AELOLIVE
latest

My Profession is to always find God in Nature

My Profession is to always find God in Nature
What I knew was that the silence blossomed the heart. When the heart blossomed, there was a feeling of love. The romance started with me. When my romantic-mind took all my stress from me all the time, I could not know. I who I am, I am unknown, today I remembered Buddha in unknown happiness

Let's go # 2



Let us all see ourselves today, consider God as a window.      # 2

My heart is happy to see every person. This is my nature, which is God-gift to me. But one thing never came to my mind in understanding how everyone can live in the past? Time passed can teach us the understanding of living. Whether it is religious aspect or worldly aspect. If we have become learners, our understanding has become capable of learning, then we will start learning from everything. Whatever aspect of life, when any part teaches us the way to live and we make that learning as our understanding, then it became religion for us. Should understand, come from anyone, from anywhere, we should understand. Whether it comes from a black thief.

What it understood, which made our life happy, enriched our life, it is religion.
I have a very good and dear friend, who is a lover of Krishna. I saw her how she understands Hinduism, how she believes in religion, and how she is always busy in all customs. I would be happy to see her happiness and how she does everything, can I do that? This question was a hive in my mind and this question used to buzz in me like a honey bee every day. I knew that I would never be able to do this, then was my confidence in Krishna weak? Did I not understand the customs yet? What does this custom mean for us, has my understanding not reached that point yet?
I remember when we used to play dolls and dolls when we were little. World level or spiritual level: We are playing. The game is not bad no matter what. I only know that life is the name of a very harsh thing, if understood, then there is nothing more gentle than life. Life itself is the law, the rule, the discipline.
I used to think just this. Then I asked myself, 'You just think why can't you do like this? Your friend is happy. By doing this your friend must feel that Krishna is near and will feel happy. Why can't you, now also tell this'?
I can't, why?
When I used to see such living conditions of friends, I used to get happiness, I also liked it. Whenever I used to do any program in your home, my question was that we have taken time out so that we all become one in the other. Just like my friend Krishna wanted to be together, in the same way, I wanted to be one with my friends. The time spent is anyone, anyone. Greet them and pray to them all. Old people always give blessings. Take blessings from them and live your time in such a way that time becomes a learning.
My way of seeing God was different. Was either super duper or had a flap. But I knew that by making Krishna a doll, I cannot consider him Krishna. Why accept, He is Krishna. Krishna is a divine being, I have got the time to understand how I should become like Krishna, how I will understand Krishna's Gita, until I reach that point just like Him. I did not worship Krishna, I do not have to be worshiped. Whatever Krishna has said in the Gita, I have to be the soul of that experience. Krishna's blessings are on my life, so I want to get the experience of Krishna, the right worship of Krishna will be completed when I have made his experience an experience, even if it takes 100 births.
I really felt like: When the baby cries, the mother has to do something, then the mother gives the child some toy. The child is busy and the mother finishes the work.
Why did I think so?
When I have to give papers of 9th class, I study, I must have read well, then I will be in 10th class. How did I pass class 9? Because I studied. I knew all the answers, that's why. When we consider someone as an ideal, or when we want to go towards the ultimate, then we are ascendant. We begin to be conscious of virtue and demerit. When true love for God is born in us, then what will be the first thought in us? Do you know? Which is the basic quality of what we want to be, it will be revealed in us.
What is the basic quality of God?
Unity
We may be of any religion, be of the community, be of the country; First of all, the messy seed of discrimination that we have, will end its root, then our step will increase.
We spend 40-50 years in the same class, death comes but we do not go to the next class. Pass in one subject, fail in another and then get ready to pass the failed. I saw this courage in everyone. Was not in me Why did I have pain? Should not happen again, then what should be done, now I have taken the step that I do not have pain again.
As much as I could see and understand, and how could I think that I had such understanding even during the time of Jesus or Muhammad. 
When I understand now, then I know that the great thinking, the great feeling of those sages. Now when the head is bowed, my true prostration is there. When water falls from a bowed eye, the memory of Muhammad becomes my prayer.

