AELOLIVE
latest

Do you know that we are a big miracle secret?

Do you know that we are a big miracle secret?
Following the trail of colorful emotions and beautiful divine relationships. Now life Blossoms, beginning to love because it is a vibrant land of love and a beautiful feelings to wander across the heart during the journey of awakening. But here are some of the most stunning moments to witness life in full bloom with divine relationship and divine action like spring...And now thoughts are in bloom

An understanding that explains everything else

An understanding that explains everything else, today we will talk about that understanding.


Today when I was going for hiking in the morning, my heart was swinging happily in the spring and out of life just like everyday.
The aura of light spreading with every light, my soul was also excited to introduce the aura of a unique experience. How the narve-system of my face expresses my life before preparing my eyes to water, and how it takes part in understanding this and, very infrequently, fills my existence with thanks. Just got the message and I was already drenched with thanks.
Today, moments of my hiking were going to include such moments, which were hiking the heart, not just the body. As if every particle of the universe was silent, as if there was a huge gathering. And there was such a deep silent experience on every side that every particle of my body started dancing.
It was such a dance that it made me understand that when we do music or dance during the time of happiness, it is zero in front of this happiness and this atmosphere. Because I was watching how every particle of mine is busy in a romantic dance. Being romantic of mind and romantic of life is a big difference. The music of the quiet, the dancing of the particles, is a unique celebration, before which all the celebrations of the world are nothing.
My wet eyes looked at everything. Carefully looked at everything from the land to the sky and from the body to the soul. Unmatched environment - Excellent experience - Non-believing situation, my condition had reached beyond life, not even death.
Like today a unique experience is coming from heaven. Eyes closed. Jism sat on the floor. The outside world closed and the inner world opened. In the inner world, the outer world also came and my soul started flying in a strange mystery atmosphere.
The conversation here, I now share with you all in questions and answers.
I would not call this a journey of the era, but of the moment. Because the description of what we have experienced from the beginning of the universe to the present day, when we have to change in the moment by age, how to give - is a very beautiful experience. The experience that swallows up the time of our life, how does it describe itself in the moment!
That understanding, which is the mother of all our existence, which is not experienced - whose habit and whose nature we are - that reveals itself through our existence - that understanding.

1 - When we were to be born, who asked us whether you were to be born now or not?
2 - Did we ask someone in which house, in which country, in which community would we be born?
3 - What kind of environment should we have, what should be our habit, what should be our nature, did anyone sign us for this?
4 - Do we breathe?
5 - What thinking comes from our thinking?
6 - Can we claim that we will cultivate love for ourselves in someone's heart?
7 - Can we take copy rights of any emotion?
8 - Is our intelligence our discovery?
9 - Are we happy in our own relationships?
10 - Can we say that we have got our life of our choice?
11 - When we take a decision under some circumstances, then after a few years we say why I did this, I should have done it, have you ever seen that position carefully, why do you say this?
12 - When you go to a unknown place and feel that I have come here before, what is your position, ever thought?
13 - When you meet someone who sees that both of our identities are old, you become the only questioner, did you ever think about your condition?
14 - You are going somewhere, something happened to you while walking, what happened you don't know anything, just your situation became a question and sat in the mind. Have you ever tried to know about your position, what is it?
15 - You appear at some place, you thought that I had come here earlier, how did this happen, do you know?
16 - You went somewhere for the first time, stopped looking at some place. When you started looking at the place carefully, you started seeing something happening. You saw an incident. When you came out of the position, there was nothing there - then what you saw, do you know or have tried to know about it?
17 - Have you ever lied that this has happened in their home - be it positive or negative. And you see that your lying has come true - what do you understand?
18 - Have you ever said that something is going to happen at home or anywhere, it will happen, and it happens there, then you ever thought what is life?
19 - You are sitting in your room or in some place where there is no water connection, but you have to splash water. Did your surprise ever solve this incident?
