AELOLIVE
latest

Do you know that we are a big miracle secret?

Do you know that we are a big miracle secret?
Following the trail of colorful emotions and beautiful divine relationships. Now life Blossoms, beginning to love because it is a vibrant land of love and a beautiful feelings to wander across the heart during the journey of awakening. But here are some of the most stunning moments to witness life in full bloom with divine relationship and divine action like spring...And now thoughts are in bloom

We always remembered God after seeing the beauty, why?

Whatever we find lovely, or beautiful, we always said that I can see God in this, why?
Is God the name of a beautiful and lovely state?
Is God a Status Name?
Is God a Dimension Name?
Is God the name of our deepest thoughts?
Is it the name of the deepest and most beautiful of the universe, not only of our existence?

It was 1:30 in the morning that I got up and sat down. You started feeling
 the energy around you. If we meditated on energy, today the focus shifted to meditation. Today, one who sees meditation is also another meditation.
We all stay in meditation like fish is water. Remain in meditation, and we start meditating for a healthy life.
Strange thing.
So suddenly my thought went to Sameer [son], then my attention went behind my thought. The atmosphere on all sides is like black jelly but we can all see it across that black. Meaning that this blackness was like a see through, in the midst of which is visible. The realization of Sameer's existence in that blackness was black, meaning that the rest of the universe was black that we could see through it, but Sameer's existence was solid, beyond which we cannot see. So my meditation took two people into my mind to understand the idea. One Ravi [son] and one Arsh [son], both of them also saw the same situation, so I looked at all in that black #universe and all shapes appeared solid, only the universe was such a thing, I could see through it.
When I turned my attention to myself, I also saw something that I saw across me.
Like I saw the universe.
Now from my meditative state, I saw everything else, so there was nothing there. In my meditative state, my #meditation is realizing my feeling again. So that, what Sameer, what Ravi and what Arsh, were all within me, and these three were my only thought.
Now very closely, I pay attention to these thoughts with very deep attention.
There was nothing visible in the blackness that was visible everywhere. And my attention was coming out of that blackness in the deep.
Today, for the first time, my attention was also focused on meditation, it was behaving in a very mysterious way.
If I pay attention to my whole body, then the universe starts to appear within the body, if I look at the universe more carefully, then my whole body spreads in the universe. Likewise, I have a feeling of many years, which is important here, why, Let's talk about this later.
My experience, which is years.
Which comes before our eyes like a zigzag.
When we watch television, the program suddenly stops, then it starts to zigzag on the television screen. The same zigzag will be seen when we look carefully around you. Space is not very clear, it is an energy system - it is something like a zigzag, we can call it the sleeping energy of space or the shadow of something that we do not know yet. If we have carefully If you look very deeply towards it, then it will start to light up slowly. When we are in full focus on the light of this small point, then we will feel as if it has become a zigzag point light, moving us into distant space. The light spread at this point will continue to feel very good and lovely. Then it will feel as if this zigzag was the shadow of a space star, which was so close to us. This zigzag point takes us into space.
The creation of life is a very deep #mystery. When it starts to understand, then it is very simple.
We are all just an energy game. When we watch this game from our heart, the same game looks like it is all true and happening. When we watch this game with consciousness, everything is happening, no one is doing it. It is said in the Vedas that 'God is the identity of God'.
When our nature starts to flow fluidly then only we can know the form of liquid. Sameer, Ravi and Arsh also became liquid blackness for me when my focus got me in a meditative state. Now I could also be seen across them.
The most surprising thing is that we will all know what the action of God is going to be - but we can never know the action of human at mental level? Can guess, but can never know. Because God is the name of the complete state and the person is the name of the incomplete state.
The understanding of aware in meditation is a very sweet strange puzzle. First to transcend oneself and just become meditation, then when consciousness becomes meditative to see meditation, then a wonderful miracle happens.
Meditation of the mind, then meditation of consciousness.
When the mind is meditative, life becomes understood and when consciousness becomes meditative, the understanding of the universe begins. We cannot say consciousness or form to 'me or you'. The conscious form is the same. As the sea is the same, add countless drops.
When consciousness does its work in a meditative veneer, the realization of the privacy of the universe is like seeing a state of blackness. In this, the life of everything is an energy. Seeing this beauty, a new and deep passion was born in me.
How can I achieve that eternal life, in which I know myself, recognize myself and also be free to take myself to every part of the universe.
This exaltation of today's existence has sown itself in the universe, when seeds will sprout, when will the leaves grow, when will the tree be formed, when will it give flowers or fruits, it is God's grace. Today, God has exulted like this seed has been sown in my soul, so this seed will reach its destination.
Now we are going to face the main question that after seeing any good and beautiful thing, why do we say that God is seen in this?
1 - Everything that is the nature of our privacy ( self ) is very wonderful - we will find that thing very good or very nice and beautiful, which will be very close to our own personal nature.
2- Whatever is close to itself own personal nature, naturally there is a rhythm and tone in it. When we experience this harmony in anything, it is one that does not have any sound and voice but also makes us a melodious Raaga. This is the beauty of the music without the sound of the voice, we have no choice but to call it God.
3 - Who do we call God?
That depth of life, which is described in the Vedas with 36 qualities. Which is called 99 in Islam. The saga of our experiences will be hidden in the depths of virtues, which are earned by the ages, not the years.
 (In the coming time, we will excavate one quality mine)
God becomes our condition as well as image.
 The condition is formed first, then the state
The state of transcendence of consciousness is called dimension.
We can also call our deepest spiritual thinking, when the end of thinking is there, then the emotional field starts again. Emotional level, in which everything is connected with God, is called devotion.

