BREAKING NEWS
latest

Have to walk like a Sanyaasi - No Matter what the Path

What is the original form of time?

 What is wish?

The deepest beauty of life is that when we understand its nature,
 our life becomes art.


 It is such a wire of all of our lives that connects us all with each other. When the reality of life is formless, then the relationship of all of us with each other will be formless. What do we have to do to see this formless?
What we desire is like a string, from which a pattern begins to form. We can see this pattern in every part of nature, which are shaped. Such is the pattern of words, which we call literature and the pattern of notes is called music. Those we know, but do not understand. The counting of this pattern is called Math. When our desire takes shape in space by becoming strings, thinking becomes in us. Thinking: Our desire begins to design. This pattern is the design of the universe. When we start to be free from every desire, then we start getting acquainted with the design of the universe. Because we stopped making our own design. Literature and music are only parts of this pattern. And math is the count of this pattern — from which today's technology.
---***---
Breath and moment:
What are the moments?
just a breath.

 Will have to trust. Because this is the truth and the truth of this truth is that this is true. Moment and breath are the same thing. Moment = Time's image is formed from the moment, just as the breath creates the image of a person. If it is one and two moments that we see, then surely there will be something else behind it too.
 what is that ?
When we start watching the moment carefully or the breath, then we will start to see a melody. We will feel that we are just a melody. This melodiousness is our conscious form. And this is our breath, or say our moment, which is making a pattern of our existence, which gets into a big pattern - which we call God. These are the moments, which are the essence of the universe. Which is a mere note, from which a music is being produced.
Time and Life:
Voice of the time
Life demands!
This is the pattern of the voice and the demand. What is the tune of this pattern, now we have to hear it.
---***---
Harmonicity:

Harmonicity is a rhythm. Or we can say that the name of the system of rhythm is melodiousness. There will always be a vibes from every rhythm, and that wave will always have an aura. The more complete the rhythm, the more harmonic it will be.
We always have to remember that to make a note, the sound has to be suppressed - then the voice will be born.


***---***
 
इच्छा क्या है?
ज़िंदगी की सब से गहरी ख़ूबसूरती यही है कि जब हम इस के स्वभाव को समझ जातें हैं 
तो हमारा जीना कला बन जाता है 

 यह हम सब की ज़िंदगी की एक ऐसी तार होती है, जो हम सब को एक दूसरे के साथ जोड़ती है। जब ज़िंदगी का असलियत निरकाररूप है तो हम सब का संबंध  भी जो एक दूसरे के साथ है, वो निराकार ही होगा।  इस निराकार को देखने के लिए हम को क्या करना है ?
हमारी जो इच्छा होती है, यह एक तार की तरह है, जिस से एक पैटर्न बनना शुरू होता है।  यह पैटर्न हम नेचर के हर हिस्से में देख सकते हैं , जो आकार ले चुक्के हैं।  ऐसे ही शब्दों का पैटर्न बनता है, जिस को हम साहित्य कहते हैं और सुरों के पैटर्न को संगीत कहतें हैं। जिन के बारे में हम जानते हैं, पर समझते नहीं। इस पैटर्न की गिनती को मैथ  कहतें हैं।  हमारी इच्छा   जब तार बन कर स्पेस में रूप लेती है तो हमारे में सोच बन जाती है। सोच : हमारी इच्छा को डिज़ाइन बनाने लगती है।  यह पैटर्न ब्रह्माण्ड का डिज़ाइन है।  जब हम हर इच्छा से आज़ाद होने लगते हैं तो हम ब्रह्माण्ड के डिज़ाइन से जानू होने लगते हैं।  क्योंकि हम ने खुद का डिज़ाइन बनाना बंद कर दिया।  साहित्य  और संगीत इस पैटर्न के ही हिस्से हैं।  और मैथ इस पैटर्न की गिनती है- जिस से आज की technology  है।  
---***---
साँसे और पल :
पल क्या हैं?
 साँसे हैं। 

 भरोसा करना ही पड़ेगा। क्योंकि यह सच है और इस सच की यही सचाई है कि यही सच है। पल और साँसे एक ही चीज़ है।  पल = पल से वक़्त की इमेज बनती है, जैसे सना सांस से व्यक्ति की  इमेज बनती है। सांसे और पल अगर यह एक है, जो हम को दो दिखाई देतें हैं, तो ज़रूर इस के पीछे भी कुछ और होगा। वो क्या है ?
जब हम पल को ध्यान से देखना शुरू करेंगे या सांस को तो हम  को एक सुरीला राग दिखाई देना शुरू होगा।  हम को लगेगा कि हम सिर्फ एक सुरीला राग हैं। यह जो सुरीलापन है, यह हमारा चेतन-रूप है। और यह हमारी साँसे, या कहो यह हमारे पल सुर ने, जो हमारे वजूद को एक पैटर्न बना रहे होते हैं, जो बड़े पैटर्न में जा मिलता है - जिस को हम गॉड कहते हैं। यह जो पल हैं, यही ब्रह्माण्ड की सांसे हैं। जो एक सुर-मात्र है, जिस से एक संगीत पैदा हो रहा है। 
वक़्त और जीवन :
वक़्त की आवाज़ !
जीवन की मांग !
यह जो आवाज़ है और यह जो मांग है, यह एक पैटर्न है। इस पैटर्न की धुन क्या है, अब हम ने यह सुननी है। 
---***---
सुरीलापन:

सुरीलापन एक लय है।या हम कह सकतें हैं कि लय की व्यवस्था का नाम है सुरीलापन। सदा ही हर लय में से एक तरंग पैदा होगी,  और उस तरंग की सदा ही एक आभा होगी। जितनी लयबद्धता सम्पूर्ण होगी, उतनी ही वो सुरीली होगी।  
यह हम ने सदा याद रखना है कि सुर बनाने के लिए, सुर को दबाना पड़ता है - फिर  ही आवाज़ का जन्म होगा।  


Religion is recognized by action - not by dress

 The world is a practice

Life dimension is such a dimension, 
which we can see as we like, 
now the question is, then is life like this or a person?

If we look around, we will know in thousands of years what we are and why? We will see an exercise in nature everywhere, which is teaching us something, but we are not learning why? Because the face of our mind is towards some other direction. If we had a feeling of happiness and happiness, we would have seen this, today we have the feeling of attaining the world, not the feeling of being happy. The world is a rainbow, which no one could catch until today. Because the world is a practice of teaching, which has evolved to teach us.

Utility of Infinity

Science and religion: both are one. Religion is a science and science is a religion. We believe religion because of faith, science because of convenience. Behind both is only our mind, not our heart. We win life only through faith and convenience. Religion introduces everything in a big way and science uses the vastness. If today I say that I have to use the greatness that I see, then what will I have to do? I know it will take time. When my life today is passing through that dimension, every event here can be understood, lived, which is a secret, my life will never come out of that life. Because this is my path for me. . I am just a traveler looking at science and religion - I am not going to live these.
Life cannot be described, yet if one wants to express life, one has to live it. Because life can be expressed only by living. Such is the religion, a person is not religious by believing religion, only if the religion has to live, the person is religious.