20 - Have you ever felt that there is no splash of water on you - the spark of fire is lying. It hurts you so much. Like burnt but not mark on body. Relaxation comes when you use cold water or ice. You cannot even touch that place, but you cannot see anything, so did you trust your event?
Innumerable similar incidents, whose color is different but our reaction is full of surprises.
what's all this ?
All scholars have given it different names, because each one has a different and wonderful way of looking at life.
 My life has always considered life a sensation. The more we become conscious, the more we see and experience life deeply.
 For me all such incidents would become very deep questions and sometimes cause my stress. I did not like to deal with stress. My depression was not of world level, I have lived above 25 with depression, but my depression was spiritual and I can also call it quietness.
All my questions were about to know the deep reality of life. There was no attachment to worldly things. All of my experiences were such that I had never received an answer from anyone.
Prayer was my chanting
Love was my tenacity
My circumambulation was to pray for everyone and it was my pilgrimage to be silent and pay attention to my own questions.
 There was a deepest belief in me that the person who gave birth, he has to give death, and the middle life also he has to see. I was 29 years free from the world.
My amazing experiences made me deeply aware of my life. Everyday new experiences, everyday new incidents, everyday my consciousness standing behind questions always asked me my well being. It is very strange how the consciousness asks.
It seemed as if unknown energy would flow into the space and the waves of that energy would do something to me that I always said 'love you' with a smile. After that the health that used to come in my body, like I have come from some supernatural country.
Today is how it came again. Today my experience was taking hiking to existence. And I was hiking around the earth. The answer to my every wonderful experience started coming from me. When we go through the phase of life, what is the% of our senses, and how deep is it - this is the foundation of our standard of living. Our consciousness can not hide the incident which we did with full consciousness. We have done any work consciously, in any birth, that karma will become our character. And the action that is done consciously will never be different from us. Because the steps taken by the senses have become the building of Nirvana.
 Behind all our experiences, those experiences, which we consider supernatural, is our achievement, which we have earned through hard work of many years. We don't remember, that's why it's supernatural for us.
The deepest distinction of life and the deepest beauty is that nothing ever dies. Describe one of my experiences, all the other experiences will be understood by you.
I mention the number 19 incident.
 I am sitting alone in the room. And suddenly as soon as I sat down, I got a state of meditation, and how was my mood at that time and how was my thinking. Because, whatever will be my mood today, I will be thinking, my character will be, and my nature will be - behind all this will be only my senses. What is the% of my senses? My current thinking, from what experience I have had, my encounter will be with the moment of that experience.
I saw that there were splashes on me. In the moments of my past experience, when I was going through that experience - at that time these splashes are bound to exist there. Meaning that at that time there will be splashes on me, today when I got down in that incident, the same thing will be the same with me today. Because even today, that moment, that incident, they are all there, when I went to that moment of meditation, it was refreshed with me.
 If nothing ever dies in this entire life, how will any of our events which have happened, die? Our conscious form is eternal form. From there we can see the beginning and the end.
When such incidents happen with me today, it will create a surprise for me, because today I am definitely gone in that moment, but did not go with full consciousness, there was a little consciousness, a little mood, a little atmosphere Was. I just touched that moment, could not go between the moments, because my consciousness was not fully awakened. When we wake up in your conscious form, then we know your journey from the beginning to the end.
Our life is a computer. For which programming does not have to be done every year, it keeps happening every moment. Our desire is the template of our life. This window is not 7 or 9, this window is such that it has to work on its own according to the policy of our actions. Just here nothing ever gets deleted. Upload will always be Upload will continue even after Nirvana. Because there is no end of space to hold data here. If our goods (our qualities) are good - then there will always be distraction. Defects do not get deleted, just fullstop comes in front of them. Sentence complete.
Our life today is the result of our own experience. Life is all the universe in you. WI 5 of our lives is our senses, whose connection is with our conscious form.
All my first 8 questions were data of our deeds. What you do in your life is the result of our actions, such as parents or country. We had no choice over there. Here too we have a choice, all of them are our new deeds. And there are some actions that we are standing between, we do not know what to do?
