Let's Walk Like a Mystic

Infinite Paths of understanding

Sunday, April 10

Infinite Paths of understanding



 I had never imagined that there are infinite paths of understanding of life, 

Which make the living entity conscious.





Knowing oneself is the hardest part.

-

 स्वयं को जानना सबसे ज़्यादा कठिन है।









Can you believe today that the past and the future are real illusions, that they exist in the present, that today is the tomorrow and the past exists - do you understand?

-

क्या आज आप ऐसा मान सकते हो कि अतीत और भविष्य वास्तविक भ्रम हैं, कि वे वर्तमान में मौजूद हैं,मतलब कि आज में ही आने वाला कल और बीता हुआ कल मजूद है - क्या आप समझ सकते हो?







The most dangerous person in life is the one who is very intelligent. Why? Because the more profound the understanding, the more difficult it is. Stay tuned forever to know How!

-

जीवन में सब से खतरनाक व्यक्ति वो है, जो बहुत समझदार है।  क्यों? क्योंकि बहुत ही गहरी समझ जितनी कठोर होती है- उतनी ही नाज़ुक होती है।  कैसे?यह जानने  के लिए  सदा साथ बने रहिएगा!







We are all an action of the universe, just as a wave is an action of the ocean.

-

हम सब ब्रह्मण्ड का एक एक्शन ही है, जैसे लहर समुन्दर का एक एक्शन है।

 







When we learn something at any moment, we are 'scholar', just like when we leave something in a moment we are 'sannyasi'.

-

जब हम किसी भी पल में कुछ सीखतें हैं तो हम 'विद्वान' होतें हैं, ठीक वैसे ही जब हम किसी पल में कुछ छोड़ देतें हैं तो हम 'सन्यासी' होतें हैं। 







Every solid thing becomes as lifeless as it is solid.

-

हर ठोस वस्तु उतनी ही बेजान हो जाती है, जितनी ठोस होती है।









Today you go to sleep thinking that you did not wake up yesterday.

-

आज आप यह सोच ले के सो जाना कि कल को आप  ने जागना नहीं। 








I have always loved the hospital environment because I learned that being sick is also a means of deeper recovery, so being sick can be a beautiful experience.

-

मुझे सदा ही हस्पताल का माहौल अच्छा लगा क्योंकि मैंने जान लिया था कि बीमार होना भी गहरी तंदरुस्ती का साधन है, सो बीमार होना एक सुंदर अनुभव हो।






I have experienced very deeply that we are not born in the world as we have thought till today. We all emerge from the universe, like a leaf sprouts from a tree. Every living being and everything is an expression of nature, which is a unique action of the whole universe.

-

मैंने बहुत गहरे में से अनुभव किया है कि हम संसार में ऐसे नहीं जन्मते, जैसे आज तक हम ने सोचा है। हम सब ब्रह्मण्ड में से निकलते हैं, जैसे पेड़ में से पत्ता अंकुर होता है। हर जीव और हर चीज़ कुदरत की अभिव्यक्ति है,  जो तमाम ब्रह्मांड की एक अनूठी क्रिया है।




What is the art of living called?

 When a living being recklessly lives a life in which there is no fear of the karma-cycle but is sensitive to each moment in which there is an open receptive space of all newness and uniqueness.

-

जीने की कला किस को कहतें हैं?

 जब कोई भी जीव बेपरवाही से ऐसे जीवन को जीता है- जिस में कर्मा -चक्र का कोई डर नहीं होता बलिक प्रत्येक पल के प्रति संवेदनशील होता है जिस में बिल्कुल नयापन  और  अनूठेपन का खुला ग्रहणशील स्पेस होता है। 




मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि जीवन की समझ के अनंत रास्ते हैं,  जो जीव को चेतन-स्वरूप बना देतें हैं। 

Post Comment

Amazing Nature

Amazing Nature
When following the Trail of Colorful Emotions and Beautiful Divine Connection, Then Life blossoms, Love begins to flow because True and Pure feeling is the living land of Love and a more beautiful abode to live in the Heart during the JOURNEY OF LOVE Creating is a priceless feeling. But in Those moments there are some of the most amazing Moments too, Which become functional to see Life in full Bloom with Divine Connection and Divine Action like SPRING. When Our Thoughts also Blossom in our Life. It is these Moments that make us Aware and make OUR life an ART OF JOY...