सुंदरता को देख कर हम ने सदा खुदा को याद किया ,क्यों ?


जो भी चीज़ हम को प्यारी लगती है, या सुन्दर लगती हैं, हम ने सदा  यही कहा कि मुझे इस में खुदा दिखाई देता है, क्यों ?
क्या खुदा एक सूंदर और प्यारी अवस्था का नाम है ?
क्या खुदा एक स्थिति का नाम है ?
क्या खुदा एक डायमेंशन का नाम है ?
क्या खुदा हमारी एक गहरी सोच का नाम है ?
क्या हमारा वजूद की ही नहीं ब्रह्माण्ड की सब से गहरी प्यारी और सुन्दर प्रतीति का नाम है ?

सावेर के १:३० मिनट्स हुए थे कि मैं उठ कर बैठ गई।  आपने चारों ओर की ऊर्जा को महसूस करने लगी।  ऊर्जा पर ध्यान गया तो आज फिर ध्यान पर ही ध्यान चला गया।  आज ध्यान को देखने वाला एक एक और भी ध्यान है। 
हम सब ध्यान में ही रहतें हैं जैसे fish पानी है।  ध्यान में रहतें हैं, और हम तंदरुस्त जीवन के लिए ध्यान ही करने लगतें हैं। 
अजीब सी बात है। 
तो अचानक मेरा ख्याल समीर [ बेटा ] की ओर गया तो मेरा  ध्यान मेरे ख्याल के पीछे ही चला गया। सभी ओर का वातावरण  ब्लैक jelly की तरह पर उस ब्लैक के आर-पार हम सब देख सकतें हैं।  मतलब कि यह कालापन एक see through जैसा था ,जिस के बीच में से सब दिखाई देता है। उस कालेपन में समीर के वजूद का अहसास काला पक्का दिखाई दिया मतलब कि बाकी का जो ब्रह्माण्ड था वो ऐसा काला था कि जिस के आरपार हम देख सकते थे पर समीर का वजूद ठोस दिखाई दिया ,जिस के आर पार हम देख नहीं सकते। तो मेरे ध्यान ने आपने ख्याल को समझने केलिए दो लोगों को आपने ख्याल में ले लिया।  एक रवि [ बेटा ] और एक आर्ष [बेटा ],  उन दोनों की भी वोही समीर जैसी स्थिति दिखाई दी  तो मैंने उस ब्लैक ब्रह्माण्ड में सभी ओर  ध्यान दिया तो सब आकार ठोस ही दिखाई दिए, सिर्फ ब्रह्माण्ड ही एक ऐसी चीज़ थी, जिस के आरपार मैं देख सकती थी। 
मैंने अपना ध्यान अपनी ओर किया तो मेरे को  मैं भी आरपार देखने वाली चीज़ दिखाई दी। 
जैसे मैंने ब्रह्माण्ड को देखा था। 
अब मेरी ध्यानी अवस्था में से ,मेरी मैं ने सब और देखा तो वहां पर कुछ भी नहीं था। मेरी ध्यानी अवस्था में मेरा ध्यान अपनी महसूसियत को फिर ध्यान से महसूस कर रहा है।  तो उस को , क्या समीर, क्या रवि और क्या अर्श, यह सब मेरे में ही थे, और यह तीनों मेरा ही ख्याल थे। 
अब मैंने बहुत बारीकी से ,बहुत ही गहरे ग़ौर से आपने इन ख्यालों की ओर  ध्यान को लगा दिया तो 