Such a Karma-Khetra holds the greatest importance for us. Because whatever action we have there, it will be full of all our senses and that action will become our weapon. Because we are working very consciously to fulfill that Karma. Pay attention to my 11th question.
Whenever we accept the decision you have taken wrong or right, it means that we had inadvertently also paid attention to that incident. There will be meditation here, life will be there only. The incident happened and became past, but we have just kept that incident present. This is what we lost. And the attention that we have brought to that incident for so many years, will become our stubborn habit. Now that we cycle in the same situation, it becomes our habit as well as the chemical elements of our body will be made by that habit, and in those elements, all the scandal of our diseases and our health is hidden. . Whatever is happening to us, good or bad, it is a miracle of our senses.
 As the whole senses explain to the person, in the same way, everyone gets liberated because life is such a real guru in you that you become a disciple and exploit yourself.

एक वो समझ जो बाकी सब समझ को समझा देती है, आज हम बात करेंगे उस समझ की ?
आज जब सुबह के वक़्त मैं हाईकिंग के लिए जा रही थी ,तो मेरा दिल हर रोज़ की तरह ही  ज़िंदगी की बसंत बहार में ख़ुशी से झूल रहा था। 
हर पास फैल रही मध्म सी रौशनी की आभा, मेरी रूह को भी एक अनोखे अनुभव की आभा से परिचय करवाने में उत्सक लगी। मेरी आँखों में पानी के आने की तैयारी से पहले मेरे चेहरे का  narve-system  कैसे अपने जिन्दापन का इज़हार करता है और कैसे इस समझ को समझने में हिस्सा लेता है और बहुत ही निरालेपन से ,मेरे वजूद को धन्यबाद से भर देता है कर गया। अभी संदेसा ही मिला है और मैं पहले ही thanks-भाव से भीग गई।  
आज फिर मेरे हाईकिंग के पलों में ऐसे पल सामिल होने जा रहे थे, जो जिस्म को ही नहीं, दिल को भी हाईकिंग करवा रहे थे। ब्रह्मण्ड के हर कण में जैसे चुप छा गई, जैसे कोई बहुत बड़ा समागम होना है। और हर तरफ़  एक गहरी चुप का अनुभव ऐसा था कि मेरे जिस्म के हर कण कण मे नाच होने लगा। 
यह ऐसा नाच था कि इस ने मेरे को यह समझा दिया कि जब हम ख़ुशी के वक़्त में म्यूजिक या डांस करतें हैं, वो इस ख़ुशी से और इस माहौल के आगे ज़ीरो है। क्योंकि मैं देख रही थी कि कैसे मेरा हर  कण एक रोमांटिक नाच में व्यस्त है। मन का रोमांटिक होना और जीवन का रोमांटिक होना बहुत बड़ा फर्क है।  चुप का संगीत, कण कण का नाच होना  एक अनोखा जश्न है , जिस के आगे संसार के सब जश्न कुछ भी नहीं हैं।  
मेरी भीगी आँखों ने हर चीज़ की तरफ देखा।  ज़मीन से ले के आसमान तक और जिस्म से लेके आत्मा तक के सब हिस्से को ध्यान से देखा। बेमिसाल वातावरण - लाजवाब अनुभव- विश्वास न करने वाली स्थिति,  ज़िंदगी से पार ही नहीं, मौत से भी पार मेरी दशा पहूँच चुकी थी। 
जैसे आज एक अनोखा अनुभव स्वर्ग से आ रहा है। आंखें बंद हो गई।  जिस्म ज़मीन पर बैठ गया।  बाहर का संसार बंद और भीतर का संसार खुल गया। भीतर के संसार में बाहर का संसार भी आ गया  और  मेरी आत्मा एक अजीब भेद भरे माहौल में उड़ने लगी।मेरी उदारी धरती के हर पास चक्र लगाने लगी।
यहाँ की वार्तालाप अब मैं सवाल और जवाब में आप सब के साथ सांझी करती हूँ।  
इस को मैं पल की नहीं, युग की यात्रा कहूँगी।  क्योंकि ब्रह्माण्ड की शुरूआत से ले के आज तक ,जो भी अनुभव किए हैं, उन का ब्यान जब हम को युग ने पल में बदल कर देना है, कैसे देने है - बहुत ही शोभावान अनुभव है। जो अनुभव हमारे ज़िंदगी के सालों का वक़्त निगल जाता है, वो पल में खुद को कैसे ब्यान करता है अमेजिंग !
