AELOLIVE
latest

My Profession is to always find God in Nature

My Profession is to always find God in Nature
What I knew was that the silence blossomed the heart. When the heart blossomed, there was a feeling of love. The romance started with me. When my romantic-mind took all my stress from me all the time, I could not know. I who I am, I am unknown, today I remembered Buddha in unknown happiness

Death is a thought



The first death I saw, at that time, I was 5 years old and whose mother was next to our house, whose mother died. It was the month of May, and everyone was waiting for someone for his last rite, so that mother had to be kept at home at night, so the corpse was kept in ice. White clothes of all the people of the house were found. My heart did not like to get away from that environment. I could not understand what I felt in that environment. Avoiding the eyes of the people of the house, I would return to the same place. Even today, I know about my heart condition, how was my inner environment? Why I loved the atmosphere of death, why I wanted to stay there, I did not know at that time, but today I know.
I saw many people coming and going, and I know that I spent the most time there. This was the first death I saw and felt the first death environment. Saw a lot of death after that. Saw people on their last trip. Whenever a dead person was taken to the graveyard, I would go to this terrace and watch it until they were visible to me.
Death and me
This is a great addition.
Today when I went for a walk in the morning, a bird came to me and fell. She wanted to fly, could not fly, so I picked up the bird with a scarf. I was feeling very hungry and thirsty, so according to my understanding, first I took the name of God on his head and massaged it with my hands and then gave the bird a first drop of water. When the bird took the drops of water inside, I again started massaging her head with my fingers. The bus died in 5 minutes.
How thirsty, the watery yearning of the bird was so deep that God had to fulfill his desire for water before death. When I pressed the bird into the ground, now I came again in my position.
The question was standing before me sir
 "Solve the question, beg me for the answer"
Today the question was in the form of a beggar.
Today this question came with a very good feeling.
The question is
What happened to me that there was a desire in me that whenever I die, I should win and smile in me?
For me, that mother died in the neighborhood was the first incident of death. Who never forgets me. People always say that the person never forgets your first love, and I never forgot that death. Was death. The last page of a chapter in all of our lives. That death engulfs my heart. The grandson of that elderly woman, had studied with me till the fifth class and I always saw the boy with tender gentleness, because his grandmother's death was very good to me and I had never forgotten.
The question still stands on why.
Death?
Life
I want to feel victory at the time of death. How will I do it? What should happen in life that a person must win death?
Death is victory
I should not feel sorry at the time of death
  Death be my smile
How, and why do I think so?
Two questions are ahead of me.
  One - I should not have any regrets at the time of death?
Second - Why do I want this?
Death is a thought.
 We will say that this is not the idea, it is the reality.
Death:
To understand that death is an idea, we have to experiment on ourselves in a laboratory. The laboratory is just a state of deep sensation in deep silence. The experiment is that we have to get out of our own body.
When I can get out of my body, who has died. If even a person in the world can get out of body then we all have that ability. If I can get out of my own body, then what will I think of my own body for me?
 Death was my way of life.
I traveled only on death.
What did death bring me to learn in life?
Why was I addicted to death?
 Let's go back again, to the incident when I first saw death.

A beautiful woman of 5 feet is lying on ice and her clothes are also white, so is her skin-color. Hair also white. The main gate is open. And I'm standing on one side near the main-gate. It is summer. I like the cold steam coming from the ice. I see that whatever is there, I like everything. While my cousins ​​and sisters are all inside the house, they do not come out of the house. In all I have seen a fear. We had a joint family and everyone was very busy. So I had a kind of freedom that I could see everything with an independent mind.
There was a lot of quarrel in our family. And I was always going to see - think that what is written in the Vedas, see life from the process of 'neti neti'. Meaning that look at every part of life and know that 'I don't do this, not this either'.
And after seeing every member of the house, I always said, 'I don't do this, not this either'. Just like I do not like the bitterness of my mother, I do not like the sweetness of the father. What benefit of that quality, which causes our pain. My thinking just rejected everyone's character. The biggest weakness of the house was that everyone quarreled. The question in me was, why is this fight going on? Shouldn't it be?
Now there was a dead person in front of me - about whom I had heard wrong and heard right. When she was dead, how did everyone take care of her, she was very loving to me. What I wanted to see in the world was visible to me in an atmosphere of death. A care, together, monotony, calm and relaxed gait, not only of white clothes, but I also saw the mind of them all white. The only thing I could not feel good about in such beauty, was the cry of them all. Even if there is no crying? It remained a question in me. 'Fight and cry' seemed to me to be the same, they were just useless.