सभी ओर आरपार दिखाई देने वाला कालापन  के इलावा कुछ दिखाई नहीं दे रहा था।  और मेरी तवजो गहरे में उस कालापन को चीरती हुये निकल रही थी। 
आज पहली बार, ध्यान पर जो मेरी तवजो का भी ध्यान था, यह बहुत ही रहसयमई -परस्थिति का व्य्वहार हो रहा था। 
अगर मैं आपने पूरे जिस्म पर ध्यान देतीं हूँ , तो जिस्म के भीतर ही ब्रह्मण्ड दिखाई देना शुरू हो जाता है ,अगर मैं ब्रह्मण्ड की और ध्यान से देखती हूँ तो मेरा पूरा जिस्म ब्रह्मण्ड में फैला होता है। ऐसे ही मैं बहुत सालों की मेरी एक ओर अनुभूति है , जिस का ज़िकर यहाँ पर ज़रूरी है, क्यों, इस की बात बाद में करतें हैं|
मेरा अनुभव, जो सालों का है। 
जो हमारी आँखों के आगे जिगजैग सा आता है।
जब हम टेलीविज़न देखतें हैं ,अचानक प्रोग्राम बंद हो जाए तो टेलीविज़न की स्क्रीन पर जो zigzag  सी होने लगती है। जब हम ध्यान से आपने खुद के चारोँ ओर भी देखेंगे तो वही zigzag दिखाई देगी।  स्पेस बिलकुल साफ़ नहीं ,यह एक ऊर्जा मंडल है -जो यह ज़िगज़ैग सा कुछ है, इस को हम स्पेस की सोई हुई एनर्जी कह सकतें हैं या किसी ऐसी चीज़ की छाया , जिस का अभी हम को पता नहीं।अगर हम आपने ध्यान से इस की ओर बहुत गहरे से देखेंगे तो यह धीमे धीमे रौशन होने लगेगी । यह छोटे से बिंदु की रौशनी पर ही जब हम पूरे ध्यान में होतें हैं तो हम को ऐसे लगेगा कि जैसे यह zigzag सा बिंदु रौशनी बन के, हम को दूर स्पेस में ले चला है।  इस बिंदु की रौशनी का फैला  बहुत अच्छा और प्यारा लगता रहेगा। फिर ऐसे लगेगा कि जैसे यह zigzag  एक स्पेस के तारे की ही छाया थी , जो हमारे इतनी पास थी।  यह zigzag सा बिंदु हम को स्पेस में ले जाता है।
ज़िंदगी की रचना एक बहुत गहरी रहस्य भरपूर रचना है।  जब इस की समझ आने लगती है तो यह बहुत ही सरल है।
हम सब सिर्फ एक ऊर्जा का खेल ही हैं।  जब हम इस खेल को मन से देखेंगे तो वही खेल ऐसे दिखाई देता है कि यह सब कुछ सच ही है और हो रहा है।  जब हम इस खेल को चेतना से देखतें हैं तो सब हो रहा है, कोई भी कर नहीं रहा। वेदों में कहा है कि ' देव हो के ही देव की पहचान होती है '. 
जब हमारा स्वभाव तरल हो के तरलता से बहना शुरू कर देता है तो ही हम तरल के रूप को जान सकतें हैं।  जब मेरा ध्यान ने मेरे को पूरी ध्यानी हालत में पहंचा दिया तो समीर, रवि और अर्श भी मेरे लिए तरल कालापन  बन गए। अब मैं उन के आरपार भी देखा जा सकता था। 