वो समझ ,जो हमारे सब के वजूद की माँ है , जिस का अनुभव ही नहीं - जिस की आदत और जिस का स्वभाव हम ही हैं - जो हमारे वजूद के ज़रिये खुद को प्रगट करती है - वो समझ। 

1 - जब हम ने पैदा होना था, हम को किस ने पूछा था कि आप ने पैदा होना है अब कि नहीं ?
2 - क्या हम को किसी ने यह पूछा था कि हम ने किस घर में, किस मुल्क में, किस कौम में पैदा होना है ?
3 - हम को कैसा माहौल चाहिए, कैसी हमारी आदत होनी चाहिए, कैसा हमारी स्वभाव होना चाहिए, क्या इस के लिए हम से किसी ने स दस्तख़त करवाए थे ?
4 - क्या साँसें हमारे लेने से आती है ?
5 - क्या सोच हमारे सोचने से आती है ?
6 - क्या हम यह दावा कर सकतें हैं कि किसी के दिल में हम खुद लिए प्यार पैदा कर लेंगे ?
7  - क्या हम किसी भी भावना के कॉपी राइट्स ले सकतें हैं ?
8 - क्या हमारी अक्ल हमारी खोज है ?
9 - क्या हम आपने खुद के रिश्तों में खुश हैं?
10 - क्या हम यह कह सकतें हैं कि हम को हमारी ज़िंदगी हमारी पसंद की ही मिली हुई है ?
11 -जब हम किसी हालात में  कोई फैंसला  लेते हैं फिर  कुछ साल बाद हम यह कहतें हैं कि यह मैंने क्यों किया था, मेरे को ऐसे करना चाहिए था , उस पोजीशन को आप ने कभी ध्यान से देखा है कि आप ऐसा क्यों कहतें हैं ?
12 - जब कोई आप को अनजानी जगह पर जा के ऐसा लगता है कि मैं यहाँ पर पहले भी आया हूँ, तो यह आप की पोजीशन क्या है , कभी सोचा ?
13 - जब आप किसी ऐसे व्यक्ति को मिलते हो, जिस को देख कर लगता है कि हमारी दोनों की पहचान पुरानी है , बस सवालिया-चिन ही आप बन जाते हो, कभी आप को आप की इस दशा के बारे में सोच आई ? 
14 - आप  कहीं जा रहें हो, चलते चलते आप को कुछ हुआ,क्या हुआ आप को कुछ भी पता नहीं, बस आप की स्थिति सवाल बन कर दिमाग में  बैठ गई।  क्या आप ने कभी अपनी इस पोजीशन के बारे में जानने  की कोशिश की ,कि यह क्या है ?
15 - आप किसी जगह पर दखिल होतें हो, आप को लगा कि ऐसे ही मैं पहले यहाँ पर आया हूँ , यह कैसे हुआ, क्या आप को पता है?
16 - आप पहली बार कहीं पर गए , किसी जगह को देख कर रुक गए।  जब आप ने ग़ौर  से जगह को देखना शुरू किया तो आप किसी घटना को हो रही देखने लगे।  आप ने कोई घटना देखी।  जब आप पोजीशन से बाहर आये तो वहां पर कुछ भी नहीं था - फिर जो आप ने देखा, क्या आप उस के बारे में सब जानते हो या जानने की कोशिश की है ?