Once I had a conversation with a Muslim friend of mine. Is an actor. And he is also a very good speaker and he is also a 5-time Namazi and a firm Muslim himself. We talked about the Qur'an and Islamic community between us for 2 years. More Muslim people feel that if their friend is from any other religion or from any other community then they become Muslim. Most Muslims do not look at their own lives. If I have to tell someone that you become a Sikh, then first I have to be like Baba Nanak, I want my life to be happy and calm, only then I am able to tell someone what I have got, see you too Go. But the thing is that when my life is completely happy, then I will also know that every form of life is capable of being accepted. Every form of life is lovely. When I have become completely happy, then it means that I have accepted every form of life, then I am still incapable of saying this.
To this day, I have never even understood how someone tells someone that it is good and it is bad. Everyone's life is full of pain and stress and yet how do we tell others that you too become like me. how ? Do you forget your own pain? Do you start looking great in front of others? how? I just don't understand it And has not come till today.
One day there was a conversation about the life of our sages. So my friend asked me, "If on one side there is Baba Nanak, and on the other side there is a common man, then whom will you go to?"
I said that "towards the common man"
Friend- "You are a very nostalgic person, I don't know how I accepted you as my friend".
I - "I mean that you will go towards Hazrat Muhammad?"
Friend- "There is no doubt in this, my Prophet should come, and I leave him and go towards the common man, this can never happen"
I- "Just like that, I leave the common man, this cannot happen"
Friend- "" That means you think of a person like Baba Nanak. It is very unbecoming of me that I considered you as a friend ''.
And after this conversation that friend stopped talking to me. Also stopped taking my calls.
After 3 months: I get a call at 4 o'clock in the morning.

>>>—
still there



 मेरा दिल हर इंसान को देख कर खुश होता है। यह मेरा स्वभाव है, जो मेरे को गॉड-गिफ्ट है।पर मेरे दिमाग में एक बात कभी समझ बन कर आई ही नहीं कि कैसे हर कोई भूतकाल को ही जी सकता है? गुज़रा हुआ वक़्त हमारे को जीने की समझ सीखा सकता है। चाहे धार्मिक पहलू हो या सांसारिक पहलू हो। अगर हम सीखने वाले बन ही गए, हमारी समझ सीखने के काबिल हो ही गई तो हम हर चीज़ से सीखना शुरू कर देंगे। ज़िंदगी का कोई भी पहलू हो, जब कोई भी हिस्सा हम को जीने का सलीका सीखाता है और हम उस सीख को अपनी समझ बना लेते हैं तो वो हमारे लिए धर्म बन गई। समझ आनी चाहिये, किसी से भी आये , कहीं से भी आये , हम को समझ आनी चाहिए। चाहे काले चोर से आये।
 यह जो समझ आई, जिस ने हमारी ज़िंदगी को ख़ुशी दी ,हमारे जीने को प्रफुलित किया, यह धर्म है। 

