AELOLIVE
latest

Do you know that we are a big miracle secret?

Do you know that we are a big miracle secret?
Following the trail of colorful emotions and beautiful divine relationships. Now life Blossoms, beginning to love because it is a vibrant land of love and a beautiful feelings to wander across the heart during the journey of awakening. But here are some of the most stunning moments to witness life in full bloom with divine relationship and divine action like spring...And now thoughts are in bloom

Have we ever listened to anyone? Question 4

Today the next question:
Have we ever listened to anyone?
The saga of life is hidden in the simple question of life, 
not that only religious books describe life.
 Spirituality is hidden in everything in the universe.
 When we come to see that art, 
then we know how stupid we were. Our life is a religious book.
 Our daily living completes this religious book. 
The day we started studying ourselves,
 we will know that every Puran - Quran - Bible is hidden in us all. 
We will start keeping our lives clean.
 Today, as we take care of our religious place, we will clean our own life
Today,
 I see that even deep wonderful parts of the universe
 make me aware of their secrets.
 What do they need, how will I use them, why will I use them, 
or just life gives you information about yourself.
 I do not know anything, I just know
 that today my life has entered even deeper dimensions. 
I am looking at a very beautiful life.
 A scream comes out of the soul to tell everyone
 how much life is beautiful and unique.
When life is understood, time is also recognized.
Today's time, which belongs to all of us, it is taking us to which side, 
when it comes to understanding, then there is a unique feeling of happiness,
 not any fear or slavery.
If I understand this understanding,
 I think about you, have I ever heard anyone talk?
 My answer will be no.
 While I am very good at supporting.
 There are 2 meanings of listening here.
 First - to listen to someone. 
Secondly, to listen to someone, they are also asked to accept the matter.
 What is listening?
Listening is that which is 100% understood in us.
Like I told you let's go!
We 4 people sit together and I said let's go!
One woke up walking to his house
The second asked where to go?
The third said let's go
These three people told us what they understand
To whom do you listen?
What is right listening?
 All of us have always seen that there is often a quarrel in our homes
 when someone says that;
Didn't I say that?
 Didn't you listen
 That I spoke French that you did not understand?
Why didn't you listen well when I spoke?
 Do you not even understand my point now?
 Our quarrels get too much from this, because we do not know how to listen properly.
Listening is the one in which the issue is seen first of all, on which issue we were talking. Second ; Whatever the issue was, we were just listeners or we were partners.
It is only two steps and the third is ours, which we are going to hear. 
What I said is, let's go. Now check these two words, 
the questions of three people and see what is your final answer.
You will be surprised that the answer you got was right, that answer will be wrong.
 When there is so much power in addressing two words, 
we can only imagine how much of a child we are. 
If we come to think of everything deep, then?
These three answers are both wrong and right, so how shall we aim at the right?
When heard right. It is very important to listen correctly. We can distinguish between the people of the house and the neighborhood, but when there is a fight with the people of the house itself? The root cause of 70% of the fight is that we do not know how to listen. Like: We have to keep an eye on two questions to listen, in the same way, at the time of all the conversation, we have not let our mind speak.
 Nobody speaks more than the mind. 
When we hear any conversation in a quiet environment,
 a very unique incident has happened here.
As we go on listening to the conversation, a mysterious incident will start to happen even more. As soon as we started meditating and listening to the conversation, 
we would not even know when and how we got out of mental dimension.
You know that the silent dimension which is the dimension of consciousness.
 We are all spiritual beings, so just have to be conscious of each of our roles.
 We are all religions.
Think that I told someone that please keep eating food for me, otherwise how will I live?
 See I don't die, just eat the food. Now you all say that this
What kind of example is given - this example did not match anything.
If you got this reaction, then this question is of the mind.
If you came across this example, but I do not understand that I did not understand, why not - why did I not like it? This question is of wisdom. Now you start thinking.
I know how this example is - but that's right here.
Just like any person who lives at the spiritual level - this is also the case for that, when someone says how to hear right. Just as we have got teeth and tongue to eat food, similarly we all have ears, eyes, etc., but we are all lazy.
My thinking is that the person who has not yet figured out - one is the most lazy. Leave aside the matter of consciousness. This person has not even used his own mind. This person will use the mind of another.
Now let us go to our question. 
We enrolled in consciousness-form without chanting, yoga meditation. 
Now all of you must have understood the key?
Listen to the conversation carefully. When I meditated, my mind became absorbed. 
Quiet level has come. Quiet level means spiritual level.
 Now our partner is our consciousness, not the mind.
We became witnesses.
 Of which?
We are now witnesses of conversation and consciousness.
 Now even a big miracle will happen.
 When I told you, let's go! When you have to answer, you will feel that I had not said this conversation - you had said it, and now you know what should happen and what will happen next! You will also feel that you had a vision - then you will also feel that it is deja vu. 
You will feel a supernatural power flowing in you.
Listening right is when we hear that its next step in us and the result is clear. You must have heard that the last step is known in the first step itself. This is what it is.
Right thinking, right listening, right step, right speaking starts from here, when we come to hear right.