I had found the atmosphere of my choice, in a death environment.
What was not liked was the crying of all.
 Why are we crying yes?
Well, we have lost a person, we will never get that again, I believe this thing, then how good the atmosphere is, how everyone is one, this cry was a black spot on that environment, so that spots How to delete
Something is wrong that everybody is coming to a good level of mind but weeping, that was my question?
Something like this:
 Something is wrong that everyone has got life, but they fight, why?
Even today, when there is a big accident anywhere in the world, not only every person but every community becomes one. Not just every state, every country becomes one.
 Well, we are united in times of trouble, should we not be one in our common life?
In normal life, how do we do bad things sometimes for religion, sometimes for money? Shouldn't the common life of all of us look like we live in times of trouble?
Is it not because of this that we all want to be in trouble, and we do not even know what we get in trouble? And we are unaware but all this is in our consciousness?
Because our consciousness awakens in trouble means that our level of consciousness increases.
This means that we are all monks. And the world is actually death-world. Our life here is not life, it is death. In the atmosphere of death, we get a feeling of life. And we get a feeling of life at the time when any accident happens. When all of us humans are together, then how do all our differences end? The atmosphere of such death relaxes our mind because at that time there are no differences in our mind.
There is no fight in real life. The quarrel is the discovery of the mind. Quarreling is the karma of the world. Quarrel is a relative of death. It means that we all consider death as life and we have seen the glimpse of life only when we face a great deal of trouble.
Cry or fight:
Every part of life itself is positive and negative.

I see that dead elderly woman. I have never seen a beautiful person like that, like I had found that dead woman, why did I feel this and how did I remember that she was beautiful to me?
I used to study in second class. My cousin was born in our house. But after birth, he was admitted to the hospital, and my mother stayed in the hospital for 6 weeks with that child. Mother entered the house with that dead child. I saw that child's face. That child was so beautiful that after seeing that beauty, I remembered this elderly woman, how beautiful she also looked.
I never forgot anything I remember every incident in my life. I don't remember just one incident, of my being born. As my life is going today, I have to see those moments too.

Now the answer to my question is how will I live the moment of death with a smile?
If I lived life like it should?
How that
When I according to my own nature, I will live every moment fully knowing, understanding and accepting.
Whether positive or negative
 There will be no difference.
Most important of all is to be conscious. Then the moment of my death will also smile with me, because the moment of death is also the moment of life, the moment that will start my next chapter.




मैंने जो पहली मौत देखी थी, उस वक़्त मेरी आयु ५ साल की थी और हमारे घर के आगे ही जिन का घर था, उन की माँ की मौत हुई थी। मई का महीना था, और उस की आखरी रीत  के लिए सब किसी का इंतज़ार कर रहे थे, सो उस माँ को रात को घर पर ही रखना था, सो उस लाश को आइस में रखा हुआ था। घर के सब लोगों के  सफ़ेद कपड़े पाए हुए थे। मेरा उस माहौल से दूर होने को दिल ही नहीं करता था।  उस माहौल में मेरे को क्या अच्छा लग रहा था, मेरी समझ में आता ही नहीं था। घर के लोगों की नज़र से बच कर मैं फिर वहीँ पर आ जाती।  आज भी मेरे को मेरे दिल की हालत का पता है कि मेरे भीतर का माहौल कैसा था ? मेरे को क्यों मौत का माहौल अच्छा लग रहा था, मैं क्यों वहीँ पर रुकना चाहती थी, मेरे को उस वक़्त नहीं पता था, पर आज पता है। 
मैंने बहुत से लोगों को आते देखा और जाते देखा, और मैं जानती हूँ कि सब से ज़्यादा वक़्त मैंने ही वहां पर बातीत किया था। यह मैं जो पहली मौत देखि थी और पहला मौत का माहौल महसूस किया था।  उस के बाद बहुत मौत देखी।  लोगों को उनकी आखरी-यात्रा करते देखा।  जब भी किसी मुर्दे व्यक्ति को कब्रस्थान में लेके जाते तो मैं  छत पर चले जाना और उस वक़्त तक देखना,जब तक वो मेरे को दिखाई देते थे।
मौत और मैं 
यह बहुत ही अच्छा जोड़ा है। 
आज जब मैं सुबह को सैर केलिए गई तो  एक चिड़ी मेरे पास आ कर गिरी।  वो उड़ना चाहती थी, उड़ नहीं सकी, तो मैंने दुपटे से चिड़ी को उठाया।  बहुत भूखी और प्यासी प्रतीत हो रही थी , सो अपनी समझ के अनुसार पहले मैंने उस के सर पर खुदा का नाम ले के आपने हाथों से मसाज़ किया और फिर पहले पानी की बूंदे चिड़िया को पिलाई।  चिड़िया ने पानी की बूंदों को भीतर लिया, तो मैं फिर से उस के सर पर अपनी उन्गलों से मसाज़ करने लगी।  बस ५ मिनट्स में ही मर गई।  
कितनी प्यासी थी, शयद चिड़िया की पानी की तड़प इतनी गहरी थी कि खुदा ने मौत से पहले उस  की पानी की चाहना को पूरा करना था।  जब मैंने चिड़िया तो ज़मीन में दबा दिया तो अब आई मैं फिर अपनी औकात में। 