***---***

संसार एक अभ्यास है 
जीवन आयाम एक ऐसा आयाम है ,
जिस को हम जैसा देखना चाहे देख सकते हैं, 
अब सवाल यह है कि, फिर जीवन ऐसा है या व्यक्ति?

यदि हम चारों ओर देखें, तो हमें हजारों वर्षों में पता चलेगा कि हम क्या हैं और क्यों हैं ? हम को हर तरफ कुदरत में एक अभ्यास दिखाई देगा, जो हम को कुछ सीखा रहा है पर हम सीख नहीं रहे, क्यों? क्योंकि हमारे मन का चेहरा किसी ओर दिशा की तरफ है।  अगर हमारे में सुख और खुश होने की भावना होती तो हम यह देख पाते, आज हमारे में संसार को पाने की भावना है, सुखी होने की भावना नहीं है।  संसार एक रेनबो है, जो दिखाई देता हाइपर आज तक कोई भी व्यक्ति इस को पकड़ नहीं पाया। क्योंकि संसार सीख देना का एक वो अभ्यास है, जो कि हम को सिखाने के लिए विकसित हुआ है। 

विराटता की उपयोगता 

विज्ञान और धर्म : दोनों ही एक है। धर्म एक विज्ञान है और विज्ञान एक धर्म है। हम धर्म को  विश्वास के कारण मानते है, विज्ञान को सहूलत के कारण मानते हैं। दोनों के पीछे सिर्फ हमारा मन है, हमारा दिल नहीं। हम विश्वास और सहूलत के ज़रिये ही जीवन को जीतें हैं।  धर्म हर चीज़ के विराट रूप से मिलवाता है और विज्ञान विराटता को उपयोग में लाता है।अगर आज मैं कहूँ कि मेरे को जो विराटता दिखाई देती है, उस को मैंने उपयोग में लाना है, तो मुझ को क्या करना होगा ?जो करना पड़ेगा, वो वक़्त लेगा, यह मैं जानती हूँ। जब आज मेरा जीना उस आयाम में से गुज़र रहा है, यहाँ पर हर घटना को समझा जा सकता है, जीया जा सकता है, जो कि एक रहसयमई है, मेरा जीना उस जीने से कभी बाहर नहीं निकलेगा।क्योंकि मेरे लिए मेरा यही मार्ग है।  मैं सिर्फ विज्ञान और धर्म को देखने वाली यात्री हूँ -इन को जीने वाली नहीं हूँ।    
जीवन का वर्णन नहीं किया जा सकता है, फिर भी अगर कोई जीवन को व्यक्त करना चाहेगा तो उस को जीना पड़ेगा। क्योंकि जीने से ही जीवन व्यक्त हो सकता है।  ऐसे ही धर्म है, धर्म को मान कर व्यक्ति धार्मिक नहीं है, धर्म को जीना पड़ेगा, तो ही व्यक्ति धार्मिक है।

Think outside the mind ( love letter)

I share my life journey with universe 

how I saw life and how life understood me.

O Universe,

How are you!


Today I remembered you very much, because now I want your refuge.

O Universe, ahead of you: First of all I thank myself, because:

My first thought was that I wanted to see God and I believed in the existence of God without any hesitation, and then I thought about the mystery of his nature and sacrificed my own life in the name of God. I kept searching for God and struggled and gave away 32 years of life and finally found that I was covering my own thoughts. I realized that what I thought was my discovery. No. My search was not there, it was the shedding of my karma, which started flowing backwards. What I did through births, through which my temperament and habits started to develop, then due to which pride was born in me. When I was afflicted by my own activities, all my actions became free and I just kept getting empty. When I saw the emptiness of myself, I was surprised that the surprise I had when I found myself in an unknown country. Now that I have seen that what I am looking for is not me, I had died long ago - the moment I was overwhelmed with pride. What I see in the last today is my soul, and no one else's.


My soul, my existence, which is like a darkness, whose nature is like silent, whose action is like light, whose thinking is like discovery, whose feeling is like unity.

So first of all, I thank you for the thought of me, who wanted God. Then thank you, that darkness, because of which my journey was lighted. And now that my deeds became a veil for me, now waiting for their  own freedom, then patiently waiting for me, which I never thought was good for these thoughts, because these thoughts gave me an imprisonment. I did not know that this was a reflection of my own ability. Today I got freed from my own ability, not from any thoughts and feelings.

The nature of this freedom that took me in the same dimension, it is my light, that is my consciousness. When I entered this dimension, my limitlessness first remembered you. Because only you can understand my existence today, and no one has found me.


 Because whatever I see, I am the one, so what was it that I did till date?

 World: If the world is the name of my ability, then what am I?

If my existence is huge then what is God?

Whose thought, whose pursuit was I living?

O universe, from today I am in your refuge, from today my journey starts from yours, today I want your direction, fulfill this demand of mine.

Thanks with bowed head


***---***

खुद की जीवन यात्रा को ब्रह्मण्ड के साथ सांझी करती हूँ 

कि मैंने ज़िंदगी को कैसे देखा और ज़िंदगी ने मेरे को कैसे समझया। 

ऐ ब्रह्मण्ड,

कैसा हो आप !


आज मुझ को तेरी बहुत याद आई ,क्योंकिअब मुझ को तेरी शरण चाहिए। 

ऐ ब्रह्माण्ड तेरे आगे : सब से पहले खुद को धन्यबाद करती हूँ, क्योंकि:- 

मेरी पहली सोच यही थी कि मैंने खुदा को देखना है और मैंने  खुदा के अस्तित्व में बिना किसी झिझक के विश्वास किया, और फिर मैंने उसके स्वभाव के रहस्य के बारे में सोचा और खुद का जीवन खुदा के नाम पर ही क़ुर्बान कर दिया। मैं खुदा की खोज में लगी रही और संघर्षरत होकर जीवन के ३२ साल निकाल दिए और आखिर में पाया कि मैं खुद ही अपनी सोच पर आवरण था। मैंने महसूस किया कि मुझ में वह जो सोच थी, वो मेरी खोज थी।  नहीं।  मेरी खोज भी नहीं थी, वो तो मेरेही कर्म का बहा था, जो पीछे की ओर बहने लगा था।   जो मैंने जन्मों  से किर्या-काण्ड किये, जिन से मेरा स्वभाव और आदतें बनती चली गई, फिर जिन के कारण मेरे में घमंड पैदा हो गया।खुद की ही की हुई हरकतों से जब मेरा सहमना हुआ तो मेरी सब हरकतें मुक्त होती चली गई और मैं खाली ही होती चली गई। जब मैंने खुद के खालीपन को देखा तो  मुझमें वह आश्चर्य हुआ, जो आश्चर्या मुझे उस वक़्त हुआ था, जब मैंने खुद को अनजाने मुल्क में पाया था । अब जब मैंने यह देखा कि जिस की तलाश मैं कर रही हूँ, वो मैं है ही नहीं, मेरी मौत बहुत पहले हो चुकी थी - जिस पल मेरा सहमना घमंड के साथ हुआ था।  आज जो मैं आखिरी में देख रही हूँ, वो मेरी ही आत्मा है, और कोई नहीं।