मेरी एक बहुत अच्छी और प्यारी दोस्त है, जो कृष्णा की दीवानी है। मैंने उस को देखना कि कैसे वो हिन्दुइस्म को समझती है, कैसे धर्म को मानती है, और कैसे सब रीति -रिवाज़ों में सदा ही व्यस्त रहती है। उस की ख़ुशी को देख कर ख़ुशी होती और कैसे वो सब कुछ करती है, क्या मैं ऐसे कर सकती हूँ? यह सवाल मेरे दिमाग में छत्ता बना चुक्का था और यह सवाल मेरे में हर रोज़ मधु-मख्खी की तरह भिनभिनाता रहता था। मेरे को पता था कि मैं ऐसा कभी नहीं कर पाऊँगी, फिर क्या मेरा कृष्णा के लिए भरोसा कमज़ोर 
था? क्या मेरे को अभी तक रीति-रिवाज़ों की समझ ही नहीं आई? यह रीत-रिवाज़ हमारे लिए क्या महत्व रखतें हैं, क्या अभी तक मेरी समझ उस बिंदु तक पहुंची ही नहीं ?
मेरे को याद आता है जब हम छोटे होते हुए गुड़िया और गुड़ा खेला करते थे। संसारी लेवल हो या आत्मिक लेवल : हम खेल रहें हैं। खेल कोई भी हो बूरा नहीं होता । मैं सिर्फ यह जानती हूँ कि ज़िंदगी एक बहुत कठोर चीज़ का नाम है अगर समझ आ गई तो ज़िंदगी से कोमल ओर कुछ है ही नहीं। ज़िंदगी आपने आप में ही कानून है, नियम है, अनुशाशन है। 
मेरे में बस यही सोच आती थी। फिर मैंने खुद को ही सवाल किया कि ' तू सिर्फ यह सोच कि तू ऐसे क्यों नहीं कर सकती ? तेरी दोस्त को ख़ुशी मिलती है। ऐसा करने से तेरी दोस्त को महसूस होता होगा कि कृष्णा नज़दीक है और ख़ुशी महसूस करती होगी। तू क्यों नहीं कर सकती, अब यह भी बता '?
मैं नहीं कर सकती, क्यों ?
जब मैं दोस्तों की ऐसी जीने की अवस्था को देखती थी, मेरे को ख़ुशी भी मिलती थी, मेरे को अच्छा भी लगता था। जब भी मैं आपने घर में कोई भी प्रोग्राम करती थी ,तो मेरा सवाल यह होता था कि हम ने आपने वक़्त ऐसे निकालना है कि हम सब एक दूसरे में एक हो जाएँ। जैसे मेरी दोस्त कृष्णा में साथ एक होन चाहती थी, वैसे ही मैं मेरी दोस्तों के साथ एक होना चाहती थी।बीत चूका वक़्त कोई भी हो, किसी का भी हो। उन को नमस्कार करो और उन सब से दुआ मांगो। बड़े लोग सदा ब्लेस्सिंग्स देतें हैं। उन से ब्लेस्सिंग्स लो और आपने वक़्त को ऐसे जीओ कि वक़्त एक सीख बन जाए। 
मेरा परमात्मा को देखने का तरीका अलग सा था। या तो सुपर डुपर था या फिर फ्लैप था। पर मैं यह जानती थी कि कृष्णा को डॉल बना के मैं उस को कृष्णा नहीं मान सकती। क्यों मान लू, कृष्णा है। कृष्णा परमात्मा है तो है , मेरे को वक़्त मिला है कि मैं कृष्णा जैसी कैसे बनू , मैंने कैसे कृष्णा की गीता को समझूंगी ,जब तक मैं कृष्णा की तरह ही उस बिंदु पर नहीं पह्नुच जाती। मैंने कृष्णा को पूजना नहीं , मेरे से पूजा होनी ही नहीं। जो कृष्णा ने गीता में कहा है, मैंने उस अनुभव के रूह-ब -रूह होना है। कृष्णा की ब्लेस्सिंग्स मेरी ज़िंदगी पर है, इस लिए तो कृष्णा के अनुभव को पाना चाहती हूँ, कृष्णा की सही पूजा उस वक़्त पूरी हो जायेगी, जब मैंने उस के अनुभव को आपना अनुभव बना लिया, चाहे १०० जन्म ओर लग जाएँ। 
मेरे को सच में ऐसा लगता था कि जैसे : जब बच्चा रोता है तो माँ ने कुछ काम करना होता है, तो माँ बच्चे को कोई न कोई खिलौना देती हैं। बच्चा व्यस्त और माँ काम पूरा कर लेती है। 
क्यों मेरे को ऐसा लगता था ?
जब मैंने 9वी क्लास के पेपर देने हैं तो मैं पढ़ती हूँ, अच्छी तरह पढ़ा होगा तो मैं 10 क्लास में हो जाऊँगी। 9 क्लास को मैंने पास कैसे किया ? क्योंकि मैंने पढ़ाई की थी। मेरे को सब जवाब पता थे , इस लिए। जब हम किसी को आइडियल मानते हैं को मानते हैं या ऐसे ही जब हम परमार्थ की ओर जाना चाहतें हैं , तो हम में लग्न होती है। हम गुण और अवगुण के लिए होशमंद होने लगतें हैं। जब हमारे में परमात्मा के लिए सच्चा प्यार पैदा हो जाता है तब हमारे में सब से पहली सोच क्या पैदा होगी ? पता है क्या ? जिस के जैसे हम होना चाहतें हैं उस का मूल गुण कौन सा है, वो हमारे में उजागर होगा। 
परमात्मा का मूल गुण क्या है ?
एकाभाव  
हम किसी भी धर्म के हो, कौम के हो, मुल्क के हो; सब से पहले हमारे में भेदभाव का जो गन्दा बीज पलता है, उस की जड़ ख़त्म होगी, फिर हमारा कदम बढ़ेगा। 
40 -50 साल तो हम एक ही क्लास में लगा देतें हैं, मौत आ जाती है पर अगली क्लास में जाते ही नहीं। एक सब्जेक्ट में पास हो, दूसरे में फेल और फिर फेल हुए को पास करने की त्यारी में लग जातें हैं। यह हौंसला मैंने सब में देखी। मेरे में नहीं था। मेरे को दर्द हुआ तो क्यों हुआ? फिर से नहीं होना चाहिए , तो क्या करना चाहिए , अब मैंने वो कदम लिया कि मेरे को फिर से दर्द न हो। 
जितना भी देख और समझ रही थी, और मैं यह कैसे सोच लूं कि मेरे को जीसस या मुहम्मद के वक़्त भी इतनी समझ थी। 
जब अब समझ आने लगी है तो जान रही हूँ कि उन ऋषिओं की विराट सोच को, विशाल भावना को। अब जब सर झुकता है तो मेरा सच्चा सजदा होता है। जब आँखों में से पानी झुके हुए दिल पर गिरता है तो महुम्मद की याद ही मेरी नमाज़ बन जाती है। 