सवाल साहिब मेरे आगे सर झुका कर खड़े थे कि
 '' सवाल को हल करके, जवाब की मुझ को भीख दे दो ''
आज सवाल भिखारी के रूप में था। 
आज यह सवाल बहुत ही अच्छी भावना के साथ आया था। 
सवाल यह है कि 
मेरे साथ ऐसी कौन सी घटना घटी थी कि मेरे में यह चाहना पैदा हुई थी कि जब भी मैं मरूंगी तो उस वक़्त मेरे में जीत होनी चाहिए और मेरे में मुस्कान होनी चाहिए ?
मेरे लिए पड़ोस में मरी वो माँ, मौत की पहली घटना थी। जो मेरे को कभी नहीं भूलती।  लोग सदा कहतें हैं कि व्यक्ति आपने पहला प्यार कभी नहीं भूलता, और मैंने वो मौत कभी नहीं भूली।  मौत थी।  हम सब की ज़िंदगी के एक चैप्टर का आखरी पेज।  वो मौत ,मेरे दिल में समाई हुई है। उस बज़ुर्ग औरत का पोता ,मेरे साथ पांचवी क्लास तक पढ़ा था और मैंने उस लड़के को सदा ही कोमल रीझ से देखा, क्योंकि उस की दादी की मौत मेरे को बहुत अच्छी लगी थी और मैं कभी भूली नहीं थी। 
सवाल अब भी खड़ा है क्यों पर। 
मौत?
ज़िंदगी?
मौत के वक़्त जीत महसूस करना चाहती हूँ. कैसे करूंगी ? ऐसा क्या होना चाहिए ज़िंदगी में कि इंसान को मौत जीत लगनी ही चाहिए ?
मौत को जीत बनाना है 
मौत के वक़्त मेरे में कोई अफ़सोस नहीं होना चाहिए 
 मौत मेरी मुस्कान हो 
कैसे, और क्यों मैं ऐसा सोचती हूँ ?
दो सवाल मेरे आगे हैं। 
 एक - मौत के वक़्त कोई भी अफ़सोस मेरे में नहीं होना चाहिए ?
दूसरा - यह मैं क्यों चाहती हूँ ?
मौत एक विचार है। 
 हम कहेंगे कि यह विचार नहीं, असलियत है। 
मौत:
मौत एक विचार है यह समझने केलिए हम को  एक प्रयोगशाला में खुद पर प्रयोग करना पड़ेगा।  प्रयोगशाला है सिर्फ एक है गहरी साइलेंस में गहरी होशमंदी की अवस्था।  प्रयोग है  कि हम ने अपने ही जिस्म से बाहर होना है। 
जब मैं अपने जिस्म से बाहर हो सकती हूँ तो मौत किस की हुई।  अगर संसार में एक इंसान भी जिस्म से बाहर हो सकता है तो हम सब में भी वो योगिता है।  अगर मैं खुद की ही body  से बाहर हो सकती हूँ तो मेरी ही body को मैं मेरे लिए क्या समझूंगी  ?
 मेरी ज़िंदगी की राह थी मौत। 
मौत पर ही मेरी यात्रा हुई। 
मौत मेरे को क्या सीखाने के लिए ज़िंदगी में लेके आई ?
मैं क्यों मौत की दीवानी रही ?
 चलो अब फिर चलते हैं , उस घटना में जब मैंने पहली मौत देखी थी।  