मेरी आत्मा, मेरा वजूद, जो एक अँधेरे की तरह है, जिस का स्वभाव चुप की तरह है, जिस का कर्म रौशनी की तरह है, जिस की सोच खोज की तरह है, जिस की भावना एकता की तरह है। 

सो सब से पहले मैं धन्यबाद करती हूँ, मेरी उस सोच का- जिस ने खुदा को चाहा। फिर धन्यबाद  करती हूँ, उस अंधेरे का, जिस के कारण मेरी यात्रा रौशनी की हुई। और अब यह जो मेरे कर्म मेरे लिए घूंघट बने, जो अब खुद की आज़ादी के लिए, फिर सब्र से मेरा ही इंतज़ार करते रहे, जिन को मैंने कभी अच्छा नहीं समझा था, क्यूंकि यह मुझे को एक क़ैद प्रतीति देते थे। मैं नहीं जानती थी कि  यह मेरी ही योग्यता का एक प्रतिबिंबत है।आज मैं खुद की योग्यता से ही आज़ाद हो गई। 

मेरी इस आज़ादी का स्वभाव, मुझ को जिस आयाम में ले गया, वो है मेरा ही रौशनी-रूप, मतलब कि मेरा ही चेतन-रूप। जब मैं इस आयाम में दाखिल हुई तो मेरी असीमता को सब से पहले तेरी याद आई।  क्योंकि आज मेरे वजूद को सिर्फ तू ही समझ सकेगा, और कोई मुझ को मिला नहीं।


 क्योंकि मैं जो भी देखती हूँ, वो सब मैं ही हूँ, तो जो आज तक मैंने किया वो क्या था?

 संसार: अगर संसार मेरी योग्यता का नाम है तो मैं क्या हूँ?

अगर मेरा वजूद विशाल है तो खुदा क्या है ?

जिस की सोच, जिस की खोज मेरा जीना था?

ऐ ब्रह्माण्ड, आज से मैं तेरी शरण में हूँ, आज से मेरा सफर तेरे में से शुरू होता है, आज मुझ को तेरी राहनुमाई चाहिए, मेरी इस मांग को सम्पूर्ण कर।

झुके हुए सर के साथ धन्यबाद 


Neither religion nor country, only understanding

Mysterious and unique experience

Whenever there was an experience,

 I always felt how easy and simple it is, 

which turns itself on according to the understanding of the person.


 1 -) I noticed that the more my spirit is soft for everything - the more the behavior of life with me is tough. The question that came in me made me feel that everything flows according to its own nature, only you have to balance your mind. The flow of life flows in a strict way so that you may be helped.


2 -) Whatever is in life, there are some rules behind it, which is based on the truth. Which is always strictly controlling all the universe, without any hindrance.


 3 -) When I saw this rule of life, I looked at myself because I felt in myself that as much as my life was getting free, a part of my nature had become completely strict. The more I loved my freedom, the more I felt loved by my strict nature. Then a law of nature was understood that within strict rules, there is complete freedom.


4 -) When it started coming in the same quantity in me, I understood that both of these are the same coin. Freedom and strict rules are not two different things. Basically we are influenced by strict rules or truths. Like we are influenced by the firm intentions of humans. Such human qualities are only part of freedom. Human qualities or say that the power behind human understanding is that of freedom.


5 -) I say this with a very good example: - When we feel hungry, we eat food. And when the sun rises the eye should open, why?

Such as: -

Only when someone moves, our attention goes to that side, if there is no move at all?

Like: - When we hear a sound, how do we become aware and catch the voice.

Now we think like this: If there is nothing moving in the world, will there be any stirring in us? Will not happen, why?

This experience is very beautiful and very mysterious.

 When we become silent only in silence, as we grow deeper in silence, we also become silent. That's what I saw,
'When my mind started to stay, my personal world also started to stay.
Today, as much as I am free, there is as much strictness inside me, which upholds my freedom.
This means that freedom rests on the same, here the laws are strict. Everything in the universe has a deep connection with each other. If there is balance, we will become expert in the art of living


***---***

 रहस्यमई और अनोखा अनुभव 
जब भी कभी कोई अनुभव हुआ तो मैंने सदा महसूस किया 
कि वो कितना सहज और सरल होता है, 
जो खुद ही व्यक्ति की समझ अनुसार खुद को परगट करता है 

1 -) मैंने देखा कि जितना मेरा जज़्बा हर चीज़ के लिए नरम है- उतना ही मेरे साथ ज़िंदगी का व्यहार  सख्त है।  मेरे में आये सवाल ने मेरे को अनुभव करवाया कि हर चीज़ खुद के स्वभाव मुताबिक ही बहती है, सिर्फ तेरे को ही मन का संतुलन बनाना है। ज़िंदगी का बहा सख्त तरीके से इस लिए बहता है ता की तेरी मदद हो सके। 
2 -) ज़िंदगी में जो कुछ भी है ,इसके पीछे कुछ नियम हैं ,जो किसे  सच्चाई  पर ही आधारित है। जो तमाम ब्रह्माण्ड को हमेशा सख्ती से नियंत्रित कर रही है, बिना किसी रुकावट  के।
 3 -) जब मैंने ज़िंदगी का यह नियम देखा तो मैंने खुद की ओर देखा क्योंकि मैंने खुद में ही यह महसूस किया था कि जितना मेरा जीना आज़ाद होता जा रहा है, वैसे ही मेरे स्वभाव का एक हिस्सा पूर्ण रूप से सख्त हो गया था। जितनी मुझ को मेरी आज़ादी प्यारी थी,  उतना ही मेरे को मेरा सख्त स्वभाव भी अज़ीज़ होने लगा। फिर कुदरत का एक कानून समझ में आ गया कि  सख्त नियम के भीतर ही पूर्ण स्वतंत्रता होती है।
4 -) जब मेरे में यह  जैसी मात्रा में आने लगी तो मैं समझ गई कि यह दोनों एक ही सिक्का  है। आज़ादी और सख्त नियम दो अलग-अलग चीजें है ही नहीं। मूल रूप से हम सख्त नियमों या सच्चाइयों से ही प्रभावित हैं। जैसे कि हम इंसान के पक्के इरादे से प्रभावित होतें हैं। ऐसे इंसानी गुण  आज़ादी का ही हिस्सा हैं।   इंसानी गुण  या कहो कि इंसानी समझ के पीछे जो सत्ता  है, वो आज़ादी की ही है। 
5 -) बहुत ही अच्छी उदाहरण के साथ यह बात करती हूँ कि:- जब हम को भूख लगती है तो हम खाना भालते हैं। और जब सूर्य उदय होता है तो आँख खुलनी चाहिए , क्यों? 
जैसे कि :-
जब कोई हिलता है  तो ही हमारा ध्यान उस तरफ जाता है, अगर कोई भी हिलजुल न हो, तो?
जैसे:- जब हम को कोई आहट  सुनाई देती है तो हम कैसे जागरूक होतें हैं और आवाज़ को पकड़ते हैं। 
अब हम ऐसे सोचते हैं कि : अगर संसार में कोई भी चीज़ न हिलती हो, तो क्या हमारे में  कोई हिलजुल होगी ? नहीं होगी , क्यों?
यह अनुभव बहुत ही सूंदर और बहुत ही रहस्यमई  है।  
 जब हम चुप में सिर्फ चुप होते जाते हैं तो  जैसे जैसे  चुप में गहरे होते जाते हैं, हम भी चुप बनते जाते हैं। वैसे ही मैंने देखा,
'जब मेरा मन टिकने लगा तो मेरा निजी संसार भी टिकने लगा।
आज जितनी मैं आज़ाद हूँ, उतनी ही मेरी भीतर एक सख्ताई है, जो कि मेरी आज़ादी को बरकरार रखती है।  
मतलब यह है कि आज़ादी वही पर  टिकती है, यहाँ पर क़ानून  सख़्त  होतें हैं।  ब्रह्माण्ड की हर चीज़ का संबंध एक दूसरे के साथ पूरा गहरा है।  संतुलन होगा तो हम जीने की कला में माहिर हो जाएंगे 