आज अगला सवाल:
क्या कभी हम ने किसी की बात सुनी है ?
ज़िंदगी के साधारण से सवाल में ज़िंदगी की गाथा छुपी होती है, ऐसे नहीं कि सिर्फ धार्मिक किताबें ही ज़िंदगी को ब्यान करती हैं। ब्रह्मण्ड की हर चीज़ में अधियात्मिक्ता ही छुपी हुई है।  जब हम को वो देखने की कला आ जाती है, तब हम को पता चलता है कि हम कितने मुर्ख थे।
 हमारा जीवन ही एक धार्मिक किताब है। हमारा हर रोज़ का जीना इस धार्मिक किताब को सम्पूर्ण करता है।  जिस दिन हम ने खुद को ही पढ़ना शुरू किया तो पता चलेगा कि हर पुराण- क़ुरान- बाइबिल  सब हमारे में ही छुपा हुआ है।  हम आपने ही जीवन को साफ़ -सुथरा रखना शुरू कर देंगे। आज जैसे हम अपनी धार्मिक जगह की संभाल करतें हैं , वैसे ही हम खुद के जीने को साफ़ करेंगे
मैं आज देखती हूँ कि ,
 मेरे को ब्रह्माण्ड के ओर भी गहरे अद्भुत हिस्से अपने राज़ से वाकिफ करवातें हैं। 
 उन की क्या ज़रुरत है, मैं उन को कैसे इस्तेमाल करूंगी, क्यों करूंगी, 
या सिर्फ जीवन आपने आप की जानकारी ही देता है।
  मैं कुछ नहीं जानती, बस यह जानती हूँ कि आज मेरा जीना ओर भी गहरे डायमेंशन में प्रवेश कर गया।
  बहुत ही खूबसूरत जीवन को देख रही हूँ।  रूह में से चीक भी निकलती है 
कि चीक चीक के सब को बता दूँ कि जीवन कितना सूंदर और अनूठा है।
जब जीवन का समझ आती है तो वक़्त की भी पहचान आ जाती है। 
आज का वक़्त, जो हम सब का है , यह हम को किस ओर ले के जा रहा है, 
इस की समझ जब आती है तो एक अनोखी ख़ुशी का अहसास ही होता है,
 किसी डर या गुलामी का नहीं।
अगर इस समझ को समझ कर मैं आपने आप के बारे में सोचूँ कि क्या मैंने कभी किसी की कोई बात सुनी है ? मेरा जवाब नहीं में ही होगा।  जब कि मैं साथ देने में बहुत ही अच्छी हूँ। 
 यहाँ पर बात सुनने के २ मतलब हैं।  पहला - किसी की बात को सुनना।
  दूसरा -किसी को बात को सुनना, इस लिए भी कहतें हैं कि बात को मान लेना।
 सुनना क्या होता है?
सुनना वो होता है जिस की १००% समझ हम में आ जाए।
जैसे कि मैंने आप से कहा कि चलो चलते हैं !
हम ४ लोग साथ बैठें हैं और मैंने कहा कि चलो चलते हैं !
एक उठा अपने घर को चल पड़ा
दूसरा ने पूछा कि कहाँ चलना है ?
तीसरे ने कहा कि चलो चलिए
इन तीन लोगो ने हम को यह बता दिया कि उन की समझ क्या है
सुनना किस को कहतें हैं ?
सही सुनना क्या होता है ?
 हम सब ने सदा देखा है कि हम सब के घरबार में अक्सर झगड़ा इस बात पर ज़ियादा होता है
 कि जब कोई यह कहता है कि ;
मैंने तो यह कहा ही नहीं था ?
 क्या आप ने सुना नहीं था ?
 कि मैंने कोई फ्रेंच  बोली थी कि आप को समझ नहीं आई ?
जब मैंने बोलै था तो आप ने  अच्छी तरह सुना क्यों नहीं था ?
 क्या अब मेरी बात की भी समझ नहीं आती ?
 हमारे झगडे इस बात से बहुत ज़्यादा होतें हैं , क्योंकि हम को सही सुनना नहीं आता।
सुनना वो होता है , जिस में सब से पहले मुद्दा देखा जाता है कि हम किस मुद्दे  पर बात कर रहे थे।
 दूसरा ; जो भी मुद्दा था, हम सिर्फ सुनने वाले थे या हम भी हिस्सेदार थे।  
यह सिर्फ दो कदम  और तीसरा  हमारा होता है , जो हम सुनने वाले होतें हैं।  मैंने जो यह कहा कि चलो चलते हैं।  इस दो लफ़्ज़ों को अब आप तीन लोगों के सवालों को परखो और देखो कि आप का फाइनल जवाब क्या होता है ?
आप हैरान हो जाओगे कि आप को जो जवाब सही लगा ,वोही जवाब गलत लगेगा।  जब  दो लफ़्ज़ों के सम्बोधन में इतनी ताकत है तो हम सोच ही सकतें हैं कि हम कितनी बाल-बुद्धि के जीव हैं।
अगर हम को हर चीज़ को गहरे तक विचारना आ जाए, तो