५ फ़ीट की एक सूंदर सी औरत आइस पर लेटी हुई है और उस के कपडे भी सफ़ेद हैं , वैसा ही उस की स्किन-कलर है।  बाल भी सफ़ेद। main  गेट खुला हुआ है।  और मैं main-गेट के पास ही एक साइड पर खड़ी हूँ।  गर्मी का मौसम है। आइस में से आती ठंडी सी भाप मेरे को अच्छी लगती है।  मैं देखती हूँ कि वहां पर जो भी है, मेरे को सब अच्छा लगता है।  जब कि मेरे चचेरे भाई-बहिन सब घर के भीतर हैं, वो सब घर से बाहर नहीं आते। सब में मैंने एक डर देखा है। हमारा संयुक्त परिवार था  और  सब बहुत बिजी थे।  सो मेरे को एक तरह की आज़ादी थी कि मैं आज़ाद मन से सब कुछ देख सकती थी।  
हमारे परिवार में झगड़ा बहुत होता था। और मैं सदा देखने वाली ही होती थी- ऐसे सोचो कि वेदों में जो लिखा है कि ज़िंदगी को 'नेति नेति ' की प्रकिर्या से देखो।  मतलब कि ज़िंदगी के हर हिस्से को देखो और जानो कि 'मैं यह भी नहीं, यह भी नहीं '.
और घर के हर मेंबर को देख कर मैंने  सदा यही कहा कि 'मैं यह भी नहीं, यह भी नहीं '. जैसे मेरे को मेरी माँ  का कड़वापन पसंद नहीं तो बाप का मीठापन पसंद नहीं।  उस गुण का क्या फाइदा, जो हमारे दर्द का कारण बने।  बस  मेरी सोच सब के  किरदार को रिजेक्ट करती गई।  सब से बड़ी कमज़ोरी घर की यह थी कि सब झगड़ा करते थे।  मेरे में सवाल यह था कि यह झगड़ा होता ही क्यों हैं ? होना ही नहीं चाहिए ?
अब मेरे आगे एक मरा हुआ इंसान पड़ा था - जिस के बारे में मैंने गलत भी सुना था और ठीक भी सुना था।  जब वो मर ही गई तो सब उस का कैसे ख्याल रखतें हैं, वो मेरे को बहुत प्यारा लग रहा था। जो मैंने संसार में देखना चाहा, वो मुझ को दिखाई दे रहा था एक मौत के माहौल में। एक परवाह , एक साथ , एकाभाव, शांत और रिलैक्स चाल , सफ़ेदगी कपड़ों की ही नहीं, मेरे को उन सब का मन भी सफ़ेद दिखाई देता था।  इतनी सुंदरता में सिर्फ एक चीज़ मेरे को अच्छी नहीं लग रही थी, वोह था उन सब का रोना।  अगर रोना भी न हो, तो ? यह मेरे में सवाल रह गया। 'लड़ाई और रोना' यह दोनों मेरे को एक जैसे लगे, बस फालतू से थे।  
मेरे को मेरी पसंद का माहौल मिला था, एक मौत के माहौल में। 
जो चीज़ पसंद नहीं थी , वो था सब का रोना। 
 रोते हम क्यों हाँ ?
ठीक है कि हम ने एक इंसान को खो दिया , वो हम को फिर कभी नहीं मिलेगा, मानती हूँ यह बात, तो कितना  अच्छा माहौल कि कैसे सब एक हैं, यह जो रोना था, वो उस माहौल पर काला धब्बा था , सो उस धब्बे को कैसे मिटाया जाए ?
कुछ तो गलत है कि सब लोग मन के एक अच्छे लेवल पर आएं हुए हैं पर रो रहें हैं , यह मेरा सवाल था ?
ऐसे ही कुछ :
 कुछ तो गलत है कि सब को ज़िंदगी मिली हुये है,पर झगड़ा करतें हैं ,क्यों ?
आज भी जब संसार में कहीं भी कोई बड़ी हादसा होता है तो हर व्यक्ति ही नहीं, हर कौम एक हो जाती है।  हर स्टेट ही नहीं , हर मुल्क एक हो जाता है। 
 चलो ठीक है कि हम तकलीफ के वक़्त में एक हो जातें हैं, क्या हम को आम ही ज़िंदगी में एक नहीं होना चाहिए ?
आम ज़िंदगी में हम कभी धर्म के लिए, कभी पैसे के लिए  कैसे कैसे घटिया काम करतें हैं ? क्या हम सब की आम ज़िंदगी ऐसी दिखाई नहीं देनी चाहिए, जैसी हम तकलीफ के वक़्त में जीते हैं ?
कहीं ऐसा तो नहीं कि इस लिए ही हम सब तकलीफ में रहना चाहतें हैं, और हम को यह पता भी नहीं कि हम को तकलीफ में ऐसा क्या मिलता है ? और हम अनजान हैं पर  यह सब  हमारी चेतना में  हैं ?
क्योंकि तकलीफ में हमारी चेतना  जाग जाती है मतलब कि हमारी होशमंदी का लेवल बढ़ जाता है। 