Will you trust that diseases also speak?

 Will you trust that diseases also speak?

When the person knows to listen to own-self,
then another study of the person starts, 
which changes his thinking and feeling towards life.

Today: I again told my life that I have to walk in beauty. I do not know how my life agreed my time and took me to the shore of the lake in the moments of sunset. When I looked at the sky, the color of the sky was blossoming in orange and purple.
My body was incarcerated in a small disease (shingles), I could never imagine that the effect of colors is also healer, for me it was a medicine full of wonder and unique emotion that when I was wandering under that colorful sky If I was sick, then my disease started talking to me, and started telling me, 'Now I will go'
After coming home, I told the family that this disease will go away in two days, this disease has told me this. And this disease ended after two days. I only had this disease for two days.
Three months ago: This disease itself told me that I am coming and I told everyone that this disease has to come and I did not know that diseases also speak. And they also treat themselves. This is an event that is difficult to trust. But with whom such an incident happens, what should that person do!

***---***

क्या आप भरोसा करोगे कि रोग भी बोलतें हैं?
जब व्यक्ति खुद को सुनना जान लेता है ,
तब व्यक्ति का एक और पढ़ाई शुरू होती है, 
जिस से उस की जीवन के प्रति सोच और भावना बदल जाती है।

आज: मैंने फिर ज़िंदगी से कहा कि मुझे सुंदरता में सैर करनी है। पता नहीं मेरी ज़िंदगी ने कैसे मेरे ही वक़्त को राज़ी किया और मेरे को सूर्य अस्त के पलों में झील के किनारे पर ले गई। मैंने जब आसमान की ओर देखा तो आसमान की रंगत नारंगी और बैंगनी रंगत में खिली हुई थी।
मेरा जिस्म एक छोटी सी बिमारी ( shingles ) में क़ैद था, मैं कभी सोच भी नहीं सकती थी कि रंगों का प्रभाव भी हीलर होता है, मेरे लिए यह हैरानगी और अनूठी भाव से भरी दवा थी कि जब मैं उस रंगदार आसमान के नीचे घूम रही थी, तो अचनाक मेरा रोग ही मेरे से बात करने लगा, और मेरे को कहने लगा कि ,'अब मैं चलता हूँ'
घर आ के मैंने परिवार के लोगों को कहा कि दो दिन में यह रोग चला जाएगा, इस रोग ने मेरे को यह कहा है। और यह रोग दो दिन के बाद ख़तम हो गया। यह रोग सिर्फ मेरे पास दो दिन रहा।
तीन महीने पहले : इस रोग ने खुद मेरे को कहा कि मैं आ रहा हूँ और मैंने सब को बता दिया था कि यह रोग ने आना है और मैं यह नहीं जानती थी कि रोग भी बोलतें हैं। और खुद का इलाज़ भी खुद ही कर देतें हैं। यह एक ऐसी घटना है, जिस पर भरोसा करना कठिन है। पर जिस के साथ ऐसी घटना घटे तो वो व्यक्ति क्या करे!

What Kind of life Do you Want?

 Pilgrimage of water

Life is such a deep mystery 
that if I think of it in the slightest, then I just make myself move my head 
as if I want to sweep the name of life out of my head


Today when the water said that I never flow, my feet stopped and my mind stopped. The lyrics of water made me silent in the stillness. I understood that everything in the universe is living in the Nirvana dimension. Water does not flow - water is practicing one's own meditation as it moves. This practice is its movement. When it becomes stable and calm in this movement it will be in the Nirvana dimension. I asked curious that: -
'O beautiful water, when are you still and calm?' So said of water, 'When my practice, means that I get comfortable in the flow of flow, that means I start flowing; This is my peace and my nature, which is my life. That means when I get absorbed in myself. '
-
पानी की तीर्थयात्रा
जीवन इतना गहरा रहस्य्बादी है 
कि अगर इस के बारे में कुछ थोड़ी सी भी सोच मेरे में आती है तो बस,
मैंने सिर्फ खुद का सिर ऐसे हिलाती हूँ जैसे कि सिर में से जीवन नाम को ही झाड़ देता चाहती हूँ।

आज जब पानी ने कहा कि मैं तो कभी बहता ही नहीं, तो मेरे पाऊं रुक गए और मन ठहर गया। पानी के बोलों ने मेरे को स्थिरता में मौन कर दिया। समझ गई थी मैं , कि ब्रह्मण्ड की हर चीज़ निर्वाना आयाम में ही जी रही है। पानी नहीं बहता है - पानी एक हिलने के साथ ही खुद के ध्यान का अभ्यास कर रहा है। यह अभ्यास ही इस का आंदोलन है। जब यह इस आंदोलन में स्थिर और शांत हो जाएगा तो यह निर्वाना आयाम में हो जाएगा। मैंने उत्सुक हो के पूछा कि:- ' ऐ सूंदर पानी, तू कब स्थिर और शांत होता हैं?' तो पानी के कहा।, ' जब मेरा अभ्यास, मतलब कि मेरा बहने के बहा में सहजता आ जाए , मतलब कि बहने लग जाऊं ; यही मेरी शांति और मेरा स्वभाव है, जो मेरा निर्वाना है। मतलब कि जब मैं खुद के स्वभाव में लीन हो जाता हूँ।'

When the flying birds narrated their own journey

Life and living, are both one?




