AELOLIVE
latest

My Profession is to always find God in Nature

My Profession is to always find God in Nature
What I knew was that the silence blossomed the heart. When the heart blossomed, there was a feeling of love. The romance started with me. When my romantic-mind took all my stress from me all the time, I could not know. I who I am, I am unknown, today I remembered Buddha in unknown happiness

Game of Death

Whatever the epidemic, 
whether it is a storm or a disease, 
it depends on the situation and environment. 
Nothing ever happens in life in a senseless
 and meaningless way.

Game of Death: It is not today, I have seen it since childhood. Whenever someone dies alone, we accept death simply as a common part, but what we call an epidemic, when many people die together, we panic. The world is the playground of death. Today, not a player, more players will be out together, so there is a panic in us, that we will also be out of this game.
I had heard the story of a faqir in my childhood.

There was a faqir who went somewhere for satsang. There was a satsang here, people were sitting, listening to the satsang, then a sudden earthquake occurred and everyone started running. Someone saw that the fakir is sitting there comfortably. Someone asked me, are you afraid of death? Faqir ( saint ) said. "No, what to fear from that which has to come when it has to come." My escape will not stop my death, so why, should I lose my last time in running, why would I not live in the memory of God?''
 Now the story ahead of this, today I tell you. 
Today when I opened the computer in the morning, I looked at that part of Google, here was information about coronavirus-USA (COVID-19).
I want to say the very truth.
 Faqir's faith was inscribed and the people who came to listen had nothing to believe.
 The common man just thinks that I trust God, it is just an illusion of thinking. If a person does not trust own- self, how will one trust God? Whether one visits temples, mosques and churches everyday. Whether praying daily or reciting or worshiping. All this is a part of everyday life, no character is trusted in this.
 Today an epidemic is beginning all around us, just as there was a plague in India in 1918, my grandfather was left alone, the rest of the family died. Grandfather's age was less than 10 years.
Yesterday, 8400 new cases arrived in California. All business is closing again. We are all afraid too, but we also do not like that we feel incarcerated. Both are death.
What is the power in life that works more than everything.
 That is trust.
Tips for corona virus:
Look at your trust:
If there is trust in God, then there will be no wheezing, if the question also arises in the mind then it is a panic, then we will not leave ourselves on God.
Panic means that trust is not complete, so now we have to save.
There can be endless answers to this, the most important thing is that if there is panic, then confess and save yourself.
Examples :
Suppose I have full faith in God and I am not nervous, so I can go freely among people, because I do not fear death. This is me To go among the public, I have to follow the same discipline as the public. If I am not afraid, it does not mean that I will not obey the law either. My trust is mine, it is for me, so I cannot leave my limits and enter into another's house in the same way, I have to give respect to the other, which I give to my confidence.
What is an epidemic?
 The simple answer, the disease that kills many humans at once, means 'contagious disease', the disease that gets from one to the other.
There is a disease which we can say that individual disease, whichever disease becomes epidemic, is a group disease.
Just understand my point carefully:
 When I did not take care of myself, my ill-health made my body sick, when we did not take care of the surroundings, then the disease that will arise, will cause such a disease, which is the victim of all of us. Will do.
If we have anger then what is the reason for anger?
 Anger: What nature is it and who do we get it from?
By fire and air.
how ?
 What is the temperature of fire?
Say, 50 degrees
This is my temperature
What is the wind speed?
 Say, 70 miles per hour
This is my own nature temperature
 And this is my speed of understanding.
(How to watch and keep going www. Aelolive.com)
The root of our disease is our stressful state and condition.
Our anger comes at number 2.
 Just as our demerits become the cause of our disease, similarly we all have an environment, how close we are and how far we are in that environment will have an effect. Just like astrology tells us. And we will fall prey to the disease.
How do we escape?
The first and the most important step is that we have to keep our mind healthy.
How can I keep it?
 You have understood the situation and condition by knowing it. For us there is no doctor bigger than us and no guru. I am the best doctor and also a teacher for me.
We have to teach ourselves the same thing that we have to go anywhere, we will reach the destination only if we walk. Whether our destination is the World or God.

Now what is the condition of the faqir ( saint) and what is the situation?
His condition is God and the position is God. Whether he got the destination or not yet, But he lives completely in a devoted spirit. So he does not even agree, he knows that if death has to come then it has to come.. Whatever be the situation - the faqir will remain the same. It seems to me that I will be saved. This question has come up because we can survive, because we have the mind. If there is a mind then there is a choice. Faqir does not have a choice. Faqir's choice is over because dedication is the last choice and the greatest knowledge and the deepest quality is the dedication.



