेरी हार ही मेरी जीत बन जाती थी। 
यह सब है क्या?
 यह कैसी घटना है, कैसी भावना है, और कैसी सोच है कि मैं ऐसे क्यों सोचती थी , ऐसे क्यों अनुभव करती थी और मेरे में निराशा क्यों नहीं आती थी। 
मेरी हालत एक सिर्फ सवालिया-चिन थी ?
कहावत है कि 'जैसा बीज वैसा फल' 
बुद्धा ने कहा कि सोच पर ध्यान दो, जैसे सोच वैसा ही जीवन। 
मैंने देख रही थी कि जैसा जीवन होना होता है, इंसान की सोच ही वैसी हो जाती है। मैं कुछ सोच भी सकती हूँ, यह सोच मेरे में कभी आएगी ही नहीं। क्योंकि जैसी मैं हूँ, मेरी सोच की बुनियाद ही परमात्मा है।  
मैंने देखा कि जैसे भी मैं सकारत्मिक के लिए प्रार्थना करती हूँ, वो मेरे में से मेरा नकारत्मिक एनर्जी निकालता हुआ मेरे को साफ़ करता जा रहा था, जिस से मेरा व्य्वहार भी और मेरा स्वभाव भी पॉजिटिव  लेवल में आता गया।  अगर नतीजा सही है तो एक्शन चाहे जितना मर्ज़ी कठोर या गलत लगे, वो सही ही होगा। अगर मैंने टेस्ट पास कर लिया 9 से 10 में हो  गई तो मतलब कि मैंने सवाल ठीक किया है, तो ही पास हुई हूँ।                                                                                                                                                                             
मैंने खुदा से ख़ुशी मांगी , तो उस ने जो मेरे में दर्द के बीज होंगे, उन को मेरे से निकलना शुरू कर दिया। जब मेरे में से निकलेंगे तो मेरे को पता चलेगा ही। अगर मेरा व्य्वहार ज़िंदगी के लिए गहरा पॉजिटिव  हो रहा है तो मेरे को मेरी प्र्रर्थना का फल मिल रहा है। 
मतलब कि कचरा साफ़ हो रहा है। 

२ दिन पहलों की बात है कि मेरे को लगा कि घर की एनर्जी फिर से बदल गई है।  जब मैंने  आँखों को मीट कर अनुभव  किया तो बदल गई थी, जब आँखों को खोलने लगी तो मेरे आगे स्पेस में बुद्धा की मूर्त बन गई  और वो टेढ़ी हो गई।  जब मेरा ध्यान बुद्धा पर पूरा ठहर गया तो क्लॉक के उल्ट  मूर्त ने घूमना शुरू कर दिया।  लगभग २४ हॉर्स के बाद जब मैंने देखा कि ऊर्जा में कुछ बदलाहट हुई है तो मैंने मन को चुप गेर में डाला तो स्पेस की ओर देखा।  अब बुद्धा की मूर्त सही जगह पर और बहुत ही साफ़ दिखाई देने लगी। अब बुद्धा को रौशनी में मैडिटेशन पोजीशन में देखा। 
यह जो ऊर्जा की बदलाहट थी, इस में हुआ क्या था ?
सब से पहले मेरे को इस ऊर्जा ने पागलों की तरह बे-अरामी में घेरा और मैं कैसे कैसे चल रही थी , अमेजिंग ! फिर मेरे को तड़पना लग गई।  दिल करे कि घर के सब लोगों को जगा कर सब से झगड़ा करून और सब के साथ मार-पीट करू। फिर दिल करे के यह बर्तन उठा कर इस मेंबर के सर पर मारू और यह इस के।  फिर आया कि नहीं बस वैसे ही सब बर्तन तोड़ डालती हूँ। नहीं यह भी ठीक नहीं तो क्या करूं? ऐसा करती हूँ कि सब को घर से बाहर  निकाल देती हूँ। मैं सिर्फ परिंदों के साथ रहूंगी। 
एक परिंदे ने उलटी करनी शुरू कर दी।  और मेरे में प्रार्थना आ गई।  और मैंने सोफे से उठ कर पिंजरे के चारों ओर, खुदा को धमकी देने के अंदाज़ में परिक्रमा करने लगी।  जैसे जैसे मेरी परिक्रमा पूरी हुई तो तोते को आराम आ गया। घर में जो भी काले रंग के सामान था, उस को बाहर फेंक दिया।  फिर घर के दो मेंबर्स को कह दिया कि आप अलग रहना शुरू कर दो। जैसे जैसे दिन चढ़ता गया, मैं ठीक होने लगी। 
इस के होने के पीछे कारण क्या है ? 