When did I learn to fly?
Have we sprouted these wings to fly over ourselves?
- No
So when we asked ourselves this question while flying, it was understood at that time that we are not flying life, he took this form when life wanted to fly.
A single question and an instant answer made him an artist.
On behalf of
flying bird

***---***

जब उड़ते पक्षिओं ने खुद की यात्रा को सुनाया

जीवन और जीना, क्या दोनों एक है ?


मैंने कब उड़ना सीखा था ?
क्या हमने इन पंखों को अपने ऊपर उड़ने के लिए अंकुरित किया है?
- नहीं
तो हम ने उड़ते वक़्त जब यह सवाल खुद को किया तो उसी वक़्त समझ आ गया कि हम नहीं ज़िंदगी उड़ रही है, ज़िंदगी ने जब उड़ना चाहा तो उसी ने यह रूप धारण कर लिया।
एक ही सवाल और एक ही पल में जवाब ने हम को कलाकार बना दिया।
किस की तरफ से
उड़ते पक्षी

How I bought happiness with 'stupidity'

 When I know that I am not religious, then?

If I am not a religious person, what am I? 
This question of mine takes me into deep experience 
and understands what I am.


Since childhood, my thinking has been for me that I like the religious part of my life very much and I look at life from the religious part, think and behave again.

Be it Baba Nanak or Hazrat Muhammad; Be it Krishna or Jesus, be it a sage or a saint, I would have a very deep impact and my existence would have descended into a valley of silence and spent many days there.

When this effect became my inspiration, I would be filled with the feeling of becoming a friend of all the universe. My heart never felt in the world, I always felt a strange country. My feeling was always that God accidentally threw me into the world. I always found myself failing in every relationship. Till last year, I have been thinking that I can enjoy a mother's relationship with everyone very well. But the pace of time taught me that this thinking has forgotten me. With which my deepest forgetting has also ended that I look at life from the point of view of religion and have been watching till date.

 


My time has always proved my every moment wrong. My every thought, my every emotion, everything came out wrong. Whenever my life passed through that dimension of the time, which I had longed for, and this experience of my life which gave me experience, it would put a cross mark on my life. I always failed. I used to hear the sound of my success within my failure, so my martyrdom always remain high.

I am the deepest and most failed person around me. I had some success in this failure, which always kept me full of enthusiasm.

A few days ago, when I realized that mother's relationship could not be fulfilled, I also realized that I had never seen life in righteousness. So the question started playing with me. Because this question of seeing my life till date, had failed that thought.

When I lived in Canada, people used to treat me as an atheist because I never went to a religious place. When I used to go in my heart, I would not go every weekend. So the thinking of the people was that I do not believe in religion.

If I go to the GuruGhar, I am a Sikh

If I go to church, I obey Jesus.

 If I go to the mosque, then I am called a Muslim.

 If I go to the temple then I become a Hindu.

If I go in myself ---?

If I live in my own house ---?

So I was not religious, it was everyone's thinking. At that time there was a little anger on everyone's thinking, but when I look carefully at the life, I never really saw anyone with religious thought.

so ?


When today life took me even deeper, I saw that it is true that I never saw life even from the point of view of religion. I love every part of life, I have always seen life with an eye of love and have loved life, life belongs to anyone, it is mine. For this reason, my failure also never caused my pain, but gave me success silently and got me enrolled in the dimension of a happy life. From where I see that:-

 Whatever the relationship is - to anyone, will limit the feeling;

Whatever be part of life, thinking will be limited;

 I am allergic to pain, stress and anxiety in a limited way, whatever the disease, my life will never open for that, so.

This is me and this is my life, and this is my living

***---***

जब मैंने यह जान लिया कि मैं धार्मिक नहीं हूँ, तो ?

अगर मैं कोई धार्मिक व्यक्ति नहीं हूँ, तो मैं क्या हूँ ? 
मेरा यह सवाल मेरे को गहरे अनुभव में ले कर जाता है 
और समझता है कि मैं क्या हूँ। 


बचपन से ही मेरी सोच मेरे लिए यही रही कि मेरे को ज़िंदगी का धार्मिक हिस्सा बहुत ही ज़्यादा पसंद है और मैं धार्मिक हिस्से में से ही जीवन को देखती हूँ, सोचती हूँ और फिर व्य्वहार करती हूँ।  

बाबा नानक हो या हज़रत मुहम्मद ; कृष्णा हो या जीसस , कोई भी ऋषि हो या संत, मेरे पर बहुत गहरा असर होता और मेरा वजूद चुप की घाटी में उतर जाता और बहुत दिनों तक  वहीँ पर जा के वस जाता।   

जब यह असर मेरी प्रेरणा बन जाता तो मैं सब ब्रह्मण्ड की मित्र बन जाने की भावना से भर जाती। संसार में कभी मेरा दिल नहीं लगा,मेरे को सदा एक पराया मुल्क लगा। मेरी भावना सदा यही रही कि खुदा ने गलती से मेरे को संसार में फेंक दिया।  मैंने सदा खुद को हर रिश्ते में असफल ही पाया।  पिछले साल तक, मेरी यह सोच रही कि मैं सब के साथ एक माँ का रिश्ता बहुत अच्छा निभा सकती हूँ।  पर वक़्त की रफ्तार ने मेरे को यह शिक्षा दी कि यह सोच भी मेरा भुलेखा है।  जिस के साथ मेरा एक और गहरा भुलेखा भी ख़त्म हो गया कि मैं जीवन को धर्म की लिहाज़ से ही देखती हूँ और आज तक देखती रही हूँ। 


 मेरे वक़्त ने सदा मेरे हर पल को गलत साबित किया है।  मेरी हर सोच, मेरी हर भावना, सब की सब गलत निकली। जब भी मेरा जीवन, वक़्त के उस आयाम में से गुज़रता, जिस की चाहना मैंने की होती थी और मेरे जीवन का यह  तुजर्बे जो मेरे को अनुभव देता, वो मेरे जीने पर क्रॉस मार्क लगा देता।मैं सदा फेल ही रही।  मेरे फेल होने में कही भीतर ही मेरे को मेरी क़ामयाबी की आहट भी सुनाई देती थी, सो शयद इस लिए मेरे हौंसले सदा बुलंदी ऊपर ही रहे। 

मेरे आस-पास में से सब से गहरा और ज़्यादा फेल हुआ इंसान मैं ही हूँ। मेरे इस फेल होने में कोई कामयाबी थी, जो मेरे को सदा उमंग से भरी रखती थी। 

