AELOLIVE
latest

Let's make life a pilgrimage together!

Let's make life a pilgrimage together!
Following the trail of colorful emotions and beautiful divine relationships. Now life Blossoms, beginning to love because it is a vibrant land of love and a beautiful feelings to wander across the heart during the journey of awakening. But here are some of the most stunning moments to witness life in full bloom with divine relationship and divine action like spring...And now thoughts are in bloom

How do we know that this is love in the eyes? (oneness )

We are the only One

Never seen an eye that is full of love?
How do we know that this is love in the eye?
 In the same way, when our consciousness wakes up, we understand what is in the eyes of the environment today!

How do we know that this person's tongue is sweet?
A, B, C do not contain sweetness, it is in our feeling
But we say that this person speaks sweet, why and how?
In the same way when we start living in nature, we know what is the need of our life today - and our life becomes easy and simple

 We've all used the phone today - but how the phone works - we don't know?
In the same way, we are all living life - how does the structure of life work - we do not know?
What material is the phone made from - we understand - but how far the voice goes - no sense - just a mystery!
Our attention also does not go to that side - just learn how to use it as soon as the phone comes in hand - and we have a similar journey with the phone.
In the same way, we are related to life. How does emotion, thinking, desire, karma make the five tattas material - we do not understand.
What is this substance - when it is one with a different type of matter, then how does the chemical change in the chemical - in the same way when the feeling sees a flower, then our consciousness wakes up to the flower - our sense How does one create a desire and when this current of our desire collides with our particle - then a string of senses awakens - what we call thinking - how does it start to become active that by coming to the bottom of the body thinking become Goes - Have you ever seen?

Phone or human body
No difference
 Is the same substance
 Have the same structure
Both of them have the same character
Because the law is the same for all of us


Touch life from anywhere - When you look at it carefully, only a feeling of how everything is the same. Appearance colors will remain the same even after being millions. This thing is so mysterious and unique that it is impossible to say it - realizing it is such a surprise - in which infrequency is even more wonderful.
When we become witnesses of any such experience, then trust deepens in God and love deepens on life - then life belongs to anyone - just feel our own, because now we know that all is the one

—*****—

हम सिर्फ एक है 

क्या कभी ऐसी आंख नहीं देखी - जो प्यार से भरी हो?
हम कैसे जान लेते हैं कि यह आँख में प्यार है?
 वैसे ही जब हमारी चेतना जाग जाती है, हम समझ जातें हैं कि माहौल की आंख में आज क्या है !

हम को कैसे पता चलता है कि इस इंसान की ज़ुबान मीठी है ?
क, ख़, ग  में तो मीठापन नहीं होता, हमारी भावना में होता है 
पर हम कहतें हैं कि यह इंसान मीठा बोलता है ,क्यों और कैसे ?
वैसे ही जब हम कुदरत में रहना शुरू कर देतें हैं, तो हम जान जाते हैं कि हमारी आज की ज़िंदगी की ज़रुरत क्या है -और हमारा जीना सहज और सरल हो जाता है 

 हम ने सभी ने आज फ़ोन का उपयोग किया है- पर फोन काम कैसे करता है - हम नहीं जानते ?
वैसे ही हम सब ज़िंदगी को जी रहें हैं हैं- ज़िंदगी का ढांचा काम कैसे करता है- हम को नहीं पता ?
फोन किस पदार्थ से बनता है -हम को समझ है - पर आवाज़ कैसे दूर तक चली जाती है - कोई समझ नहीं - बस एक रहस्या है !
हमारा ध्यान भी उस तरफ नहीं जाता - फोन हाथ में आते ही बस उस का उपयोग करना सीख लेते हैं - और फोन के साथ हमारी इतनी ही यात्रा है। 
बिल्कुल वैसे ही हमारा संबध  ज़िंदगी से है। भावना, सोच, कामना , कर्मा कैसे पांच तत्त  को पदार्थ बना देतें हैं -हम को कोई समझ नहीं। 
यह जो पदार्थ है - जब यह अलग किस्म के पदार्थ के साथ एक होता है तो, कैसे रसायिनक-तत्त  में तब्दीली आती है - वैसे ही जब भावना किसी फूल को देखती है ,तो हमारी चेतना का फूल के लिए जाग जाना - हमारी भावना को कैसे कामना बना देता है और इस कामना का करंट जब हमारी हमारे कण के साथ टकराता है- तो होश का एक तार जाग्रत होता है-जिस को हम सोच कहते हैं - वो कैसे एक्टिव होना शुरू होती कि जिस्म के तल पर आ के सोच किर्या बन जाती है - क्या कभी देखा है ? 

फ़ोन हो या इंसानी जिस्म 
कोई भी फर्क नहीं 
 एक जैसा ही पदार्थ है 
 एक जैसा ही ढांचा है 
दोनों का किर्याशील होना भी एक जैसा है 
क्योंकि हम सब के ढांचे के लिए भी क़ानून  एक है 


ज़िंदगी को कहीं से भी स्पर्श करें -जब उस को गौर से देखेंगे तो सिर्फ़ एक अहसास दिखाई देगा कि सब कुछ कैसे एक जैसा ही है।  रूप रंग आकार लाखों होने के बाद भी एक सा ही दिखाई देगें।  यह बात इतनी रहस्य-मई और अनूठी है कि इस को कहना ही असमर्थ है -इस का अहसास होना भी ऐसी हैरानी है-जिस में निरालापन और भी लाजवाब है। 
जब हम ऐसे किसी भी अनुभव के गवाह बनते हैं, तब भरोसा खुदा पर गहरा बनता है और प्यार ज़िंदगी पर गहरा होता है-  फिर ज़िंदगी किसी की भी हो- बस अपनी ही महसूस होती है,  क्योंकि अब हम जानते हैं कि सब एक ही है 

« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
love you always