सब से हैरानी की बात यह है कि हम सब यह तो जान लेंगे कि रब्ब का एक्शन क्या होने वाला है -पर हम मानसिक लेवल पर इंसान के एक्शन को कभी नहीं जान सकते ? अनुमान लगा सकतें हैं, पर जान कभी नहीं सकते। क्योंकि रब्ब पूर्ण अवस्था का नाम है और व्यक्ति अधूरी अवस्था का नाम है।  
ध्यान में ध्यान की समझ एक बहुत ही प्यारी अजीब पहेली है। पहले खुद के पार हो जाना और सिर्फ ध्यान बन जाना, फिर ध्यान को देखने केलिए जब चेतना ध्यानी बन जाती है, तो! लाजावाब चमत्कार हो जाता है। 
मन का ध्यानी होना ,फिर चेतना का ध्यानी होना। 
जब मन ध्यानी होता है तो ज़िंदगी की समझ आती है और जब चेतना ध्यानी हो जाती है तो ब्रह्माण्ड की समझ आने लगती है। चेतन-रूप को हम 'मैं या तू' कह नहीं सकते।  चेतन-रूप एक ही है।  जैसे समुंदर एक ही है , अनगिनत बूंदों को जोड़।  
चेतना जब ध्यानी लिबास में अपना काम करती है तो ब्रह्मण्ड की निज़ता  का एहसास कालेपन की आरपार देखने वाली स्थिति जैसा होता है।  इस में हर चीज़ का जिन्दापन एक ऊर्जा है।  इस सुंदरता को देख कर मेरे में एक  नई और गहरी उमंग ने जन्म लिया।  
कैसेमेरे को वो शास्वत जीवन की उपलब्धि हो सकती है, जिस में मैं खुद को जानू भी, पहचानू भी और खुद  को ब्रह्माण्ड के हर हिस्से में ले के जाने को आज़ाद भी हो जाऊँ। 
आज  के मजूद पलों की इस उमंग ने खुद को ब्रह्माण्ड में बो दिया है , कब बीज अंकुर होगा, कब पत्ते निकलेंगे,कब पेड़ बनेगा, कब फूल या फल देगा, यह खुदा की रेहमत है।  आज खुदा ने उमंग बन कर जैसे यह बीज को मेरी रूह में बोया है वैसी ही यह बीज अपनी मंज़िल पर पहंच जाएगा। 
अब हम आपने मुख सवाल पर आतें हैं कि कोई भी अच्छी और सुन्दर  चीज़ को देख कर हम क्यों कहतें हैं कि इस में खुदा दिखाई देता है ?
1 - हर चीज़ की जो अपनी निजता का स्वभाव होता है , वो बहुत ही लाजवाब होता है - हम को वोही चीज़ अच्छी और सूंदर लगेगी, जो खुद के निजी स्वभाव के बहुत पास होगी। 
2 - जो भी चीज़ आपने निजी स्वभाव के करीब होती है, उस में नैचुरली एक लयवद्धता और टोन आ जाती है।  जब किसी भी चीज़ में हम यह harmony  अनुभव होती है तो वो एक ऐसा  जाती है , जिस की कोई आहट और आवाज़ नहीं होती पर हम को भी एक मधुर राग बना देती है। यह जो बिन आवाज़ के संगीत के साथ की सुन्दरता है , इस को खुदा कहने के सिवा हमारे पास ओर कोई चारा भी नहीं।  

« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
see you again