BREAKING NEWS
latest

Have to walk like a Sanyaasi - No Matter what the Path

Desire for Sex (Meditative State)

 Desire for Sex in a Meditative State


In the state of meditation, sometimes one experiences sexual intercourse very deeply. This phenomenon happens to a person in the state of meditation, where only life itself is the object and the subject itself. What is the feeling of the depth of an event like sexual intercourse, that is known in the state of meditation. When the same incident happened to me in the state of meditation, then only one realization arose in me that today if any sage-muni will come in my life, then I have to become his friend. Because a waking human being - whose 4 dimensions are active - who is an energy-field - that; mean that

 'A kind soul, a clear mind, a man of a fully awake state—whose every dimension is awake, the fully awake body I longed for for the first time—when this incident happened to me in a meditative state.'

That desire which was never born in me, that desire was found in me by meditation.


ध्यान अवस्था से सम्भोग की चाहना  


ध्यान की अवस्था में कभी कभी किसी को संभोग  का भी अनुभव बहुत गहरे से गहरा होता है।   ध्यान की अवस्था में  व्यक्ति के साथ यह घटना घटती है, वहां पर सिर्फ जीवन खुद में ही ऑब्जेक्ट और खुद ही सब्जेक्ट होता है। सम्भोग जैसी घटना की गहराई का का एहसास क्या है , उस का पता ध्यान की अवस्था में चलता है। ध्यान की हालात में यही घटना मेरे साथ घटी तो मेरे में सिर्फ एक ही एहसास जागा  कि आज अगर कोई ऋषि-मुनि मेरे जीवन में आएगा, तो मैंने उस की मित्र बन जाना है। क्योंकि एक जागता हुआ इंसान- जिस के ४ आयाम एक्टिव हैं- जो एक ऊर्जा-क्षत्र है - वो ; मतलब कि 

 'एक दयालु आत्मा, एक स्पष्ट दिमाग, एक पूर्ण जागती स्तिथि का इंसान-जिस का हर आयाम जागा  हो, पूर्ण जागे हुए जिस्म की लालसा मैंने पहली बार की थी- जब मेरे साथ ध्यान की अवस्था में यह घटना घटी थी।' 

वो चाहना जिस ने कभी मेरे में जन्म नहीं लिया था, वो चाहना ध्यान ने मेरे में पाई थी 


« PREV
NEXT »

No comments


रेतली राह का मुसाफ़िर

रेतली राह का मुसाफ़िर
माननीय प्यार , आज मैं खुद को आप के आगे सन्मानित करना चाहती हूँ कि मैं आप की रचना हूँ ; और खुदा के आगे मैं खुद को धन्यवाद का उपहार देना चाहती हूँ कि 'धन्यवाद शहीर ' कि आप ने खुदा से प्यार किया। हर किर्या के लिए धन्यवाद
The best cure of the body is a quite mind:. Powered by Blogger.