ज़िंदगी बहुत ही सोहनी चीज़ है और ज़िंदगी आपने आप  ही में बहुत ही कमाल की लाजवाब चीज़ है।  यह ज़िंदगी  इंसान की ओर देखती है कि इस इंसान को कहाँ से पकडू और कौन सा इंजेक्शन लगे कि इस की बिमारी ठीक हो जाए।  हमारी ज़िंदगी  ही हमारे लिए एक पीएचडी डॉक्टर है, जो आदत देख कर इंजेक्शन लगाती है, नब्ज़ देख कर नहीं। घर की ऊर्जा पर जिन लोगों का प्रभाव गलत पड़  रहा था, उन को कैसी दवा चाहिए, यह काम परमात्मा से अच्छा कोई नहीं कर सकता। 
उन को एक सोझी देने केलिए किस को हथियार बनाना चाहिए, किस को इस अनुभव की ज़रुरत है, यह काम हुआ था।
इंसान कैसा है ?
घर का माहौल कैसा है?
सोच कैसी है ?
अब इस इंसान को डोज़ 5 ml की देनी है या 10 ml की , जब ज़िंदगी यह सब देख कर कदम लेती है तो, मज़ा आता है। 
सच मानना, अगर सब को यह  खेल देखना आ जाए तो ज़िंदगी जीने का स्वाद जो है वो अमृत बन जाता है।  
जिस बिमारी की इलाज़ के लिए हम भागे हुए फिरते हैं , और साल बीत जातें हैं, आराम नहीं आता, ज़िंदगी के इस मुकाम पर सब बिमारी दिनों में ही ठीक हो जाती है। वक़्त फालतू  नहीं जाता, पैसा खराब नहीं होता, फिर जो जीने की ख़ुशी होती है वो तो गज़ब की होती है।   
फिर जो इंसान ऐसी घटनाओं में मुख अदाकारी निभाता है, उस की जीवन के लिए सोच और भावना कैसी होगी, अंदाज़ा भी लगा नहीं सकते और ना ही भरोसा कर सकते हो। 
ज़िंदगी एक अनहोनी घटना जैसा किरदार निभाती है, जब हम यह अपनी आँखों से देखेंगे तो संसार की कीमती चीज़ भी मिटटी का रूप ले लेती है। 
ज़िंदगी आपने आप में ही एक ऐसी चीज़ है की अगर हम इस को ठोस देखना चाहेंगे तो यह ठोस-रूप ले लेती है , अगर हम तरल देखना चाहेंगे तो यह तरल-रूप ले लेती है। 
90% हम इस के ठोस रूप में ही भरोसा करतें हैं। 
जब भी मैं लोगों का क्रोधी रूप देखती थी ,और सदा ही सोचती थी कि ऐसी भी क्रोध में क्या ताकत है कि इंसान इतना नुक्सान कर डालता है ? इस क्रोध में ही किसी का खून कर डालता है ? जब मेरा दिल करे कि मैं सब को मार दूँ  और यह सब बर्तन भी तोड़ दूँ, तो उसी पल  मेरे को हंसी आ गईँ।  याद आ गया सब - ध्यान अब अधियात्मिक-रूप में चला गया।  5 घंटे में इस क्रोध ने मेरे को ऐसा तड़पाया कि मेरे को मेरी  ही तड़पना देख कर हंसी पर हंसी आ रही थी। 
दो दिन तीक इस क्रोध भरी ऊर्जा ने मेरे सर का बूरा हाल किया तो मैं सोचने लगी उन इंसानों को बारे में, जिन का क्रोध सदा ही सातवें आसमान पर रहता है।  कैसे नहीं जिस्म को रोग लगेंगें? १००% रोग लगेंगे ही।  पानी जब उबलता ही रहेगा तो बर्तन भी खराब होगा। आग भी बुझ जायेगी। लकड़ भी ख़तम होगी। 
अगर हम ने कभी ज़िंदगी में सुभाविक ही कुछ भी कहा, तो वो भी पूरा होगा ही।  जैसे मैंने किसी को देख कर यह ही कह दिया कि यह इंसान ने ऐसे कैसे उस दूसरे इंसान को देखा,यह अच्छी बात नहीं।  अब यह समझ लो  कि यह मैंने बीज बो दिया। मैंने सुभाविक ही देखा, मैंने सुभाविक ही कहा और अब मेरे साथ सुभाविक ही यह घटेगा भी।
क्योंकि अब ज़िंदगी ने मेरे को यह अनुभव करवाना ही है। हम सब ९०%  बीज अनजाने में ही बीज बो देतें हैं। 
अब जैसे मैंने इस घटना को 7% ध्यान से देखा। पर मेरी नार्मल होश की मात्रा 4% है।  अब जब मेरे होश की मात्रा 7% पर होगी तब तीक यह मेरा बीज ,मेरा ब्लू-प्रिंट बन कर मेरी चेतना में पड़ा रहेगा। क्योंकि घटना ने सुभाविक ही घटना है। 
जैसे मेरे पर क्रोध की ऊर्जा ने सुभावक-रूप ले के ही घटना था।  ज़िंदगी को सुभाविक -रूप में इस को तुजर्बा बनाने केलिए  बहुत साल लग गए। 
ज़िंदगी में जो भी होता है, उस के पीछे हमारे इलावा ओर किसी का भी कोई हाथ नहीं। 
सो सोच के ही कहना ,जो भी कहना। 
इस लिए कहतें हैं कि एक चुप सौ सुख 

« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
see you again