कुछ दिन पहलों जब मेरे में यह समझ आ गई कि माँ का रिश्ता भी नहीं निभा सकती तो साथ ही मैं यह जान गई कि मैंने ज़िंदगी को कभी धार्मिकता में से देखा ही नहीं।  तो सवाल मेरे साथ खेलने लगा। क्योंकि  इस सवाल ने मेरी आज  तक की ज़िंदगी को देखने की, जो सोच थी, उस को फेल कर दिया था। 

जब मैं Canada में रहती थी, तो लोग मेरे को नास्तिक व्यक्ति ही सझते थे, क्योंकि मैं कभी धार्मिक जगह पर नहीं जाती थी।जब दिल में आता तो चली जाती, पर हर weekend को नहीं जाती थी।  सो लोगों की सोच यही थी कि मैं धर्म को नहीं मानती। 

अगर मैं गुरुघर जाती हूँ तो मैं सिख हूँ 

अगर मैं चर्च में जाती हूँ तो मैं जीसस को मानती हूँ 

अगर मैं मस्जिद में जाती हूँ तो मुसलमान कहलाती हूँ 

अगर मैं मंदिर में जाती हूँ तो हिन्दू बन जाती हूँ 

अगर मैं खुद में जाओ तो---?

अगर मैं खुद के घर में रहूं  तो ---?

तो मैं धार्मिक नहीं, यह सब की सोच थी।  उस वक़्त सब की सोच पर  थोड़ा सा रोस भी हुआ था

 पर जब जब मैं ज़िंदगी की ओर ध्यान से देखती हूँ 

तो सच में ही मैंने कभी भी किसी को भी धार्मिक सोच से भी नहीं देखा। 

तो ?


जब आज मुझे जीवन ओर भी गहरा ले गया तो मैंने देखा कि यह सच है कि मैंने धर्म की नज़र से भी जीवन को कभी नहीं देखा।  मेरे को जीवन के हर हिस्से से प्यार है, मैंने जीवन को सदा प्यार की आँख से ही देखा है और जीवन को प्यार ही किया है, जीवन किसी का भी हो,  वो मेरा ही है।  इस लिए मेरा फेल होना भी कभी मेरे दर्द का कारण नहीं बना, बलिक मेरे को चुपचाप कामयाबी देता गया और मेरे को खुशहाल जीवन के आयाम में दाखिला दिलवा दिया  . जहाँ से मैं देख रही हूँ कि

 रिश्ता कोई भी हो- किसी से भी हो, भावना को सीमित  ही करेगा;

जीवन का हिस्सा कोई भी हो, सोच को सीमित ही रखेगा;

 मेरे को दर्द, तनाव और फ़िक्र की तरह सीमित-भाव से ही एलर्जी है, रोग कोई भी हो, उस केलिए मेरा जीवन कभी नहीं खुलेगा, सो 

यही मैं हूँ और यही मेरा जीवन है, और यही मेरा जीना है। 


The aura of spiritual life

 Aura
A good environment is the aura of spiritual life

 

When the Spirit spiritual thinking opens up the physical cells and atoms and frees their imprisoned life, which originally comes from the Divine Consciousness, or say that it comes from our real existence, which is a light, it should We call it aura. 
 How is Aura made?
- When prayer frees us from the energy produced in the mind and body. Or say that when we are lightened by the heavy burden of earthly floor through prayer; Meaning that when we become independent, lightness comes from this freedom in us, waves of that lightness are called aura.
What is that aura? 
Aura is the name of our waves of peace, happiness and freedom,
 that means our pure anergic light is called aura.
Prayer is such an idea, which we can also call indiscretion. We can also call prayer as meditation. There is a deep prayer of chanting and meditation. There is no more chanting and meditation than a deep prayer.

Prayer is also a thought, which is considered indiscriminate. Thought is a spiritual activity; In fact, this is the only activity that is near the heart. The heart is the creative principle of the universe, as a part must be completely identical and quality, and can differ only in degree, so is the heart, which is the same as God. So the thought should also be creative. The idea will be creative only when the dimension of the heart opens. The dimension of the heart will open only when we are true thirsty and real hungry

***---***

आभा
एक अच्छा वातावरण आध्यात्मिक-जीवन की आभा है 

 

जब आत्मा आध्यात्मिक सोच भौतिक कोशिकाओं और परमाणुओं को खोलती है और उनके कैद जीवन को आज़ाद  करती है, जो मूल रूप से दिव्य चेतना से आता है, या कहो कि हमारी असली वजूद में से आता है ,जो एक रौशनी ही होता है, उस को हम आभा कहते हैं।
 आभा, कैसे बनती है? 
- जब प्रार्थना मन और शरीर में उत्पन्न ऊर्जा से हम को मुक्त करती है। या ऐसे कहो कि जब हम प्रार्थना के ज़रिये सांसारिक तल के भारी बोझ से हलके होते जाते हैं; मतलब कि जब हम आज़ाद होते जाते हैं, जो हमारी में इस आज़ादी से हल्कापन आता है, उस हल्केपन की तरंगों को आभा कहते हैं। 
वो आभा क्या है ? 
आभा हमारी शान्ति, ख़ुशी और आज़ादी की तरंगें का नाम है 
मतलब कि हमारी शुद्ध एनेर्जिक रौशनी को आभा कहते है। 
प्रार्थना एक ऐसा विचार है, जिस को हम अविचार भी कह सकते हैं। प्रार्थना को हम ध्यान भी कह सकते हैं। जप-तप से गहरा जपतप प्रार्थना ही है।दिल से की हुई फर्याद से गहरा ओर कोई जप-तप नहीं। 

प्रार्थना भी एक विचार है, जिस को अविचार माना जाता है। विचार एक आध्यात्मिक गतिविधि है; वास्तव में, यह एकमात्र गतिविधि है जो दिल के पास है। दिल ब्रह्माण्ड का रचनात्मक सिद्धांत है, जैसा कि एक भाग पूरे तरह से समान और गुणवत्ता में होना चाहिए, और केवल डिग्री में भिन्न हो सकता है, ऐसे ही दिल है, जो खुदा जैसा ही है। सो विचार भी रचनात्मक होना चाहिए।विचार रचनात्मिक तब ही होगा, जब दिल का आयाम खुलेगा।  दिल का आयाम तब ही खुलेगा, जब हम सच्चे प्यासे और असली भूखे होंगे।  

Can sound Predict the color? mystery Says Maybe

When I saw the waving clouds in the lake, I became zero.
 When I heard the notes of color,
 I realized that everything in life is the same tone.


