AELOLIVE
latest

Let's make life a pilgrimage together!

Let's make life a pilgrimage together!
Following the trail of colorful emotions and beautiful divine relationships. Now life Blossoms, beginning to love because it is a vibrant land of love and a beautiful feelings to wander across the heart during the journey of awakening. But here are some of the most stunning moments to witness life in full bloom with divine relationship and divine action like spring...And now thoughts are in bloom

How did the trees say something? (Communication)

Today's Experience:
My deepest companions are trees, not humans, animals or birds. I love humans, animals and birds, but friendship is with trees. It was 12 years ago when I asked God that I have to see and live the world even through the eyes of a Muslim. And my experience was 10 years old.
Today, the tree told me that like you have to see the world with the eyes of a Muslim, or sometimes with the eye of an ant; In the same way, I am also a spirit - who has come to experience as a tree that if I want to attain nirvana, then how will I do it and how will I see the universe again.
Today, when the spirit of the tree spoke to me like this, I remembered the incident when I and Monica Grosari were coming back to the house. On the highway: We were crossed by a truck loaded with cut trees. I felt the pain of trees that day for the first time. Big trunks of big trees, silently said their pain. My eyes were filled with water and I told Monica that today these tree told me their pain.
How did the trees say something?
Today, when the truck came equal to our car, I caught sight of trees. Even before, saw thousands of trees cut down, but when the accident is to happen, it has to happen at the time.
First of all, there is deep silence. Looks like something happened. Like suddenly someone switched on or off. Light went for a moment, then came again. This is how silent it came - it is clear that the dimension of consciousness has changed.
I look at the tree. Has entered a deep silence. Both I and the tree were united. The deep feeling of the tree came in me. We can say that it is emotion. I do not like to cut trees, so I told my feeling. There can also be emotion. But this is not feeling but oneness. Because when the first click occurs, the person is silent, meaning has gone beyond the mind. It is said that this mind is meditated. The mind became meditated. Nirvichara: Meaning all thoughts and thoughts disappeared.
 This situation is thoughtless
What is indiscretion? (thoughtless thought)
When we go into meditation in such a condition that our attention only works whether we have any idea now?
When our focus is just what is going on in us and is there any thought in us? With this attention that we have in thought, it is called thoughtless thought. This Thought is  not thought - this is a thoughtless thought means Avichaar  
We consider the thought itself - then we are in a state of thoughtlessness.
When our meditation experiences only the silent - when we are experiencing the silent, then it is called the state of experience as indiscriminate. Even if there is a thought, which is not an idea - it is thoughtless. When this thoughtlessness also gets absorbed, then this stage is called uninterrupted. Meaning that there was no one to think.
The situation is that which currently contains an object.
The state is that - when the object and subject are united.
Feeling comes from the heart
Only the subject remains in meditation. Meaning that attention remains, everything else is absorbed
Whenever, anytime, anything happens to us - if we do not know about it, then life is understood in some form or the other.
There is a tree on one side
  On the other side I am
That thing is lost from me, which separates us. Meaning that the mind disappeared. What is left now? Quiet silent. Which is our dimension when we have a state of thinking? Spiritual dimension. A soul is a light, it can be called Aura. Aura is infinite. The tree and my aura got together. The feeling of the tree at that time came in me.
This is the family of telepathy.
I was soaked in the spirit of the tree.
Tree or goat
Both looked alike
Same feeling - experience a pain
'divide' feeling belongs to mind
This is hindu this is muslim
This tree is this animal
No splits in life and death
The tree also has the same pain - the human being
Whenever we win with a natural attitude, there is no importance of 'bad and good' or 'karma and kiriya' there. Life will go on like this - but as our understanding gets deeper, our dimension will change.
Today we can see up to one mile and then can see up to 10.
 Today we live in pain, tension, then live in happiness and peace
Will have to live
Have come - will go like this
Who changes our accounts?
Our feeling
There is only strength in our spirit, how do we win life and death?
Today my conversation with trees has again made me a student of a deeper subject. Here I only see and understand that every particle of the universe is living - the particle takes its revenge as a storm and sometimes becomes an epidemic or whatever form of storm it is
Time never forgets anything -
 When the Mughals demolished the temples - there is a law of the time, the judge of that is what we call Rabb-God-Bhagwaan-Allah.
 Raman Rishi had cancer, why?
 Jesus gets crucified, why?
 Hazrat Mohammad or Krishna - Did you ever think of their deaths?
Tao, where did you go in the last days, ever wondered?
 When any person moves towards goodness and beauty, we do not support him/her, we are against them, why? Within  we know very well that this person is right, yet stand against, why? ever thought ?
 Today the tree does not seem to have any value, have we tested our own value, ever?
Trees, flowers, animals, birds, all of them have the same status and importance in the universe. There is no difference between anyone. If we do not feel the pain of our neighbor, then how will we feel the pain of the tree? Today, the pain of the tree created rebellion in me. I started slogans against me. Because I found myself guilty. Everything in life is guilty. Anything is happening in the universe - we are all participants in it.