ऐसे ही एक बार मेरी मेरे एक मुस्लिम दोस्त से बातचीत होती थी। एक्टर है। और बहुत अच्छा स्पीकर भी है और वो ५ वक़्ती नमाज़ी भी है और खुद में पक्का मुसलमान है।हम दोनों के बीच २ साल क़ुरआन की और इस्लमिक कौम की बात चलती रही। ज़्यादा मुसलमान लोगों को होता है कि अगर उन का दोस्त किसी ओर धर्म से है या किसी ओर कौम से है तो वो मुस्लिम हो जाए। बहुते मुस्लिम अपनी खुद की ज़िंदगी की ओर तो देखते नहीं। अगर मैंने किसी को कहना है कि तू सिख हो जा, तो पहले मेरे को बाबा नानक जैसा होना पड़ेगा, मेरी ज़िंदगी पूरी खुश और शांत चाहिए, तो ही मैं किसी को कहने के काबिल हूँ कि देख मेरे को क्या मिला है, आप भी आ जाओ।पर बात यह है कि जब मेरा जीवन पूर्ण खुश हो गया तो मैं यह भी जान जाऊँगी कि ज़िंदगी का हर रूप ही स्वीकार करने के काबिल है। ज़िंदगी का हर रूप प्यारा है।जब मैं पूर्ण खुश हो ही गई तो मतलब यह हुआ कि मैंने ज़िंदगी के हर रूप को स्वीकार किया है , तो मैं यह बात कहने के फिर भी काबिल नहीं। 
मेरे को आज तक यह भी कभी समझ नहीं आई कि कैसे कोई किसी को कह देता है कि यह अच्छा है और यह बूरा है। सब की ज़िंदगी दर्द और तनाव से भरी हुई है और फिर भी दूसरे को हम कैसे कह देतें हैं कि आप भी मेरे जैसे हो जाओ। कैसे ? क्या खुद के दर्द भूल जातें हैं ? क्या दूसरे के आगे आपने आप को बहुत उत्तम दिखाई देना शुरू हो जाता है ? कैसे? यह मेरी समझ में आता ही नहीं। और आज तक नहीं आया। 
ऐसे ही एक दिन हमारी ऋषिओं की ज़िंदगी के बारे में बातचीत हो रही थी। तो मेरे को दोस्त ने सवाल किया कि ''एक ओर से बाबा नानक आतें हो और दूसरी तरफ से एक आम इंसान , तो जिन्दर आप किस की तरफ जाओगे ?''
मैंने कहा कि '' आम इंसान की तरफ ''
दोस्त- ''आप तो बहुत ही नास्तिक इंसान हो, पता नहीं मैंने कैसे आप को आपने दोस्त मान लिया '' 
मैं - '' मतलब कि आप हज़रत मुहम्मद की तरफ जाओगे?''
दोस्त- '' इस में कोई भी शक नहीं , मेरा पैग़म्बर आये,और मैं उस को छोड़ कर आम इंसान की तरफ जाऊं, यह कभी हो नहीं सकता ''
मैं- '' ऐसे ही, मैं आम इंसान को छोड़ दूं , ऐसा नहीं हो सकता ''
दोस्त- '' मतलब कि आप एक इंसान को बाबा नानक जैसा ही समझती हो। मेरी तो यह बहुत बड़ी बेसमझी है कि मैंने आप को दोस्त माना ''. 
और इस बातचीत के बाद उस दोस्त ने मेरे से बात करनी छोड़ दी। मेरी कॉल लेनी भी बंद कर दी। 
३ महीने के बाद: मेरे को सुबह के 4वज़े को कॉल आती है।

अभी ओर भी है 
>>>---





« PREV
NEXT »

No comments

Love you

Love you

aelolive+

Most Reading

Thank you for coming to see aelolive

Thank you for coming to see aelolive
see you again