AELOLIVE
latest

My Profession is to always find God in Nature

My Profession is to always find God in Nature
What I knew was that the silence blossomed the heart. When the heart blossomed, there was a feeling of love. The romance started with me. When my romantic-mind took all my stress from me all the time, I could not know. I who I am, I am unknown, today I remembered Buddha in unknown happiness

The love for Hazrat Muhammad


I was not born in Islam, but a soul full of reverence and love is for  Prophet Muhammad - why?
I did not understand any Quran, nor did I come to read it, but I used to hear a tone from my childhood, when I heard that tone 10 years ago, it is the first Kalima of the Quran - why?
I had not read any Zen-guru's book nor did I know any Zen master, but when I got into the depths of silence, whatever happened to me, and as I understood it, it was 100% Zen - why?
  So what do i think about life?
If the rain is going to come - and  If my mood is happy, then the rain will teach me love.
If my mood is silent - then rain will appear to me as an accident.
If the mood is depressed then the rain will change my mood.
If the mood is ill, then the rain will hurt me.
We can do beautiful things in happy mood
Like this in silence and sadness and sickness also
Rainy is one. Only one
Rain has nothing to do with our mood, but rain has an effect on our mood.
Why?
Prophet Muhammad loved the family and people very much, Prophet Muhammad used to see the world from the window of love.
Zen gurus look through the window of understanding.
To see the depth of love or depth of understanding
It is just a matter of depth through which window we see?
There is a way to see every depth of life
That is silent.
 Be quiet only we can become scholars
It is important to be silent on whether you become a teacher of love or on the substance of something, that means you have to focus your mind on one place.
  Again
It is very important to know and understand the nature of our nature.
Like my nature is happy.
Even in trouble, I like to dance. Because I am not able to cope with stress.
Everyone suffers - but how do we understand suffering - this is very important.
If today I feel that I understand Hazrat Muhammad, Baba Nanak, Krishna, Buddha, Tao, but also all our scientists - then?
If today I feel that I understand not only the saint but also the devil - so?
If today I feel that what is God and what is life - I understand it - then?
  Then what is this understanding, which is coming to me, what is this understanding - I understand this understanding today - so?
What is understanding?
If I have once read the Quran or the Gita and I understand it, will I walk with that understanding in my life or keep the understanding in my pocket?
When there is one blood, we call it family - when we will see that our soul is one - what shall we say?
When a common school master does mastery, he is only the master -he is not any concern about Hindu or not Muslim - so how do I paste the label to that transparent Master -?
Who is the master of the fifth class, he is the master for all- no matter who
And who is the professor of univercity - how much injustice do we do with them - ever thought?
I do not need to be a Muslim to love Hazrat Muhammad and to read the Quran, nor to go to Saudi-Arabia, only need - to love  for that wonderful Prophet.
I don't have to be Monk to understand Zen's character, if I want to see myself happy and comfort, then I need to understand to myself
For 40-50 years I read the Gita, but the problem has not reduced, so where did I make a mistake?
Every year I kept fasting - every year I went on Hajj - but my stress did not reduce, my thinking did not change, nor did I worry, then where did I make a mistake?
I do not understand myself - will I understand those Prophet or Saints?
To understand how 2 and 2 are four, I have to go to school
When I know how 2 and 2 are four, do I have to sit in the same class?
If I am still sitting there, I still do not understand how four are formed.
I just learned two things
The first thing I learned from the world is that if I want to be happy in life, then it is important to open my eyes.
The second thing is learned from God how to love everyone by closing the eyes.
When I have gone silent, there is nothing but silence - then?
When I got down in the Soul, there is nothing but God!
I got in my soul
I went silent inside me
And what did I get?
completely relaxation and completely happiness
I became a pilgrimage within me
 My inner being became my religious place for me.
 What I saw that my mother did not get - father did not get it, I got it - how?
They used to go everywhere - They had the Guru
 Never been happy - why?
If I have a master, then I am not free from worry, is there anything wrong?
what is that ?
We have learned that 2 and 2 are four and it is only by knowing that we have done PhD. The mind never used that 3 + 1 also becomes four, 4 + 0 also becomes four, and 1 + 3 also becomes 4.
If my heart is full of love, will I think whom I love?
Anyone can come - anything can be seen - just waves of love will start flowing towards it.
The love for Hazrat Muhammad, which is in my soul, if I did not have that love in the universe, I did not have complete love with Hazrat Muhammad!
Krishna: Those who have descended into greatness and as we are just useless follower, start giving limited recognition to Krishna, then we are bringing Krishna in our thinking, we are not going in the thinking of Krishna!
It is our thinking that we have become very good disciples and the identity of saints has come to us.
Wake up in the morning and take a shower
Worshiped
Read religious books
Kept fast
Come to pilgrimage once a year
Go to the religious place and sweep
 Clean people's shoes
Wow! No disciples like us anymore.
Should the relationship be worshiped?
Did life become a religious book?
Did the mind become a place of pilgrimage?
Can you make your home a religious place?
Clean the shoes at home?
If all this started happening in the house, which is done in the religious place, if our mind became a guru, if our heart became a temple, we became good disciples.
Not everyone can earn money - nor can everyone earn God.
For money and for God: we have to lose ourselves
Someone earns money but also God
 Someone starts earning money after earning to God.
God, love, and religion are the common property of all of us - we all inherit this.
Prophet, sage, saint: This is our elder, from whom we all have to take blessings.
Being born in a different place is not because we are all separate, we are all one.
Is it not necessary that if I was born in a Sikh home, my thinking, my feelings could not love Hazrat Muhammad? Nor can i go to the temple
How is our thinking?
We are born in Indian, as soon as we are born, we start dreaming that when will we go to America? Why?
Not to worry about 60 -70 years so much and ages?
It will not be understood nor do I want to understand.
Everything belongs to me, even if everyone considers me alien.
A universe
One god
One world
One love
 So we are also united.
I don't have to be a Muslim to love prophet Muhammad -
There should be love and reverence in my soul only for that prophet.
My love is Ramadan to me and my reverence became my pilgrimage and my soul became Mecca. My fast started happening every moment, then my Hajj started happening in every breath, then every step of mine became a pilgrimage.
Whenever I flow in the memory of Hazrat Muhammad, love for all the world flows in me.