 आज का अनुभव:
मेरे सब से गहरे साथी पेड़ हैं, इंसान, जानवर या परिंदे नहीं।  मेरा इंसान, जानवर और परिंदे से  प्यार है पर दोस्ती पेड़ों से है। 12 साल पहले की बात है जब मैंने खुदा से माँगा था कि मैंने एक मुस्लिम की आँख से भी संसार को देखना और जीना है।  और मेरा यह अनुभव १० साल का था। 
आज मेरे को पेड़ ने कहा कि जैसे तुम ने कभी मुस्लिम का आँख से संसार को देखना है, या कभी चींटी की आँख से; वैसे ही मैं भी एक रूह हूँ -जो पेड़ के रूप में अनुभव करने आई हूँ कि अगर मैंने निर्वाण प्राप्ति करनी है तो कैसे होगी और कैसे करूंगी और मैं फिर ब्रह्माण्ड को कैसे देखूँगी।
आज जब पेड़ की रूह ने मेरे से ऐसे बात की तो मुझे वो घटना याद आ गई, जब मैं और मोनिका ग्रोसरी ले के घर को वापस आ रही थी। हाईवे पर:  हम को एक ट्रक ने क्रॉस किया जिस  में कटे हुए पेड़ों से भरा हुआ था। उस दिन पहली बार मेरे पेड़ों का दर्द महसूस किया था।  बड़े बड़े पेड़ों के बड़े बड़े तने, अपना दर्द चुप के से कह गए। मेरी आँखों पानी से भरी हुये और मैंने मोनिका को कहा कि आज मेरे को यह पेड़ अपना दर्द बता गए।
कैसे पेड़ कुछ कह गए ?
आज, जब ट्रक हमारी कार के बराबर आया, तो मेरी नज़र पेड़ों पर पड़ गई। पहले भी हज़ारों बार कटे हुए पेड़ों को जाते देखा , पर जब  हादसा ने होना है, उसी वक़्त होना है।
सब से पहले गहरी चुप आ जाती है।  ऐसे लगता है कि कुछ हुआ।  जैसे  अचानक किसी ने स्विच ऑन की या ऑफ की।  लाइट पल के लिए गई, फिर आई।  ऐसे ही चुप आई-  बिलकुल साफ पता चल जाता है कि चेतना का डायमेंशन बदल गया। 
मेरी नज़र पेड़ पर पड़ती है ।  गहरी खामोशी  में प्रवेश हो गई। मैं और पेड़ दोनों  एक हो गया।   पेड़ की गहरी महसूसियत मेरे में आ गई।  हम कह सकतें हैं कि यह भावना है।  मेरे को पेड़ों को काटना अच्छा नहीं लगता ,सो मैंने अपनी भावना को ब्यान कर दिया।  भावना भी हो सकती है।  पर यह भावना नहीं है।  क्योंकि जब पहले क्लिक होती है, तो व्यक्ति में चुप आती है, मतलब मन से पार चली गई। इस को कहतें हैं कि ध्यान लग गया।  मन मेडिटेट हो गया। निर्विचार: मतलब सब सोच और विचार मिट गए।
अविचार स्थिति से पार हो गई।
अविचार क्या होता है ?
जब हम मैडिटेशन में एक ऐसी हालत में चले जातें है कि हमारा ध्यान  सिर्फ यह काम करता है कि हमारे में क्या अब कोई विचार है कि नहीं ?
जब हमारा ध्यान सिर्फ यह होता है कि हमारे में क्या विचार चल रहा है और क्या कोई विचार हमारे में है ? इस अटैंशन के साथ जो हम विचार में होतें हैं ,इस को अविचार कहतें हैं। विचार हो के भी जो विचार नहीं -वो है अविचार 
विचार करतें हैं विचार पर ही -तब हम अविचार की स्थिति में हैं। 
जब हमारा ध्यान सिर्फ चुप को अनुभव करता है -जब हम चुप को अनुभव कर रहें होतें हैं तो यह अनुभव की स्थिति को अविचार कहतें हैं।  विचार हो के भी जो विचार नहीं होता -वो अविचार  होता है।  जब यह अविचार भी लीन हो जाता है तो इस अवस्था को निर्विचार कहतें हैं।  मतलब कि विचार करने वाला भी नहीं रहा।
स्थिति वो होती है- जिस में अभी ऑब्जेक्ट होता है।
अवस्था वो होती है - जब ऑब्जेक्ट और सब्जेक्ट एक हो जातें हैं।
भावना दिल से आती है 