*****——*****

महामारी कोई भी हो, तूफ़ान बने या रोग बने, 
हालात और माहौल के मुताबिक ही आती है।
ज़िंदगी में कभी भी फालतू और बेमतलब से कुछ होता नहीं। 
मौत का खेल: यह कोई आज का नहीं , मैंने तो बचपन से यही देखा है।  जब भी कोई अकेला मरता है तो हम मौत को बस आम हिस्सा समझ के कबूल करतें हैं पर जिस को हम महामारी कहतें हैं, जब बहुत लोग एक साथ मरते  हैं तो हम घबरातें हैं।  संसार है ही मौत का खेल का मैदान।  आज एक खिड़ारी नहीं श्याद ज़्यादा  खिड़ारी एक साथ आउट होंगे ,इस लिए हम में एक घबराहट है, कि श्याद हम भी इस खेल से आउट हो जाएंगे। 
मैंने बचपन में एक किसी फ़क़ीर की कहानी सुनी थी।  

एक फ़क़ीर था, जो सत्संग के लिए कहीं गया था।  यहाँ पर सत्संग था, लोग बैठे थे , सत्संग सुन रहे थे, तो अचानक भूचाल आ गया और सब ने दौड़ना शुरू कर दिया।  किसी ने देखा कि वो फ़क़ीर वहां पर आराम से बैठा है। किसी ने जा के फ़क़ीर से पुछा कि क्या आप को मौत से डर नहीं लगता ? फ़क़ीर ने कहा.''नहीं, उस चीज़ से क्या डरना ,जिस ने जब आना है, आ ही जाना है। मेरे भागने से मेरी मौत रुकेगी नहीं, तो क्यों, मैं अब खुद के आखरी वक़्त भागने में गवा दू, क्यों नहीं मैं खुदा की याद में रहता। ''
अब इस के आगे की कहानी, आज मैं आप को कहती हूँ।  आज जब मैंने सुबह को कंप्यूटर  को खोला तो मेरी गूगल के उस हिस्से पर नज़र गई , यहाँ पर coronavirus- usa (COVID-19) के बारे में जानकारी थी। 
बहुत सच्ची बात कहना चाहती हूँ। 
 फ़क़ीर का भरोसा खुदा था और जो लोग सुनने आये थे उन का भरोसा कुछ भी नहीं था।  
 आम इंसान सिर्फ सोचता है कि मैं खुदा पर भरोसा करता हूँ , यह सिर्फ एक सोच का भरम है।  इंसान को तो खुद पर ही भरोसा नहीं, तो वो कैसे खुदा पर भरोसा करेगा ? चाहे हर रोज़ मंदिर, मस्जिद और चर्च  में जाता हो।  चाहे हर रोज़ नमाज़ पड़े या पाठ करे या पूजा करे।  यह सब रोज़-मरा की ज़िंदगी का हिस्सा है , इस में कोई भी किरदार भरोसे का नहीं है।  
 आज हमारे चारो तरफ एक महामारी की शुरूआत हो रही है, जैसे 1918 में इंडिया में प्लेग हुई थी, मेरा दादा अकेला बचा था, बाकी सब परिवार की डेथ हो गई थी। दादा की आयु10 साल से कम ही थी।  
कल कैलिफ़ोर्निया में 8400  नए केसेस आये हैं। फिर से सब काम-धंधा बंद हो रहा है।  हम सब डरतें भी हैं , पर हम को यह भी पसंद नहीं कि हम क़ैद महसूस करें।  दोनों ही मौत है। 
ज़िंदगी में कौन सी ऐसी शक्ति है, जो सब से ज़्यादा काम करती है। 
 वो है भरोसा। 
कोरोना वायरस के लिए टिप्स :
आपने भरोसे की ओर देखो :
अगर खुदा पर भरोसा है तो घरबराहट होगी ही नहीं , अगर सवाल भी मन में पैदा हुआ तो वो घबरात ही है , फिर हम खुद को खुदा पर नहीं छोड़ेंगे। 
घबराहट का  मतलब यही है कि भरोसा पूरा नहीं, सो अब हम को बचा करना है।  
इस के अनंत जवाब हो सकतें हैं, सब से ज़रूरी यही है  कि  अगर  घबराहट हुई है  तो कबूल  करो और आपने आप का बचा करो।
उदाहरण :