***—***

मेरा जन्म इस्लाम कौम में नहीं हुआ पर श्रद्धा और प्रेम से भरी आत्मा  हज़रत मुहम्मद केलिए है -क्यों ?
मैंने कोई क़ुरान को नहीं समझा,और न ही मेरे को पढ़ना आया, पर मेरे को बचपन से एक टोन सुनाई देती थी, जब वोही टोन मैंने  10 साल पहले  सुनी तो वो क़ुरान का पहला कालिमा है -क्यों?
मैंने किसी Zen -गुरु की किताब नहीं पड़ी थी और ना ही किसी Zen मास्टर को जानती थी, पर जब चुप की गहराई में उतरी तो जो भी मेरे साथ घटा , और जैसा मैंने उस को समझा, वो सब 100% Zen था - क्यों?
 तो मैं ज़िंदगी के बारे में क्या सोचूँ ?
अगर बरसात आने वाली हो- और मेरा मिज़ाज खुश हो , तो बरसात मेरे को आशिकी सीखा देगी।
अगर मेरा मिज़ाज चुप है -तो बरसात मेरे को एक हादसा प्रतीत होगी।
अगर मिज़ाज उदास है तो -बरसात मेरे मिज़ाज को बदल देगी।
अगर मिजाज़ बीमार है तो-बरसात मेरे को तकलीफ देगी।
खुश मिज़ाज में हम अन्नत काम कर सकतें हैं
ऐसे ही चुप में और उदासी में और बिमारी में
बरसात एक है।
बरसात का हमारे मिजाज के साथ कोई लेना-देना नहीं पर हमारे मिजाज पर बरसात का प्रभाव पड़ा है।
क्यों?
हज़रत मुहम्मद को परिवार से और  लोगों से बहुत प्रेम था, वो संसार को प्यार के झरोखे में से देखते थे।
Zen गुरु समझ के झरोखे से देखतें हैं।
प्यार की गहराई देखनी हो या समझ की गहराई
बात है सिर्फ गहराई की कि हम किस झरोखे में से देखतें हैं ?
ज़िंदगी की हर गहराई देखने की राह एक है
वो है चुप।
 चुप हो के ही हम विद्वान् बन सकतें हैं
चाहे प्यार के विद्बान बने या  फिर किसी पदार्थ के बने पर चुप होना ज़रूरी है  मतलब कि आपने मन को एक जगह पर फोकस करना ज़रूरी है।
 फिर
हमारा स्वभाव किस मिजाज का है, स्वभाव को जानना और समझना बहुत ज़रूरी है।
जैसे मेरा स्वभाव खुश-मिजाज है।
तकलीफ में भी, मेरे को नचना पसंद है।  क्योंकि तनाव से मेरी बनती ही नहीं।
तकलीफ सब को आती है -पर हम कैसे तकलीफ को समझतें हैं -यह बहुत ज़रूरी है।
अगर आज मेरे को यह लगता  मैं हज़रत मुहम्मद ,बाबा नानक, कृष्णा , बुद्धा , ताओ  को ही नहीं समझती बलिक हमारे सब वैज्ञानिक को भी समझती हूं - तो ?
अगर आज मेरे को यह लगे कि मैं  सिर्फ संत को ही नहीं, शैतान को भी समझती हूँ -तो ?
अगर आज मेरे को यह लगे कि खुदा क्या है और ज़िंदगी क्या है- मेरे को यह समझ है- तो ?
 फिर यह जो समझ है, जो मेरे को आ रही है, यह समझ क्या है- इस समझ को मैं आज समझती हूँ- तो  ?
अगर मैंने एक बार क़ुरान को या गीता को पढ़ लिया और मेरे को समझ आ गई तो क्या मैं उस समझ के साथ ज़िंदगी में चलूंगी या समझ को जेब में डाल कर रखूंगी ?
जब खून एक होता है तो हम उस को परिवार कहतें हैं -जब हम यह देखेंगे कि हमारी सब की रूह एक है -तो हम क्या कहेंगे ?