17 - कभी आप ने वैसे ही झूठ बोल दिया कि उन के घर में यह हुआ है -कुछ भी हो पॉजिटिव या नेगेटिव। और आप देखते हो कि आप का झूठ बोलै हुआ सच हो गया - तो आप क्या समझे?
18 - कभी आप ने कहा कि अब घर में या कहीं भी कुछ ऐसा होने वाला है, ऐसा ही होगा, और वहां पर वैसा ही हो जाता है, तो आप ने कभी सोचा कि ज़िंदगी है क्या ?
19 - आप अपने कमरे में बैठे हो या कुछ ऐसे जगह पर कि यहाँ पर पानी का कोई वास्ता ना हो, पर आप पर पानी के छींटें पड़े। आप की हैरानी ने कभी इस घटना को हल किया ?
20 -  आप को कभी ऐसे लगा कि आप के ऊपर पानी के छीटें नहीं- आग के चिंगारी पड़ी है।  आप के दर्दबहुत होता है।  जैसे जले हुए का होता है पर जिस्म पर निशान  नहीं।  जब आप ठंडा पानी या आइस का उपयोग करते हो तो आराम आता है।  आप उस जगह को छूह भी नहीं सकते, पर दिखाई भी कुछ नहीं देता, तो क्या आप ने अपनी इस घटना पर भरोसा किया? 
ऐसी ही अनगिनत घटनाएं, जिन का रूप रंग  अलग अलग पर हमारा रिएक्शन हैरानी भरा ही हुआ है। 
यह सब क्या है ?
सब विद्वानों ने इस को अलग अलग नाम दिए हैं, क्योंकि हर एक का ज़िंदगी को देखने का अलग और अद्भुत अंदाज़ है। 
 मेरी ज़िंदगी ने सदा ज़िंदगी को एक होश माना है। जितने हम होशमंद होतें हैं, उतने ही हम ज़िंदगी को गहरे से देखतें हैं और अनुभव करतें हैं।
 मेरे लिए ऐसी सब घटनाएं बहुत गहरा  सवाल बन कर मेरी स्ट्रेस का  कभी कभी कारण  बन जाती।  तनाव के साथ डील करनी मेरे को पसंद ही नहीं थी।  मेरी डिप्रेशन संसारी लेवल की नहीं थी, मैंने डिप्रेशन के साथ २५ से ऊपर जीवन  जीया है, पर मेरी डिप्रेशन अधियत्मिक थी और इस को मैं वैराग्य भी कह सकती हूँ।  
मेरे सब सवाल ज़िंदगी की गहरी असलियत को जानने वाले ही थे।  संसारी चीज़ों से लगाव है ही नहीं था। मेरे अनुभव सब के सब ऐसे थे कि जिन का जवाब ,मेरे को कभी भी किसी के पास से मिला ही नहीं था। 
प्रार्थना मेरा जप था 
प्यार मेरा तप था 
सब के लिए दुआ मांगनी  मेरी परिक्रमा थी और चुप हो के खुद के सवालों पर ध्यान देना मेरी तीर्थयात्रा थी। 
 मेरे में एक भरोसा सब से ज़्यादा गहरा था कि जिस ने जन्म दिया, उस ने ही मौत देनी है तो बीच की ज़िंदगी भी तो फिर उस ने ही देखनी है।  मै  संसार से फ्री २९ साल की हो गई थी।  
मेरे अद्भुत अनुभव मेरे को ज़िंदगी से गहरी जान-पहचान करवाते गए।  हर रोज़ नया अनुभव, हर रोज़ नई वारदात, हर रोज़ सवाल के पीछे खड़ी मेरी चेतना ने सदा मेरे से मेरा हालचाल पूछा।  बहुत ही अजीब बात है कि कैसे चेतना हालचाल पूछती है ?