मतलब यह है कि हम सब सन्यासी ही हैं। और संसार ही असल में मृत्यु-लोक है। यहाँ पर हमारा जीना ज़िंदगी नहीं, हमारा जीना मौत ही है।  मौत के माहौल में ही हम को ज़िंदगी का एक अहसास मिलता है। और हम को ज़िंदगी का अहसास उस वक़्त मिलता है जब कोई भी हादसा होता है। जब हम सब इंसान साथ हो जातें हैं तो कैसे हमारे सब मतभेद ख़त्म हो जातें हैं? ऐसे ही मौत का माहौल हमारे मन को रिलैक्स करता है क्योंकि उस वक़्त हमारे मन में कोई भी मतभेद नहीं होता। 
असल ज़िंदगी में झगड़ा होता ही नहीं। झगड़ा मन की खोज है।  झगड़ा संसार का कर्म है।  झगड़ा मौत का रिश्तेदार है। मतलब यह हुआ कि हम सब मौत को ज़िंदगी समझतें हैं और ज़िंदगी की झलक हम ने सिर्फ उस वक़्त ही देखी है, जब हम किसी बड़ी तकलीफ का सामना करतें हैं। 
रोना हो या झगड़ा :
ज़िंदगी का हर हिस्सा ही खुद में पॉजिटिव और नेगेटिव है। 
मैं देखती हूँ उस मरी हुई बज़ुर्ग औरत को।  मैंने कभी उस जैसा सूंदर व्यक्ति ही नहीं देखा,जैसे मुझ को वो मरी औरत लगी थी, यह मुझे क्यों लगी और कैसे याद आई थी कि वो मेरे को सूंदर लगी थी ?
मैं दूसरी क्लास में पढ़ती थी। हमारे घर में मेरे  चचेरे भाई का जन्म हुआ। पर जन्म के साथ ही उस को  हस्पताल में दाखिल  करा दिया, और मेरी माँ उस बच्चे के साथ 6 हफ्ते  हस्पताल में रही। माँ उस मरे हुए बच्चे के साथ घर में दाखिल हुई।  मैंने उस बच्चे के चेहरे को देखा था।  वो बच्चा इतना सूंदर लगा था कि  उस सुंदरता को देख कर मेरे को इस बज़ुर्ग औरत की याद आई थी कि वो भी कितनी सूंदर लगती थी। 
मैंने कभी भी कुछ नहीं भूली।  मेरे को मेरी ज़िंदगी की हर वारदात याद है. सिर्फ एक वारदात याद नहीं, मेरे पैदा होने की।  जैसी आज मेरी ज़िंदगी जा रही है, वो पल भी मैंने देख ही लेने हैं। 

अब मेरे सवाल का जवाब कि मैं मौत के पल को कैसे मुस्कान से जीऊँगी ?
अगर मैंने ज़िंदगी को ऐसे जीया जैसे जीना चाहिए ?
वो कैसे ?
जब मैं खुद की नेचर के हिसाब से मैं आपने हर पल पूरी तरह से जान कर, समझ कर और स्वीकार  कर के जीऊँगी।   
चाहे पॉजिटिव हो या नेगेटिव 
 कोई भी  फ़र्क़  नहीं होगा। 
सब से ज़रूरी होगा कि होशमंद रहना है।  तब मेरी मौत का पल भी मेरे साथ मुस्कराएगा, क्योंकि मौत का पल भी ज़िंदगी का ही पल है, ऐसा पल जो मेरे अगले चैप्टर को  शुरू करेगा। 
« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
see you again