एक आम स्कूल मास्टर जब मास्टरी करता है तो वो सिर्फ मास्टर होता है -हिन्दू -मुस्लिम नहीं -तो मैं कैसे उस पारदर्शी  मास्टर को लेबल चिपका दूं -?
जो पांचवी क्लास का मास्टर है ,वो तो सब केलिए मास्टर- चाहे कोई भी हो
और जो Univercity का प्रोफेसस्रोर  है -हम उन के साथ कितनी बेइंसाफी करतें हैं -कभी सोचा ?
मेरे को हज़रत मुहम्मद से प्यार करने केलिए और क़ुरान पढ़ने केलिए ना ही मुस्लिम होने की ज़रुरत है और ना ही सऊदी-अरब जाने की ज़रूरत है, सिर्फ ज़रूरत  है -उस अद्भत पैगेम्बर से प्रेम करने की।
मेरे को Zen की किर्या को समझने केलिए Monk  होने की ज़रुरत नहीं, अगर मैंने खुद को खुश और सुखी देखना है तो मेरे को समझ का होना ज़रूरी है।
४०-५० सालों से मैंने गीता को तो पढ़ा पर परेशानी  कम नहीं हुई तो मैंने गलती कहाँ की ?
हर साल मैंने रोजे रखे -हर साल मैं हज गई -पर मेरे तनाव कम नहीं हुए , मेरी  सोच नहीं बदली ,और ना ही मेरे फ़िक्र कम हुए तो मैंने कहाँ पर गलती की ?
मेरे को मेरी तो समझ नहीं -क्या मैं उन पैंगैबरों को, संतों को समझ लूंगी ?
२ ओर २ चार कैसे होतें हैं -यह समझने केलिए मुझे स्कूल जाना पड़ेगा
जब मेरे को पता चल गया कि कैसे २ ओर  २ चार होतें हैं,  क्या फिर मुझे वोही क्लास में  बैठना पड़ेगा ?
अगर मैं वहीँ पर अभी तक बैठी हूँ तो मुझे अभी समझ नहीं लगी कि चार बनते कैसे हैं ?
मैंने सिर्फ दो बात सीखी है
पहली बात संसार से सीखी है कि अगर मैंने ज़िंदगी में खुश रहना है तो मेरी आँखों का खुलना ज़रूरी है।
दूसरी बात खुदा से सीखी है कि आँखों को बंद करके सब से  ही प्यार कैसे करना है।
जब मैं चुप में चली ही गई तो वहां पर चुप के सिवा ओर कुछ है ही नहीं - तो ?
जब मैं रूह में उतर ही गई तो वहां पर खुदा के सिवा कुछ है ही नहीं -तो ?
मैं मेरी रूह में उतरी
मैं  मेरे ही भीतर  चुप में गई
और मेरे को मिला क्या ?
भरपूर ख़ुशी भरपूर सुख
मेरा भीतर ही मेरे लिए तीर्थ बन गया
 मेरा भीतर ही मेरे लिए मेरा धार्मिक स्थान बन गया।
 जो मैंने देखा कि मेरी माँ को नहीं मिला -बाप को नहीं मिला , वो मुझे मिल गया - कैसे ?
वो तो सब जगह पर जाते थे -गुरु वाले थे
 सुखी कभी हुए नहीं -क्यों ?
अगर मेरे पास गुरु है, फिर  फ़िक्र से फ्री नहीं हुई तो कुछ तो गड़बड़ है ही ?
वो क्या है ?
 हम ने यह जान लिया कि २ ओर २ चार होतें है और इस जानने को ही  ऐसा मान लेते हैं कि हम ने पीएचडी कर ली।  दिमाग को कभी यूज़ ही नहीं किया कि ३+१ भी चार होतें हैं,  ४+० भी चार बन जातें हैं, और  १+३ भी ४  होतें हैं।
दिल प्यार से भरा हो तो क्या मैं यह सोचूंगी कि मैं किस को प्यार करूं ?
कोई भी आ जाए - कुछ भी दिखाई दे- बस प्यार की तरंगें उस की ओर बहने लगेगी।