ऐसे लगता कि जैसे स्पेस में अनजानी सी एनर्जी का बहा आता और उस एनर्जी की तरंगें कुछ ऐसा मेरे को कर जाती कि मैंने सदा मुस्कान के साथ कहना 'लव यू'  . उस के बाद मेरे जिस्म में जो तंदरुस्ती आती थी , जैसे किसी अलौकिक-मुल्क से मैं आई हूँ।
 आज का दिन फिर ऐसा ही आया।  आज मेरा अनुभव वजूद को हाईकिंग पर ले जा रहा था।  और मैं हाईकिंग कर रही थी धरती के चारों ओर। मेरे हर अद्भुत अनुभव का जवाब मेरे से मिलने आने लगा।  ज़िंदगी के जिस दौर में से जब हम गुज़रतें है, हमारी होश की % क्या है, और कितनी गहरी है -इस पर हमारी जीवन-स्तर की बुनियाद होती है। जिस घटना को हम ने पूरे होश के साथ किया, उस को हमारी चेतना भी हम से छुपा नहीं सकती। हम ने कोई  भी कर्म होश  में किया, किसी भी जन्म में किया हो , वो  कर्म  हमारा किरदार बनता जाएगा। और वो कर्म जो  होश में किया ,वो हम से कभी अलग नहीं होगा।  क्योंकि होश से किये हुए कदमों ने ही निर्वाणा की इमारत बन जाना है।  
 हमारे सब अनुभवों  के पीछे, वो अनुभव, जिन को हम अलौकिक मानते हैं, हमारी  achievement है , जिस को हम ने बहुत सालों की  मेहनत से कमाया  होता है। हम को याद नहीं, इस लिए वो हमारे लिए अलौकिक है।  
ज़िंदगी का सब से गहरा भेद और सब से गहरी सुंदरता यह है कि कभी भी कुछ भी मरता नहीं।  अपने एक अनुभव को ब्यान करती हूँ, बाकी के अनुभव सब आप को समझ आ जाएंगे। 
19 नंबर  घटना का ज़िकर करती हूँ। 
 कमरे में अकेली बैठी हूँ। और बैठे बैठे ही अचानक मेरे में ध्यान की अवस्था आ गई, और उस वक़्त मेरा मूड कैसा था और मेरी सोच कैसी थी। क्योंकि, आज जो भी मेरा मूड होगा, मेरी सोच होगी, मेरा किरदार होगा , और मेरा स्वभाव होगा - इन सब के पीछे सिर्फ मेरा होश होगा।  मेरे होश की % क्या है ? मेरी माजूदा सोच, मेरे को मेरे किस अनुभव से मिली है, मेरा encounter उस अनुभव के पल के साथ होगा। 
मैंने देखा कि मेरे पर छींटें पड़े हैं।  मेरे उस बीते अनुभव के पलों में, जब मैं उस अनुभव में से गुज़र रही थी- उस वक़्त इन  छींटों का वहां पर मजूद होना लाज़मी है।  मतलब कि उस वक़्त भी मेरे पर छींटें पड़े  होंगें, आज जब मैं उस घटना में उतर गई तो वोही सब आज भी मेरे साथ वैसा ही होगा। क्योंकि आज भी वो पल, वो घटना, वो सब वहीँ पर है, जब मैं ध्यान में से उस पल में गई तो वोही मेरे साथ ताज़ा हो गया। 
 इस तमाम  ज़िंदगी में कभी भी कुछ भी मरता नहीं तो हमारी कोई भी घटना जो घट चुकी है, वो कैसे मरेगी ?  हमारा चेतन- रूप शाश्वत रूप है।  वहां से हम आदि और अंत देख  सकतें हैं।  
ऐसी घटनाएं जब आज मेरे साथ होगी तो मेरे लिए एक हैरानी का आलम ही खड़ा करेगी, क्योंकि आज मैं उस पल में गई ज़रूर हूँ, पर पूरे होश से नहीं गई, थोड़ा सा होश था, थोड़ा सा मूड था, थोड़ा सा वैसा ही माहौल था।  बस मैं उस पल को छू के आ गई, पल के बीच नहीं जा पाई ,क्योंकि मेरी चेतना पूरी तरहां से जागी हुई नहीं थी। जब हम आपने  चेतन-रूप  में  जाग जातें हैं तो हम आदि से अंत तक का, आपने खुद का सफ़र जान लेतें हैं। 