ध्यान में सिर्फ सब्जेक्ट रह जाता है। मतलब कि ध्यान ही रह जाता है, बाकी सब लीन हो जाता है 
हमारे साथ जब भी ,कभी भी ,कुछ भी होता है -अगर उस की हम को जानकारी नहीं होती तो   किसी न किसी रूप में आ के ज़िंदगी ही हम को समझा जाती है। 
एक तरफ पेड़ है
 दूजी तरफ मैं हूँ
मेरे में से वो चीज़ लीन हो गई ,जो हम को अलग करती है। मतलब कि मन गायब हो गया। अब क्या रह गया  ? गहरी चुप। जब हमारी निर्विचार अवस्था होती है ,तब हमारा डायमेंशन कौन सा होता है ? आत्मिक खेत्र। आत्मा एक  लाइट होती है , इस को औरा कह सकतें हैं। औरा असीम होता है। पेड़ और मेरा औरा आपस में मिल गए।  जो पेड़ की उस वक़्त भावना थी, वो मेरे में आ गई।
टेली -पैथी का ही यह खानदान है।
मैं पेड़ की भावना में पूरी तरह भीगी हुई थी। 
पेड़ हो या बकरा 
दोनों एक जैसे दिखाई दे रहे थे 
एक ही भावना -एक हो दर्द का अनुभव 
बटवारा मन करता है 
यह हिन्दू है यह मुस्लिम 
यह पेड़ है यह जानवर 
ज़िंदगी और मौत में कोई बटवारा नहीं 
पेड़ को भी वोही दर्द होता है- जो इंसान को होता है 
जब भी हम कुदरती -भाव से जीतें हैं तो वहां पर बूरा और अच्छा या  कर्म और किर्या की कोई महत्तता  नहीं रहती।  ज़िंदगी ऐसे ही चलेगी- पर हमारी समझ गहरी हो जाने के कारण, हमारा डायमेंशन बदल जाएगा। 
आज हम  एक माइल्स  तक देख सकतें हैं फिर १० तक देख सकेंगे। 
 आज  हम दर्द में, टेंशन में जीतें हैं, फिर सुख और ख़ुशी में जियेंगे 
जीना तो पड़ेगा ही 
आ गए -ऐसे ही चले जाएंगे 
हमारे इस हिसाब-किताब को बदलता कौन है ?
हमारी भावना  
भावना में सिर्फ शक्ति है कि हम ज़िंदगी और मौत को हम कैसे जीतें ?
आज पेड़ों के साथ मेरी बातचीत ने फिर मेरे को एक गहरे सब्जेक्ट का विद्ययार्थी बना दिया है। यहाँ पर मैं सिर्फ यह ही देख और समझ रही हूँ कि ब्रह्मण्ड का हर कण जी रहा है - कण अपना बदला तूफ़ान बन कर लेता है, तूफ़ान का कोई भी रूप हो 
वक़्त कभी कुछ भी भूलता नहीं-
 जब मुगलों ने मंदिर ढाह दिए - तो एक कानून है वक़्त का, उस का जज वोही है-जिस को हम रब्ब- गॉड- खुदा- भगवान् अल्लाह कहतें है। 
 रमन ऋषि के कैंसर हुआ ,,क्यों ?
 जीसस को सूली मिले, क्यों ?
 हज़रत मुहम्मद हो या कृष्णा - कभी इन की मौत पर कुछ सोच आई?
ताओ, आखरी दिनों में  कहाँ चले गए , कभी सोचा ?
 जब कोई भी व्यक्ति अच्छाई और सुंदरता की ओर बढ़ता है तो हम उस का साथ नहीं देते खिलाफ हो जातें हैं, क्यों ? आपने भीतर हम अच्छी तरह जानते होतें हैं कि यह व्यक्ति सही है , फिर भी खिलाफ खड़े होतें हैं,क्यों ? कभी सोचा ?
 आज पेड़ की कोई औकात नहीं लगती , क्या आपने आप की औकात को परखा है ,कभी ?
पेड़, फूल , जानवर,परिंदा इंसान , इन सब की ब्रह्माण्ड में एक जैसी ही औकात है और महत्ता है।  किसी में कोई फ़र्क़ नहीं।  हम को तो अपने पडोसी का दर्द, दर्द नहीं लगता, तो पेड़ का दर्द कैसे लगेगा ? आज पेड़ के दर्द ने, मेरे में ,मेरे लिए ही बगावत खड़ी कर दी।  मैंने मेरे विरोध में ही नारे-बंदी शुरू की। क्योंकि मैंने खुद को दोषी पाया।ब्रह्माण्ड में कुछ भी हो रहा है- हम सब उस में हिस्सेदार हैं। 





« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
love you always