The aura of sound is called color


 The mystery of sound is not mysticism, but every part of life is mysterious.
Sound is the formless form of color and color is the form of sound.
We have always heard from religious books and found that there is a sound in the womb of the universe, and there is a wave, from which everything is born. The sound of silence, which produces everything. how?
Everything is a mystery when we do not know it. When we know that everything is simple and easy. After knowing the truth of life, every true seeker becomes a lover of simplicity. Our own study is such a study that unites us with everything
 'from matter to God.'
Whenever we hear any sound, the first thing that we want to see is that we see the sound from where it is coming? The truth is that our mind does not want to see that this sound is coming from where ?, But our mind wants to see the sound. Seeing is the most important part of life. 80% of our life is based on seeing. We cannot see the sound, then what to do?
The sound itself is called Oum. This wave of Oum which becomes the tone of the wave. When this sound goes up and down and makes itself small and big, it creates an aura of this wave - which we know as color. Meaning that the sound which is located in the universe in a formless form, it gives itself a form of form, as 'color'.
Meaning that the aura of sound is called color.

The color of the colors depends on the small size of the sound. The smaller size will take the form of red color and the larger it becomes the purple color. 7 notes are formed by this sound, and the colors that are produced by the sound of this sound are called 7 Chakras.
This aura of colors is a sound that we hear only in a state of unrestrainedness.
The person who hears this sound has no interest in the sound of any other tone, whoever understands the aura of this color, then that person is not interested in the substance.
The rhythm of sound is called the tone 'pattern', and this life of ours is just one tone, and all these colors are notes of that tone.


***---***

जब मैंने लहराते हुए बादलों को झील में देखा तो मैं शून्य हो गई। 
जब मैंने रंगों के सुरों को सुना, 
तब जाना कि ज़िंदगी की हर चीज़ एक ही सुर है। 

 ध्वनि की आभा को रंग कहतें हैं


 ध्वनि का ही रहस्य रहस्यवाद नहीं है, बलिक ज़िंदगी का हर हिस्सा ही रहस्यमई है। 
ध्वनि रंग का निराकार-रूप है और रंग ध्वनि का  साकार-रूप है 
हम ने सदा ही धार्मिक किताबों में से सुना है और पड़ा है कि ब्रह्मण्ड के गर्भ में एक ध्वनि है,  और एक तरंग है , जिस से सब पैदा हुआ है। चुप की ध्वनि , जो हर चीज़ को पैदा करती है। कैसे?
सब कुछ एक रहस्य है जब हम इसे नहीं जानते हैं। जब हम जान जाते हैं कि यह सब कुछ सरल और सहज है। ज़िंदगी का सत्य जानने के बाद हर सच्चा साधक सादगी का प्रेमी हो जाता है। खुद का अध्ययन ही एक ऐसा अध्ययन है जो हम को 'पदार्थ से ले के खुदा तक' सब के साथ जोड़ देता है। 
जब भी हम कोई भी ध्वनि को सुनते हैं तो सब से पहले हमारे मन में यही चाहना जागती है कि हम ध्वनि को देखे कि कहाँ से आ रही है ?सच यह है कि हमारा मन यह देखना नहीं चाहते कि यह ध्वनि कहा से आ रही है?,  बलिक हमारा मन ध्वनि को देखना चाहता है।  देखना सब से अहिम हिस्सा है ज़िंदगी का।  हमारी ज़िंदगी 80 % देखने पर ही आधारित है।   हम ध्वनि को देख नहीं सकते, तो फिर क्या करे?
ध्वनि को ही ओउम कहा गया है।  ओउम की यह तरंग जो सुर 'टोन' बनती है। सुर बनते बनते यह ध्वनि जब ऊपर-नीचे को जाती है और  खुद को छोटा और बड़ा आकार देती जाती है तो इस तरंग की एक आभा त्यार होती जाती है -जिस को हम रंग के नाम से जानते हैं। मतलब कि ध्वनि जो एक निराकार रूप में ब्रह्माण्ड में स्थित है, वोही खुद को साकार रूप देती है, ' रंग' के रूप में। 
मतलब कि ध्वनि की आभा को रंग कहतें हैं। 

रंगों की रंगत ध्वनि के छोटे बड़े आकार पर निर्भर है।  छोटा आकार लाल रंग का रूप लेगा और जितना बड़ा होगा वो बैंगनी रंग का रूप बन जाएगा। इस ध्वनि  से ही 7  सुर बनते हैं, और इस ध्वनि की आभा से ही जो रंग पैदा हुए हैं, उन को 7 चक्रा कहा गया है। 
यह रंगों की आभा एक वो ध्वनि है, जो हम को निर्विचारावस्था में ही सुनाई देती है। 
जो इस ध्वनि को सुन लेता है, उस व्यक्ति को किसी ओर  ध्वनि में कोई रूचि नहीं रहती, जो भी इंसान  इस रंगों की आभा को समझ लेता है, फिर उस को पदार्थ में रूचि नहीं रहती। 
ध्वनि की लय को तर्ज़ कहतें हैं, और हमारा यह जीवन सिर्फ एक तर्ज़ है, और यह सब रंग उस तर्ज़ के note हैं। 

3 questions that make a relationship beautiful

 If we travel from the place where we stand, 
then we will be successful, 
because we have taken the steps forward in our own capacity.

Do we know the glory of a relationship?


Relationship:What is the meaning of this and what is the glory of this. Have we ever lived a relationship, or have we used a relationship only for want?
 We all took this question in our hearts
I will share three questions with all of you on this question, we all have to answer only ourselves, there is no need to give it to whom. Why? Because when we become good, our goodness will smell itself. First of all we are very important to ourselves.
1 -) To which relationship are you closer?
(Nature, Bird, Animal, Person, whatever it may be. Money and God too, speak truth, not lies, if life is to be lived happily)
2 -) Which relationship do you consider good for yourself?
(This question will tell you about your nature)
3 -) Which relationship can you play best?
(This question will give you the medicine to make you happy)
I experienced myself from the deepest, because I felt sadness, pain, worry, tension, suffocation, helplessness, helplessness, master words, splitting, compromise, considering the other to be useless; I don't want all this feeling, this was my path and this is it. As long as these are in our life, we cannot maintain a good relationship with ourselves, leave aside the rest of the relationship.
Whatever relationship we play today is a feeling of self-interest, not a relationship. We will never agree, because if we accept this, then our life to date will be all wrong, and we are not yet capable of tolerating this 'wrongness'.
Now the question arises here that,
"Do we want to be happy and comfort?"

The simple thing is, if we are not happy, we are inadvertently making a mistake somewhere. Time has to be handled, time is not lost. If a mistake is made by a person, then just accept it comfortably, no need to tell anyone. Friendship with oneself is the first relationship.
If I want to be happy, if I want to live life to the fullest, then I have to take steps for me.
I know that every person does not find the environment right according to his thinking. Talk to anyone, he will accuse someone or the other. Only one place is empty of blame, that is, that person our own-self. So come on, when we ourselves are blameless, then become friends of our own and overcome the shortage of life.
My answer!
Answer to the first question:

I always found myself close to love, whoever came, I belong to that person aur that thing. So I consider myself as a relation with love and my relationship is with love, so love is playing a relationship, not with anyone else, but only with love.
Answer to the second question:
For me: I consider laughter to be a good relationship, I have only laughed, so whoever comes close to me will laugh. To have a relationship with laughter, I will have to divorce all my crying.
Answer to the third question:
Last year, I thought that I can play the mother's relationship best. This thinking is also wrong. So I can not play any relationship well, I can only give what I have.
What do all these questions mean?