हमारी ज़िंदगी एक कंप्यूटर है।  जिस की प्रोग्रामिंग हर साल करनी नहीं पड़ती ,यह हर पल होती ही रहती है।  हमारी चाहना हमारी ज़िंदगी का टेम्पलेट है।  यह विंडो 7 या  9 नहीं, यह विंडो ऐसी है कि इस ने अपने आप ही  हमारे कर्मों की निति के अनुसार काम करते रहना है।  बस यहाँ पर कभी कुछ भी डिलीट नहीं होता।  अपलोड सदा ही होगा।  निर्वाण के बाद भी अपलोड होता रहेगा। क्योंकि यहाँ पर डाटा रखने केलिए स्पेस का कोई अंत नहीं। अगर हमारा माल ( हमारे गुण) अच्छा है - तो सदा ही विकता रहेगा।  अवगुण डिलीट नहीं होते ,बस उन के आगे फुलस्टॉप आ जाता है।  सेंटेंस पूरा हो गया। 
हमारी आज की ज़िंदगी हमारी ही अनुभव का नतीजा है।  ज़िंदगी आपने आप में ही तमाम ब्रह्माण्ड है। हमारी ज़िंदगी का WI 5 हमारा होश है जिस का कनेक्शन जुड़ा है हमारे चेतन-रूप से। 

जो मेरे पहले 8 सवाल थे, वो सब हमारे किये हुए कर्मों का डाटा है। जो हमारी ज़िंदगी में आपने आप होता है वो हमारे किये हुए कर्मों का फल है , जैसे माँ-बाप या मुल्क।  वहां पर हम को कोई चॉइस नहीं थी।  यहाँ पर भी हमारे पास चॉइस है, वो सब हमारे नए कर्म हैं।  और कोई कर्म ऐसे हैं कि जिन के बीच हम खड़े हैं, हम को पता नहीं चलता कि हम क्या करें?
ऐसा कर्मा- खेत्र हमारे लिए सब से गहरा महत्त्व रखता है।  क्योंकि हमारा जो भी एक्शन वहां पर होगा , वो हमारा सब से ज़ियादा होश भरा होगा और वो कर्म ही हमारा हथियार बनेगा।  क्योंकि हम उस कर्मा को पूरा करने के लिए बहुत होश से काम ले रहें हैं। मेरे ११ वें  सवाल  पर  ध्यान देना। 
जब हम कभी भी आपने ही लिए हुए डिसिशन को गलत या सही स्वीकार करतें हैं तो  मतलब कि अनजाने में ही हम ने अब तक उस घटना पर भी ध्यान दिया हुआ था। यहाँ पर ध्यान होगा , ज़िंदगी वहां पर ही होगी।  घटना घटी और भूतकाल भी बन गई पर  हम ने अभी  तीक उस घटना को वर्तमान बना के रखा है। यही हमारी हार हो गई। और यह जो ध्यान हम ने इतने साल उस घटना पर ला दिया, वो हमारी ज़िद्दी आदत बन जायेगी। जो अभी तीक हम आपने उसी डिसिशन में चक्र लगाते हैं , वो हमारी आदत को तो बनाता  ही है साथ ही उस आदत से हमारे जिस्म के रसायिनक -तत्त भी बनेगे और उन तत्तों  में ही हमारे रोगों का और हमारी तंदरुस्ती का सब काण्ड छुपा होता है। जो भी हमारे साथ हो रहा है, अच्छा है या बूरा , वो सब हमारे ही होश का चमत्कार है। 
 सम्पूर्ण होश व्यक्ति को जैसे सब समझा देता है, वैसे ही सब से मुक्ति मिल जाती है क्योंकि ज़िंदगी आपने आप में हमारी एक असली ऐसी गुरु है कि खुद को चेला बन के खुद को ही गुरु खोषित करती है 
« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
see you again