मान लो कि मेरे को खुदा पर पूरा भरोसा है और मेरे में घबराहट है ही नहीं , सो मैंने आराम से लोगों के बीच जा सकती हूँ, क्योंकि मुझे मौत का भी डर नहीं। यह  मैं हूँ।  पब्लिक के बीच जाने के लिए मुझे पब्लिक जैसा ही अनुशाशन मान कर जाना होगा। अगर मैं नहीं डरती, इस का मतलब यह नहीं कि मैं कानून को भी नहीं मानूंगी। मेरा भरोसा मेरा है , मेरे लिए है , सो अपनी हद को छोड़ कर दूसरे के घर में वैसे ही घुस नहीं सकती , मेरे को दूसरे को वोही इज़्जत देनी पड़ेगी, जो मैं  खुद के भरोसे को देती हूँ।  
महामारी क्या है ?
 सीधा सा जवाब, वो रोग जो बहुत इंसानों को एक साथ मार दे, मतलब कि 'छूत का रोग ',  वो रोग जो एक  से दूसरे को हो जाता है।  
एक वो रोग होता है जिस को हम कह सकतें हैं कि व्यक्तिगत रोग ,जो भी रोग महामारी बनता है, वो रोग समूहगत रोग होता है। 
ज़रा ध्यान से मेरी बात को समझना :
 जब मैंने खुद का ख्याल नहीं रखा तो मेरी इस बे-ख़याली ने मेरे जिस्म को रोगी बना दिया, जब हम ने आपने आस-पास  का ख्याल नहीं किया तो जो रोग पैदा होगा ,वो ऐसा ही रोग पैदा होगा, जो हम सब का शिकार करेगा।  
अगर हमारे में क्रोध है तो क्रोध की कारण क्या है ?
 क्रोध : किस स्वभाव का है और यह हम को किस से मिलता  है,?
आग और हवा से। 
कैसे ?
 आग का तापमान कितना है ?
मान लो , ५० डिग्री 
यह तापमान मेरी समझ का है 
हवा की रफ़्तार कितनी है ?
 मान लो , 70 माइल्स प्रति घंटा  
मेरी खुद  की  नेचर का तापमान है यह
 और यह मेरी समझ की गति है। 
( कैसे  देखते रहना और पड़ते रहना  www. aelolive.com )
हमारे रोग की जड़ है, हमारी तनाव भरी अवस्था और स्थिति।
2nd नंबर पर हमारा क्रोध आता है।
 जैसे हमारे अवगुण हमारे रोग का कारण बन जाते हैं, वैसे ही हम सब का भी एक माहौल होता है, हम उस माहौल में कितने नज़दीक हैं और कितनी दूरी पर हैं , उस का प्रभाव पड़ेगा ही।  बिलकुल वैसे ही जैसे ज्योतिष -विद्या हम को कहती है। और हम महारोग का शिकार हो जाएंगे।
हम ने बचना कैसे है ?
सब से पहला और सब से ज़रूरी एक ही कदम है कि हम को आपने मन को तंदरुस्त रखना है। 
कैसे रख सकतें हैं ?
 आपने हालात और हालत को देख कर समझ कर जान कर के। हमारे  लिए हम से बड़ा कोई भी डॉक्टर नहीं और कोई भी गुरु नहीं। मैं मेरे लिए ही सब से अच्छा डॉक्टर भी हूँ और गुरु भी हूं। 
हम को अपने आप को एक ही सीख देनी है कि कहीं पर भी जाना हो, हम तो ही मंज़िल पर पुहंचेगे, अगर हम चलेंगे। चाहे हमारी मंज़िल संसार है या रब्ब है। 
अब फ़क़ीर की क्या अवस्था है और क्या स्थिति है ?

उस की अवस्था रब्ब है और स्थिति रब्ब है।  चाहे उस को मंज़िल मिली या अभी नहीं मिली, पर वो सम्पूर्णता से समर्पित-भाव में जीता है। सो वो मानता ही नहीं,जानता भी है कि मौत ने आना है तो आना ही है।  कैसी भी स्थिति हो- फ़क़ीर का भाव एक ही रहेगा।  हमारे में ख्याल आता है कि शयद मैं बच जाऊँगा।  यह सवाल आया ही इस लिए है कि हम बच भी सकतें हैं, क्योंकि हमारे पास मन है।  मन है तो choice है।  फ़क़ीर के पास choice नहीं है। फ़क़ीर की choice ख़त्म हो गई  क्योंकि समर्पित-भाव आखरी choice है और सब से बड़ा ज्ञान और सब से गहरा गुण समर्पित-भाव ही है।   

« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
see you again