- When we look at ourselves through questions, understand ourselves and know ourselves, we call it 'contemplation' or say 'thoughtfulness'. How we make butter with curd, this question will be made in the same way, and we will become happy, calm and comfort because this thinking and this contemplation works,
 which is the process of meditation.

***---***


जिस जगह पर हम खड़े होते हैं,
 अगर हम वही से यात्रा करेंगे तो कामयाब हो ही जाएंगे, 
क्योंकि हम ने खुद की हैसियत से ही कदमों को आगे बढ़ाया है। 


क्या हम रिश्ते की महिमा को जानते हैं ?



रिश्ता:
क्या है इस का अर्थ और क्या है इस की महिमा।  क्या हम ने कभी रिश्ते को जीया है,या चाहना केलिए ही रिश्ते का उपयोग किया है ?
 इस सवाल को हम सब ने खुद के  दिल में उतार लेना  
इस सवाल पर तीन सवाल आप सब के साथ सांझा करूंगी, जवाब सिर्फ हम सब ने खुद को ही देना है, किस ओर को देने की कोई ज़रुरत नहीं।  क्यों? क्यों की जब हम अच्छे हो जाएंगे तो हमारा अच्छापन खुद ही महकेगा।  सब से पहले हम खुद के लिए बहुत ज़रूरी है। 
1 -) किस रिश्ते के आप ज़्यादा करीब हो ?
( कुदरत, परिंदा, जानवर, व्यक्ति, कुछ भी हो सकता है। पैसा भी और खुदा भी, सच बोलना है, झूठ नहीं, अगर जीवन को ख़ुशी से जीना है )
2 -) किस रिश्ते को आप खुद के लिए अच्छा मानते हो ?
(यह सवाल आप को आप के स्वभाव के बारे में ब्यान दे देगा )
3 -) आप किस रिश्ते को सब से अच्छा निभा सकते हो ?
(यह सवाल आप को आप के सुखी होने की दवा देगा)
मैंने बहुत गहरे में से खुद पर तुजर्बा किया, क्योंकि मेरे को दुःख, दर्द, फ़िक्र, तनाव, घुटन, लाचारी, बेबसी, गुरु शब्द, बटवारे, समझौता, दूसरे को फालतू समझना; यह सब अहसास, मेरे को नहीं चाहिए, यही मेरी राह थी और है। जब तक यह हमारी ज़िंदगी में हैं, तो हम खुद के साथ ही अच्छा रिश्ता नहीं निभा सकते, बाकी रिश्तों की तो बात ही छोड़ दो। 

आज जो भी हम रिश्ते निभाते हैं, वो खुदगर्ज़ी की भावना है, रिश्ते नहीं।  हम कभी नहीं मानेगे , क्योंकि अगर हम ने यह मान लिया, तो आज तक का हमारा जीना सब का सब गलत हो जाएगा, और हम यह 'गलतपन' को बर्दाश्त करने के अभी काबिल नहीं हैं। 
अब सवाल यहाँ पर यह उठता है कि ,
"क्या हम खुश और सुखी होना चाहते हैं ?"
सीधी सी बात है, अगर हम खुश नहीं हैं तो ,हम अनजाने में कहीं पर गलती कर रहे हैं।  वक़्त को संभालना पड़ेगा, वक़्त को गवाना नहीं।  गलती इंसान से होती है, तो बस आराम से स्वीकार करो, किसी को बताने की ज़रुरत नहीं।  खुद में ही खुद के साथ दोस्ती करनी सब से पहला रिश्तेदारी है।  
अगर मैं खुश होना चाहती हूँ, अगर मैं ज़िंदगी को पूर्ण रूप से जीना चाहती हूँ, तो मेरे को ही मेरे लिए कदम लेना पड़ेगा। 
मैं जानती हूँ कि हर इंसान को माहौल उस की सोच के मुताबिक सही नहीं लगता।  किसी से भी बात करो, वो किसी न किसी पर दोष लगा ही देगा।  दोष से सिर्फ एक ही जगह खाली है, वोह है , वोही इंसान खुद।  सो चलो, जब हम खुद ही दोष-रहित हैं तो खुद के ही दोस्त बनके जीवन की कमी को दूर करें। 
मेरे जवाब !
पहला सवाल का जवाब :

मैंने खुद को सदा प्यार के करीब ही पाया, जो भी आया, मैं उसी की हूँ।  सो मैं प्यार के साथ खुद का रिश्ता मानती हूँ और मेरा रिश्ता प्यार के साथ है, सो वोही रिश्ता निभा रही हूं , किसी ओर के साथ नहीं, सिर्फ प्यार से-प्यार के साथ । 
दूसरा सवाल का जवाब:
मेरे लिए: मैं हंसी को अच्छा रिश्ता मानती हूँ, मैंने हसना ही है, तो जो भी मेरे करीब आएगा, फिर वो हसेगा ही। हंसी से रिश्ता बनाने केलिए मेरे को मेरे सब रोने को तलाक देना ही पड़ेगा। 
तीसरा सवाल का जवाब:
पिछले साल मेरी सोच थी कि मैं 'माँ' के रिश्ते को सब से अच्छा निभा सकती हूँ।यह सोच भी ग़लत हो चुकी है। सो मैं किसी भी रिश्ता को अच्छा नहीं निभा सकती, बस, जो मेरे पास है, मैं सिर्फ वो दे सकती हूँ। 
इन सब सवालों का क्या मतलब है?

- जब हम सवालों के ज़रिये खुद को देखेंगे, खुद को समझेंगे और खुद को जानेगे, तो इस को कहतें हैं, 'मननशीलता' या कहो कि 'विचारशीलता' ।  हम दही से माखन कैसे बनातें हैं, ठीक वैसे ही यह सवाल हमारे को बना डालेंगे।और हम खुश, शांत और सुखी होते जाएंगे।   क्योंकि यह विचारणा और यह मननशीलता वोही काम करती है ,जो ध्यान की प्रकिर्या करती है। 

रेतली राह का मुसाफ़िर

रेतली राह का मुसाफ़िर
माननीय प्यार , आज मैं खुद को आप के आगे सन्मानित करना चाहती हूँ कि मैं आप की रचना हूँ ; और खुदा के आगे मैं खुद को धन्यवाद का उपहार देना चाहती हूँ कि 'धन्यवाद शहीर ' कि आप ने खुदा से प्यार किया। हर किर्या के लिए धन्यवाद
The best cure of the body is a quite mind:. Powered by Blogger.