यह तीनों जवाब गलत भी हैं और सही भी हैं , तो हम बिलकुल सही पर कैसे निशाना लगाएंगे ?
जब सही सुना होगा। सही सुनना बहुत ज़रूरी है। हम घर के और पड़ोस के लोगों में फ़र्क़ कर सकतें हैं , पर जब घर के लोगों के साथ ही झगड़ा हो तो ? झगडे की  ७०% जड़ यही है कि हम को सुनना नहीं आता। जैसे : सुनने के लिए दो सवालों पर नज़र रखनी है वैसे ही सब वार्तालाप के वक़्त हम ने अपने मन को भी बोलने नहीं देना। मन से ज़्यादा ओर कोई भी नहीं बोलता।  जब हम चुप के माहौल में से कोई भी वार्तालाप सुनेंगे 
तो यहाँ पर एक बहुत ही अनोखी घटना ने घट जाना है। 
जैसे जैसे हम वार्तालाप सुनते जाएंगे, वहीँ पर एक रह्सयमई घटना ओर भी घटने लगेगी। 
 जैसे ही हमने ध्यान लगा कर वार्तालाप को सुनना शुरू किया तो हम को पता भी नहीं चलेगा 
कि हम कब और कैसे मानसिक डायमेंशन में से निकल गए ?
आप को पता है कि जो चुप डायमेंशन है यह चेतना-रूप का डायमेंशन है।  हम सब है ही आध्यत्मिक-जीव , तो सिर्फ अपनी हर किर्या के प्रति होशमंद रहना है।  हम सब धर्म हीं हैं। 
ऐसा सोचो कि मैंने किसी को यह कहा कि प्लीज मेरे लिए खाना खाते रहना, नहीं तो मैं कैसे जीऊँगी? देखना मैं मर न जाऊँ, बस खाना खा लेना।  अब आप सब कहोगे कि यह
कैसी उदारहण दी है - यह उदाहरण कुछ जची नहीं। 
अगर आप ने यही reaction आया, तो यह सवाल मन का है। 
अगर आप में यह आया कि उदारहण दी है, पर मेरे को समझ में नहीं आता कि मेरे को समझ नहीं आई,  क्यों नहीं - मेरे को पसंद क्यों नहीं आई ? यह सवाल बुद्धिमानी का है। अब आप विचारना शुरू करोगे। 
मुझे पता है कि यह उदाहरण कैसी है - पर यहाँ पर यही ठीक है। 
ऐसे ही जब कोई भी व्यक्ति आत्मिक-लेवल पर जीता है - उस के लिए यह बात भी कुछ ऐसी ही है, जब कोई यह कहता है कि कैसे सही सुना जाता है। जैसे हम को खाना खाने केलिए दांत और ज़ुबान मिली है वैसे ही हम को कान, आँख, आदि  सब हमारे पास हैं,  पर हम सब आलसी हैं। 
मेरी सोच यह है कि जिस व्यक्ति को अभी तक विचारना ही नहीं आया - वो सब से बड़ा आलसी है। चेतना की तो बात ही छोड़ो। इस व्यक्ति ने अभी तक खुद के मन को भी नहीं उपयोग किया।
 यह व्यक्ति दूसरे के मन का ही उपयोग करता होगा।  
अब हम अपने सवाल की ओर चलते हैं।  हम ने बिना जप तप , 
योग मैडिटेशन के ही चेतना-रूप में दाख़िला ले लिया।
अब आप सब को चाबी की समझ आ गई होगी ?
वर्तालाप को ध्यान से सुनना है।
 ध्यान आया तो मन लीन हो गया। चुप लेवल आ गया।  
चुप लेवल मतलब कि आत्मिक लेवल। अब हमारा साथी हमारी चेतना है, मन नहीं। 
हम गवाह बन गए। 
 किस के ? 
वार्तालाप और चेतना के अब हम गवाह हैं। 
 अब एक ओर  भी बड़ा चमत्कार होगा। 

जब आप को मैं कहूँ गई कि चलो चलते हैं! आप ने जब जवाब देना है ,आप को लगेगा कि यह वार्तालाप मैंने नहीं कही थी - आप ने ही कही थी, और अब आप जानते हो कि  क्या होना चाहिए और  फिर आगे भी क्या होगा! आप को यह भी लगेगा कि आप को विज़न आई थी-
 फिर आप को यह भी लगेगा कि यह तो deja vu है। 
आप आपने आप में एक
अलौकिक शक्ति का प्रवाह बहता महसूस होगा। 
सही सुनना वो होता है, 
जब हम सुनते हैं हमारे में उस का अगला कदम और आगे का नतीजा सब साफ़ होता है। आप सब ने यह सुना ही होगा कि पहले कदम में ही आखरी कदम का पता चल जाता है।
 यह जो है यह वोही है। 
सही सोच, सही सुनना , सही कदम , सही बोलना यहाँ से शुरू होता है ,जब हम  को सही सुनना आ जाता है। 


« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
see you again