हज़रत मुहम्मद के लिए प्यार, जो मेरी रूह में है, अगर उस प्यार की छोह ब्रह्माण्ड में ना महकी तो मेरे को हज़रत मुहम्मद से, पूर्ण-रूप से मुहब्बत है ही नहीं थी!
कृष्णा:  जो विराटता में उतर गए और हम जैसे निकम्मे, कृष्णा को सीमित पहचान देने लग जाएँ तो हम अपनी सोच में कृष्णा को लेके आ रहें हैं, हम कृष्णा की सोच में नहीं जा रहें!
यह हमारी सोच है कि हम बहुत अच्छे चेले बन गए और संतों की पहचान हम को आ गई
सुबह जागे , और नहा लिया
पूजा कर ली
धार्मिक किताबें पढ़ ली
व्रत रख लिए
साल में एक बार तीर्थ कर आये
धार्मिक जगह पर जा के झाड़ू लगा आये
 लोगों के जूते साफ़ कर आये
वाओ ! अब हमारे जैसा कोई चेला नहीं।
क्या रिश्ते पूजा बने ?
क्या ज़िंदगी धार्मिक किताब बनी ?
क्या मन तीर्थ स्थान बना ?
क्या अपने घर को धार्मिक जगह बना पाए ?
क्या घर के  जूते  साफ़ किये ?
अगर यह सब घर में होना लगा जो धार्मिक जगह पर करतें हैं , अगर हमारा मन गुरु बन गया, अगर हमारा दिल मंदिर बन गया  हम अच्छे चेले बन गए।
सब पैसा नहीं कमा सकते- और ना ही सब खुदा को कमा सकते हैं।
पैसे केलिए और खुदा केलिए :  हम को खुद को गवाना पड़ता है
कोई पैसा कमा के खुदा को भी कमा लेता है
 कोई खुदा को कमा के पैसा कमाने लग जाता है।
खुदा, प्यार, और धर्म हम सब की सांझी जायदाद है - हम सब इस के वारिस हैं।
पैगंबर, ऋषि, संत : यह सब हमारे बड़े हैं , जिन से हम सब ने आशिर्बाद लेना है।
अलग जगह पर पैदा होने का कारण यह नहीं कि हम सब अलग हैं, हम सब एक हैं।
यह ज़रूरी नहीं कि अगर मैं सिख- घर में पैदा हुई तो मेरी सोच, मेरी भावना हज़रत मुहम्मद को प्यार नहीं कर सकती ? और ना ही मंदिर में जा सकती है
कैसी है हमारी सोच ?
इंडियन में हम पैदा होतें हैं, जन्मते ही हम सपने देखना शुरू कर देतें हैं कि हम कब अमेरिका को जाएंगे ? क्यों?
60 -70  साल की इतनी फ़िक्र और युगों की कोई फ़िक्र नहीं ?
यह समझ ना ही  आएगी और ना ही मैं समझना चाहूंगी।
सब कुछ मेरा ही है, चाहे सब मेरे को पराया माने।
एक ब्रह्मण्ड
एक खुदा
एक संसार
एक प्यार
 तो हम सब भी एक हुए।
मुझे हज़रत मुहम्मद से प्यार करने केलिए मुस्लिम होने की ज़रुरत नहीं-
सिर्फ उस पैगम्बर केलिए मेरी आत्मा में प्यार और श्रद्धा होनी चाहिए।
मेरा प्यार मेरे लिए रामदान है और मेरी श्रद्धा, मेरा तीर्थ बन गया और मेरी रूह मक्का बन गई। मेरे रोजे हर पल होने लगे तो मेरा हज हर सांस में होने लगा तो मेरा हर कदम तीर्थ बन ही गया।
जब भी मैं हज़रत मुहम्मद की याद में बहती हूँ तो मेरे में सब संसार के लिए प्यार बहने लगता है।
***—***


« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
see you again